26 June 2017

समाज और राष्ट्र की प्रगति के लिए निष्काम सेवायें दीं ------- सुरेन्द्रनाथ बनर्जी

  आई.सी.एस. की परीक्षा  उत्तीर्ण  करने  के  बाद  सुरेन्द्रनाथ  बनर्जी  को  सिलहट (आसाम ) में ए.डी.जे.  नियुक्त  किया  गया l उन  दिनों  भारतवासियों को  हीनता  की  द्रष्टि  से  देखा  जाता  था  और  अंग्रेज  उनसे  उपेक्षापूर्ण  व्यवहार  करते  थे  l  सुरेन्द्रनाथ  बनर्जी  बहुत  योग्य  थे  किन्तु  उच्च  अधिकारियों  के  वैमनस्य  के  कारण  दो  वर्ष  के  भीतर  ही  उन्हें  इस  सरकारी   नौकरी  से  हटा  दिया  l  इस  अन्याय  की  शिकायत  करने  वे  दुबारा  इंगलैंड  गए  लेकिन  जातीयता  के  आधार  पर  वहां  भी  गोरों  का  पक्ष  लिया  गया  l  उन्होंने  कहा --- "  मुझे  ऐसा  अनुभव  हुआ  कि  यह  अन्याय  मुझे  केवल   इसलिए  सहना  पड़ा  कि  मैं  भारतीय  था  l  मैं  एक  ऐसे  समाज  का  सदस्य  था  जिसमे  कोई  संगठन  नहीं  है ,  जिसका  एक  सार्वजनिक  मत  नहीं  है  ,  जिसका  अपने  देश  के  शासन  में  कोई  महत्व  नहीं  है  l जो  अन्याय  मेरे  साथ  किया  गया   वह  हमारे  देशवासियों  की  नितान्त  शक्तिहीनता  का  द्योत्क  था  l "
  अत:  भारत   लौटते  ही  उन्होंने  शिक्षा प्रचार  में  ध्यान  देना  आरम्भ  किया  l   1882  में  उन्होंने  एक  संस्था  स्थापति  की  जो  बाद  में  रियन  कॉलेज  के  नाम  से  विख्यात  हुई  l  इससे  उन्होंने  हजारों  विद्दार्थियों  को  सुयोग्य  नागरिक  बना  कर  निकाला  l  शासन  सुधार  की  द्रष्टि  से    उन्होंने  'इण्डियन  एसोसिएशन '  की  स्थापना  की  l  ब्रिटिश  सरकार  आई. सी. एस.  परीक्षा  में  सम्मिलित  होने   के  लिए  आयु  सीमा  21  वर्ष  से  घटाकर  19  वर्ष   कर  रही  थी , जिससे  भारतीयों  का  उसमे  शामिल  हो  सकना  कठिन  हो  जाता  l  ' इण्डियन  एसोसिएशन '  के  जोरदार  आन्दोलन  की  वजह  से  19  वर्ष  वाला  नियम  रोक  दिया  गया  l  इसी  प्रकार  जब  सरकार  ने  ' वर्नाक्यूलर  प्रेस  एक्ट '  बनाकर  देशी  भाषाओँ   के  अख़बारों  का  दमन  करना  चाहा  तो  सुरेन्द्र  बाबू  ने  उसके  विरुद्ध  जोरदार  आन्दोलन  खड़ा  किया l    और  इंग्लैंड  जाकर   प्रधानमंत्री  मि.  ग्लैड्सटन  का  दरवाजा  खटखटाया  इसी  का  परिणाम  था  कि  दो  चार  वर्ष  बाद    नए  वायसराय  के  आने  पर   वह  कानून  रद्द  कर  दिया  गया  l  समाज  सुधार  के  क्षेत्र  में  भी  उन्होंने  बहुत  कार्य  किये   l  ' इण्डियन  एसोसिएशन '  की  सफलता  से  प्रेरणा  लेकर  ही   मि. ह्युम  ने  कांग्रेस  की  स्थापना  की   |                                                                                                                                                                                                                                       

25 June 2017

WISDOM

     अब्राहम  लिंकन  से  उनके  मंत्रियों  ने  कहा ----- " आप  शत्रुओं  के  साथ  नम्रता  का  व्यवहार  क्यों  करते  हैं   ? इनका  तो  सफाया  ही  कर  देना  चाहिए   |"
  लिंकन  ने  कहा ----- " मैं  इनका  सफाया  ही  कर  रहा  हूँ  l  सिर्फ  मेरे  और  आपके   तरीके  सम्बन्धी   द्रष्टिकोण  में  अंतर  है  l  मैं  इनकी  गर्दन  काटने  की  अपेक्षा   इनको  मित्र  बनाकर  इनका   स्वरुप  ही  बदले  दे  रहा  हूँ   

23 June 2017

जिन्होंने संघर्ष करते हुए एक पत्रकार के कर्तव्य का पालन किया ----- बेन हैरिस

  अमेरिकन  पत्रकारिता  के  जनक -- बेन  हैरिस   का   आदर्श  था   झूठ  का  भंडाफोड़   और  उसके  परिणामो  से   जन  साधारण  की  रक्षा  l  उनका  विचार  था  कि  बुद्धिजीवी  और   विवेकशील  लोगों  का  कर्तव्य  है  कि  वे  सामान्य  जनता  को   उन  सभी  कुचक्रों  से  बचाएं   जो  लोकहित    की  द्रष्टि  से  खतरनाक  सिद्ध  हो   सकते  हैं   l     25  सितम्बर  1690  की  प्रात:  अमेरिका  में  प्रथम  समाचार  पत्र  प्रकाशित  हुआ  ' पब्लिक -अकरेन्सेज ' l  इससे  पूरे  नगर  में  तहलका  मच  गया  क्योंकि  इसमें  उन्होंने   औपनिवेशिक   सरकार  की  उन  नीतियों    का  पर्दाफाश  कर  दिया  था  जो  जनता  के  लिए  भयानक  रूप  से  घातक  थीं   l  नागरिक  चेतना  को   जाग्रत  करने  के  लिए  यह  साहसिक  कदम  उठाया  l
  बेन  हैरिस  ने  ' लन्दन  पोस्ट '  नामक  अर्द्ध  साप्ताहिक  शुरू  किया   जो  लन्दन  से  अमेरिका  जा  पहुंचा   

22 June 2017

WISDOM

  प्रतिभा  वस्तुतः  कोई  ईश्वरीय  देन  नहीं   होती   l  वह  तो  मनुष्य  की  अपनी   जिज्ञासा ,  अपनी  कर्म निष्ठा,  लग्न  और   तत्परता   के  संयोजन  का  ही  एक  स्वरुप  होती  है  जो  दिन - दिन  अभ्यास  के  द्वारा  विकसित  होती  जाती  है  l
  मनुष्य  अपनी  दीन-हीन  दशा  से  समझौता  नहीं  कर  ले  और  एक -एक  कदम  प्रगति  के  पथ  पर  बढ़ाता  रहे  तो  उसे  उसका  लक्ष्य  मिल  ही  जाता  है  l  ' बहुत  से  व्यक्ति  यह  भूल  करते  हैं  कि  सफलता  के  लिए  जो  धैर्य   और  अनवरत  श्रम  चाहिए ,  उसके  लिए  एक -एक  कदम  बढ़ाकर  मंजिल  छू  लेने  की   जो  योजना  बनाई  जानी  चाहिए ,  मन  में  अटल  विश्वास  रखना  चाहिए   ,  वह  रख  नहीं  पाते  l   उसी  का  परिणाम  यह  होता  है  कि  सफलता  उनके  लिए  ' खट्टे अंगूर '  बन  जाया  करती  है   l '

21 June 2017

गुलाम से महापुरुष बनने वाले ------ बुकर टी. वाशिंगटन

 ' बुकर   टी.  वाशिंगटन  का  जीवन  हम  सबके  लिए  खास  तौर  पर  साधनहीन  गरीब  युवकों  के  लिए  आदर्श  और  प्रेरणादायक  है  l  उनकी  गरीबी  की  कोई  सीमा  न  थी ,  क्योंकि  गुलामों  का  सब  कुछ  उनके  मालिकों  का    होता  है  l  समाज  में  उनको  किसी  प्रकार  का  अधिकार  न  था  और  प्रगति  के  कोई  साधन   उनको  प्राप्त  न  थे  l पर  ऐसी  स्थिति  में  भी  वे  केवल  अपनी  अन्त:प्रेरणा  से  ऊपर  उठे  और  सैकड़ों  प्रकार  की  कठिनाइयाँ  उठाकर    शिक्षा  प्राप्त  की  l '
               उनकी   सबसे  बड़ी  महानता  तो  यह  थी  कि  शिक्षा  प्राप्त  कर  के   उसका  उपयोग  अपने  निजी  परिवार  के  सुख  के  लिए  करने  के  बजाय,  उसके  द्वारा   अपनी  जाति  के  अन्य  व्यक्तियों   को  ऊँचा   उठाने  का  प्रयत्न  ही  वे  निरन्तर  करते  रहे   l   सह्रदयता  और  सदभावना  जैसे  गुणों  के  आधार  पर   कार्य  संचालन  करते  हुए   गोरे  व्यक्तियों  की    सहायता  से  ही  बुकर  ने  नीग्रो  जाति  के    उद्धार  का  एक  महान  आयोजन  पूरा  कर   दिखाया  l  उनके  समय   में  भी   दुष्ट  प्रकृति  के  गोरों  ने  " कू क्लक्स  क्लेन "  नामक  गुप्त  दल  स्थापित  कर  लिया  था   जो  गोरों  की  प्रतियोगिता  करने  वाले  नीग्रो  लोगों  को   रात  में  आक्रमण  कर  के  तरह -तरह  से   दण्डित    करता  था   ,  लेकिन  बुकर  ने  कभी  अपनी  सदभावना  में  कमी  नहीं   आने  दी  l  वे  अपने  जीवन  के  अंत  तक  काले  और  गोरों   में  एकता , सहयोग  और  प्रेम  का  प्रचार  करते  रहे   l  इसके  फलस्वरूप  आज  भी    उन्हें  अमेरिका     का  महान  पुरुष   माना  जाता  है   l 

20 June 2017

जिसके अदभुत त्याग और अपूर्व सेवा -भाव की गाथा देश -विदेशों में लिखी -पढ़ी जाती है ------ फ्लोरेंस नाइटिंगेल

  सेवा - धर्म  की  सच्ची  अनुरागिणी  होने  के  कारण  फ्लोरेंस नाइटिंगेल ( जन्म  1820) मानव जाति  को  एक परम  पिता  की  संतान  समझती  थीं  और  अवसर  मिलने  पर  केवल  इंग्लैंड  ही  नहीं  , अन्य  किसी  भी  देश  में  स्वास्थ्य - संवर्धन  की  योजनाओं  मे  सहयोग  देने  को  तैयार  रहती  थीं  l
 उन्होंने  सोचा  कि शिक्षा -प्रचार  के विचार प्रधान युग में  यह  कोई  आवश्यक  नहीं  कि  हम  मौके  पर  जा   कर  ही  लोगों  की  सेवा  करें ,  दूर  रह  कर  भी   उनकी  अवस्था  का  पता  लगा  सकते  हैं  और  लिखा - पढ़ी  के  द्वारा   उनका  हित  कर  सकते  हैं  l    इसलिए  उन्होंने  भारत सरकार  द्वारा   प्रकाशित  विभिन्न  विषयों  की  रिपोर्टों  का  अध्ययन  करना  शुरू  किया  और  भारतवर्ष  से  सम्बन्ध  रखने  वाले  देशी - विदेशी  मुख्य  व्यक्तियों  से   मिलकर  बातचीत  और  पत्र  व्यवहार  करने  लगीं  l
           भारत  की  स्वास्थ्य  सम्बन्धी  समस्याओं  पर   उनकी   सम्मति  बड़ी   तथ्यपूर्ण  मानी  जाने  लगी  l  उनके  प्रयास  से   भारतवर्ष  की  स्वास्थ्य  सम्बन्धी  अवस्था  की  जाँच करने  के  लिए  एक ' सैनेटरी  रायल  कमीशन ' नियुक्त  किया  गया ,  जिसने  तीन - चार  वर्ष  तक  पूरी  छानबीन  कर के   इस  सम्बन्ध  में  2028  पृष्ठों  की  एक  रिपोर्ट  तैयार  की  l  उस  समय  लार्ड  लारेंस  भारत  के  वायसराय  होकर  आ  रहे  थे  ,  यह  जानकर  नाइटिंगेल  उनसे  मिली  और  भारतीय  स्वास्थ्य  सुधार  के  सम्बन्ध  में  काफी  विचार - विमर्श  किया   l  उनकी  बातों  से  वायसराय  इतने  प्रभावित  हुए   कि  भारत  आकर  कुछ  ही  महीनों  में  ' सैनेटरी   कमीशन  ' की  सिफारिशों  के  अनुसार  काम  करना  आरम्भ  कर  दिया   l
  उनके  इन  कार्यों  को  देखकर  उनके  एक  मित्र  उन्हें  ' भारत  के   गवर्नर  जनरलों '  पर  शासन  करने  वाली  ' गवर्नरनी '  कहा  करते  थे  l  उनके  समय  में  जितने  भी  वायसराय  यहाँ  आये ,  वे  प्राय:  सभी  इंग्लैण्ड  से  चलने  से  पूर्व   नाइटिंगेल  से  भेंट  कर  के  भारत  में  स्वास्थ्य  सुधार  के  मामलों  में  उनकी  सलाह  अवश्य  ले  लिया  करते  थे   l
1877  में   जब  भारतवर्ष  में  घोर  अकाल  पड़ा   तो  उनका   ध्यान  यहाँ  के  ' जल कष्ट '  की  तरफ  आकर्षित  हुआ  l  उस  समय  उन्होंने  अपने  एक  परिचित  सज्जन  को  लिखा ---- " मैं  18  वर्षों  से  भारतीय  स्वास्थ्य  सुधार   सम्बन्धी  कार्य  और  प्रचार  कर  रही  हूँ  ,  परन्तु  गत  चार  वर्षों  से  मेरे  मन  में  एक  नवीन  भावना  उत्पन्न  हुई  है  - वह  यह  कि  जब  लोगों  के  जीवन  ही  भयानक  संकट  में  हैं  ,  तब  उनके  लिए  स्वास्थ्य  विषयक  प्रयत्नों  से  क्या  लाभ  ?  बेचारे  भारतीय  कृषक   अतिवृष्टि , अनावृष्टि ,  जमीदार  और  ऋण  देने  वालों  के  कारण  बुरी  तरह  मर   रहे  हैं  ,  यदि  इन  लोगों  के  लिए  जल  आदि  का  कोई  प्रबंध  कर  दिया  जाये   तो  उनकी  रोटी  की  चिन्ता  मिट  जाएगी   l "   उन्होंने  भारतीय  किसानों  की  आर्थिक  दशा  ,  उनकी  खेती , शिक्षा , लेन-देन  सम्बन्धी   बातों  का    ज्ञान  प्राप्त  कर  के    उनके  सुधार  के  सम्बन्ध  में  अधिकारियों  से  पत्र  व्यवहार  करने  लगीं   l 
  उन्होंने  भारतवर्ष  में   स्वास्थ्य , शिक्षा   और  कृषि  सम्बन्धी  सुधारों  के  लिए   बहुत  अधिक  प्रचार  व  कार्य  किया   l  

18 June 2017

आदर्श वीरांगना ------- रानी लक्ष्मीबाई

 स्त्री  हो  या  पुरुष  उसकी  श्रेष्ठता  का  आधार  उसका  उज्ज्वल  चरित्र   और  सच्ची  कर्तव्य  निष्ठा  है   l 
  उस  कठिन  समय  में  जबकि  देश  में  भयंकर  राजनीतिक  भूचाल  आया  हुआ  था और  बड़े - बड़े  राजभवन  डगमगा  रहे  थे  ,  झाँसी  की  रानी  द्रढ़ता  पूर्वक  अपने  राज्य  में  शान्ति  और  सुव्यवस्था  कायम  रख कर  प्रजा  को  सुखी  बनाने  का  प्रयत्न  कर  रहीं  थीं   l   उनकी  आयु  बहुत कम   थी  पर  उन्होंने  अपना  ध्यान  शान -  शौकत  और  सुखोपभोग  में  न  लगाकर     परोपकार  और  कर्तव्य पालन  को  अपना  धर्म  समझ   रखा  था   l  वे  एक  श्रेष्ठ  शासन कर्ता  और  चतुर  राजनीतिज्ञ   की  तरह  शासन  कार्य  करती  थीं   l 

17 June 2017

पंजाब केसरी --- लाला लाजपत राय

भारत  के  स्वाधीनता   संग्राम   में  लाला  लाजपत  राय  का  अति  महत्वपूर्ण  स्थान  है   l   उनकी  आकांक्षा  वकील  बनने  की  थी   l  उनकी  इस  आकांक्षा  के  पीछे  एक  महान  मंतव्य  था   जिसने  उन्हें  साधारण  से  असाधारण  व्यक्ति  बना  दिया   l  लाला  लाजपत  राय  के  ह्रदय  में   देश  की  पराधीनता  और  समाज  की  पतितावस्था  की  बड़ी  गहरी  कसक  थी  l  उनका  ह्रदय  उसके  उद्धार  और  सेवा  करने  के  लिए  व्याकुल  रहता  था  l   उन  दिनों  वकालत  ही  एक  ऐसा  क्षेत्र  था  ,  जिसमे  प्रवेश  लेकर   आर्थिक , सामाजिक  तथा   राजनीतिक  समस्याओं  को  सम्मानपूर्वक  हल  करने  का  अवसर  रहता  था  l
  उन्होंने  वकालत  की  यह  पढ़ाई  किस  दरिद्रता  का  सामना  करते  हुए  की  थी  इसका  परिचय  उनके   दिए  इस  विवरण  से  ही  मिल  जाता  है ----- " लॉ  कॉलेज  के  मेरे  प्रारंभिक  दो  - तीन  माह  तो  असहनीय  कठिनाई  में  बीते  l भोजन  का  अभाव  जब तब  था  जिसे  मैं   पानी  पी- पी  कर  पूरा  करने  का  प्रयत्न  किया  करता  था  l  भोजन  का  आभाव  मेरी  चिंता  का  इतना  बड़ा  विषय  नहीं  था  जितना  कि चिंता  कॉलेज की  फीस और  छात्रावास  के  शुल्क  की  चिंता  थी  l  बड़े  संघर्ष  और  प्रयत्न  के  बाद   छह  रूपये  मासिक  की  छात्रवृति  मिली  l  उस  छात्रवृति  में  से  दो  रूपये  कॉलेज  की  फीस  देता  था ,  तीन  रूपये  वकालत  का  शुल्क  और  एक  रुपया  मासिक  छात्रावास  का  निवास  शुल्क  l  अब  मेरे  भोजन  व  अन्य  खर्च  के  लिए  मेरे  पास  केवल  एक  रुपया  बचता  था  l   ट्यूशन  मिल  नहीं  रही  थी   और  उसके  लिए  समय  भी  नहीं  था  | पुस्तकें  मित्रों  से  मांग  लाता  था  और  निर्धारित  समय  में  वापिस  कर  आता  था  | "
      लाला  लाजपत राय  एक  आत्म निर्मित  व्यक्ति  थे  ,  उन्होंने  अपने  को  श्रम  की  तपस्या  में  तिल- तिल  तपा  कर  गढ़ा  था   l 

16 June 2017

धर्म से ऊपर उठकर अध्यात्म के उस ईश्वरीय साम्राज्य में पहुँच गये थे ------- मलिक मुहम्मद जायसी

व्यक्ति  धर्म  के  क्षेत्र  में  हिन्दू , मुसलमान, सिख . पारसी , बौद्ध , जैन  हो  सकता  है   पर  अध्यात्म  के  क्षेत्र  में  तो  बस  एक  आत्मा  है   l  जायसी  हिन्दी  के  प्रमुख  संत - कवियों  में  से  जाने  जाते  हैं   l ' पद्मावत '  उनका  प्रसिद्ध  ग्रन्थ  है  l  वे    सभी  धर्मों  की  अच्छाइयों  को  स्वीकार  कर  लेने  वाले  थे   l बचपन   में  उन्हें  चेचक  निकली  थी , जिससे  चेहरा  कुरूप  हो  गया  था    और  वे  अपनी  एक  आँख  भी  खो  बैठे  थे  l  जायसी  अपनी  कुरूपता  और  निर्धनता  को  लेकर  कभी  दुःखी  नहीं  हुए  ,  उन्होंने   ईश्वर   की  उस  इच्छा  को  समझा   कि  क्यों  उन्हें  कुरूपता  और  निर्धनता  से  विभूषित  किया  गया  l  यह  कुरूपता  और  निर्धनता  उनके  लिए  वरदान  बन  गई   l  उन्होंने  उस  सौन्दर्य  को  पा  लिया  जो  सत्य  था  l 

15 June 2017

एक संत जिसने गोवा को स्वतंत्र कराया ------ डा. माश्कार हंस

' जब  किसी  प्रतिभाशाली  लेखक  के  सामने  कोई  समस्या  खड़ी  होती  है  तो  उसकी  कलम  चलने  लगती  है  और  समस्या  की  परिसमाप्ति   लेख  में  ही  हो  जाती  है  l " 
  डा.  माश्कार    पुर्तगाल  गए  थे  बैरिस्टर   बनने   l  प्राध्यापक  के  रूप में   जिन  अर्थवेत्ता  का  उनसे  परिचय  हुआ  ,  वे  थे  डा.  सालाजार  l  डा.  माश्कार   होनहार   और  कुशाग्र  बुद्धि  थे  तथा  सालाजार  के  प्रिय  शिष्य  थे    l
  डा.  माश्कार  के  मन  में  इस  बात  की  बहुत  पीड़ा  थी  कि  गोवा  वासी  अपने  को  भारतीय  कम  और  पुर्तगाली    अधिक    मानते  हैं   l  अपनी   मातृभूमि   के  लिए  इनमें  स्वाभिमान  क्यों  नहीं   |  उन्होंने  लिखना  शुरू  किया  ,  रवीन्द्रनाथ  ठाकुर  के  दो  उपन्यास ' नौका  डूबी ,  और  ' घरे - बाहिरे '  का  और   गांधीजी  की  आत्मकथा  का  पुर्तगाली  में  रूपान्तर  किया   l  उनके  ह्रदय  में  अद्भुत  आस्था  थी , वे  अनुकूल  समय  का  इंतजार  कर  रहे  थे  l  जब  उन्होंने  सुना  कि  डा. लोहिया   गोवा - मुक्ति  के  लिए  आन्दोलन  कर  रहे  हैं  तो  वे  पुर्तगाल  से  गोवा  आ  गए  l    उन्होंने  पुर्तगाली  साम्राज्यवाद  के  विरुद्ध  लेख  लिखे   |  अनेक  रातों  तक  अथक  परिश्रम  कर के   उन्होंने  एक  पुस्तक  लिखी  ' गोवा  माई विलवैड  लैंड '  l  इसकी  छपाई  का  प्रबंध  कैसे  हो  ?  उसका  कथानक  सुनकर  सब  प्रकाशक  छापने  से  इनकार  कर  देते  l
  उन्होंने  अपनी  चार  एकड़  जमीन  और  कुछ  सोने  के  गहने  ,  यही  उनकी  दौलत  थी  ,  उसे  बेचकर   पुस्तक  छपवाई ,  तो  उसने   क्रान्ति  मचा   दी  l   जन - जन  में  वह  लोक प्रिय  हुई ,  उसमे  लगा  धन  भी  वापस  आ  गया  l  उसमे  प्रतिपादित  विषय  इतने  सशक्त   और  सार गर्भित  थे   कि  मुर्दों  में  प्राण  आ  जाये  l  समस्त  गोवा  चैतन्य  हो  गया   और  पुर्तगाल   सरकार    के  विरुद्ध  मुहिम  छेड़  दी  l  सालाजार  के  आदेश  पर  डा.  माश्कार  को  24  वर्ष  का  कठोर  कारावास  देकर  पुर्तगाल  की  जेल  में  बंद  कर  दिया   l    जनता  जागरूक  हो  चुकी  थी  ,    1962  में  पुर्तगाली  सरकार  को  गोवा  छोड़ना  पड़ा   l   लेकिन  माश्कार  पुर्तगाल  की  जेल  में  ही  थे  l   अंतर्राष्ट्रीय  न्यायलय  के  निर्णय  पर  उनकी  आजादी  संभव  हो  सकी  l   गोवा वासी  उन्हें  ' गोवानी  संत '  के  नाम  से  पुकारते  हैं  

14 June 2017

सच्ची देशभक्ति

   विश्व  विजय  के  स्वप्न द्रष्टा  हिटलर  को     हालैंड   आँखों  में  तिनके  की  भांति  खटक  रहा  था  l  आगे  बढ़ने  के  लिए  हालैंड  पर  विजय  प्राप्त  करना  आवश्यक  था  l  आदेश  मिलते  ही  जर्मनी  की  विशाल  सेना  हालैंड  पर  चढ़  दौड़ी  l  उन  दिनों  यह  देश  गरीबी  के  भयंकर  दौर  से  गुजर  रहा  था  l  हालैंड  की  जमीन  की  सतह  समुद्र  से  भी  नीची  है    इसलिए  यहाँ  के  नागरिकों  को  बड़ी  दीवार  बनाकर  अपनी  सुरक्षा   करनी  पड़ती  है  | देश  की  आधी  शक्ति  इसी  में  खप  जाती  है  l  उनके  पास  न  सेना  थी  न  ही  लड़ने  के  लिए  शस्त्र  l
  जर्मन  सैनिकों  ने  सोचा   कि  हालैंड  को  तो  मिनटों  में  जीता  जा  सकता  है  l  जर्मन  सेना  का  हमला  हुआ  तो  हालैंड  के  विचारशीलों  ने  मीटिंग  बुलाई  और  सर्वसम्मति  से  यह  तय  हुआ  कि  गुलाम  हो  कर  जीने  की  अपेक्षा  शान  से  मरना  अधिक  श्रेयस्कर  है  l   हम  किसी  भी  कीमत  पर  गुलामी  की  जंजीरें  नहीं  पहनेंगे   l  गाँव - गाँव  में  नगाड़े  आदि  के  माध्यम  से  मुनादी  पिटवा  दी  गई  कि  जब  तक  हालैंड  का  एक  भी  बच्चा  जीवित  है  ,  हम  गुलामी  स्वीकार  नहीं  करेंगे   l 
  हालैंड  के  पास  न   शस्त्र  न  सेना ,  फिर  मुकाबला  कैसे  हो   ?    यह  निश्चय  किया  गया  कि  जिस  भी  गाँव  पर  जर्मन  सेना  हमला  करे  ,  उस  गाँव  की  दीवाल  तोड़  दी  जाये  l  इस  प्रकार  समुद्र  के  पानी  से  गाँव  तो  डूबेगा  ही ,  जर्मन  सेना  भी  डूबेगी  l
  जिस  गाँव  पर  जर्मन  सेना  ने  हमला  किया  ,  उसे  हालैंड  के  युवकों  ने  दीवाल  तोड़कर  डुबो  दिया  और  गाँव    के   बच्चे - बच्चे  ने  जल - समाधि  ले  ली  और  साथ  ही  जर्मन  फौज  की  टुकड़ी  भी  समुद्र  में  डूब  गई  l   दूसरे  और  तीसरे  नगर  पर  हमला  हुआ  ,  वहां  भी  हालैंड  के  नागरिकों  ने  ऐसी  ही  नीति  अपनाई  तीन  गाँव  अथाह  जलराशि  में  समा   गए ,  साथ  में  जर्मनी  की  फौजें  भी  डूब  गईं  l
  हिटलर  को  ऐसी  आशा  भी  न  थी  कि  ऐसी  परिस्थिति  का  सामना  करना  पड़ेगा  l  जर्मन  सेना  का  मनोबल  टूट  गया  l  देशभक्ति  उनमे  भी  थी   पर  हालैंड वासियों  की  कुर्बानी  के  समक्ष  फीकी  पड़  गई  l  हिटलर  ने  सेना  को  वापस  लौट  जाने  का  आदेश  दिया  और  कहा  कि  हालैंड  पर  विजय  प्राप्त  करना   सम्भव  नहीं  है  l  उसने  अपनी  डायरी  में  लिखा  ---- " आज  मुझे  पहली  बार  पता  चला  कि  संगीनों , बंदूकों   और  बमों  से   अधिक  ताकतवर  होती  है  ---- मन  एवं  आत्मा  की  शक्ति  l  जिस  देश  के  नागरिक  आत्म - स्वाभिमान  की   रक्षा  के  लिए   मरने  को  तैयार  हैं,  उन्हें  कोई  गुलाम  नहीं  बना  सकता   l  "  बची  हुई  जर्मन  सेना  पराजय  स्वीकार  कर  के  वापस  लौट  गई   l 

13 June 2017

सेवा व्रत का आदर्श ------ अवन्तिकाबाई गोखले

  श्रीमती  अवन्तिकाबाई  में  प्राचीन  और   नवीन    भावनाओं  का  इस  प्रकार  मिश्रण  हुआ  था   जिससे  उनका  व्यक्तित्व   बहुत  अधिक  आकर्षक  और  कल्याणकारी  बन  गया  था  l  उन्होंने  सब  प्रकार  के  सांसारिक  प्रलोभनों   और  तृष्णाओं  को  त्याग  कर   अपना  तन - मन - धन  समाज  सेवा   में   लगा  दिया  था  l  उनका  जीवन  प्रत्येक  भारतीय  स्त्री - पुरुष  के  लिए  मार्ग दर्शक  है  l     उन्होंने  अपने  गृहस्थ  जीवन  की  उपेक्षा  न  करते  हुए   समाज  सेवा  का  कार्य  किया  और  महात्मा  गाँधी  के  आदेश  पर   चम्पारण  में  सेवा  कार्य  किया  और  राष्ट्रीय  आन्दोलन  में  बढ़ - चढ़ कर   हिस्सा  लिया  l  बम्बई  के  मुख्यमंत्री  बाला साहब  खेर  ने  कहा  था --" कुछ  व्यक्ति  ऐसे  होते  हैं  कि  उनकी  आकृति  से  ही  देखने  वाले  पर  अनुकूल  छाप  पड़ती  है  l अवन्तिकाबाई  उन्ही  में  से  एक  थीं  l  उन्हें  देखते  ही  ' यह  कौन  हैं  ? '  जानने  की  सहज  इच्छा  होती  थी  l
   अवन्तिकाबाई     सुशिक्षित  महिला  थीं , अपने  पति  बबनराव  के  साथ  बम्बई  में  सुख - सुविधा  में  रहती  थीं  ,  लेकिन  उन्होंने  सेवा  का  रास्ता  चुना   l  अपने  पति  के   दुर्घटना ग्रस्त  होकर  अपाहिज  हो  जाने  पर   वे  उनसे  और  अधिक  प्रेम  और  सेवा  करती  गईं   l
  उनका  सबसे  बड़ा  कार्य  था --' हिन्द महिला समाज '  की  स्थापना  l  चम्पारण  से  वापस  आने  पर  उन्होंने  इस  संस्था  की  स्थापना  की  ,  इसका  उद्देश्य  था   मध्यम  श्रेणी  की  महिलाओं  को  कार्य क्षेत्र  में  लाना   l  श्रीमती  सोफिया  वाडिया,  यमुना  बाई  आप्टे  और  स्वयं  उनके  पति  बबनराव  गोखले  ने  हजारों  रूपये  दान  स्वरुप  देकर  ' हिन्द महिला समाज ' की  स्थिति  को   सुद्रढ़  बनाया  l , इसका  उद्देश्य  स्त्रियों  में  शिक्षा  प्रसार  करना  था ,  इसमें  अंग्रेजी , मराठी  और  हिन्दी  पढ़ाने  की  अच्छी  व्यवस्था  थी   l  स्त्रियों  को  सिलाई , चित्रकला , काढ़ना  का  कार्य  भी  सिखाया  जाता  था  ,  जिससे  अनेक  महिलाएं  स्वावलम्बी  हो  गईं  l   उन्होंने  इसमें  पुस्तकालय  ,  वाचनालय  खोला ,  उन  दिनों  महिलाये   अखबार  या  पुस्तकें  पढ़ने  नहीं  आती  थीं ,  तब  अवन्तिका  बाई  अखबार  लेकर   दस - बीस  स्त्रियों  को  एकत्रित  कर  उन्हें  अख़बार  व  पुस्तक  पढ़कर  सुनाती  थीं  l  गरीबों को  कपड़े, प्रसूता  स्त्रियों  को  पौष्टिक  खुराक ,  दूध , बच्चों  के  कपड़े  देना  आदि  सभी  सेवा  कार्य  किये  जाते  थे  l  ऐसी  परोपकारी  संस्था  जब  तक  कायम  रहेगी   वह  उनके  लिए  उत्तम  स्मारक  का  काम  काम  करती  रहेगी   l   

12 June 2017

संघर्षरत साहित्यकार ------ एन्टन चेखव

 सारी  क्षमताएं , सारी  शक्तियां   और  सारी  संभावनाएं   भगवान  ने  इस  मानव   शरीर  में  भर  दी  हैं  l   उनके  उपयोग  की  स्थिति  में  हम  हैं  नहीं   इसलिए  लगता  है  कि  हम   असहाय  और  दीन - दुःखी   हैं   l  उन  सामर्थ्यों  की  एक  झलक   कभी  हर  एक  के  जीवन  में   देखने  को  मिलती  है  l    जब  जीवन  खतरे  में  लगता  है   तब  मनुष्य   न  जाने  क्या  से  क्या   कर  गुजरता  है   l '
      एन्टन  चेखव  के  साथ  भी  यही  हुआ ---- बचपन  में  वे  मंद - बुद्धि  और  अविकसित  दिमाग  के  थे  , पढ़ने - लिखने  में  उनका  मन  नहीं  लगता  था  l  स्कूल    प्रबंधकों   ने  उन्हें     अपने  स्कूल  में   पढ़ाने  से  मना  कर  दिया    l  तब   उन्हें     दरजी  की  दुकान  पर  रखा  गया  ,  वहां  भी  चेखव  महीनों  तक  प्रयत्न  करते  रहे  लेकिन  एक  पायजामा  तक  नहीं   सी  सके  l  नौ - दस  वर्ष  की  आयु  तक  उनकी  यही  स्थिति   रही   l    जीवन  के  यथार्थ  धरातल  पर  जब  उन्हें     उतरना  पड़ा    तो  परिस्थितियों  से  संघर्ष  करते  हुए    उनकी  बौद्धिक    क्षमता   न  जाने  कहाँ  से  जाग  गई  l
    24  वर्ष  की   अवस्था  में   उनका  पहला  कहानी  संग्रह  प्रकाशित  हुआ   l  इस  स्थिति  तक  पहुँचते - पहुँचते  उन्होंने  ग्रीक , लैटिन , जर्मन  और  फ्रेंच  भाषाएँ  सीख  लीं ,  साथ  ही  डाक्टरी  का  भी  अध्ययन  किया  l   जब  उनसे  किसी  ने  पूछा  कि  इतने  कम  समय  में  आप  अपना  इतना  विकास  कैसे  कर  सके    तो  उनका  एक  ही  उत्तर  होता ---- लगन   और  निष्ठा  के  बल  पर  कुछ  भी  अप्राप्य  नहीं  है   l 
  काम  के  प्रति  उनके  मन  में    ऐसी  लगन  जागी  कि  वे  जब  लिखने  बैठते  तो  तब  तक  लिखते  जब  तक  कि  उँगलियाँ  दर्द  के  कारण  लिखने  से  इनकार  न  कर  दें  l  उस  स्थिति  में  भी  वे थक  कर    सोते  नहीं   पढ़ने  लगते  थे   l  धैर्य  इतना  था  कि  जब  प्रकाशक  रचनाएँ  वापस  कर  देते    तो  बिना  खिन्न  हुए   वे  उसे  सुधार  कर  फिर  से  लिखने  लगते   l  

11 June 2017

दृढ़ संकल्प से अपने सपनों को पूरा किया ----- श्री एच , जी. वेल्स

'  आगे  बढ़ने  की  अदम्य - आकांक्षा  ,  आंतरिक  उत्साह , ध्येय  के  प्रति  अविचल  निष्ठा  मनुष्य  को  क्या  से  क्या  बना  डालते  हैं ,  इसका  प्रत्यक्ष  उदाहरण  हैं ---- एच. जी. वेल्स 
      छोटी  उम्र  में  बच्चों     के  साथ  खेल - कूद  में   उनकी  एक  टांग  टूट  गई   जो  ठीक  न  हो  सकी  l   छोटी  उम्र  में  ही  एक  कपड़े  की  दुकान  पर  काम  करने  लगे  ,  गरीबी  थी  l  काम  करते  वक्त  वे  सोचते  थे  --    ' मुझे  ऊँचा  उठाना  है ,  आगे  बढ़ना  है  ,  सारी  जिन्दगी   यों  ही  दासता  नहीं  करनी  l  कठिन  से  कठिन  श्रम  करूँगा ,  जो  कठिनाइयाँ  सामने  आएँगी  उन्हें     पराजित  करूँगा ,  दुनिया  को  दिखा  दूंगा   कि  भाग्य  नहीं ,    मनुष्य  की  कर्म  निष्ठा  बड़ी  है  l ' 
     उनके    ह्रदय  में  एक  ऐसा  व्यक्ति    बनने  की  महत्वाकांक्षा    थी   जो  संसार  प्रसिद्ध  हो  --- जिसे  सब  आदर  और  श्रद्धा    साथ  स्मरण  करें    और  जो  काल  के  भाल  पर  अपने  अमिट  पद  चिन्ह  छोड़  जाये    l  इस  सबके  लिए  उन्हें    सबसे  अधिक  भाया  एक  लेखक  का  व्यक्तित्व  l  उन्होंने  अपने  सारे  प्रयत्न  इसी  दिशा  में  मोड़  दिए   l  दिन  भर  दुकान  में  काम  करते  और  देर  रात  तक  पढ़ते  l  दिन  में  काम  के  बीच  जो  समय  मिलता   उसमे  अध्ययन  करते  l    धीरे - धीरे  लिखना  शुरू  किया --- कहानी , लेख ,  उपन्यास ----  और  इस  तरह  अपने  अदम्य  साहस , लगन ,  कठिन  श्रम   और  आत्मविश्वास   के    बल  पर     महान  लेखक  बने  ,  विश्व  के  साहित्यिक    व्यक्तियों  में    एक  ऐतिहासिक  व्यक्ति   l 

10 June 2017

समग्र मानवता की पीड़ा को हरना जिनका उद्देश्य था ------- बंट्रेन्ड रसेल

 ब्रिटेन  की  धरती  पर  जन्म  लेकर  भी   वह  किसी  एक  देश  के  होकर  न  रहे  l  लार्ड  रसेल  विश्व  को  एक  कुटुम्ब  के  रूप  में  देखना  चाहते   थे  l  मानव - मानव  के  बीच  धर्म , जाति,  सम्प्रदाय   और   राष्ट्र  की  जो  ऊँची - ऊँची   दीवारें  खड़ी  हैं   उन्हें  वे  तोड़ने  के  लिए  प्रयत्नशील  थे   l  ' रिमेम्बर  योर ह्यूमनिटी एंड  फोरगेट  दी  पास्ट '  नामक  वक्तव्य  को  प्रसारित  करते  हुए   उन्होंने  कहा  था ---" आप  पृथ्वी  के  धरातल  के  किसी  भी  भाग  में  जन्म  लें  ,  इससे  कुछ  भी  बनता - बिगड़ता  नहीं  ,  यदि  कोई  महत्वपूर्ण  बात  याद  रखने  की  है   तो  वह  यह  कि  आप  इनसान  हैं   l
 जब  प्रथम  विश्व युद्ध  शुरू  हुआ  तो  वे  सोचने  लगे  कि  कितने  ही  नवयुवक    जो  देश  की  रचनात्मक  गतिविधियों  में   सक्रिय  रूप  से  सहयोग  दे  सकते  हैं  ,  युद्ध  की  अग्नि  उन्हें  अपने  में  समेट  लेगी  l  1915  में   उनकी पुस्तक  ' व्हाई   मैन  फाइट '  प्रकाशित  हुई  l  यह  पुस्तक  प्रत्येक  युवक  के  हाथ  में  दिखाई  देने  लगी  l  अनिवार्य  भरती  का  जो  कानून  बनाया  था ,  उसके  विरोध  में  स्वर  फूटने  लगे  l   शान्ति  में  जिनकी  आस्था  थी  उन्होंने  सेना  में  भरती  होने  से  इनकार  कर  दिया   l  
  रसेल  अंत  तक  मानव  को  प्रेम  से  हाथ  में  हाथ  मिलाकर  चलने  का  सन्देश  देते  रहे   l 

9 June 2017

सह्रदय साधु पुरुष ------- डा. कैलाशनाथ काटजू

 डा.  कैलाशनाथ  काटजू  ( जन्म  1887 ) पेशे  से  वकील  थे   किन्तु  उन्होंने  न्याय  और  मानवता  को  सर्वोपरि  स्थान  दिया  l मुवक्किल  की  फीस  ने  उन्हें  कभी  नहीं  ललचाया  l  साधन  और  जीविका  की  पवित्रता  के  कारण   काटजू  ने  अपने  इस  पेशे  में   ईमानदारी  और  न्याय  का  भाव  समाहित  कर   इसे  भी  परमार्थ  साधना  बना  दिया   | 
  कानपुर  में  बच्चीसिंह  का  मुकदमा  उनके  जीवन  की  सर्वाधिक  चर्चित  घटना  है  ----  इस  मुकदमे  में  दोनों  पक्षों  की  एक  पीढ़ी  गुजर  चुकी  थी  ,  दोनों  के  बीच  1948  से  मुकदमा  चल  रहा  था   l  बच्चीसिंह  अपने  पिता  के  बाद  मुकदमा  लड़  रहा  था  ,  उसने   अपनी  रेहन  रखी  हुई  सम्पति  जिसके   ऋण  का  मूल  व  सूद   चुका  दिया  गया  था  ,  उसे  प्राप्त  करने  के  लिए  उसने  अदालत  का  दरवाजा  खटखटाया  l   किन्तु  प्रतिवादी  की  अर्जी  पर  जिला  न्यायालय  ने  फैसला  दिया  कि  वादी  ने  सूद  भी  पूरी  तरह  नहीं  चुकाया  है  l   बच्चीसिंह  इसमें  बर्बाद  हो  गया  था ,  कानपुर  की  अदालतों  के  निर्णय  सम्बन्धी  सभी  रिकार्ड  1857  की  क्रान्ति  में  नष्ट  हो  चुके  थे  l   मानव कंकाल  जैसी  अवस्था  में  वह  डा.  काटजू  के  पास  आया   l   उसकी  करुण  गाथा  सुनकर  उनका  दिल  पसीज  गया  और  उन्होंने  उसका  मुकदमा  ले  लिया  l  रिकार्ड  नष्ट  होने  के  कारण  परिस्थिति  बहुत  कठिन  थी   l   कानून   और  मामले    की  बारीकियों  का  भलीभांति  अध्ययन  कर  बच्चीसिंह  का  पक्ष  इतनी  द्रढ़ता  पूर्वक  रखा    कि  निर्णय  उसी  के  पक्ष  में  हो  गया    |  फैसला  सुन  बच्चीसिंह  बहुत  प्रसन्न  हुआ  ,  इतने  बड़े  मुकदमे  की  फीस    मात्र  35 रु.  उसने  डा.  काटजू  के  हाथ  में  रखे   जिसे  उन्होंने  बड़े संतोष  के  साथ  स्वीकार  किया  l   भारतीय  समाज ,  न्याय  और  राजनीति  में   वे  अपने  ढंग  के  अभूतपूर्व  व्यक्ति  थे   l   ऐसी  कई  घटनाएँ  उनके  सम्बन्ध  में   विख्यात  हैं  जो  उनकी  मानवीय  आदर्शों  के  प्रति  निष्ठा  और  न्याय  का  भाव  व्यक्त  करती  हैं   l 

8 June 2017

धर्म की महत्ता उसके आचरण में है ----

  स्वामी  विवेकानन्द  विश्व  भ्रमण  पर  थे  l  वे  अपने  उपदेशों  से   भारतीय  संस्कृति  व  धर्म  की  श्रेष्ठता  का  शंखनाद  कर  रहे  थे   l   इसी  बीच  जापान  के  एक  विद्वान  ने  उनसे  पूछा ----- "  भारत  में  गीता , रामायण , वेद,  उपनिषद   आदि  का  इतना  उच्च  ज्ञान   व  दर्शन  उपलब्ध  है ,  फिर  भी  भारतवासी    पराधीन  और  निर्धन   क्यों  बने  हुए  हैं   ? "
  इस  पर  स्वामी  विवेकानन्द  ने  उत्तर  दिया  ---" सर्वश्रेष्ठ  और  शक्तिशाली  बन्दूक  होते  हुए  भी   उसके  उपयोग  की  विधि  उसका  मालिक  न  जाने    तो  बन्दूक  से  वह  अपनी  रक्षा  नहीं  कर  सकता   l   यही  विडम्बना  है   कि  अपने  श्रेष्ठ  धर्म  और  संस्कृति   के  होते  हुए  भी    भारतवासी   तदनुरूप  उसका   आचरण  नहीं  करते   l  धर्म  की  महत्ता  उसके  आचरण  में  निहित  है   l  

7 June 2017

जे . कृष्णमूर्ति ------- भगवान जो इंसान बन गये

   इनसान  में  से  अपने  को  भगवान  घोषित  करते  अनेक  देखे  और  सुने  गये  हैं ,  पर  ऐसा  कदाचित  ही  हुआ  हो  कि  भगवान  ने  अपना  ईश्वरीय  चोला  उतार  फेंका  हो  और  मात्र  इनसान  रह  गये  हों  l
  थियोसोफिकल  सोसायटी  ने   जे.  कृष्णमूर्ति  को   नया  मसीहा  घोषित  किया  था  l   उनके  अनेक  भक्त  बन  गए  l  
       एक  दिन  हेम्पशायर  के  वुक्स  वुड  पार्क  में   अपने  भाषण  में  सच्चाई  दुनिया  को  बता  दी  l  उन्होंने  कहा ----- "न  तो  मैं  मसीहा  हूँ ,  न  कोई  विचित्र  व्यक्ति  l  दूसरों  की  तरह  मैं  एक  साधारण  आदमी  हूँ   l  मुझसे  किसी  चमत्कार  की  आशाएं  कोई  न  करे  l   ' हर  मनुष्य   अपने  विचारों   और  कार्यों  से  ही  उठ  या  गिर  सकता  है  l     जो  उठा  है    अपने  ही  कर्मों  या  पुरुषार्थ  से  उठा  है   l   जो  गिरा  है  ,  उसे  अपने  ही  कर्मों   ने  गिराया  है   l   दूसरे  किसी  को    सलाह  भर  दे  सकते  हैं ,  पर  ऐसा  नहीं  हो  सकता  ,  कि  अपने  बूते   किसी   का   उद्धार  करें  l   आप  में  से  जो  ऊँचा  उठना  चाहते  हों   या  उद्धार  के  इच्छुक  हों  ,  अपने  ही  प्रयास - पुरुषार्थ  की  ओर  देखें ,  अन्य  किसी  से  आशा  न  करें   l      मेरे  सम्बन्ध  में  किसी  भ्रम  में  न  रहें  l     मैं   भगवान   नहीं ,     मात्र  इनसान  हूँ   l 

6 June 2017

समाजसेवी और सद्गृहस्थ संत ------ हनुमान प्रसाद पोद्दार

 '  धर्म  और  अध्यात्म  के  बल  पर  जीवन  का  विकास  कितना  सहज  हो  जाता  है  ---- श्री  हनुमान  प्रसाद  पोद्दार  ने   स्वयं  को   इसके  एक  उदाहरण  के  रूप  में  प्रस्तुत  किया  l '
  अध्यात्मवाद  ,  कर्तव्य विमुख   होने  का  उपदेश  नहीं  देता   वरन  अपने  कर्तव्य  को  पूरी  तन्मयता   से  पूरा  करने  की  प्रेरणा  देता  है  l  गीता  में  भगवान  कृष्ण  ने  कर्म  की  कुशलता  को  ही  योग  माना   और  हनुमान  प्रसाद  पोद्दार  ( भाई जी ) ने  स्वयं  के  माध्यम  से  इस  योग  की  अनुपम  विवेचना  की   l 
                      गृहस्थ  जीवन  के  प्रति  निष्ठावान  और    समाज  की  बहु प्रचलित   जीवन   पद्धति  के  अनुकूल  रहकर  ही  सच्ची  लोकसेवा  की  जा    सकती  है   l  
 राष्ट्रीय  आन्दोलन  में  भाग  लेने  के  कारण    उन  पर  राजद्रोह  का  मुकदमा  चला  और  उन्हें   कारावास  भेज  दिया  गया  |  जेल  के  यातनापूर्ण  जीवन  में  भी  उनका  उपासना  क्रम  नियमित  रहा   और  जेल  के  एकांत  में  उनकी  वृतियां  अन्तर्मुखी   हुईं  l
  राजनीतिक  गतिविधियों  में  भाग  लेने  के  साथ  उन्होंने  समाज  सुधार  और  ' कल्याण '  के  माध्यम  से  लोकसेवा  की  l  इसके  साथ  ही  आभाव ग्रस्त  और  प्राकृतिक  प्रकोपों  के  शिकार   लोगों  की  सहायता  के  लिए  उन्होंने  जो  कुछ  किया  उससे  उनकी  महानता  और  भी  निखर  उठती  है  l  1925  में  बिहार   में  भूकम्प  आया   l  भाईजी  ने  सेवा  समिति  का  गठन    किया  और  स्वयं  दिन - रात  सेवा - सहायता  कार्य  में  लगकर  उन्होंने  हजारों  लोगों  के  आंसू  पोंछे  l   इसी  वर्ष  गोरखपुर  में  भीषण  बाढ़  आई ,  यहाँ  भी  वे  सहयोगियों  के  साथ  सेवा  के  लिए  पहुँच  गए  l  इसी  प्रकार  राजस्थान   और  बंगाल  में  अकाल  पड़े  और  1942  में  युद्ध   के  समय  भाग  कर  आये  यात्रियों  आदि  की  सेवा  की  l
 ' भगवत्प्रेम  का  प्रकट  रूप   लोकसेवा  ही  है   l   भाई जी  का  व्यक्तित्व  और  कृतित्व    इस  आदर्श  का  अनुपम  उदाहरण  है   l 

3 June 2017

विज्ञान और धर्म के समन्वय साधक ------ डॉ. सत्येन वसु

 ' अन्याय  और  अनौचित्य   के  आगे  कभी  सिर  न  झुकाने  वाले    अपने  सिद्धान्तों  के  प्रति   दृढ़-निष्ठ   और   सहजता   की  प्रतिमा   डॉ.  वसु  भारत    के  उन  गिने-चुने  वैज्ञानिकों  में  माने  जाते  हैं   जिन्होंने  अपना  जीवन   विज्ञान  के  माध्यम  से   मनुष्यता  की  सेवा  करने   और  वैज्ञानिक  जगत  में   अपने  देश  का   सिर  ऊँचा  उठाने  के  लिए   अनथक  प्रयास  किये  l  साथ  ही  साथ   समाज  सेवा  और   पीड़ित  मानवता   के  उत्कर्ष  में  लगे  रहे   l '
   1942  में  एक  छात्र -दल  को  सहयोग  देकर   ढाका  हाल  पर  तिरंगा  फहराया  था  l  जब  नेताजी  सुभाष  ने  बर्लिन  से  भारत  की  जनता  के  नाम  अपना  प्रथम  रेडियो  भाषण  दिया  तो  उसे  गुप्त  रूप  से   भारत  में  प्रसारित  करने  की  व्यवस्था  डॉ.  वसु  ने  की  थी   l  उस   समय  डॉ.  वसु  ने  ढाका    विश्वविद्यालय  की  प्रयोगशाला  में  उच्च  शक्ति  संपन्न   रिसीवर  पर  वह  भाषण  सुना  और  टेप  किया   तथा  इसके  बाद  ही  वह  भाषण  सारे   भारत  में   प्रचारित  किया  गया   l 

29 May 2017

समाज सेवा के आदर्श -------- फणीश्वर नाथ रेणु

 रेणु जी   का  विचार  था --- जिस  समाज  से  अनेक  साधनों  और  सेवाओं  को  पाकर  हमारा  जीवन  पल  रहा  है  ,  इसका  कर्ज  नकद  रूप  में  चुका  सकना  असंभव  है  l  अत:  समाज  की  भलाई  के  लिए  काम  न  आ  सके  तो  इससे  बुरी  बात  और  क्या  हो  सकती  है  l  '  वे  कहा  करते  थे --- ' जितनी  महत्ता  व्यक्ति  की  नहीं  ,  उतनी  समग्र  राष्ट्र  की  है   | '
     समाज    में  जब  वे  शोषितों  और  दलितों  के  प्रति  अमानवीय  व्यवहार  देखते  थे  तो  उनका  ह्रदय  द्रवित  हो  जाता  था   l  वे  जानते  थे  कि--- ' ये  दलित  जिनको  तिरस्कृत   कर  उनके  मानवीय  अधिकारों  का  हनन  किया  जा  रहा  है  हमारे  ही  अंश  हैं  l  समाज  रूपी  शरीर  के  समग्र  विकास  के  लिए   इनकी  उपेक्षा    करना  अपने  ही  समाज  को  अपंग  बनाना  है  l  '  अत;  वे  उनकी  न्यायोचित  सहायता  के  लिए  सदैव  आगे  बढ़ते  रहे  l  नि:स्वार्थ  सेवा  के  कारण  उनके  अनेक  मित्र  बन  चुके  थे  l  जब  कोई  उनके  पास  टूटे  दिल  से  , अधूरे  मन  से , पस्त  हिम्मत    बेचैन  होकर  आता  था  ,  तो  वह  हिम्मत    और  शक्ति    लेकर  जाता  था   l  लोग  उनका  आत्मीयता  भरा  प्यार , विवेकयुक्त  सुझाव  एवं  सच्चा    मार्ग दर्शन    पा  कर  जाते  थे   l 

25 May 2017

भारतीय संस्कृति के प्रतीक ------ श्री गणेश शंकर विद्दार्थी

  गणेश शंकर  विद्दार्थी  ने  एक  विद्दालय  में  प्रवेश  लिया  l  प्रवेश  के  समय  उनकी  पोषक  थी ---- धोती , कुरता , टोपी , जाकेट  और  पैरों  में  साधारण  चप्पल  l   अन्य  छात्रों  ने   व्यंग्य  किया  कि  कम  से  कम  अपना  पहनावा  तो  ऐसा  बनाओ  कि  लोग  जान  सकें  कि  तुम  एक  बड़े  विद्दालय  के  विद्दार्थी  हो   l
                            विद्दार्थी जी  ने  उत्तर  दिया ---- " अगर  पोशाक  पहनने  से  ही  व्यक्तित्व  ऊपर  उठ  जाता   तो  पैंट  और  कोट  पहनने  वाला   हर  अंग्रेज  महान  पंडित  होता  ,  मुझे  तो  उनमे  ऐसी  कोई  विशेषता  दिखाई  नहीं  देती  l  रही  शान  घटने  की  बात  तो  अगर  सात  समुद्र  पार  से  आने  वाले   और  भारत जैसे   गर्म  देश  में  ठन्डे  मुल्क  के  अंग्रेज   केवल  इसलिए  अपनी  पोशाक  नहीं  बदल  सकते   कि  वह  उनकी  संस्कृति  का  अंग  है   तो  मैं  ही  अपनी  संस्कृति  को  क्यों  हेय   होने  दूँ   ?   मुझे  अपना  मान,  प्रशंसा   और  प्रतिष्ठा  से   ज्यादा   धर्म  प्यारा   है , संस्कृति  प्रिय  है  ,  जिसे  जो  कहना  हो  कहे   मैं  अपनी  संस्कृति  का  परित्याग  नहीं  कर  सकता   ?  भारतीय  पोशाक  छोड़  देना  मेरे  लिए  मरण तुल्य  है  l "

23 May 2017

अनपढ़ साधु की शिक्षण सामर्थ्य ------ स्वामी केशवानन्द

  कोई  व्यक्ति  एकाकी  ही  परमार्थ  प्रयोजनों  के  लिए  जुटता  है   तो  अन्य  कई  और  भी  उत्साही  लोग  उसके  सहयोगी  और  अनुयायी  बन  कर  आगे  आते  हैं  l 
  घटना   1932  की  है  l राजस्थान  के  गंगानगर  में   संगरिया   गाँव  में  शिक्षा  की  कोई  व्यवस्था  नहीं  थी ,  लोगों  को  रूचि  भी  नहीं  थी  ,  इस  कारण  उस  क्षेत्र  में  एक  भूतपूर्व  सैनिक  द्वारा  खोला  गया  स्कूल  बंद  होने  की  स्थिति  में  था  l  इस  सम्बन्ध  में  उस  क्षेत्र  के  प्रतिष्ठित  व्यक्तियों  की  एक  मीटिंग  में   यह  बताया  गया  कि  अर्थाभाव  के  कारण  स्कूल  बंद  करना  पड़  रहा  है  l
  उस  सम्मलेन  में  स्वामी  केशवानन्द  भी  थे  l  वे  यद्दपि  अनपढ़  थे  किन्तु  उनका  व्यक्तित्व  इतना  तेजस्वी  था  कि  उन्हें  लोग  ऋषि   महर्षि  की  तरह  पूजते  थे  l  उन्होंने  कहा ---  विद्दालय  इसलिए  नहीं  खोले  जाते  कि  उन्हें  बंद  करना  पड़े ,  इस  विद्दालय  की  जिम्मेदारी  मेरी  है  l 
  उस  समय   स्वामीजी  के  पास  कोई  साधन  नहीं  थे ,  वे  स्वयं  एक  कुटिया  में  रहते  थे  ,  ग्रामवासी  उनके   भोजन  आदि  की  व्यवस्था  कर  देते  थे   किन्तु  उनके  पास  संकल्प  बल  था   जो  कठिन  से  कठिन  परिस्थितियों  में  भी  मनुष्य  को  अजेय  और  सफल  बनाता  ने     है  l   स्वामीजी  ने   दिन - रात  परिश्रम  किया  l उनके     परिश्रम  और   जन - सहयोग  से   विद्दालय  पहले  से  कहीं  अच्छे  रूप  में  चलने  लगा  l   वह  मिडिल  स्कूल  से  महाविद्यालय  हो  गया   l  जन - सहयोग  से    उस  रियासत  में  स्वामीजी  ने  लगभग  तीन  सौ  प्राथमिक    शालाएं    खुलवायीं  l
  सर्व साधारण  को  इतना  गहरा  प्रभावित  करने  की  शक्ति  स्वामीजी  के  उस  व्यक्तित्व  में  थी  ,  जो  व्यर्थ  के  आडम्बर  और  शान - शौकत   से  कोसों  दूर  था   l 

22 May 2017

कर्मयोग का सन्देश देने वाले ----- केदारनाथ कुलकर्णी

 कुलकर्णी जी  ( जन्म 1883) अपने  कार्यक्षेत्र  में  नाथ जी  महाराज  के  नाम  से  विख्यात  हैं  l  उपासना  के  नाम  पर  चलने  वाले  ढोंग  और  गुरुडम  के  प्रति  उन्होंने  लोगों  को  सचेत  किया  l  वे  दूसरों  के  दुःख  को  अपना  दुःख  मानकर  सेवा  करने  को  सदैव  तत्पर  रहते  थे  l  उनके  एक  मित्र  ने  कहा  था  कि  यदि  नाथ जी  की  सेवा  उपलब्ध  हो  सके  तो   पुन:  बीमार  पड़ने  की  इच्छा  होती  है  l
   गाँधीवादी  विचारक स्वर्गीय   किशोरीलाल  नशरुवाला  को  जब  अपने  निकट सम्बन्धियों   में  ही  स्वार्थ  की  गंध  आने  लगी   तो  सब  कुछ  मिथ्या  और  नाशवान   मानकर   उनने  घर  छोड़ने  की  तैयारी  कर  दी  तो  गांधीजी  के  कहने  पर   नाथ जी  ने  ही  उन्हें  रोका  और  समझाया - बुझाया था  l  जीवन  की  सार्थकता  पर  विचार  व्यक्त   करते  हुए  उन्होंने  कहा  था ---- " मनुष्य  को  पूर्णता  तक  ले  जाने  की  सामर्थ्य  सिर्फ  कर्मयोग  में  है  l  अत:  हमारे  छोटे  - बड़े  सभी  कार्य  सावधानी पूर्वक   और  निष्काम  भाव  से  संपन्न  होने  चाहिए  l  इसी  में  हमारे  जीवन  की  सार्थकता  है  | "  वे  सदा  प्रत्येक  व्यक्ति  को  पुरुषार्थी  बनने  की  प्रेरणा  देते  रहते  थे  l 

18 May 2017

आदिवासियों के बीच रहकर उनकी सेवा की ----- वेरियर एल्विन

  गांधीजी  ने  अनेक  भारत वासियों  और   विदेशियों  को  प्रेरणा  देकर  सेवा  साधना  हेतु  प्रेरित  किया    , उनमे  से  एक  हैं ----- वेरियर  एल्विन   l  करंजिया  नामक  एक  गाँव  ( पेंड्रा रोड ---- कटनी )  से  कुछ  मील  दूर   आदिवासी  लोगों  के  बीच  जाकर  काम  करने  की  प्रेरणा    उन्हें  महात्मा  गाँधी  ने  दी  l
  वहां  उन्होंने  गौंड  सेवा  मंडल  की  स्थापना  की  l  उन्होंने  वहां  की  भाषा  सीख  ली  , वे  वहां  के  ' बड़े  भैया  बन  गए  l  गांधीजी  उन्हें  अपना  बेटा   कहते  थे  और  मीरा  बेन  को  बेटी   l  गांधीजी  ने  उनके   उन्हें  एक  साथी  भी  दिया  था   उनके  काम  में  सहयोग  के  लिए  l  वे  उसे  हमेशा  भाई  की  तरह  सम्मान  देते  रहे  l  उन्होंने  गोंड , बेगा , मुरिया , नागा ,  अगरिया  आदि  सभी  तरह  के   आदिवासियों  के  बीच  रहकर  उनकी  सेवा  की  ,  उनके  लिए  स्कूल  खोले  ,  अस्पताल  चलाये  l फरवरी  1962  में  भारत  में  ही  उनने  अंतिम  सांस  ली   l 

17 May 2017

WISDOM

 कार्य  चाहे  जो  भी  हो  ,  उससे  प्यार  करना  हमारे  व्यक्तित्व  निर्माण  का   एक  बड़ा  हिस्सा  है   l   हर  कार्य  मूल्यवान  होता  है  ,  कोई  भी  कार्य  छोटा  या  बड़ा  नहीं  होता  l   यदि  नेकनियत  से  कार्य  किया  जाये   तो  छोटा  सा  कार्य  भी  व्यक्ति  को   शिखर  तक  पहुंचा  सकता  है   और  लापरवाही  के  साथ  किया  गया  बड़ा  काम  भी  व्यक्ति  को  उच्च  शिखर   से  नीचे  गिरा  सकता  है   l   हमारे  आचार्य ,  ऋषियों  का  कहना  है   कि  '  यदि  तुम  जीवन  में  छोटे  और  महत्वहीन    समझे     जाने  वाले   काम  अच्छे  ढंग  से  कर  लेते  हो  ,  तो    बड़े  काम  भी  बढ़िया  से  कर   लोगे  l  इसलिए  कार्य  के  प्रति   सदैव  सम्मान  का  भाव  रखो    |  

16 May 2017

वेदांत को अपने जीवन माध्यम से समझाने वाले ------- स्वामी रामतीर्थ

  स्वामी  रामतीर्थ  ( जन्म  1873 )  का   नाम  तीर्थराम  था  l  बाल्यकाल  से  ही  उनमे  विद्दा - अध्ययन  की  अटूट  लगन  थी   l  विद्दार्थी  जीवन  में  उन्हें  बड़ी  आर्थिक  कठिनाइयों  का  सामना  करना  पड़ा  l  जब
  एम. एस -सी. गणित  में  वे  सर्वाधिक  अंकों  से  उत्तीर्ण  हुए   तो  उनके  प्रिन्सीपल  ने  कहा --- " तुम्हारा  नाम  सिविल  सर्विस  परीक्षा  के  लिए  दे  रहा  हूँ  l "  तो  उनकी  आँखों  में  आंसू  भर  आये , वे  बोले ----- "मैंने  इतनी  मेहनत  से   ज्ञान  का  जो  खजाना  पाया  है  उसे  धनवान  बनने  के  लिए  खर्च  नहीं  करना  चाहता  l  उच्च  पदों  पर  आसीन  रहकर  मैं  अपनी  इस  प्रतिभा  का  क्या  उपयोग  करूँगा  ? मैंने  तो  यह  ज्ञान  इसलिए  कमाया  कि  इस  दौलत  को  बांटकर   अपने  आपको   तथा  औरों  को  सुखी  बनाऊँ l  "
    उन्होंने   अध्यापक  बनना  पसंद  किया  l  बाद  में    नौकरी  को  छोड़कर  उन्होंने  संन्यास  ले  लिया  और  वेदान्त    प्रचार  करने  लगे   l
   स्वामीजी  का  व्यक्तित्व  प्रभावी  था   जिसका  प्रभाव  लोगों  पर  पड़ता  था  l  स्वयं  रामतीर्थ  की  स्वयं  यह  मान्यता  रही  कि----  जितना  तुम  बोलते  हो  उससे  ज्यादा  तुम्हारा  व्यक्तित्व  सुना  जाता  है  l   स्वामीजी  ने   वेदान्त  को  जो   अब  तक  चर्चा  और  परिसंवाद  का  विषय  ही  समझा  जाता  था  ,  अपने  जीवन  और  आचरण  में  उतार  कर    अपने  व्यक्तित्व  को  इतना  तेजस्वी  और  प्रखर  बना  लिया  था  कि  उसके  आगे  हर  कोई  नत मस्तक  हो  जाता  था    l 

15 May 2017

त्याग और बलिदान के आराधक ------- गणेश शंकर विद्दार्थी

   गणेश  शंकर  विद्दार्थी  हमारे  देश  के  एक  तेजोमय  रत्न  थे  l  उनका  आरम्भिक  जीवन  बहुत  गरीबी  में  रहा  किन्तु  मानसिक  स्थिति  और  व्यवहार  की  द्रष्टि  से  उन्हें   कभी  दीन  नहीं  कहा  जा  सकता  l  दूसरों  के  दुःख  को  देखकर  द्रवित  हो  उठना  विद्दार्थी  जी  के  जीवन  का  एक  अंग  था  l  दुःखी , गरीब , असहाय  लोगों  का  उनके  पास  बराबर  तांता  लगा  रहता  था  l  वे  लोगों  के  दुःख - दर्द  सुनते  और  उसे  दूर  करने  का  प्रयत्न  करते   l  उनका ' प्रताप प्रेस '  सदा   ऐसे  आर्त  और  असहायों  का   सहायक  सदन  बना  रहता  था  l  जिसे  कहीं  कोई  सहारा  न  मिले   उसे  ' प्रताप ' में  सहारा  मिल  जाता  था   |
    जब  विद्दार्थी  जी  मैट्रिक  में  पढ़ते  थे  तो  उसमे  ' बुक  आफ  गोल्डन  डीड्स '  नामक  पुस्तक  पढ़ाई  जाती  थी  l  इसमें  वर्णित  देश सेवा   और  मानव - सेवा  की  घटनाओं  का  उन  पर  खूब  प्रभाव  पड़ा  और  कुछ  समय  पश्चात्  उसके  आधार  पर  ' हमारी  आत्मोत्सर्गता '  नामक  पुस्तक  लिखी   जिसकी  भूमिका  में  उन्होंने  लिखा ----- " मातृभूमि   की  सेवा  करना  , हर  मनुष्य  का  कर्तव्य  है  l  इतिहास  का  प्रचार  देशोद्धार  का  एक  बड़ा  उपाय  है  l  प्राचीन  कथाओं  को  सुनकर   महाराणा  प्रताप  स्वतंत्रता  देवी  के  आराधक  बने  l  महाभारत  और  रामायण  की  कथाओं  ने  ही  परतन्त्र  पिता  के  पुत्र   शिवाजी  को  महाराष्ट्र  का  छत्रपति  बना  दिया  l  मेरा  भी  कर्तव्य  है  कि  मातृभूमि  की  सेवा  जहाँ  तक  बने  वहां  तक  करूँ  l  "
  उन्होंने   अपने  पत्र  ' प्रताप '  का  नामकरण   मेवाड़  के  महाराणा  प्रताप   के  स्वाधीनता  के  लिए  मर   मिटने  के  आदर्श  को  लक्ष्य  रख  कर  ही  किया  था  l 

13 May 2017

आत्म विश्वास एक दैवी विभूति

 सफलता  पाने  के  लिए  अंदर  के  आत्मविश्वास  को  जगाना  पड़ता  है   l  स्वयं  पर  विश्वास  करना  अंतत:  ईश्वर  में  आस्था   है   l  यह  विश्वास  जितना   प्रबल  होता  जायेगा  ,  हमारा  निर्धारित  लक्ष्य  उतना  ही  पास  होता  जायेगा   l  जिसे  अपने  इष्ट   एवं  लक्ष्य  के  प्रति  प्रबल  विश्वास  होता  है  ,  उसका  कर्म  ही  पूजा   एवं  उपासना  बन  जाता  है   l  वह  हर  कठिनाई  का  धैर्य  के  साथ  सामना  करता  है  l असफलता  से  विचलित  नहीं  होता ,  हर  असफलता  से  सीख  लेकर  दूने  उत्साह  के  साथ  जुट  जाता  है   l  जिसका  विश्वास  प्रखर  होता  है  उसे  परिस्थितियां  झुका  नहीं  पातीं  l
  आत्मविश्वास  और  आत्म निर्भरता  की  भावना  से  ओतप्रोत  व्यक्ति  का   परिश्रम  तथा  पुरुषार्थ  कभी  निष्फल  नहीं  जाता   l 

12 May 2017

सादगी और सरलता की प्रतिमूर्ति ---- भारत के प्रथम राष्ट्रपति ----- डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

  ' मनोयोग  और  श्रमशीलता  के  बल  पर   अर्जित   आत्मविश्वास   की  नींव  पर  खड़ा  उनका   व्यक्तित्व   आगे  भी  महानता  के  मार्ग  पर     लोगों  को  प्रेरित   करता  रहेगा   l 
      1913  में   बिहार  में  भयंकर  बाढ़  आई ,  उस  समय  राजेन्द्र     बाबू   वकालत   छोड़कर  संगी - साथियों  के  साथ  बाढ़ पीड़ितों  की  सेवा  में  लग  गए  ,  रात  को  वे  किसी  रेलवे  लाइन  या  स्टेशन   पर  ही  सो  जाते    थे  l   1934  में  जब  उत्तरी   बिहार  में   विनाशकारी  भूकम्प  आया  तो  वे  तन - मन -धन  से  भूकम्प - पीड़ितों  की  सेवा  में  लग  गए   l  उस  समय  उन्हें     किसी  कार्य  से  दरभंगा  जाना  पड़ा  ,  वहां  से  लौटते  में  ट्रेन    सोनपुर  स्टेशन   पर  रुकी  ,  भयंकर  गर्मी  थी  लोग  पानी - पानी  चिल्ला  रहे  थे   l  राजेन्द्र     बाबू  एक  क्षण  में  डिब्बे  से  उतर  गए  और  एक  हाथ  में  बाल्टी  और  दूसरे  हाथ  में  लोटा   लिए  दौड़ - दौड़कर  लोगों  को  पानी  पिला  रहे  थे  l
  उनकी  स्मरण शक्ति  आश्चर्यजनक  थी   l   कांग्रेस  कार्य कारिणी  की  बैठक  में  एक  आवश्यक  प्रस्ताव  पारित  होना  था  ,  लेकिन  उससे  संबंधित  रिपोर्ट  नहीं  मिल  रही  थी   l  सभी  प्रधान  सदस्य  बड़े  परेशान  थे   l  राजेन्द्र  बाबू   वरिष्ठ  नेताओं  पं. नेहरु ,  आचार्य  कृपलानी  और  मौलाना  आजाद  आदि  नेताओं  के  साथ  चर्चा  कर  रहे  थे  l  जब  उनसे  पूछा  गया  तो  उन्होंने  कहा   ' हाँ  ' वह  रिपोर्ट  मैं  पढ़  चुका  हूँ   और  आवश्यक  हो  तो  उसे  बोलकर  पुन:  नोट  करा  सकता  हूँ  l   लोगों  को  विश्वास  न  हुआ  कि  इतनी  लम्बी  रिपोर्ट  एक  बार  पढ़ने  के  पश्चात्  ज्यों  की  त्यों  लिखाई  जा  सकती  है  l  राजेन्द्र  बबू  सौ  से  भी  अधिक   पेज  लिखा  चुके  तब  वह  रिपोर्ट  मिल  गई   l  कौतूहलवश  लोगों  ने  मिलान  किया   तो  कहीं  भी  अंतर  नहीं  मिला   l  लोग  आश्चर्य चकित  रह  गए   l 

10 May 2017

भगवान बुद्ध ने सही अर्थों में मनुष्य को जीवन जीना सिखाया

  भगवान्  बुद्ध  का  जीवन  सत्य  की  खोज  में  ,  लोगों  को  उपदेश  देने  और  सन्मार्ग  पर  लाने  में  लगा   l  उन्होंने  मानव  मनोविज्ञान    और  दुःख  के  हर  पहलू  के  विषय  में  चर्चा  की    और  उसके  समाधान  भी  बताये  |   भगवान्  बुद्ध  ने  मध्यम  मार्ग  बताया   l  उन्होंने  कहा ----  ' वीणा  के  तार  को  इतना  मत  कसो  कि  वह  टूट  जाये  और  इतना  ढीला  भी  मत  छोड़ो  कि  वह   बजना  ही   छोड़  दे  l ' इसी  तरह  जीवन  में  अति  कठोरता  या  अति  ढीलापन  बरतना   नुकसानदायक  होता  है   l '
  भगवान  बुद्ध  ने  स्वयं  को  ' मार्ग - दाता '  कहा  l  उन्होंने  अपने  अनुयायियों  को  मोक्ष  का   लालच  नहीं  दिया  l   उन्होंने  यह  अवश्य  कहा  कि  जो  उनके  बताये  मार्ग  पर  पूर्ण  समर्पण  से  चलेगा   वह  भी  दिव्य  चेतना   के  उस  स्तर  तक  पहुँच  सकता  है   l 

9 May 2017

महान योद्धा ------ नेल्सन

 ' आत्म बल  संपन्न  व्यक्ति  अपनी  प्रसुप्त  शक्तियों  को   पहचानते , जगाते  और  आगे  बढ़ते    चले  जाते  हैं  l  '     ब्रिटिश  सेनापति  नेल्सन  की  मान्यता  थी  कि  जो  व्यक्ति  सफलता  का  दृढ़  निश्चय  कर  लेता  है  और  पूरे  मनोयोग  से   उसमे  जुट  जाता  है  तो  वह  असफल  हो  ही  नहीं   सकता   l
  विश्व विख्यात  ट्रेफलगर   के  युद्ध  में   नेल्सन  को  जहाज  के  एक  पुल  पर  सबसे  खतरनाक  जगह  तैनात  किया  गया  l  फ्रांस  और  स्पेन  दोनों  ने  मिलकर  चढ़ाई  कर  दी  ,  घमासान  युद्ध  हुआ  l
  युद्ध  चल  रहा  था  तब  उसे  आज्ञा  दी  गई  कि  उस  स्थान  पर  दुश्मन  का  आक्रमण  होने  वाला  है  , वह  स्थान  छोड़कर  पीछे  हट  जाओ  l  लेकिन  नेल्सन  ने  ऐसा  करने  से  इनकार  कर  दिया  l  नेल्सन   ड्यूटी  पर  खड़ा  था  ,  तभी  एक  गोली  उसको  लगी    l  सिपाही  उसे  उठाकर  पीछे  ले  जाना  चाहते  थे   पर  उसने  सोचा   कि  अन्य  सिपाहियों  को  मेरे  मर  जाने  की   सुचना  मिली  तो  उनका  उत्साह  ठंडा  पड़  जायेगा  और  हार  हो  जाएगी  l  उसने  कड़ककर  कहा  ---- जब  तक  विजय  की  सूचना  नहीं  मिलती   मैं  मुर्दा  हो  जाऊं   तो  भी  मुझे  ऐसे  ही  खड़ा  रहने  दिया  जाये   l  और  सचमुच  एक  बार  फिर  विजय  हुई    और  जब  इसकी   सूचना   उसको  मिल  गई  तभी  उसका  प्राणांत  हुआ  l 

8 May 2017

उत्कृष्ट व्यक्तित्व ------- वीर मोहन रानाडे

 गोवा  मुक्ति  हेतु  प्रयास  करने    में   वीर मोहन  रानाडे   ने   जिस  वीरता  , त्याग  और  कर्तव्य पालन  का  परिचय  दिया  यह  प्रेरक  और  गौरवमय  है  l   भारत  तो  स्वतंत्र  हो  गया  था  किन्तु  गोवा  पर  पुर्तगालियों  का  अधिकार  था  l
  गोवा  मुक्ति  के  प्रयास  में  एक  बार  वहां  की  पुर्तगाली   सरकार  ने  मोहन  रानाडे  को  बन्दी  बना  लिया   और  सैनिक  अदालत  ने  उन्हें  26  वर्ष  का  कठोर  दंड  सुनाया  l   किन्तु  इससे  वीर  मोहन  रानाडे  तनिक  भी  भयभीत  नहीं  हुए  l  उनकी  आत्म विश्वास पूर्ण  मुस्कराहट   कह  रही  थी ---'  इस  संसार  में  असुरता  कभी  भी  स्थिर  होकर  नहीं  रह  सकी  है ,  तुम  समाप्त  हो  जाओगे  और  मैं  इसी  प्रकार  हँसता - मुस्कराता  रहूँगा   l '
    अधिकारियों  ने  रानाडे  को  पुर्तगाल  की  सबसे  ख़राब  जेल  भेज  दिया  जहाँ  कैदियों  की  निर्धारित  संख्या  से  दुगुने - तिगुने  कैदी  भरे  थे  l  निकृष्ट  भोजन था  और  डाक्टरी  सुविधा  भी  नहीं  के  बराबर  थी   किन्तु  रानाडे  ने  स्थिति  के  प्रति  कभी  कोई  खीज  प्रकट  नहीं  की  l  उनका  आत्मविश्वास  और  द्रढ़ता  पूर्ववत  थी   |  ' उत्कृष्ट  व्यक्तित्व  अपने  आप  में  पूरा  होता  है  l  उत्कृष्ट  व्यक्तित्व  का  धनी  व्यक्ति  जहाँ  भी  रहता  है  ,  सम्मानित  और  प्रिय  बनकर  रहता  है   l '
  रानाडे   बंदियों  के  साथ   सहयोग  व  सहानुभूति  रखते  ,  थोड़े  ही  दिनों  में  बन्दी  उनके    साथ  घुलमिल  गए  l  परस्पर  प्रेम  से  रहने  से  जेल यंत्रणा उन्हें  फीकी    लगने  लगीं  l    अधिकारियों  ने  रानाडे  को  कष्ट  देने  के  लिए  इतनी    कष्टपूर्ण  जेल  में  रखा  था   किन्तु  रानाडे  को  इतनी  शान्ति  और  प्रेम  से  कैदियों  के  साथ  रहते  देख  वे  जल - भुन   गए  अब  रानाडे  के  साथ   कैदियों  पर  भी  उनका  क्रोध  बरसने  लगा  l
  वीर  मोहन  रानाडे  13 वर्ष  तक  पुर्तगालियों  के  राक्षसी  शिकंजे  में  रहे  ,  उनके  आत्मविश्वास  के  आगे  पुर्तगाली  सैद्धांतिक  रूप  से  हार  चुके  थे  l   1962  में  गोवा  आजाद  हुआ   तब  वे   अपने  एक  अन्य  साथी   मास्कर  हंस  को     पुर्तगाली   कैद  से  मुक्त  करा कर  भारत  आये   l  उन्होंने  अपने  कष्टों  की  तुलना  में   कर्तव्य  पालन  को  महत्व  देकर    अपनी  श्रेष्ठता  प्रमाणित  की  l 

7 May 2017

पर निंदा से बढ़कर कोई पाप नहीं

  गोस्वामी  जी  कहते  हैं  कि---- निंदा  हिंसा  से  भी  बढ़कर  है   l  जिसके  भी  दोषों  का  हम  चिंतन  करते  हैं  हमारा  मन  उससे  तदाकार  हो  जाता  है  | उसके  दोष  भी  हमारे  अन्दर  आ  जाते  हैं  |
  मैथिलीशरण  गुप्त  प्रसिद्ध  साहित्यकार   चिरगांव , झाँसी  के   थे  l   पंडित  नेहरु  ने  उन्हें  राज्य  सभा  के  सदस्य  के  रूप  में  नामित  कर  दिल्ली  बुला  लिया  l  उनका  यहाँ  मन  नहीं  लगा  l  वे  कहते  थे   कि  यहाँ  दिल्ली  में  हमारा  रहना  संभव  नहीं   l  यहाँ  तो  लोग  सबेरे  उठकर  चाय  की   चुस्कियों  से   दूसरों  की ----सारे  समाज  की  निंदा  करते  हैं  ---- अखबार  पढ़ते  पढ़ते  भी  बुराई  !   और  सामने  आते  ही   मुस्कराहट  भरी  तारीफ   करते  हैं   l   भई  !  हमसे  तो  नहीं  निभेगा  l  हमारा  गाँव  ठीक  है  ,  वहां  सब  निर्मल  ह्रदय  के  तो  हैं   l  काव्य रचयिता  वह  इतिहास पुरुष   दिल्ली  से  वापस  चले  गए   l  

6 May 2017

सम्प्रदाय वाद से आजीवन लड़ने वाले ------- मजहरुल हक

   ' मौलाना  मजहरुल  हक  ( जन्म 1866 )  को  मुख्य  रूप से  साम्प्रदायिक  एकता  के  लिए  ही  स्मरण  किया  जाता  है   l  उन्होंने  कई  अवसरों  पर  कहा ----- ' हम  हिन्दू  हों  या  मुसलमान,  सब  एक  ही  नाव  के   यात्री  हैं , डूबेंगे  तो  साथ  और  पार  निकलेंगे  तो  एक  साथ  l '
    अंग्रेजों  की  फूट  डालने  की  नीति  की  वजह  से  जब  दंगे  हुए  तो  मौलाना  हक  ने  कहा ----- 'मैं   जानता  हूँ   आप  लोग  बहकाने  में   हैं ,  गलती  पर  हैं  l  जब  आप  शांतचित  होकर  विचार  करेंगे   तो  आपको  पता  चलेगा  कि  हिन्दू   और  मुसलमान  एक  ही  डाल  के  दो  फूल  हैं  ,  एक   ही  माँ  की  दो  आँखें    हैं   l '
            एक  बार  सम्प्रदाय  उन्मादियों  ने  उन्हें  प्रलोभन   देकर  प्रस्ताव  रखा ---- ' आप    यह  एकता  की  बात  न  करें  और  कांग्रेस  को  छोड़कर  लीग  में  आ   जाएँ  l  हम  आपको  लीग  संगठन  का  सर्वोच्च  अधिकारी  नियुक्त  करेंगे  | '
  मौलाना  का  एक  ही  उत्तर  होता ----- " किसी  माँ  के  दो  बेटों  में  लालच  देकर  फूट  पैदा  करने  की  कोशिश  की  जाये  तो  मैं  ऐसे  बेवकूफ  बेटों  में  से  नहीं  हूँ   जो  कुर्सी  के  लोभ  में  अपनी  माँ  का  ह्रदय  तोड़  दूँ   l  "
 एक  बार  सारन  जिले  के  फरीदपुर  गाँव  में  कुछ  मुसलमानों  ने  बकरीद  पर  गाय  की  क़ुरबानी  देने  का  विचार  किया   जिससे  हिन्दुओं  की  धार्मिक  भावना  को  ठेस  पहुंचे  l  मौलाना  हक  को  जैसे   ही  यह  बात  का  पता  लगा  उन्होंने  अपने  आवश्यक  कार्य  छोड़कर  मुसलमानों  को  बहुत  समझाया  जब  वे  न  माने  तो  उन्होंने  आमरण  अनशन  पर  बैठने  का  निश्चय  किया  l  इसका  ऐसा  असर  हुआ  कि  मुसलमानों   ने  गौहत्या  का   विचार  त्याग  दिया  l
  आजीवन  हिन्दू - मुस्लिम  एकता  का  प्रयत्न  करते  हुए  मौलाना  हक  जनवरी  1930  को  परमधाम  चले   गए  l   उनकी  मृत्यु  का  समाचार  सुनकर  लाखों  लोग  रो  उठे  कि   हिन्दू - मुस्लिम  एकता  का  एक  महान  साधक  उठ  गया   l  

5 May 2017

कुशल प्रशासक ------- छत्रपति शिवाजी

   शिवाजी  सो  रहे  थे  कि  एक  बालक  तलवार  लेकर  उनके  शयनकक्ष  में  प्रवेश  कर  गया  l  वह  शिवाजी  पर  हमला  करने  ही  वाला  था  कि  शिवाजी  के  सेनापति   तानाजी  ,  जो  सतत  उनके  साथ  साए  की  तरह  रहते  थे  ,  ने  उसे  देख  लिया   l  इससे  पूर्व  वह  कुछ  कर  पाता,  उसे  पकड़  लिया  गया  l  शिवाजी  जाग  गए  l   उन्होंने  पूछा ----- " बालक ! तुम  हमें  क्यों  मारना  चाहते  हो  ? "
                बालक  ने  कहा ----- " महाराज  !  मेरे  पिताजी  आपकी  सेना  में  एक  सैनिक  थे  l  वे  युद्ध  में  मारे  गए  l    राज्य  से  हमें  कोई  सहायता  नहीं  मिली    l  मेरी  माँ   काफी  दिनों  से  बीमार  है  l  हम  दोनों  बड़ा  कष्टमय  जीवन  जी  रहे  हैं  l  मैं  किसी  काम  की  तलाश  में  निकला  था   कि    आपके  शत्रु  सुभागराय  ने  मुझे  आपके  विषय  में  बहुत    कुछ  भला - बुरा  कहा  और  बोला  कि  तू    मेरे  और  तेरे  शत्रु  शिवाजी  को  मार  दे     l  मैं    तुझे  धन  दूंगा   l  मैं  इसी  कारण  यह  पता  होते  हुए  भी   कि  पकड़े  जाने  पर  मृत्यु  दंड   मिलेगा  ,  आपको  मारने  आया  l "
  तानाजी  ने  कहा --- " तू  रंगे  हाथों  पकड़ा  गया   है  l  अब  तुझे  अपनी  जान  देनी  होगी   l  "
  बालक  बोला ----- "  मेरी  माँ  मृत्युशय्या  पर  है  ,  उसे  प्रणाम  कर   कल  प्रात: तक  वापस  आ  जाऊँगा l "
    शिवाजी  सभी  बातें  देख - सुन  रहे  थे  ,  उन्होंने  कहा ---- " बालक  ! तुम  जाओ , कल  आ  जाना  l "
  बालक  मालोजी  राव  अगले  दिन  दरबार  में  आया  और  उसने  समर्पण  कर  दिया  l
  शिवाजी  ने  भरे  दरबार  में  कहा ------ " यह  सत्य निष्ठ  बालक  हमारे  वीर  सैनिक  का  बेटा  है  | भूल  हमसे  हुई  है  l  हमने  उसके  परिवार  का  ध्यान  नहीं  रखा  l  हम  इसे  क्षमा  कर  आजीवन  भरण - पोषण  की  व्यवस्था  करते  हैं  l  "
 शिवाजी  प्रथम  राज्याध्यक्ष   हैं  ,  जिन्होंने  इस  घटना  के  बाद  अपने  सैनिकों  को   जीवनकाल एवं  मृत्यु  के  बाद  उनके  परिवार  के  भरण - पोषण   की  योजना  बनाई    l 

4 May 2017

आत्म प्रशंसा और आत्म विज्ञापन से कोसों दूर ------ लौहपुरुष स्टालिन

 ' विचार मनुष्य को क्या से क्या बना देते हैं  l  विचार  व्यक्ति  व  समाज  का  कायाकल्प  कर  के  रख  देते  हैं 
        स्टालिन    पिता  जूते  गांठने  का    काम  करते  थे  ,  माता  लोगों   के  कपड़े  धोया  करती  थी  l  माँ  चाहती  थी  उसका   बेटा   पादरी  बन  जाये   l  संयोग  से  एक  दिन  स्टालिन    हाथ  मार्क्स  की   ' पूंजी  अथवा  राजनैतिक   अर्थव्यवस्था '  की  एक  समीक्षा  लग   गई  l  इस  पुस्तक  ने  स्टालिन    को  पादरी  बनने  से  बचा  लिया   और  क्रान्तिकारी   बना  दिया  l
  सोवियत  जनता  को  जार  के  निरंकुश  शासन  से  मुक्ति  दिलाने  के  लिए   उसने   जीवन  के  स्वर्णिम  बीस  वर्ष   समर्पित  कर  दिए   l  जो  अपने  क्षुद्र  व्यक्तित्व  को  किसी  लोकोपयोगी  महान  लक्ष्य  से  जोड़  लेते  हैं   तो  उनमे  स्टालिन  जैसी  सामर्थ्य  स्वत:  उत्पन्न  हो  जाती  है  l    इस  क्रान्ति  के  मार्ग  पर   स्टालिन  को  गालियाँ , चाबुक ,  मार , यंत्रणा  सब  कुछ  सहना  पड़ा   l   उत्तरी  ध्रुव  प्रदेश  से  लगे  रूस  के  एक  गाँव    में  स्टालिन  को  चार  वर्ष   तक  अति  कष्ट  का  जीवन  बिताना  पड़ा ,  वहां  दो  सौ  मील  तक  कोई    बस्ती  नहीं  थी  और  बारहों  महीने    कड़ाके  की  ठण्ड  पड़ती  थी   |    बीस  से  भी  अधिक  वर्षों   तक क्रान्ति  के  लिए  जी - जान  से    जुटा  रहा  |  इस  दौरान  वह  लेनिन  का   दाहिना  हाथ  बन  चुका  था  |
      आखिर    निरंकुश  जार   शासन  समाप्त  हुआ   l  लेनिन  सोवियत  रूस  का  सर्वेसर्वा  बना  l   लेनिन  की  मृत्यु  के  बाद   स्टालिन  बीस  वर्षों  तक  सोवियत  संघ  का  एकछत्र  शासक  रहा  l  स्टालिन  की  कठोरता  और  निर्ममता  राष्ट्र हित  में  होने  के  कारण  उपयोगी  सिद्ध  हुई  l  उसने  सामाजिक  हित  में   व्यक्तिगत  इच्छाओं  को  त्याग  दिया  l  एकछत्र  शासक  होने  पर  भी  वह  जार  के  शानदार  महल  में  रहने  के  बजाय  सचिवालय  के  कर्मचारियों  को  मिलने  वाले  साधारण  क्वार्टर  में  रहता था ,  सुख - वैभव  को  त्याग कर  सामान्य  जीवन    व्यतीत  करता  था  |

3 May 2017

मानवता के प्रेमी -------- महापुरुष मेजिनी

 मेजिनी  का  जन्म (1805)  इटली  में   ऐसे  युग  में  हुआ  था   जब  इटली   देशी  और  विदेशी  शासको  में  बंटकर  छिन्न - भिन्न  हो  चुका  था ,  वहां  की  जनता  की  दशा  निरंतर  दयनीय  होती  जा  रही  थी  |
        मेजिनी  जब  छह  वर्ष  के  थे  ,  उनकी  माँ  उन्हें  घर  से  बाहर  घुमाने  ले  गई  ,  वहां  उन्होंने  एक  वृद्ध  फकीर  को  बैठे  देखा  ,  बालक  मेजिनी  बहुत  देर  तक  उसे  देखता  रहा  फिर  उस   वृद्ध  के  गले  से  लिपट  गया  और  अपनी  माँ  से  आग्रह  करने  लगा  कि  '  इसे  कुछ  दे  दो  " l  उस  फकीर  की  आँखों  में  आंसू  आ  गए   और  वह  उनकी  माता  से  कहने  लगा --- "  तुम  इस  बच्चे  को  खूब  स्नेह  से  पालो ,  क्योंकि  यह  मानव   जाति  से  प्रेम  करने  वाला   बनेगा    l "  उनका  यह  कथन  आगे  चलकर  सत्य  सिद्ध  हुआ  l
           स्कूल  और  कॉलेज  में  शिक्षा  प्राप्त  करते  समय  भी  मेजिनी  के  स्वभाव  में  ऐसी  ही  उदारता  और  परोपकार  की  वृत्ति  थी  l  वह  अपने  खर्चे  में  कमी  करके    और  कई  तरह  की  असुविधा  सहन  कर के  वह  गरीब  विद्दार्थियों  के  लिए  कपड़े,  पुस्तकें  आदि  की  सहायता  करता  था   l  मेजिनी  का  चरित्र  भी  ऐसा  निर्मल  और  नीति - न्याय युक्त  रहता  था   कि  अधिकांश  विद्दार्थी  उन्हें   अपने  नेता  के  रूप  में  देखते  थे   |     दीन - दुःखियों   और  अन्याय  पीड़ितों   से  हार्दिक  सहानुभूति  रखना ,  उनकी  हर  संभव  मदद  करना ----  ये  मेजिनी  के  ऐसे  सद्गुण  थे   कि  गरीबी  में  जीवन  काटने  पर  भी   उन्होंने  इतनी  नामवरी  हासिल  की  कि  उनकी  मृत्यु  के  इतने  वर्ष  बीत  जाने  पर  भी  मेजिनी  का  यश   अपने  देश  में  ही  नहीं  समस्त  संसार  में  फैला  हुआ  है   | 
  उस  समय  इटली  पराधीन  था  ,  उन्होंने  नि:स्वार्थ  भाव  से   अपने  देश  की  आजादी  और  खुशहाली  के  लिए  कार्य  किया   |