31 August 2015

एक दुर्लभ विभूति ऋषि-कल्प -------- किशोरलाल मश्रुवाला

 आराम  को  हराम  मानने  और  आलस्य  से  दूर  रहने  के  कारण  श्वास  की  बीमारी  भी  उनकी  राष्ट्र  सेवा  में  बाधक  नहीं  बन  सकी  ।  उनकी  विद्वता,  कर्मण्यता  और  काम,  क्रोध,  मोह  आदि  पर  विजय  पाये  हुए  व्यक्तित्व  को  देखते  हुए  उनके  साथी  सहयोगी  उन्हें  ऋषि-कल्प  किशोरलाल  भाई  कहा   करते  थे  ।  वस्तुतः  उन्होंने  अपने  जीवन  को  प्राचीन  भारतीय  ऋषि-मुनियों  जैसा  ही  ढाल  लिया  था   |
           लम्बे   समय   से  उन्हें  श्वास  की  बीमारी  थी  ।   इस  बीमारी  का  कोई  स्थायी  इलाज  नहीं  था  ।  उसका  एक  सामयिक  इलाज  उन्होंने  यह  खोज  निकाला   था   कि  जब  श्वास  का  दौरा  उठता  तो  वे   ऊँकडू  बैठ  जाते,  थोड़ी  ही  देर  में  दौरा  समाप्त  हो  जाता  ।  इस  बीमारी  को  लेकर  वे  कभी  चुप  नहीं
रहे  ।  बीमारी  अपनी  जगह  स्थायी  थी     उन्होंने  भी  अपनी  हर  साँस   का  सदुपयोग  किया   ।
        महात्मा  गाँधी  की  मृत्यु  के   उपरान्त  उनके  प्रिय  पत्र    हरिजन     के  पुन:  प्रकाशन  हेतु  संपादक  की  तलाश  हुई  तो  इसके  लिए  योग्य  सम्पादक   मिले----- श्री  किशोरलाल  मश्रुवाला  ।   उन्होंने  हरिजन का  सम्पादन  उसी  कुशलता  व  बुद्धिमता  से  किया  कि  पाठक  उसमे  रंचमात्र  भी  कमी  नहीं  पा  सके  ।
   वे   गांधीवाद  के  विश्वस्त  और  सिद्धहस्त  व्याख्याता  थे  ।
गांधीवाद  के  विद्वान  होने  के  साथ  ही  उन्होंने  गांधीवाद  के  सिद्धांतों  को  अपने  जीवन  मे  उतारा  भी  था   उन्होंने  गांधीजी  द्वारा  प्रेरित  कई  रचनात्मक  सँस्थाओं  का  संचालन  किया  पर  वे  अपना  निर्वाह  व्यय,  जो  अति  अल्प  था  एक  ही  संस्था  से  लिया  करते  थे,  बाकी  संस्थाओं  का  काम  वे  अवैतनिक  सेवक  के  रूप  में  किया  करते   थे  ।   उन्होंने  जीवन  जीने  की  कला,  अर्थशास्त्र,   शिक्षाशास्त्र  और  गाँधी दर्शन  पर  बहुत  सी  पुस्तकें   लिखीं,  कई  लेख  लिखे,  हरिजन  का  सम्पादन  किया,  पर  उन्होंने  लेखन,  संपादन  को  आय  का  साधन  कभी  नहीं  बनाया  ।   वे  कहा  करते  थे---- " विचार  तो  अनमोल  होते  हैं,  उनका  मूल्य  चुकाना  किसी  के  द्वारा  संभव  नहीं  ।   बीमारी  उन्हें  आलसी  नहीं  बन  सकी,   विद्वता  उन्हें  लोभी  नहीं  बना  सकी,  पत्रकारिता  के  क्षेत्र  में  रहकर  भी  वे  राग-द्वेष  से  ऊपर  उठे  रहे  और  गांधीजी  की  तरह  गृहस्थी  होते  हुए  भी  ब्रह्मचारी  बने  रहे   । 

29 August 2015

समाज स्रष्टा ------ महात्मा भगवानदीन

 'महात्मा  भगवानदीन  आध्यात्मिक  क्षेत्र  में  एक  सम्पूर्ण  महात्मा,  सामाजिक  क्षेत्र  के  श्रेष्ठ  नागरिक  और  राष्ट्रीय  क्षेत्र  में  महान  देश  भक्त  थे  l  जीवन  के  प्रारंभिक  काल  में  उन्होंने  संयम,  परिश्रम  एवं  पुरुषार्थ  के  गुणों  के  साथ  अपने  जिस  जीवन  का  निर्माण  किया  था,  अस्सी   वर्ष  की  आयु  तक  उसका  उचित  उपयोग  कर    1964  में   संसार  से  विदा  हो  गये  ।
   शास्त्रों  के  अध्ययन  के  बाद  उन्होंने  जनसेवा  का  व्रत  लिया  ।  उन्होंने  इसकी  रुपरेखा  निर्धारित  करने  के  लिए  विचार  करना  शुरू  किया  । वे  इस  निष्कर्ष  पर  पहुंचे  कि  जब  तक  देश  के  बच्चों  और  युवाओं  के  चरित्र  का  ठीक-ठीक  निर्माण  नहीं  होगा  समाज  का  सच्चा  कल्याण  नहीं  हो  सकता  ।  समाज  का  निर्माण  व्यक्तियों  के  चरित्र  निर्माण  पर  निर्भर  है  । 
   इस  निश्चित  निष्कर्ष  पर  पहुंचकर  उन्होंने  हस्तिनापुर  में  ऋषभ  ब्रह्मचर्याश्रम  नाम  से  एक  चरित्र-निर्मात्री  संस्था  की  स्थापना  की  ।  उन्होंने  इस  आश्रम  के  लिए  केवल  चार  नियम  बनाये---- 1.ब्रह्मचर्य  पालन,  2.स्वावलंबन  पालन   3.मितव्ययता  4. सेवा   ।
नि:सन्देह  ये  चार  नियम  ही  वे  चार  स्तम्भ  हैं  जिन  पर   जीवन-निर्माण   का   बड़े  से  बड़ा  भवन  खड़ा  किया  जा  सकता  है   । 

26 August 2015

सेवा योगी ---------- स्वामी रामकृष्ण परमहंस

  ' सामान्य  एवं   साधारण  मनुष्य  की  तरह  जन्म  लेने  वाला  व्यक्ति  भी  अपने  महान  कार्यों  द्वारा  अवतारी  पुरुष  बन  सकता  है  ।   श्री  रामकृष्ण  परमहंस  एक  ऐसे  ही  व्यक्ति  थे  जिन्होंने  अपने  कर्तव्य  की  महानता  से  ही  अवतार  पद  प्राप्त  किया  था  । '
     जीवन  के  प्रारम्भिक  वर्षों  में  उन्होंने  कई  तरह  की  उपासना  पद्धतियों  का  प्रयोग  किया,  उन्होंने  पाया  कि  इन  उपासनाओं  से  कोई  विशेष  लाभ  नहीं  हुआ  ।  अंत  में  वे  स्वयं  के  चिन्तन-मनन  के  आधार  पर
नर-नारायण  की  उपासना  के  निष्कर्ष  पर  पहुंचे  ।
     भगवत  प्राप्ति  का  अमोघ  उपाय  पाकर  उन्होंने  सारी  उपासना  पद्धतियों  को  छोड़  दिया  और  मनुष्य-सेवा  के  रूप  में  परमात्मा  की  सेवा    स्वीकार  की  और  अपने  में  एक  स्थायी  सुख-शान्ति  तथा  संतोष  का  अनुभव  किया  ।
          रोगियों  की  परिचर्या,  अपंगों  की  सेवा  और  निर्धनों  की  सहायता  करना  उनका  विशेष  कार्यक्रम  बन  गया  ।  जहां  भी  वे  किसी  रोगी  को  कराहते  देखते  अपने  हाथों  से  उसकी  परिचर्या  करते  ।  अपंगो  एवं  विकलांगों  के  पास  जाकर  उनकी  सहायता  करते,  साधारण  रोगियों  से  लेकर  कुष्ठ  रोगियों  तक  की  सेवा  करने  में  उन्हें  कोई  संकोच  नहीं  होता  ।  दरिद्रों  को  भोजन  कराना  और  उनके  साथ  बैठकर  प्रेमपूर्वक  बातें  करने  में   वे   जिस  आनंद  का  अनुभव  करते  थे  वैसा  आनंद  उन्होंने  अपनी  एकांतिक  साधना  में  कभी  नहीं  पाया  था  |
   उन्होंने  जन-सेवा  द्वारा  भगवद  प्राप्ति  का  जो  मार्ग  निकाला  वह  अवश्य  ही  उनकी  निर्विकार  आत्मा  में  प्रतिध्वनित   परमात्मा  का  ही  आदेश  था,  जिसका  पालन  उन्होंने  स्वयं  किया  और  वैसा  ही  करने  का  उपदेश  अपने  शिष्यों,  भक्तों  और  अनुयायियों  को  भी  दिया  ।
    स्वामी  रामकृष्ण  परमहंस  के  निश्छल  ह्रदय  से  निकली  हुई  पुकार    "   देश-विदेश  सभी  जगह   रामकृष्ण  मिशनों,  सेवाश्रम  तथा  वेदांत  केंद्र  सहस्त्रों  रोगियों  को  परिचर्या  और  दुःखियों  को  सहायता  और  पथ  भ्रांतों  को  आलोक  दे  रहे  हैं  ।
संसार  उनकी  सेवाओं  का  लाभ  पाकर  उन्हें  एक  अवतारी  पुरुष  के  रूप  में  याद  करता  रहेगा  । 

25 August 2015

शिक्षा ऐसी हो जो व्यक्ति को सच्चा इनसान बनाये

    स्वामी  विवेकानन्द  कहते  हैं---- " वर्तमान  समय  में  हम  कितने  ही  राष्ट्रों  के  संबंध  में  जानते  हैं,  जिनके  पास  विशाल  ज्ञान  का  भंडार  है,  परन्तु  इससे   क्या,    वे  बाघ  की  तरह   नृशंस   हैं,   बर्बर  हैं    क्योंकि    उनका  ज्ञान  संस्कार  में  परिणत  नहीं  हुआ  है  ।  सभ्यता  की  तरह  ज्ञान  भी  चमड़े  की  ऊपरी  सतह  तक   सीमित    है,  छिछला  है  और  खरोंच  लगते  ही  नृशंस   रूप  में   जाग  उठता  है   | " 

 स्वामी  विवेकानन्द  कहते  हैं ------ " हमें    अपने  विशाल  राष्ट्र  के  लिए  ऐसी  शिक्षा  नीति  बनानी  होगी  जिसमे  शिक्षा  और  विद्दा,  सभ्यता  और  संस्कृति  का  सचमुच  मेल  हो   । "

  जब  हम  अंगरेजों  के  गुलाम  थे  ।  उस  गुलामी  को  कैसे  चिरस्थायी  बनाया  जाये,   इस  पर  लार्ड  मैकाले  ने   2  फरवरी   1835  को  ब्रिटिश  संसद  में  भाषण  दिया,  जिसका  सार-अंश  है------- मैकाले  ने  कहा ----
 " मैंने  भारत  के  हर  क्षेत्र  का  भ्रमण  किया  है  ।  वहां  एक  भी  भिखारी  या  चोर  मुझे  देखने  को  नहीं  मिला  । वहां  अभावग्रस्त  भी  देने  में  विश्वास  रखता  है  ।  मैंने  वहां  बेशुमार  दौलत  देखी  है  ।  उच्च  नैतिक  मूल्यों  को  कण-कण  में  संव्याप्त  देखा  है  ।  मैं  नहीं  समझता  कि  हम  ऐसे  देश  के  नागरिकों  पर  शासन  कर  पाएंगे  ।   हाँ ! यह  तभी  संभव,  जबकि  हमारी  मूल  धुरी  उसके  मेरुदंड,  उसकी  संस्कृति  एवं  आध्यात्मिक  धरोहर  पर  आघात  करें  और  उसके  लिए  मैं  प्रस्ताव  रखता  हूँ  कि  हम  भारत  की  चिरपुरातन  शिक्षण  प्रणाली  को  ,  उसकी  संस्कृति  को  बदल  डालें  ।  यदि  भारतीय  यह  सोचने  लगें  कि  जो  भी  कुछ  विदेशी  है,  इंगलिश  सभ्यता  से  आया  है  वह  उससे  श्रेष्ठ  है  जो  उनके  पास  है  तो  वे  अपना  आत्मगौरव  खो  बैठेंगे  ।  धीरे-धीरे   उनकी    संस्कृति,  गौरव-गरिमा  का  ह्लास  होता  चला  जायेगा  और  वे  वही  बन  जायेंगे,  जैसा  हम  उन्हें  चाहते  हैं------ एक  पूरी  तरह  हमारा  गुलाम  देश,  पूर्णत:  हमारे-हमारी  इंग्लिश  सभ्यता  के  अधीन   वृहत्तर  भारत   । "
  अंग्रेज  चले  गये  किन्तु  अंग्रेजी  हमारी  शिक्षा,  शिक्षण  संस्थाओं  कि  नस-नस  में  भरी  है  ।  शिक्षा  का  व्यवसायीकरण  कर  दिया  गया  है  ।  ऐसी  शिक्षा  राष्ट्र  निर्माण  का  माध्यम  तो  क्या  बनेगी,  वह  तो  एक  भ्रष्ट  एवं  मुनाफाखोर  पीढ़ी  तैयार  करने  का  काम  कर  रही  है  । 
आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  संस्कृति  को  पुनर्जीवित  करने  की  है  ।  शिक्षा  ऐसी  हो   जिससे   विद्दार्थी    आत्मनिर्भर  होने  के  साथ  अपने  राष्ट्र  व  समाज  के  लिए  उपयोगी  बन  सके  । 

23 August 2015

देश एवं धर्म साधना के साधक ------- महर्षि अरविन्द

 ' 18  वर्ष  वे  इंग्लैंड  में  रहे  और  उन्होंने  अंग्रेजों   के  जातीय  गौरव  और  उपयुक्त  गुणों  को  सीखा,  स्वतंत्र  देश  में  रहकर  उन्हें  स्वतंत्रता  प्राणप्रिय  लगने  लगी   ।   भारत  लौटे  तो  उनके  कण-कण  में  भारत  को  इंग्लैंड  जैसा  स्वतंत्र,  संपन्न  और  प्रबुद्ध  बनाने  की  आकांक्षा  भरी  हुई  थी  । '
            श्री  अरविन्द  के  पिता  ने  उन्हें  7  वर्ष  की  आयु  में  ही  इंग्लैंड  पढ़ने  भेज  दिया  था  ।  18  वर्ष  की  आयु  में   उन्होंने    आई. सी. एस.   प्रथम  श्रेणी  में  उत्तीर्ण  कर   ली  ।  इस  अवधि  में  उन्होंने  अंग्रेजी  के  अतिरिक्त  जर्मन,  लैटिन,  ग्रीक,  फ्रेंच  और  इटली  की  भाषाओँ  में  निपुणता  प्राप्त  कर  ली  ।
 बड़ौदा  नरेश  उनकी  प्रतिभा  और  व्यक्तित्व  से  बहुत  प्रभावित   हुए  और  उनकी  नियुक्ति  शिक्षा   शास्त्री के  रूप  में  हो  गई   ।  13  वर्षों  तक  वे  प्रधानाध्यापक,  वाइस  प्रिंसिपल  और  निजी  सचिव  का  काम  योग्यतापूर्वक  करते  रहे  । इस  बीच  उन्होंने  सहस्त्रों  छात्रों  को  चरित्रवान  देशभक्त  बनाया  ।
                    उस  समय  भारत  में  स्वतंत्रता  आन्दोलन  जोर  पकड़  रहा  था ।  सरकारी  शिक्षा  संस्थानों  में शिक्षा  प्राप्त   करने   का  बहिष्कार  होना  आवश्यक   था  |  किन्तु  उस  समय  आन्दोलनकारियों  के  पास  इतने  साधन  नहीं  थे,  जिससे  महाविद्यालय  चल  जाये  ।  कुछ  रुपया  इकट्ठा  हुआ  । महाविद्यालय  की  रुपरेखा  बनाई  गई  और  विद्दालय  की  ओर  से  केवल  75  रूपये  मासिक  वेतन  पर  संचालक  का  विज्ञापन  किया  गया  ।  सभी  ने  सोच  रखा  था  इतने  से  वेतन  पर  कौन  अच्छा  आदमी  आयेगा  ?  सब  निराश  ही  थे  कि   अचानक   एक  आवेदन  पत्र  आया  वह  भी  एक  योग्य  अनुभवी  व्यक्ति  का,  जिसकी  स्वप्न  में  भी  आशा  नहीं  की  जा  सकती   ।
    बड़ौदा  कॉलेज  के  अध्यक्ष  श्री  अरविन्द  घोष  ने,  जिन्हें  उस  समय  अन्य  सुविधाओं  के  साथ  सात  सौ  पचास  रुपया  मसिक  वेतन  था,  उसे  छोडकर  बंगाल  में  स्थापित  इस  नव  राष्ट्रीय  महाविद्यालय  के  लिए  75  रूपये  मासिक  वेतन  पर  काम  करना  स्वीकार  कर  लिया  ।   जहां  इतना  त्याग  आदर्श  किसी  संस्था  का  संचालक  उपस्थित  करे  वहां  छात्रों  के  चरित्र  एवं  भावनाओं  पर  क्यों  प्रभाव  न  पड़ेगा  ?  उस  विद्दालय  के  छात्रों  ने  आगे  चलकर  स्वतंत्रता  आन्दोलन  में  भारी  भाग  लिया  और  उनमे  से  कितने  ही  चोटी  के  राजनैतिक  नेता  बने  । 
महर्षि  अरविन्द   प्राचीन  ऋषियों  की  भांति   एक  महान  विचारक   थे  ।  वे  केवल  विचारक  ही  नहीं  थे,  वे  उन  विचारों  कों  कार्यरूप  में  परिणत  भी  करते  थे  । 

22 August 2015

सत्य और न्याय के प्रबल समर्थक ------- सर आशुतोष मुखर्जी

 ' अवकाश  के  समय  का  सदुपयोग  कर  व्यक्ति  कितना  महान  बन  जाता  है  सर  आशुतोष  मुखर्जी  इसके  ज्वलंत  उदाहरण  हैं  ।  वे  सार्वजनिक  सेवा  के  कार्यों  में  इतना  व्यस्त  रहते  थे  कि  फालतू  मित्र  मंडली  बनाने,  शौक-मौज  पूरी  करने  तथा  इधर-उधर  की  बातों  में  फंसने  का  उनके  पास  अवकाश  ही  नहीं  था ।
                  18 88  में  कानून  की  डिग्री    प्राप्त  कर  उन्होंने  वकालत  आरम्भ  की  ।  1903  में  उन्हें  कलकत्ता  उच्च  न्यायालय  की  जस्टिस  बेन्च  का  ,न्यायधीश  नियुक्त  किया  गया  ।  इस  पद  पर  रहकर  उन्होंने  अपने   आदर्श,     मर्यादा  और  गौरव  को  यथावत  बनाये  रखा  ।  जज  के  पद  पर  रहते  हुए  उन्होंने  शिक्षा  के  क्षेत्र  में  जो  प्रयास  किये  ,  उन  प्रयासों  ने  उन्हें  ऐतिहासिक  व्यक्ति  बना  दिया  ।
     कलकत्ता   विश्वविद्यालय   के  लिए   उनकी  सेवाओं  की  उतनी  ही  सराहना  की  जाती  है,  जितनी  कि  काशी-हिन्दूविश्वविद्यालय  के  लिए  पं. मदनमोहन   मालवीय  जी  की  ।  कलकत्ता  विश्वविद्यालय  के  वर्तमान    उन्नत  स्वरुप  का  अधिकांश  श्रेय  उन्हें  ही  दिया  जाता  है  ।  उनके  कार्यकाल  में  ही  विश्वविद्यालय  की  पक्की  इमारत  बनी,  समृद्ध  पुस्तकालय  खुला,  छात्रावास  भवनों  का  निर्माण  हुआ,  प्रयोगशालाओ  तथ  विज्ञान  संस्थाओं  की  नीव पड़ी  ।
       शिक्षण  संस्थाओं  की  उन्नति  और  प्रसार  के  लिए  वे  चाहते  थे  कि  विद्दार्थी  भी  इसमें  रूचि  लें  ।  इसके  लिए  वे  छात्रों  के  अधिक  से अधिक  निकट  आने  का  प्रयास  करते  और     उन्हें  अनपढ़  व्यक्तियों   तथा  गरीब  और  निर्धन  परिवार  के  बच्चों    को  शिक्षित  बनाने   के   लिए  प्रेरित  करते  रहते  ।  उनसे  प्रोत्साहित  होकर  कई  विद्दार्थियों  ने  रात्रिकालीन  पाठशालाएं  चलाई  थीं  और  जनसंपर्क  द्वारा,  स्वयं  के  जेब  खर्च  और  सर  आशुतोष  मुखर्जी  के  सहयोग  से  निर्धन  परिवार  के   बच्चों   को  प्राथमिक  स्कूलों  में  भरती  कराया  था  ।
    वे  चाहते  थे  कि  योग्य  प्रतिभाएं  समाज  की  सेवा  के  लिए  आगे  आयें   ।  इसलिए  उन्होंने  विश्वविद्यालय  मे  बंगला  भाषा  को  उपयुक्त  स्थान  दिलाने  के  लिए  अनथक  प्रयत्न  किये  ताकि  वे  युवक  जो  प्रतिभाशाली  तो  हैं  लेकिन   अन्य   दूसरी  भाषा  नहीं  जानते   और   इस  कारण  अपनी  योग्यताओं  का  विकास  नहीं  कर  पाते  हैं  ------ वे  आगे  बढ़  सकें  । 

21 August 2015

भारतीयता के संरक्षक --------- महात्मा हंसराज

  ' अन्याय   एवं    अनुचित  के  प्रति  बलिदान  की  परम्परा  जगाते   रखने  के  लिए  कोई  न  कोई  बलि-वेदी  पर  आता  ही  रहना  चाहिए  ।  अन्यथा   राष्ट्रीयता  मिट  जायेगी,  देश  निर्जीव  हो  जायेगा  और  समाज  की  तेजस्विता  नष्ट  हो  जायेगी  ।       उस  समय  जब  अंग्रेज  सरकार  शिक्षा  के  कुठार  से  भारतीयता  की  जड़ें  काटकर  अंग्रेजियत  बो  रही  थी,  बाबूओं  का  निर्माण  होने  लगा  था,  तरुण-वर्ग  को  शिक्षा  के  माध्यम  से  अंग्रेजियत  में  रंगकर  अपना  मानसिक  गुलाम  बनाया  जा  रहा  था,    उस  समय  जहां  एक  ओर  लोग  भय  से  किंकर्तव्यविमूढ़  होकर  अनचाहे  भी  सरकारी  शिक्षा  योजना  में  सहयोग  कर  रहे  थे,
  वहां  एक  आत्मविश्वासी  युवक  ऐसा  भी  था,  जो  प्राणों  को  दांव  पर  लगाकर  भारतीयता  की  रक्षा  के  लिए  संकल्पपूर्ण  तैयारी  कर  रहा  था,  और  वह  व्यक्ति   था ------  नवयुवक  हंसराज  ।
      जों  आगे  चलकर----- महात्मा  हंसराज  के  नाम  से  प्रसिद्ध  हुए  ।
वे  सरकार  की  इस  शिक्षा  प्रणाली  के  प्रारम्भ  से  ही  विरोधी   थे,  किन्तु  उन्होंने  बहिष्कार  नहीं  किया  बल्कि  और  अधिक  मन  लगाकर  विद्दा  प्राप्त  की,  अंग्रेजी  पढ़ी  । महात्मा  हंसराज  अंग्रेजी  का  पूर्ण  ज्ञान  प्राप्त  कर  उसी  के  माध्यम  से  अंग्रेजों  को  समझने  और  उनकी  चाल  को  विफल  करना  चाहते  थे  ।  उन्होंने  भारतीय-धर्म  और  वैदिक  साहित्य  का  गहन  अध्ययन  किया   ।  वे  स्वामी  दयानन्द  की  तीव्र  तर्क  पद्धति  की  अपने  मस्तिष्क  में  प्रति-स्थापना  कर  चुके  थे  ।
 महात्मा  हंसराज  ने  गम्भीरता  से  विचार  करके  तथा  समाज  की  मनोवृति  का  थीक-ठीक  अध्ययन  करके  यह  निष्कर्ष  निकाला  कि  इस  कुटिल  शिक्षा  नीति  का  विरोध  किसी  आन्दोलन  या  संघर्ष  के  रुप  में  करना  उचित  ना  होगा  ।  सरकारी  शिक्षा  प्रणाली  को   किसी  समानान्तर  शिक्षा  प्रणाली  से  निरस्त  करना  ठीक  होगा  ।  उन्होंने  बी. ए.  पास  कर  लिया,  अब  उनका  एक  ही  उद्देश्य  था  कि  कोई  ऐसी  योजना  बनाई  जाये  जिससे  भारतीयों  में  स्वाभिमान  और  देश  भक्ति  की  भावना  जगाई  जा  सके  तथा  ईसाइयत  से   ओतप्रोत  अंग्रेजियत  के  प्रति  बढ़ती  हुई  आस्था  को  रोका  जा  सके  |
 विद्वान  हंसराज  ने  लाहौर  में  स्थापित  स्वामी  दयानंद  कालेज  कमेटी  में  प्रवेश  किया  और  एक  छोटा  शा  विद्दालय  स्थापित  कर  उसमें   अवैतनिक  शिक्षक  बन  गये  ।  सरकार  ने  विद्दालय  को  न  तो  अनुदान  दिया  और  न  मान्यता  दी  । सुयोगय  शिक्षक   महात्मा  हंसराज    अपना  काम  करते  रहे  ।  आत्म अनुशासित   और  त्यागी  शिक्षक  के  पढ़ाये  हुए  छात्र  चमकते  हुए  हीरे  की  तरह  निकलने  लगे,  छोटा  सा  स्कूल  विस्तार  पाने  लगा  ।  कुछ  समय  बाद  उस  संस्था  को  डी. ए.  वी.  स्कूल  के  नाम  से  ख्याति  मिली    बढ़ती  लोकप्रियता  के  कारण  सरकार  ने  भी  स्कूल  को  मान्यता  दे  दी  ।
महात्मा  हंसराज  की  तपस्या  फलीभूत  हुई  ।  डी. ए. वी.  आन्दोलन  के  रूप  में  महात्मा  हंसराज  की  देन  अनुपम  है  जिसके  लिए  भारतीयता  युग-युग  तक  उनकी  ऋणी  रहेगी   ।