23 May 2015

साहित्य और युद्ध के मोर्चों पर----- एहरेनबुर्ग

सहित्यकार  युग-द्रष्टा  व  युग-निर्माता  होता  है,  यदि  वह  संसार  के  विभिन्न  प्रलोभनों  से  मुक्त  होकर  अपने  साधन  पथ  पर  चले  तो  वह  समाज  के  साथ  बहुत  बड़ा  उपकार  कर  सकता  है  ।
    बन्दूक   लेकर  शत्रुओं  को  पीछे  खदेड़ने   वाला   तो   सैनिक  होता   ही  है   पर  सैनिकों  में  जान  फूँककर  आगे  बढ़ाने  की  प्रेरणा  देने  वला,  कलम  रुपी  अस्त्र  से  पौरुष  की  आग़  बरसाने  वाला  साहित्यकार  भी  किसी  प्रकार  सैनिक   से  कम  महत्व  का  नहीं  होता  |  नाजी   सेनाओं   के  आक्रमण  के  समय  एहरेनबुर्ग  ने  एक  लेख  रुसी  समाचार  पत्रों  में  प्रकाशित  कराया  जिसका  शीर्षक  था--- ' विजय  हमारी  ही  होगी  । '
          उस  आग  उगलने  वाले  लेख  को  जिस-जिस  व्यक्ति ने  भी  पढ़ा,  वह  देश  रक्षा  के  लिए  मर  मिटने  को  तैयार  हो  गया  | उस  लेख   में  सैनिक  के  ह्रदय  को  किले  के  समान  सुद्रढ़  बताया  गया  था  ।  देश  की  राजधानी   को  टैंकों  की  सहायता  से  नहीं  वरन  सैनिकों  की  शूरता  और  सहन  शक्ति  के  आधार  से  ही   बचाने   की  बात  कही   थी  ।  फासिस्ट  जिस  मार्ग  से  आगे  बढ़  रहे  हैं,  भले   ही  वह  मास्को  पहुंचाता  हो,  पर  हम  लोग  अपनी  वीरता  से  शत्रु  सैनिकों  को  यमलोक  पहुँचा  कर   रहेंगे  ।
इस  तरह  के  वीरतापूर्ण  उद्बोधन  जिस  सैनिक  ने  भी  पढ़े  वह  पूर्ण  मनोबल  से  शत्रु  को  पीछे  हटाने  के  लिए  तैयार  हो  गया  ।
  राजनीतिक  कारणों से  एक  बार  उन्हें  बेल्जियम  जेल  भेज  दिया  गया  ।  उस  जेल  में  लोग  एक-एक  दिन  गिन-गिनकर  काटते  थे  वहां  एहरेनबुर्ग  ने  अपने  मानसिक  संतुलन  को  कायम  रख  कर  एक  माह  की  अवधि  में  ही  अपने  प्रथम  उपन्यास  ' जो  लियो  जुरेनितो '  की  रचना  कर  डाली  ।  उनका  ह्रदय  साहित्यकार  का  था   तो   मस्तिष्क  कुशल  राजनीतिज्ञ  का  था  ।  अपने  जानदार  साहित्य  के  कारण  वे  अंतर्राष्ट्रीय  स्तर  के  ख्यातिप्राप्त  साहित्यकार  बन  गये  । 

21 May 2015

मानवतावादी विचारक------ बंट्रेड रसेल

'ब्रिटेन  की  धरती   पर  जन्म  लेकर  भी  वे  किसी  एक  देश  के  होकर  न  रहे  ,  समग्र  मानवता  की  पीड़ा  को  हरना  उनका  उद्देश्य  था  और  इसी  प्रयत्न  में  वे  अंत  तक  लगे  रहे  ।  उनका  विश्वास  था  कि  यदि  मनुष्य   सुख-शांति   के   साथ  रहना  चाहता  है  तो  उसे  मानव-मानव  के  बीच  धर्म,  जाति,  सम्प्रदाय  की  जो  ऊँची-ऊँची  दीवारे  खड़ी  हैं  उन्हें  तोड़ना  होगा,  इन  भेद  की  रेखाओं  को  मिटाना  होगा  । '
   रसेल  वास्तव  में  मानवतावादी    के   विचारक   थे,  उनके  मन में  जीवन  के  प्रति  गहरा  प्रेम  भरा  हुआ  था  ।  इसलिये  रसेल  विश्व-शांति  के  पहरेदार  बन   गये  । उनकी  सीख  थी  कि  राष्ट्रों  को  अपने  आपसी  विवादों  को  निपटाने  के  लिए  युद्धों  का  सहारा  नहीं  लेना  चाहिए,  विश्वशांति  के  लिए  यह  आवश्यक  है  कि  शक्तिशाली  राष्ट्रों  को  कमजोर  राष्ट्रों  के  शोषण  से  रोका  जाये   ।
       रसेल  को  गणित  में  आरम्भ  से  ही  रूचि   थी  |    27  वर्षों  के  निरंतर  अभ्यास  के  बाद  उन्होंने   व्हाइटहेड  के  सथ  मिलकर  ' प्रिंसिपिया  मैथेटिका ' पूर्ण  किया  और  उसी  ग्रन्थ  ने  उन्हें  विश्व  के  गणितशास्त्रियों  के  समकक्ष  स्थान  दिलवाया  ।
          रसेल  का  कहना  था  कि  जब  तक  कोई  व्यक्ति  अचछा  नागरिक  न  हों  तब  तक  वह  अच्छा  जन-प्रतिनिधि  कैसे  हो  सकता  है  । उन्होंने  लिखा--- " संसद  और  विधान  सभाओं  के  सदस्य  आराम  से  रहते  हैं,  मोटी-मोटी  दीवारें  और  असंख्य  पुलिस  जन  उनको  जनता  की  आवाज  से  बचाये  रखते  हैं  ।  जैसे-जैसे  समय  बीतता  जाता  है  उनके   मन   में  उन  वचनों  की  धुंधली-सी  स्मृति  ही रह  जाती  है  जो  निर्वाचन  के  समय   जनता    को दिये  थे   ।  दुर्भाग्य  यह  है  कि  अंत  में  विधायकों  के  निजी,  संकीर्ण  हितों  को   ही  जनता  का  हित    मान  लिया  जाता  है  | 

18 May 2015

महान कर्मयोगी, देशभक्त जिन्होंने काले पानी की सजा के कष्टपूर्ण जीवन मे भी हिन्दी भाषा के प्रचार का सकारात्मक कार्य किया---- वीर विनायक सावरकर

' मनुष्य  की  अदम्य  जिजीविषा  किसी  महान  ध्येय  के  साथ  मिलकर  कैसा  चमत्कार  कर  दिखाती  है  यह  वीर  सावरकर  के  जेल  जीवन  में  देखा   जा  सकता  है  ।   किसी  को  बंदी  बना  देने  से  उसके  क्रिया-कलाप  रुकते  नहीं  ।  जिनमे  कुछ  कर  गुजरने  की  भावना  होती  है  तो  वे  पर्वतों  को  तोड़कर  भी  राहें  बना  लेते  हैं  ।  बस ! लगन  और  धैर्य  की  आवश्यकता  होती  है  । 
    " दण्डित  1910  में,  रिहाई  1960  में '  इन  शब्दों   से अंकित तख्ती  गले  मे  लटकाये  वीर  सावरकर  काले  पानी  की  कोठरी  में  प्रविष्ट  हो  रहे  थे  किन्तु  ना  मुख  म्लान,  न  मन  में  ग्लानि  ।  आंतरिक  स्थिरता  भी  डगमगाई  नहीं  |  पास  खड़े  जेल  आधिकारी  ने  व्यंग्य  किया--- " घबराओ  नहीं,  ब्रिटिश  सरकार  पचास  साल  पूरे  होते  ही  तुम्हे  जरुर  रिहा  कर  देगी  । "  सावरकर   ने   उत्तर  दिया-- " किन्तु  क्या  ब्रिटिश  सरकार  भारत  में  पचास  साल  टिकी  रह   सकेगी  ? "
        जेल  में  उन्हे  भी  अन्य    बंदियों  की  तरह  कोल्हू  चलाना  पड़ता  था,  चक्की  पीसनी  पड़ती  थी,  भोजन  ढंग  का  नहीं  मिलता  था,  जलवायु  तो  पहले  ही  खराब  थी,  मलेरिया  का  भीषण   प्रकोप   होता   था  ।  कितने   ही   राजनैतिक  कैदी  सावरकर  के  सामने  आए  और  यहां की  अमानुषिक  दरिन्दगियों  से  त्रस्त  होकर  मर  गये,  कितने  ही  पागल  हो  गये  परन्तु  वो  वीर  सवारकर  थे  जिन्होंने  जीवन  के  मर्म  को  समझा,  वे  आशावादी  थे,  सब  बाधाओं  को  झेलते  हुए  भी  उन्होंने   अपने   संकल्पों  को  साकार  करने  में  कभी  आलस्य  नहीं  किया  ।  
   उन्होंने   लम्बी जेल  यात्रा    में  ही  जेल  में    हिन्दी  भाषा  के  प्रचार   का  निश्चय  किया  और  अंडमान  की  जेल  में  जाते  ही  उन्होंने  जेल  में  स्थित बंदियों  को  साक्षर  बनाने  और  अहिन्दी  भाषियों  को  हिन्दी  सिखाने  का  कार्य  आरम्भ  कर  दिया  ।  बंदी  जीवन  के  कष्ट,  अत्याचार  और  कठिनाइयों  ने  लोगों  को  इतना   निराश  बना  दिया  था  कि  उन्हें  पढ़ने  के  लिये  तैयार  करने  में  भी  सावरकर  को  बड़े  धैर्य  का  परिचय  देना    पड़ा  ।  कोई  कहता--- " भैया,  जाने  कब  यहां  से  मुक्ति  मिलेगी,  तब  तक  तो  हम  मर-खप  जायेंगे  । " किन्तु   वीर  सावरकर  ने  अपनी  युक्तियों,  अपने  आशावाद,  उत्साह  और  अपनी  कर्मनिष्ठा  से  मरे  हुए  दिलों  में  प्राण  संचार  किये,  उनका  शिक्षण  क्रम  तेजी  से  चलने  लगा  ।  अनपढ़  पढ़ने  लगे  और  अहिन्दी  भाषी  हिन्दी  सीखने  लगे  । अब    समस्या आयी  पुस्तकों  की  | कुछ  सह्रदय  भारतीय  अधिकारियों  के  सहयोग  से  कुछ  पुस्तकें  उपलब्ध  हुईं  उनसे  वहां  पुस्तकालय  की  स्थापना  की
गई,  किन्तु  पढ़ने  वालों  की  संख्या  देखते  हुए  वे  पुस्तकें   कम  थीं  । अब  तरीका  खोजा  गया  कि  बंदी  पैसा  जमा  करें  और  अवसर  देखकर  बाहर  से  पुस्तकें  मंगा  लें  ।  इन्ही  दिनों  दीवान  सिंह  नामक  एक  व्यक्ति  की  मृत्यु  हुई,  कैदियों  ने  जो  पैसा-पैसा  जोड़ा  था,  इकठ्ठा  किया  | लगभग  दो  सौ  रूपये  थे,  उन  रुपयों  से  दिवंगत   बंदी   की  स्मृति  में  पुस्तकें  मंगाई  । इनमे  सामान्य  व्यक्ति  के  स्तर  से  लेकर  उच्च  साहित्यिक  पुस्तकें  भी  थीं  जिससे  सभी  स्तर  के  लोग  लाभ  उठा  सकें  ।
जेल  से  जिन  व्यापारियों  का  सम्पर्क  रहा  करता  था  उन्हें  भी  सावरकर  ने  कहा--- हिन्दी  सीखने  का  प्रयास  करो,  अपने  बच्चों  को  हिन्दी  सिखाओ  ताकि  सरकार  उनके  लिए  पाठशाला  खोल  सके,  उन्होंने  कहा--- राष्ट्र  को  एक  सूत्र  में  पिरोने  और  भावनात्मक  एकता  के  लिए  एक  राष्ट्र-भाषा  हिन्दी  अनिवार्य  है  |  दस  वर्षों  तक  वे  इन  काल-कोठरियों  में  पाठशाला  चलाते  रहे--- अपने  ढंग  की  अनोखी  पाठशाला,  जिसके  लिए  न  समय  था,  न  साधन,  ऊपर  से  अंकुश  लगा  रहता  था,  उन्हें  जब  भी  समय  मिलता  अपना  पढ़ाने  का  काम  पकड़  लेते,   वे  दस  वर्ष  तक  वहां  रहे  और  90  प्रतिशत  बंदियों  को  साक्षर  बना  दिया,  उन्हें  हिन्दी  सिखाई  और  हिन्दी  सम्पर्क  की  भाषा  बनी  फिर  हिन्दी  के  साथ-साथ  दूसरी  भाषाओँ  का  शिक्षण  भी  आरम्भ  किया  गया  । महान  देशभक्त,  प्रखर  साहित्यकार,  कर्मनिष्ठ  और  ध्येय  के  प्रति  अटूट  विश्वास  रखने  वाले  महान  आशावादी  के  रूप  में  वे  आज  भी  हमारे  बीच  विद्दमान  हैं  । 

16 May 2015

WISDOM

मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है  ।  इस  नाते  वह  समाज  में  सम्मान  भी  चाहता  है  और  कुछ  लोगों  से  अपनत्व  की  अपेक्षा  भी  रखता  है,  पर  जब  उसे  वह  नहीं  मिलता  तो  वैसी  स्थिति  में  उसके  लिए  मानसिक  संतुलन  रखकर  उस  दिन  की  प्रतीक्षा  करनी    आवश्यक  होती  है  जब  वह  अपने  कार्यों  द्वारा  सम्मान  व अपनत्व   जीत  ले  ।
इस  कटु  सत्य  का  ज्ञान  हो  जाना  हर   व्यक्ति  के  लिए  उपयोगी  है  कि  मनुष्य  स्वार्थी  और  स्वकेन्द्रित  होता  है  ,  ईर्ष्या,  द्वेष  और  अहंकार  के  कारण  लोग  दूसरों  की  उपेक्षा  और  तिरस्कार करते  हैं,  यह  संसार  का  ढर्रा  है  ।  इस  सत्य  को  स्वीकार  करते  हुए  स्वयं  के  जीवन  को  ऊँचा  उठाने  का  निरंतर  प्रयास  करना  चाहिए  । 

15 May 2015

अफसोस कि मेरे पास एक ही जीवन है----- हैलनैथन

' जोखिम तो  सभी  कार्यों  के  लिए  उठाना  पड़ता  है  परन्तु  दूसरों  की  भलाई  के  लिये  उठाई  जाने  वाली  जोखिम  सबसे  श्रेष्ठ  है  । '
हैलनैथन  ने  पढ़-लिखकर  अपने  लिए  अध्यापन  का   पेशा  चुना,  उन ने  अपने  छात्रों  के  लिए   शिक्षण  की  अनूठी  शैली  अपनाई  ।  तथ्यों  की  जानकारी  के  अलावा  वे  अपने  व्यक्तित्व  से  ही  छात्रों  का  शिक्षण करते  थे  । उज्जवल  चरित्र, आदर्श  कर्तव्य,  देशभक्ति,  समाज  सेवा  और  राष्ट्रीयता  कि  भावना  का  विकास  उनके  सम्पर्क  में  रहने  वाले  छात्रों  में  अपने  आप  ही  होने  लगता  । उस  समय  जार्ज  वाशिंग्टन  के  नेतृत्व  में  स्वतंत्रता-युद्ध  का  उद्घोष  हुआ  । अनेक  उत्साही  व्यक्तियों  के  साथ  हैलनैथन  भी  स्वतंत्रता-संग्राम  में  कूद  पड़े  ।  उनके  साहस,  शौर्य  और  उत्साह  ने  उन्हें  जार्ज  वाशिंगटन  के  साथ  लड़ने  वाली  अग्रपंक्ति  में  पहुँचा  दिया  ।
   जब  आइलैंड  के  मोर्चे  पर  पराजय  की  स्थिति  आई  तो  भी  हैल  ने  बढ़ा-चढ़ा  उत्साह  दिखाया  ।  वे  एक  डच  अध्यापक  का  वेश  बनाकर  ब्रिटिश  लाइनों  में  पहुँचे  और  ब्रिटिश सेनाओं  के  भेद  लाने  की  जोखिम  का   कार्य  इतनी  कुशलता  क  साथ  निभाया  कि किसी  को  भी  संदेह  न  हुआ  | इस  प्रकार  सैनिक   रहस्य  स्वतंत्रता  सेनानियों  के  पास  पहुँचते  रहे  और  उन्हें  विजय  भी  मिलती  रही  |
  बार-बार  मिलने  वाली  पराजय   और   उनके  कारणों  को  जानने  के  लिए  ब्रिटिश   सैनिक  अधिकारियों  की  पैनी  द्रष्टि  ने  हैलनैथन  का  रहस्य  खोल  दिया  और  वे  गिरफ्तार  कर  लिए  गये  | युद्ध  नियमों  के  अनुसार  उन्हें  मृत्यु-दंड  दिया  गया  | उस  समय  हैलनैथन  ने  जो  शब्द  कहे  वे  असंख्य  देशभक्तों  और  समाज  सेवियों  के  लिये  प्रेरणा  बन  गये  | उन्होंने  कहा---- " मुझे  अफसोस  है  तो  सिर्फ  एक  बात  का  कि  मेरे  पास  अपने  देश  के  लिए,  अपने  समाज  के  लिए  न्योछावर  करने  हेतु  एक  ही  जीवन  है  l "
राष्ट्रहित  के  लिए,  समाज  हित  के  लिए  स्वयं  के  जीवन  को  समर्पित  करने  वाले  हैलनैथन  का  नाम  अमेरिकावासी  श्रद्धा  और  आदर  के  साथ  लेते  हैं   l

13 May 2015

राष्ट्र धर्म का प्रचारक------ मेजिनी

धर्म  के  अनेक  स्वरुप  होते   हैं  l इसमें  कोई  संदेह  नही  है  कि सत्य,  न्याय, दया,  परोपकार,  पवित्रता  आदि  धर्म  के  अमिट  सिद्धांत  हैं  और  इनका  व्यक्तिगत  रूप   से  पालन  किये  बिना  कोई  व्यक्ति  धर्मात्मा  कहलाने  का  अधिकारी  नहीं  हो  सकता  । 
  मेजिनी  के  समय  में  आस्ट्रिया  और  फ्रांस  ने  इटली   के  विभिन्न  भागों  पार  अधिकार  कर  रखा   था  l
     देश  को  पराधीनता   के  अभिशाप  से  मुक्त  करने  के  लिए  मैजिनी  ने  ' युवा  इटली '  नामक  संस्था  की  स्थापना  की  |   अपने  निर्वासन  का  बहुत  सा  समय  मेजिनी  को  इंग्लैंड  में  बिताना  पड़ा  और  गरीबी  के  कारण  बहुत  कष्ट  सहने  पड़े  ।  एक  दिन  ऐसा  भी  आया  जाब  उन्हें  अपना  पुराना  जूता  और  कोट  भी  गिरवी  रखना  पड़ा  ।  इसके  बाद  जब  कोई  भी  चीज  शेष  ना  रही  तो  उन्हें  उन  समितियों  से  कर्ज  लेना  पड़ा  जो  चालीस-पचास  रुपया  सैकड़ा  सूद  लेती  थीं  और  मनुष्य  का  खून  तक  चूस  लेती  थीं  ।  सूद  न  मिलने  पर  बदन  का  कपड़ा  उतरवा  लेतीं  और  एक  चीथड़ा  तक  नहीं  छोडती   ।  इन समितियों  का  दफ्तर  अक्सर  शराबखानो  मे  होता  था  । मेंजिनी  जैसे  प्रसिद्ध  विद्वान  और  नेता  कों  घोर  दरिद्रता  के  कारण  इन  समितियों  के  जाल  में  फँसा  रहना  पड़ा  । इन  विपत्तियों  का  जिक्र  करते  हुए  मेजिनी  ने  लिखा  है----- " मैं  नहीं  चाहता  कि  इन  विपत्तियों  का  वर्णन  करूं,  परन्तु  उनका  उल्लेख  इसलिए  करता  हूँ  कि  कोई  भाई  इन  विपत्तियों  में  मेरी  तरह  फंस  जाये  तो  उसे  इन  लेख  से  सांत्वना  मिले  । मेरा  चित  तो  यह  चाहता  है कि  मैं  यूरोप  की  माताओं  से  विनम्र  निवेदन  करूँ  कि--- कोई  नहीं  कह  सकता  कि  कल  उस  पर  कैसी  बीतेगी  |  ऐसी   दशा  उचित यही  है  कि वे  अपनी  संतान  को  लाड़-प्यार  में  न  पालें,  उनको  भोग-विलास  का  अभ्यस्त  न  बनायें,  वे  उन्हें   कठिनाइयों  का  अभ्यस्त  बनायें जिससे  उन्हें  भविष्य  में  कष्ट  पड़ने  पर  असह्य  न  हो  । 

12 May 2015

भारतीय परम्परा के आधुनिक ऋषि------ डॉ. राधाकृष्णन

स्वामी  विवेकानन्द  के  बाद  भारतीय  दर्शन  की  कीर्ति  पताका  विश्व  भर  में  फहराने  वाला  कोई  व्यक्तित्व  खोजा  जाये  तो  अनायास  ही  द्रष्टि  डॉ.  राधाकृष्णन  की  ओर  केन्द्रित  हो  जाती  है   ।  एक  विख्यात  पत्रकार  ने  कहा  था--- "उन्होंने  भारतीय  विचार  भूमि  पर  खड़े  होकर  विश्व  के  सम्मुख  भारतीय  समतावाद  को  उद्घाटित  किया  |  इस  द्रष्टि  से  उन्होंने  न  केवल  दर्शन  को  एक  नयी  दिशा  दी  वरन  अशान्त  विश्व  को  शान्ति  का  मार्ग  दिखाने  का  प्रयत्न  किया  । "
  उनकी  पुस्तक--- इंडियन  फिलासफी  तथा  ' दि  हिन्दू  व्यू  ऑफ  लाइफ '   ने  उन्हें  अंतर्राष्ट्रीय  स्तर  का  व्यक्ति  बना  दिया  ।   डॉ. राधाकृष्णन  भारतीय  और  पश्चिमी  दोनों  दर्शनों  के  महापंडित  थे  ।  उन्हें  अमेरिका , ब्रिटेन   तथा  जर्मनी   के   विभिन्न  विश्वविद्यालयों  में  तथा  चर्च   और  गिरिजाघरों  में   भी  धर्म  और  अध्यात्म  आदि  विभिन्न   विषयों  पर  व्याख्यान  देने  बुलाया  जाता  था  ।   इससे  विदेशों  में  भारत  का  एक  नया  गौरव  मण्डित  स्वरूप  उजागर   हुआ  ।
    डॉ. राधाकृष्णन   का    एकमात्र  उद्देश्य  था  सन्तप्त  मानवता  को  शान्ति  की  शीतलता  प्रदान  करना
इस  उद्देश्य   के   लिए  उनके  ह्रदय  में  निरंतर  एक  टीस  सी  उठा  करती  थी  ।  पीड़ित  मानवता  के  प्रति  वे  इतने  दुःखित  थे  कि  उस  भावना  ने  उन्हें  सर्वथा  निर्भीक  ओर  स्पष्टवादी  बना  दिया  ।
  जब  वे  भारतीय  राजदूत   के  रूप  मे  मास्को  में  रहते  थे,  तब  एक  बार  उन्होने  स्टालिन  से  कहा--- " भारत  के  महान  सम्राट    संग्राम  में  विजय  पाकर  भिक्षु  बन  गये  थे  ।  कौन  जाने  शायद  आप  भी  उसी  प्रशस्त  मार्ग  पर  चल  पड़ें  | "
स्टालिन  ने  उत्तर  दिया---- " हाँ  कई  बार  चमत्कारी  घटनाएँ  भी  हो  जाती  हैं  ।  ऐसा   चमत्कार  भी  संभव  तो  है  । "    रूस  से  विदा  लेते  हुए  डॉ. राधाकृष्णन  जब  स्टालिन  से  मिलने  गये,  तो  विदा  लेते  हुए  स्टालिन  के  सिर  पर  हाथ  रखा  तो  स्टालिन  की  आँखें  सजल  हो  उठीं,  उसने  भीगी  आँखों   से  विदा  देते  हुए  कहा--- " आप  प्रथम  व्यक्ति   हैं,  जो  मुझसे  मानव-सा  व्यवहार  करते  हैं,  शेष  सब  राजदूत  तो  मुझे  दैत्य  मानकर  दूर  रहते  हैं  ।  मुझे  अब  अधिक  दिन  नहीं  जीना,  ईश्वर  आपको  चिरायु  करे  | "
इस  संवाद   के   छ: महीने   बाद  स्टालिन  ने  शरीर  छोड़  दिया  ।