22 August 2014

WISDOM

'  गरीबी  अपने  आप  में  कोई  अपमान जनक  बात  नहीं  है  | उसे  दुत्कारा  तब  जाता  है,  जब  वह  मूर्खता,  आलस,  असावधानी  या  दुर्व्यसनों  की  वजह  से  आयी  हो  । '
             दिन  भर  भीख  मांगने  के  बाद  भिखारी  एक  पेड़  के  नीचे  बैठकर  आराम  करने  लगा  । उसी  राह  से  एक  मजदूर  आया  और  वह  भी  पेड़  के  नीचे  आकर  बैठ  गया  ।  भिखारी  ने  एक  द्रष्टि  मजदूर  पर  डाली  और  उससे  बोला--- " तुमने  आज  दिनभर  जितनी  कमाई  की,  उतनी  तो  मैं  आधे  दिन  में  कर  लेता  हूँ  ।  भला  तुम में  और  मुझ में  क्या  अंतर  रहा  । "
   मजदूर  बोला--- " मित्र ! अंतर  परिश्रम  और  जाहिली  का  है  ।   मैं  अपने  पुरुषार्थ  से  कमाता  हूँ  और  उस  कमाई  को  गर्व  से  अनुभव  करता  हूँ,  जबकि  तुम  याचना  के  पात्र  बनते  हो  और  उस  धन  को  अपना  मान  लेते  हो  । "  भिखारी  का  आत्मसम्मान  जागा  और  वह  भी  मेहनत  करने  निकल  पड़ा  । 

21 August 2014

कर्मयोगी

कर्मयोगी  वह  है,  जो  वर्तमान  पर  द्रष्टि  रखता  है  | अपनी  सारी  समझ,  बुद्धि,  मेहनत  और  मनोयोग  अपने  कर्तव्य  को,  कर्म  को  अच्छा  बनाने  के  लिये  लगाता  है  । ' वर्क  इज  वर्शिप '  अर्थात  काम  को  भगवान  की  पूजा  इसलिये  बताया  गया  है  कि  व्यक्ति  अपने  काम  को  ईमानदारी  और  जिम्मेदारी  से  करे  ।  काम  करने  का  अर्थ  केवल  श्रम  करने  से  नहीं  है  ।  कार्य  के  साथ  में--- ईमानदारी,    जिम्मेदारी,      सुरुचि-खूबसूरती,   तन्मयता, तत्परता,  जोश  और  अपनत्व  हो  तथा
कार्य  को  ऐसे  ढंग  से  किया  जाये  कि  सामान्य  होकर  भी  असामान्य  हो  जाये  ।   ऐसे  असामान्य  कार्य  को  कर्मयोग  कहा  जाता  है   ।
            अंधकार  के  विदा  होने  का  समय  निकट  आ  गया  ।   भगवान  भास्कर  भी  अपने  रथ  पर  सवार  होकर   गगन-पथ  पर  आगे  बढ़ने  लगे   ।  दीपक  की  लौ  ने  अपना  मस्तक  उठाकर  सूर्य  को  प्रणाम  किया  और  बुझ  गया  ।
   सूर्य  को  यह  देखकर  बड़ी  प्रसन्नता  हुई  कि  मेरी  अनुपस्थिति  में  दीपक  ने  अपने  कर्तव्य  को  अच्छी  तरह  निभाया  है  ।  वह  दीपक  को  वरदान  देने  के  लिये  तैयार  हो  गये  ।  दीपक  की  आत्मा  सहज  भाव  से  बोल  पड़ी--- " सूर्य  देव ! संसार  में  अपने  कर्तव्यपालन  से  बढ़कर  कोई  अन्य  पुरस्कार   हो  सकता  है,  मैं  नहीं  जानता   ।  मैंने  तो  आपके  द्वारा  दिये  गये  उत्तरदायित्वों  का  निर्वाह  किया  है  । "
   सहज  भाव  से  निभाया  कर्तव्य  महानता  का  ही  प्रतीक  है  ।  

20 August 2014

WISDOM

धर्म  का  तात्पर्य  है---- कर्म  तथा  कर्तव्यपालन  | जीवन  को  सार्थक  बनाने  और  भटकावों,  अनाचारों  से  बचने  का  एक  ही  तरीका  है---- कर्तव्यपालन   | हमें  जिस  संसार  में  काम  करने  के  लिये,  जीवनयापन  का  उतरदायित्व  सँभालने  के  लिये  भेजा  गया  है  उसे  अधिक  सुंदर,  समुन्नत  एवं  श्रेष्ठ  बनाकर  विदाई  लेना  ही  बुद्धिमता  है  ।  इसी  को  कर्मयोग  या  कर्तव्यपालन  कहते  हैं  ।  यह  एक  ऐसी   विद्दा  है,  जिसे  अपनाने  पर  हर  समय  संतोष  और  उत्साह  रहता  है  । कर्मयोगी  आजीवन  स्वस्थ  व  प्रसन्न  रहते  हैं  ।                                       मनुष्य  की  श्रेणी  का  निर्धारण  उसकी  कर्तव्यनिष्ठा  से  होता  है  ।  उत्तम  व्यक्ति  वे  होते  हैं  जो  विध्नों  के  पुन:  आने  पर  भी  प्रारम्भ   किये  हुए  कार्य  को  अंत  तक  निभाते  हैं
    मनुष्य  के  जीवन  में  विपरीतता  एवं  विरोधाभास  उसकी  कर्तव्य  निष्ठा  एवं  लगनशीलता  की  परीक्षा  लेने  के  लिये  आते  हैं,  उसको  कर्तव्य  पथ  से  च्युत  करने  के  लिये  नहीं  ।
आत्मविश्वासी  व्यक्ति  को  विपत्तियाँ  कभी  परास्त  नहीं  कर  सकतीं   ।
   अपने  दायित्वों  को  भली  भांति  न  निभा  पाना  भी  एक  अपराध  है  । 
        मुगल  सम्राट  बहादुरशाह  जफर  रंगून  में  निर्वासित  जीवन  बिता  रहे  थे  ।  वे  एक  दिन  सम्राट  थे,  किंतु  आज  उनका  जीवन  अभाव  और  कष्टों  की  कहानी  बन  गया  था  । किसी  ने  पूछा--- " आप  इतने  कष्टों  को  मौन  होकर  सहते  जा  रहें  हैं,  विरोध  क्यों  नहीं  करते  ? "
  सम्राट  ने  बड़ी  गंभीरता  से  उत्तर  दिया---- " विरोध  करने  की  क्या  आवश्यकता  ? अपराध  मुझसे  हुआ  है  तो  दंड  भी  मुझे  ही  भुगतना  होगा  ।  यदि  इससे  भी  अधिक  यातनाएं  दी  जायेंगी  तो  उन्हें  भी   मैं  खुशी-खुशी  सहन  करूँगा  । "
उसने  पूछा--- " क्या  अपराध  किया  है  आपने  ? मुझे  भी  बताइए  ? "
सम्राट  ने  कहा--- देश  का  प्रहरी  होकर  मुझे  प्रत्येक  समय  सजग  रहना  चाहिये,  पर  मैं  बेहोशी  की  नींद  सोया  रहा  ।  शत्रु  ने  आक्रमण  कर  दिया,  परंतु  मैं  समय  पर  उसे  ललकार  भी  न  सका  ।  इससे  बड़ा  देशद्रोह  और  अपराध  क्या  हो  सकता  है  ? "

19 August 2014

प्रगतिशील अध्यात्म

आज  उपासनागृहों  की  संख्या  और  उसमे  जाने  वालों  की  तादाद  बढ़ते  चले  जाने  के  बावजूद  नास्तिकता  तेजी  से  बढ़ती  चली  जा  रही  है  । व्यक्ति  परमसत्ता  के  अनुशासन  की  उपेक्षा  कर  कर्मकांडों  के  आडम्बर  में  उलझा  निजी  जीवन  में  अनैतिक  आचरण  करता  देखा  जाता  है  । आज  समाज  में  छाई  अनास्था  स्वयं  को  नास्तिक  कहने  वालों  की  वजह  से  नहीं  है  अपितु  उन  आस्तिकों  की  वजह  से  है  जो  स्वयं  को  आस्तिक,  ' भगवान  का  भक्त ' कहते  हैं  किंतु  अपने  व्यक्तित्व  को  संस्कारवान  और  शालीन  बनाने  का    जरा  भी  प्रयास  नहीं  करते  ।
    आज  की  सबसे  बड़ी  आवश्यकता  इनके  चिंतन  में  आमूलचूल  परिवर्तन  की  है  ।
देवता  न  चापलूसी  से  प्रसन्न  होते  हैं  और  न  ही  रिश्वत  लेने  में  उनकी  कोई  रूचि  है  ।  उनका  अनुग्रह  उन्ही  को  मिलता  है  जिसने    आत्मपरिष्कार  किया  । उपासना  अंतरंग  को  परिष्कृत  करने  के  लिये  है  अपने  कुसंस्कारों  से  निरंतर  लड़ते  रहना,  अपनी  बुराइयों  को  दूर  करने  का  प्रयास  करना  और  अपने  जीवन  क्षेत्र  में  सत्प्रवृतियों  की  फसल  उगाना, सद्गुणों  को   एक - एक  करके व्यवहार  में  लाना  ही  सच्ची  उपासना-साधना  है  ।
      अपना  प्रसुप्त  अंतरंग  ही  सर्वसिद्धि  दाता  देवता  है  । उसी  को  जगाने,  प्रखर  बनाने  के  लिये  पूजा-उपचारों  की  विधि-व्यवस्था शास्त्रकारों  ने  बनाई  है  । जो  इस  तथ्य  को  समझते  हैं,  भजन-पूजन  में  सन्निहित  आत्मनिर्माण  के  मर्म  को  जान  लेते  हैं  वे   ही  सच्चे  साधक  है  और  जो  इस  दिशा  में  बिना  हारे  अनवरत  प्रयास  करते  हैं  उन्ही  को  सिद्धि  मिलती  है  । साधना  से  सिद्धि  का  सिद्धांत  अकाट्य  है  ।
      बिना  आत्म  शोधन  का  भजन  निरर्थक  जाता  है  ।  अपवाद  रूप  में  किसी  को  कोई  दैवी  अनुग्रह  मिल  भी  जाये  तो  उसका  परिणाम  अंतत:  रावण,  भस्मासुर,हिरण्यकश्यप, कंस  आदि  की  तरह  घोर  विपत्ति  के  रूप  में  सामने  आता  है  । 

18 August 2014

WISDOM

दंभ  एवं  अहंकार  से  किसी  का  भला  नहीं  हुआ  ।  ये  तो  पतन  की  राह  दिखाते  हैं  । अहंकार  ज्ञान  के  सारे  द्वार  बंद  कर  देता  है  । इनसे विकास  नहीं, विनाश  होता  है  ।
प्रभु  के  प्रति  सच्चा  नमस्कार,    प्रभु  की  सबसे  बड़ी  पूजा  है--- अहंकार  का  समर्पण  ।  इस  समर्पण  प्रक्रिया  से  हमारा  व्यक्तित्व  प्रबल  शक्तिसंपन्न  होकर  निखर  उठता  है  ।  सारी  सफलताओं  का  रहस्य  यही  है  ।
              अध्यात्म  का  मूल  मर्म  आत्मपरिष्कार  में  है,  अहंकार  के  विसर्जन  में  है  और  जीवन  को  गलाने,  गढ़ने  एवं  उसे  विकसित  करने  में  है  ।  अध्यात्म  कोई  लाटरी  नहीं  है  जिसमे  केवल  कुछ  शब्दों  के  उच्चारण  से  हम  जीवन  में  उत्थान  और  उत्कर्ष  की  कल्पना  करें  ।
     अध्यात्म  कहीं  कुछ  पाने  की  लालसा  नहीं,  बल्कि  स्वयं  को  सही  ढंग  से  जानने-पहचानने  और  विकसित  करने  का  विज्ञान  है  । 

17 August 2014

WISDOM

' दुर्भाग्य  कभी  आपके  पीछे  हाथ  धोकर  पड़  जाये,  ऐसा  लगने  लगे  कि  कोई  उपाय  प्रगति  पथ  पर  स्थिर  रखने  में  समर्थ  नहीं  है,  चारों  ओर  असफलता  ही  असफलता,  अंधकार  ही  अंधकार  प्रतीत  हो  रहा  है,  तब  आप  महापुरुषों  के  ग्रंथ  पढ़ें,  जीवन  ज्योति  मिलेगी  | '
       
          ईरानी  शासक  से  हुए  युद्ध  में  सिकंदर  विजयी  हुआ  ।  इस  विजय  के  साथ  सिकंदर  को  बहुत  सा  धन,  स्वर्ण  मुद्राएँ  और  हीरे-जवाहरात  भी  मिले  । अभी  वे  बहुमूल्य  वस्तुएँ  सिकंदर  को  भेंट  में  दी  जा  रहीं  थीं  कि  एक  सैनिक  अधिकारी  ने  लूट  में  मिली  एक  पेटी  उपहार  में  दी  ।  यह  स्वर्णजड़ित  पेटी  उन  सब  वस्तुओं  में  सुंदर  और  आकर्षक  थी  ।  सिकंदर  ने  उसे  अपने  पास  रख  लिया  ।
                            प्रश्न  उठा  कि  इस  पेटी  में  क्या  रखा  जाये  ?  किसी  ने  कहा--- " हीरा  । " दूसरे  ने  बताया--- " सम्राट  के  वस्त्र आभूषण  । "  तीसरे  ने  कहा--- " इसमें  राजकोष  की  चाभियाँ  रखी  जायें  । "
  सिकंदर  सबकी  सुनता  हुआ  भी  चुप  था  ।  सब  कुतूहल  में  थे  कि  इसमें  क्या  रखा  जाता  है  ।
  जब  सिकंदर  के  निर्णय  का  समय  आया  तो  उसने  उसमे  ' इलियड '  ग्रंथ  रखा,  जिससे  सिकंदर  ने  पौरुष,  पराक्रम  और  जीवनोत्कर्ष  की  प्रेरणाएँ  पाईं  थीं  ।  उस  दिन  से  सिकंदर  के  अधिकारी  भी  ज्ञान  को  अधिक  महत्व  देने  लगे  । 

16 August 2014

होशपूर्वक जीना

श्वास  की  डोर  से  जीवन  की  माला  गुँथी  है  ।  शरीर  हो  या  मन, दोनों  ही  श्वासों  की  लय  से  लयबद्ध  होते  हैं  ।  शरीर  से  मनुष्य  कहीं  भी-- चाँद  पर  और  मंगल  गृह  पर  जा  पहुँचे,  वह  जस  का  तस  रहता  है,  परंतु  श्वास  की  लय  के  परिवर्तन  से  तो  उसका  जीवन  ही  बदल  जाता  है  ।
       श्वास  की  लय  में  परिवर्तन  आंतरिक  होशपूर्वक  होना  चाहिये  । हमें  समझना  होगा,  विश्वास  करना  होगा  कि  हजार  आँखों  से  ईश्वर  हर  क्षण  हमें  देख  रहें   हैं,  इसलिये  प्रत्येक  श्वास  के  साथ  होशपूर्वक  रहना  होगा  और  साथ  ही  श्वास-श्वास  के  साथ  भगवन्नाम  के  जप  का  अभ्यास  करना    होगा    ।  ऐसा  हो   तो   श्वासों  की    लय  के  साथ  जीवन  की  लय  भी  बदल  जाती  है  । 
                विश्व  विख्यात  वैज्ञानिक  अल्बर्ट  आइंस्टीन  बर्लिन  हवाई  अड्डे  से  हवाई  जहाज  में   सवार  हुए  ।   थोड़ी  देर  में  उन्होंने  माला  निकाल  कर  जपना  शुरू  कर  दिया  । उनके  पास  बैठे  युवक  ने  उनकी  ओर  देखते  हुए  कहा-- " आज  का  युग  वैज्ञानिक  युग  है  । आज  दुनिया  में  आइंस्टीन  जैसे  वैज्ञानिक  हैं  और  आप  माला  जपकर  रुढ़िवाद  को  बढ़ावा  दे  रहे  हैं  । " ऐसा  कहकर  उसने  अपना  कार्ड  उनकी  ओर  बढ़ाया  और  बोला--- " मैं  अंधविश्वास  समाप्त  करने  वाले  वैज्ञानिकों  के  दल  का  प्रमुख हूँ ।
कभी  मिलने  आइये  । " उत्तर  में  आइंस्टीन  ने  मुस्कराकर  अपना  कार्ड  निकाला  और  उसे  दिया  ।
उनका  नाम  पढ़ते  ही  वह  युवक  हक्का-बक्का  रह  गया  ।  आइंस्टीन  बोले--- "दोस्त ! वैज्ञानिक  होना  और  आध्यात्मिक  होना,  विरोधी  बातें  नहीं  हैं  ।  बिना  आस्था  के  विज्ञान  विनाश  ही  पैदा  करेगा,  विकास  नहीं  । "  युवक  के  जीवन  की  दिशा  यह  सुनकर  बदल  ही  गई ।