29 April 2016

बहुजन - हिताय और बहुजन - सुखाय जिनका जीवन लक्ष्य था ------ रुसी क्रान्ति के अग्रदूत ----- हर्जेन

     रूस  विश्वविद्यालय  का  एक  विद्दार्थी  अपने  जीवन  की  असफलताओं  से  निराश  होकर   आत्महत्या  का  निश्चय  कर  बैठा  ।  एकान्त  में  जाकर  उसने  विषपान  के  लिए   जहर  की  शीशी  निकाली  तभी  उसकी  निगाह  पास  पड़े  रद्दी  अखबार  के  पन्ने  पर  गई  ।  उस  लेख  में   आशा  और  निराशाओं  के  दिन - रात ,  प्रकाश - अन्धकार  की  इतनी  प्रभावशाली  विवेचना  की  गई  थी  कि  पढ़कर  युवक  छात्र  ने   अपने  हाथ  की  शीशी  को  दूर  फेंक  दिया    l   इसके  लेखक  थे ---- हर्जेन    । 
इस  लेख  को  पढ़कर  वह  युवक  हर्जेन  का  अनुयायी  बन  गया   और  आगे  चलकर   रुसी  क्रांति  में  महत्वपूर्ण  योगदान  दिया   ।  हर्जेन  की  लेखनी  में  इतनी  प्रभावोत्पादकता,  उनके  विचारों  की  प्रखरता  और  ह्रदय  के  उत्साह  की  परिचायक  है  ।   वे  स्वयं  एक  जमीदार  परिवार  में  जन्मे  थे  ,  फिर  भी  वे   उस  शासन  व्यवस्था   को  बदल  देने    की  ललक  लेकर   आगे  बढ़े  जिसमे  देश  की  लाखों  - करोड़ों   मेहनतकश   जनता   निर्धन  और   फाकाकशी  के  दिन  गुजर  रही  थी  ।
  हर्जेन  के  स्वाभाव  की  सबसे  बड़ी  विशेषता  थी  ---- उनकी  पर - दुःख - कातरता  ।  प्रतिदिन  उनके  पास
  अभाव पीड़ित    और  दुःखी  व्यक्ति  आया  करते  थे  ,  जिन्हें  हर  प्रकार  की  सांत्वना  देने  के  साथ - साथ   हर्जेन   सहायता  भी  दिया  करते  थे   ।  बीस - पच्चीस  भूखे  लोगों  के  साथ  भोजन  करना  उनकी  नियमित  दिनचर्या  का  अंग  बन  गया  था  ।
  हर्जेन  ने  1857  में  एक  पत्र  ' कोल - काल  '  का  प्रकाशन  आरम्भ  किया  l    जारशाही  की  तीखी  आलोचना   और  कठोर   प्रहारपूर्ण  लेखों  से  भरा  यह  पत्र  बहुत  लोकप्रिय  हुआ  । इस  पत्र  को  स्वयं  जार  भी  खरीदकर  पढ़ा  करता  था  । 

28 April 2016

पराजितों के साथ सम्मानजनक व्यवहार करना जिसकी नीति थी -------- विश्व - विजय का स्वप्नदर्शी ------ सिकन्दर

  मकदूनिया  का  शासक  बनते   ही    सिकन्दर  ने  विश्व - विजय  के  सपनो  को  साकार  करना  आरम्भ  किया  ।  सर्वप्रथम  उसने  अपनी  सैन्य  शक्ति  का  विस्तार  किया   और  एक - एक  करके  सारे  यूनानी  राज्यों  को  जीत  लिया    और  उन  हारे  हुए  राजाओं  के  साथ   उदारता  का  व्यवहार    करके  उन्हें  अपना  मित्र  बना  लिया   ।
  यूनान  के  पश्चात  सिकन्दर   फारस  की  ओर  उन्मुख  हुआ  ।  फारस  का  राजा  दारा  भी  विश्व - विजय  के  स्वप्न  देखा  करता  था    और  इसके  लिए  उसने  बहुत  बड़ी  सेना   एकत्रित  कर  रखी  थी  ।  आइसस  के  मैदान  में  दोनों  सेनाओं  की  टक्कर  हुई   ।  प्रशिक्षित  और  अनुशासित  सेना  के  बल  पर   सिकन्दर  ने  अपने  से  तीन  गुनी  सेना  रखने  वाले   दारा  को  पराजित  कर  दिया   ।  वह  मैदान  छोड़कर  भाग  निकला    उसकी  माँ , पत्नी  तथा  बच्चे  पकड़े  गये   ।
   सिकंदर  उनके    साथ  बड़ी  सभ्यता  से  पेश  आया   ।  दारा  की  पत्नी   अत्यंत  रूपवती  थी   ।  सिकन्दर  के  स्थान  पर  कोई  और  होता  तो   उसको  अपनी    पत्नी   बना  लेता   पर  सिकन्दर  के  पास  चारित्रिक  बल  था  ,  उसने  ऐसा  नहीं  किया   ।  वह  जानता  था  कि  चरित्र  ही  मनुष्य  की  सबसे  बड़ी  सम्पदा  है  ।  वह  तो  राज्यों  को  जीतना  भर  चाहता  था  ,  पराजित  राजाओं  की  रानियों  को  अपमानित  करना  नहीं   । 
          दारा  ने  पराजित  होकर  आत्म समपर्ण  नहीं  किया  ,  वह अपने  बचे  हुए  सैनिकों  के  साथ  इधर - उधर  भागता   फिरा  ।   एक  दिन  उसके  ही  एक  सैनिक  ने  उसे  छुरे  से  घायल  करके   मरा   समझ  कर  छोड़  दिया  ।   सिकन्दर  को  वह  मृतप्राय  दशा  में  मिला  ।   अपने   मरणासन्न   शत्रु  को   उसने  अपना  दुशाला  उड़ाकर  सम्मान  प्रकट  किया  ।   दारा   ने  उसे   अपनी  पत्नी  व  बच्चों  के  प्रति  किये  सम्मानजनक  व्यवहार  के  लिए  धन्यवाद  दिया  ।   सिकन्दर  में  यह  चारित्रिक  बल  था ,  उसे  उसके  गुरु   अरस्तू    ने  गढ़ा  था  ।  अरस्तू  जैसा  गुरु  पाकर  ही  सिकन्दर    महान    बना  । 

27 April 2016

वीर शिवाजी ----- जिनके ह्रदय में संयम और चरित्र का प्रकाश था

 शिवाजी  ने  कल्याण  के  किले  पर  अधिकार  कर  लिया   ।  शिवाजी  के  सम्मुख  कल्याण  के  किलेदार  मौलाना  अहमद  और  उसकी  पुत्रवधू  को  बंदी  के  रूप  में  उपस्थित  किया  गया  , अहमद  की  पुत्रवधू  एक  अपूर्व  सुन्दरी  थी  ।    । उसका  रूप  देखकर  सारा  दरबार  चकित  रह  गया  ।  शिवाजी  भी  उसे  एकटक  होकर   देखने   लगे  ।  लोग   समझ  रहे  थे   कि  शायद   शिवाजी  नारी  रूप  पर  आसक्त  हो  गये  ।
       लेकिन  शिवाजी  के  ह्रदय  के  भाव  पवित्र  थे   ।  बड़ी  देर  तक देखते  रहने  के  बाद  वे  बोले  ----- " कैसा  अनुपम  और  प्रशंसनीय  रूप  है   ।  यदि  मेरी  माता  भी   इसी  की  तरह  सुन्दर  होती  तो   मैं   भी  आज  कितना  सुन्दर  होता  । "
  शिवाजी  की  बात  सुनकर  सारी  सभा  के  मुंह  से   सहसा  ही  ' धन्य - धन्य '  के  शब्द  निकल  पड़े  ।  मौलाना  अहमद  तो  श्रद्धा - विभोर  होकर  रो  पड़ा  ।  और  उसकी  पुत्रवधू  कह  उठी ------ "  जो  आदमी  इतना  नेक , ईमानदार  और  पाक  चलन  है  ,  जो  दुश्मन  की  औरत  के  साथ   इतना  इज्जत  भरा  सुलूक  कर  सकता  है  ---- वह  एक  दिन  जरुर  बड़ा  आदमी  होगा  और  दुनिया  उसके  नाम  को   सिजदा  किया  करेगी  ।  "  

24 April 2016

WISDOM

   अपने  जीवन  के  अनुभव  से  गुरु  गोविन्दसिंह  जी  ने  लोगों  को  शिक्षा  दी ----- ' हर  सज्जन  व्यक्ति  को  यह  नियम  बना  लेना  चाहिए  कि  शत्रु  पक्ष  को  ,  निराश्रय  की  स्थिति  में  सहायता  भी  करनी  हो  तो  भी  उसे  अपने  निकट  न  रखना  चाहिए  और   सदा   उससे  सावधान  रहना  चाहिए   क्योंकि  कभी - कभी   असावधान  परोपकार  भी  अनर्थ  का  कारण  बन  सकता  है   ।  '
       सिक्खों  के  दसवें  गुरु  गोविन्दसिंह  जी  उन  दिनों  गोदावरी  के  तट  पर  नगीना  नाम  का  एक  घाट  बनवा  रहे  थे  ।  दिनभर  उस  काम  में  व्यस्त  रहकर  वे  सांयकाल  प्रार्थना   कराते  और  लोगों  को  संगठन  तथा  बलिदान  का  उपदेश  दिया  करते  । उन  दिनों  उनके  पास  अनेक  मुसलमान  शिष्य  भी  रहते  थे  किन्तु  उन  मुसलमान  भक्तों  में  एक  शत्रु  भी  छिपा  हुआ  था   ।  उसका  नाम  था--  अताउल्ला  खां  ।
 उसका  पिता  एक  युद्ध  में  गुरूजी  के  हाथ  से  मारा  गया  था   ।  उसके  अनाथ  पुत्र  को  गुरु  जी  ने  आश्रम  में  रखकर  पाल  लिया  था  किन्तु  उनकी  यही  दया  और  शत्रु  के  पुत्र  के  साथ  की  गई  मानवता  उनके  अंत  का  कारण  बन  गई  ।
    दुष्ट  अताउल्ला   खां  हर  समय  इस   घात    में  रहता  था  कि  कब  गुरूजी  को  अकेले  असावधान  पाये  और  मार  डाले   ।  एक  दिन  उसने  पलंग  पर  सोते  हुए  गुरूजी  की  काँख  में  छुरा  घोंप  दिया  ।  गुरूजी  तत्काल  सजग  होकर  उठ  बैठे  और  वही  कटार  निकाल  कर   भागते  हुए  विश्वास  घाती  को  फेंक  कर  मारी   ।  वह  कटार  उसकी  पीठ  में  धंस  गई  ।  अताउल्ला  खां   तुरन्त   गिरकर  ढेर  हो  गया  ।
  सांयकाल  उन्होंने  प्रार्थना  सभा  में   इसी  घटना  से  लोगों  को  शिक्षा  दी  कि  शत्रु  से  हमेशा  सावधान  रहें 
उसका  कभी  विश्वास  न  करें  । 
  गुरु  के  घाव  पर  टाँके  लगा  दिये  गये   किन्तु  बाद  में  भारी  कमान   को  बलपूर्वक  उठाने  की  प्रक्रिया  में  उनके  जख्म  के  टाँके  टूट   गये  और  रक्त  की  धारा  बह  चली  ,  रक्त - प्रवाह  रुका  नहीं  और  उसी  में   सिक्खों  के  दसवें  गुरु  का  स्वर्गवास  हो  गया  । 

23 April 2016

समाचार पत्र का निर्भीकता से प्रकाशन ----------- लोकमान्य तिलक

लोकमान्य  तिलक  ने    देश  में  नवीन  राष्ट्रीय  चेतना  और  देश - सेवा  की  भावना  उत्पन्न  करने  के  लिए  मराठी  भाषा  में     ' केसरी '  और  अंग्रेजी  भाषा  में   ' मराठा '  नाम  के  साप्ताहिक  पत्रों  का  प्रकाशन  शुरू  किया  ।  उस  युग  में  जब  अंग्रेजों  का  शासन  था  ,  लोकमान्य  तिलक  का  ' केसरी ' और  कलकत्ते  का
   ' अमृत बाजार  पत्रिका '  ही  ऐसे  पत्र   थे  जो  निर्भय  होकर   सरकार    की  अनुचित  कार्यवाहियों  की  बड़ी  आलोचना   करते  थे  और  बड़े  बड़े  अधिकारियों  की   चालों  का  भंडाफोड़  कर  देते  थे  ।
   ' केसरी '  के  मुखपृष्ठ  पर  ही  आदर्श - वाक्य   ( मोटो )  के  रूप  में   एक  पद्द  छपा  करता  था  जिसका  अर्थ  था ----- ' यह  भारत  रूपी  सिंह  अभी  निद्रित  अवस्था  में  पड़ा  है   और  इसी  से  निष्क्रिय  जान  पड़ता  है   ।  तुम्हारा  हित  इसी  में  है   कि  समय  रहते  ही  इस  देश  को  छोड़  जाओ  अन्यथा  यह  जब   जागृत   होगा   तो  जान  बचाना  कठिन  पड़  जायेगा  । '
    कोल्हापुर   के  दीवान  ने  ,  जो  अंग्रेजों  का  पिट्ठू  था  ,  वहां  के  शासक  को  अपदस्थ  करके   राज्य  के  समस्त  साधनों  को  स्वयं  हथियाने  का  कुचक्र  रचाया  ।  लोकमान्य  तिलक  ने  
 उसकी  सब   ' करतूतों  '  को  प्रकट  करके    ऐसे  तीव्र  प्रहार  किये  कि   चारो   तरफ   हलचल  मच  गई   ।  अंग्रेज  सरकार  ने  उनपर   मानहानि  का  मुकदमा  चलाया    और  उन्हें  18  महीने  कठोर  कारावास  की  सजा  दी  गई  ।  जेल  से  छूटने  पर  उनका  ऐसा  भव्य  स्वागत  हुआ  कि उसकी  मिसाल  नहीं  । तिलक  महाराज  ने  स्वयं  कष्ट  सहकर  जेल  को  भी  पवित्र  कर  दिया   ।  अब  समाचार  पत्रों  में  जेल  खाने  का  नाम   ' कृष्ण - जन्म - मंदिर ' लिखा  जाने  लगा   । 

22 April 2016

दो सच्चे और राष्ट्र - सेवक मित्र

   नेहरु  जी  और  सरदार  पटेल  के  मतभेद  की  कहानी  बड़ी  दिलचस्प  और  शिक्षाप्रद  है  ।  वे  विभिन्नता  में  एकता  के  अदभुत  उदाहरण  थे  ।  सरदार  पटेल  नेहरु  जी  से  चौदह  वर्ष  बड़े  थे  और  राष्ट्रीय  संग्राम  में  उनकी  सेवाएं  भी  कम  न  थीं  , पर  गांधीजी  के  भाव  को  समझकर  उन्होंने  नेहरूजी  को  प्रधानमंत्री  और  स्वयं  को  उप प्रधानमन्त्री  रहना  स्वीकार  किया  ।  
     इन  दोनों  महान  नेताओं  का  सहयोग  व्यवहारिक  रूप  में  किस  प्रकार  प्रकट  हुआ   यह  श्री  हरिभाऊ  उपाध्याय  के  इस  लेखांश  से  विदित  हो  सकता  है ------ "  दोनों  के  मिजाज  और  कार्यप्रणाली  में  बहुत  अन्तर  था  ,  किन्तु  भारत  के  स्वतंत्र  होने  के  बाद  सरदार ,  नेहरूजी  को  अपना  नेता  मानने  लगे  थे   ।  और  इसके  बदले  नेहरु  जी  सरदार  को  परिवार  का  सबसे  वृद्ध  पुरुष  मानते  थे   ।  यदि  कोई  उन  दोनों  में  से  किसी  की  भी  नीति  पर  आक्रमण  करता   तो  उक्त  आलोचक  को  दोनों  ही  फटकार  देते  ।  वे  दोनों  एक   दूसरे   के  कवच  थे  ।  एक  कांग्रेसी  कार्यकर्ता  जो  सरदार  का  विश्वासपात्र  था  ,  बताया  था  कि---" सरदार  ने  अपनी  मृत्यु  शय्या  पर  उनसे  कहा  था   कि   हमें  नेहरूजी  की   अच्छी  तरह  देखभाल  करनी   चाहिए , क्योंकि  मेरी  मृत्यु  से  उन्हें  बहुत  दुःख  होगा  । "
इसी  प्रकार  की  घटना  नेहरु  जी  की  भी  है  --- सरदार  पटेल  अपने  व्यंग  के  लिए  प्रसिद्ध  थे  और  एक  दिन  नेहरु  जी  भी  उनके  व्यंग  के  शिकार  हो  गये  ।  उस  समय  उपस्थित  एक  मित्र  ने  इसका  जिक्र  नेहरु  जी  से  कर  दिया  ,  तो  नेहरु  जी  ने  उत्तर  दिया  ---- " इसमें  क्या  बात  है  ? आखिर  एक  बुजुर्ग  के  रूप  में  उनको  हमारी  हंसी  उड़ाने  का  पूर्ण  अधिकार  है  ।  वे  हमारी  चौकसी  करने  वाले  हैं   ।  नेहरु  जी  के  उत्तर  से  लाजवाब  होकर  वे  सज्जन  शीघ्र  ही  वहां  से  चले  गये   ।  "
भारतीय  राष्ट्र  का  निर्माण  करने  वाले  इन  दोनों   महापुरुषों  की  इतनी  अधिक  है  कि  बहुत  वर्ष  बीत  जाने  पर  भी  लीग  उनका  स्मरण  करते  रहेंगे  । 

21 April 2016

नाद ब्रह्म के अनन्य आराधक ----- उस्ताद अलाउद्दीन


' स्वामी  रामकृष्ण  परमहंस  ने   वेदान्त  की  शिक्षाओं  के  प्रचार  के  लिए   स्वामी  विवेकानन्द  को  चुना  तो   नाद ब्रह्म  की  उपासना  पद्धति  के  लिए   उस्ताद  अलाउद्दीन  खां  को  । '
  वे  मुसलमान  जरुर  थे  पर  धर्म , सम्प्रदाय  के  प्रति  किसी   प्रकार  का  दुराग्रह  नहीं  रखते  थे  । उनके  पास  कोई  भी  कुछ  सीखने  जाता   तो  वे  सबसे  पहले  यही  पूछते  --- ' शारदा माँ  का  दर्शन  किया  । पहले  उनके  दर्शन  करके  आओ , यहाँ  जो  कुछ  भी  है  सब  उनका  प्रसाद  है  ।  मुसलमान  होने  के  कारण  उन्होंने  दो  बार  हज  की  यात्रा  की  और  शिष्य  परम्परा  से  हिन्दू  के  नाते  चारों  धाम  की  तीर्थ यात्रा  की  ।  सैकड़ों  मंदिर , अनेक  मस्जिद  उनकी  सह्रदयता  से  लाभान्वित  हुए  ।
         बात  1914  की  है  ।  ' लाल  बुखार '  की  महामारी  से   लोग  कीट -पतंगे  की  तरह  मर  रहे  थे   ।  बाबा    का  भावुक  ह्रदय  महामारी  से  अनाथ  हुए  बच्चों  की  ओर  गया  ।  उन्होंने  सब  बच्चों  को  एकत्र  किया  और  अपने  एक  शिष्य  से  कहकर  उनके  रहने  और  भोजन  की  व्यवस्था  करा  दी  ।  उनकी  पत्नी  रुई  की  बत्ती  से  बच्चों  को   बूंद - बूंद  कर  दूध  पिलाती  । दोनों  ने  मिलकर  बच्चों  को  पाल - पोस  कर  बड़ा  कर  लिया  ।  अब  उत्तरदायी  पिता  की  तरह  बाबा  ने  उन्हें  आत्म निर्भर   बनाने  की  योजना  बनायीं  ।  और  सब  बच्चों  को  संगीत  साधना  में  लगा  दिया   ।  और  उस  योजना  के  अनुसार  तैयार  हो  गया
   ' मैहर बैंड ' जिसने  देश  के  कोने - कोने  में  ख्याति  प्राप्त  की   ।
  सभी  बच्चे  वेशभूषा,  रहन - सहन  में  सब  तरह  से  ग्रामीण  थे  ।  लखनऊ  के  मैरिस  कॉलेज  में  जब  म्यूजिक  कान्फ्रेंस  के  लिए  भातखंडे  जी  ने  बाबा  को  आमंत्रित  किया  तो  बाबा  ने  अपनी  इस  शिष्य मंडली  को  भेजने  का  विचार  किया  ।   भातखंडे  जी  बैण्ड वादन  के  कार्यक्रम  के  लिए  तैयार  नहीं  थे  किन्तु  बाबा  की  जिद  थी  ,  अत:  भातखंडे  जी  इस  वानर  सेना  को  दस  मिनट  का  समय  देने  के  लिए  बड़ी  मुश्किल  से  सहमत  हुए  ।  लेकिन  जब  इस  देहाती मंडली -- मैहर  बैण्ड  वादकों  ने  अपना  म्कर्य्क्रम  आरम्भ  किया  तो  ऐसा  समां  बंधा  कि  लोग  लगातार  तीन  घंटे  तक  मुग्ध  होकर  बैण्ड - वादन  सुनते  रहे
          बाबा  कहते  थे  -- संगीत  तो  एक  ऐसी  साधना  है   जो  स्वयं  के  साथ - साथ   अन्य  अनेक  को  भी  भाव - विभोर   और  ईश्वर  सान्निध्य  का  आनंद  प्राप्त  करा  देती  है  |