2 August 2015

' अपरिग्रह और त्याग वह गुण हैं, जिसके बल पर पृथ्वी पर रहते हुए भी देवताओं के साथ बातचीत कर सकते हैं '------- महात्मा फ्रांसिस

 विश्व-मानवता  के  पुजारी  महात्मा  फ्रांसिस  के   कार्यों   और  विचारों  ने  यूरोप  में  सुधार  की  एक  क्रान्ति  ला  दी  ।  भौतिकवाद  का  प्रचार  अत्यधिक  बढ़  जाने  पर  भी  आज  जो  यूरोपीय  जनता  में  धर्म  का  भाव  मौजूद  है  और  सेवा  तथा  सहायता  के  कार्यों  में  वे  जिस  प्रकार  दिल  खोलकर  तथा   मुक्त-हस्त  से  भाग  लेते  हैं  वह  सन्त  फ्रांसिस  जैसे  महामानवों  का    ही  प्रसाद  है  ।
  महात्मा  फ्रांसिस  केवल  संत  नहीं  सच्चे  समाज  सेवक  थे  ।  उन्होंने  भिखारियों  के  प्रति  भी  उपकार  किया-------- उन्होंने  भिखारियों  के  दो  अलग-अलग  वर्ग  बना  डाले  ।  प्रथम  वर्ग    में  ऐसे  भिखारियों  को  रखा  जो  अपंग  और  अपाहिज  थे  और  भिक्षा  दान  के  ठीक-ठीक  अधिकारी  थे  ।
दूसरे  वर्ग  में  उन्होंने  उन  भिखारियों  को  रखा  जो  अच्छे-खासे  थे  और  आराम  से   मेहनत   मजदूरी  कर  सकते  थे  ।    
उन्होंने  दूसरे  वर्ग  के  भिखारियों  को  समझाया  कि  भिक्षा  मांग  कर  खाना  घोर  अपमान  और  लज्जा  की  बात  है  ।  अच्छा-खासा   शरीर  पाकर  किसी  के  सामने  हाथ  पसारना    जघन्य  अपराध  है,  इससे  परमात्मा  को   भी  दुःख  होता   है  कि  निकम्मे  आदमी  को  सुन्दर  शरीर  क्यों  दिया  ?
    इसके  साथ  ही  उन्होने  नागरिकों  को  भी  समझाया  कि  वे  अपनी  उदारता  का  अपव्यय  न  करें  ।  समर्थ  शरीर  वाले  भिखारी  अधिक  तत्परता  और  चतुराई  से  समाज  की  उदारता  का  लाभ  उठा  लेते  हैं  और  तब  वे  असमर्थ  भिखारियों  को  जल्दी  कुछ  दे  सकने  में  अपने  को  रिक्त  अनुभव  करते  हैं  ।  इस  प्रकार  भिक्षा  के  जो  सच्चे  अधिकारी  हैं  उनका  अवसर  समाप्त  हो  जाता  है  । यह  अन्याय  है,  अत्याचार  है  जो  किसी  को  नहीं  करना  चाहिए  । 
         उन्होंने  समर्थ   भिक्षुओं  के  लिए  कार्य  के  अवसर  खोजने  में  यथासंभव  सहायता  की  और  नागरिकों  से  उन्हें  काम  देने  की  अपील  की  । उनका  कहना  था  ---- समर्थ  भिखारियों  को  चाहिए  कि  वे  जहां  तक  संभव  हो  मेहनत,  मजदूरी  करके  सम्मान  पूर्वक  जीने  का  प्रयत्न  करें   । 
    महात्मा   फ्रांसिस  का  जन्म  एक  संपन्न  परिवार  में  हुआ  था  किंतु  उस  सम्पति  को  त्याग  वे  संत  फ्रांसिस  हो  गये   ।  वे  अपना  भोजन  काम  कर  के  ही  लेते  थे  । वे  किसी  एक  घर  चले  जाते  थे  और  उसका  कोंई  न  कोई  काम  करके  रोटी  ले  आते  थे  ।  इन  कार्यों  में  पानी  भरने  से  लेकर  बर्तन  माँजने  और  झाड़ू   लगाने  तक  के  काम  शामिल  होते  थे  ।  उनका  कहना  था  कि  रोटी  पाने  का  सच्चा  अधिकारी  वही  है  जो  बदले  में  कुछ  ठोस  कार्य  करे  ।
उनके  विचार,  उद्गार  केवल  भावुक  अनुभूतियाँ  मात्र  ही  नहीं  थे,  बल्कि  उनका  संपूर्ण  जीवन  ही  उन्ही  के  अनुरूप  प्रेरित  और  संचालित  होता  था  । 

1 August 2015

स्वयं एक पूंजीपति होते हुए अपने आचरण से समाजवाद का एक नया रूप संसार को दिखला दिया------- श्री जमनालाल बजाज

 भारत  के  राष्ट्रीय  आन्दोलन  में  जमनालाल  जी  ने  स्वयं  जिस  प्रकार  अपने  परिवार  तथा  सम्पदा  को  अर्पित  कर  दिया  उसका  मुकाबला  करने  वाला  उदाहरण  कठिनता  से  ही  मिल  सकेगा  । 
  उन्होंने  पूंजीपति  का  धन्धा  करते  हुए  अपने  कारोबार  से  सम्बंधित  सब   कर्मचारियों  के  साथ  न्याय   का  व्यवहार  किया,  ग्राहकों  के  साथ  सदैव  ईमानदारी  का  ध्यान  रखा  और  जो  कमाया  उसका  अधिकांश  राष्ट्रोत्थान  में  खर्च  किया  ।
     जमनालाल  जी  ने  अपना  उदाहरण  उपस्थित  करके  दिखा  दिया  कि  धनवान  लोगों  को  देश  तथा  समाज  के  प्रति    अपने  कर्तव्य  का  पालन  किस  प्रकार  करना  चाहिए  । जमनालाल  जी  ने  केवल  अपना  अधिकांश  धन  ही  नहीं,  स्वयं  कों  भी  राष्ट्रीय  आन्दोलन  में  समर्पित  कर  दिया  |  उनके  इस
 ' आत्मसमर्पण ' के  रहस्य  और  महत्व  को  जो  लोग  समझते  हैं,  वे  उनको  केवल  एक  दानी,  परोपकारी  सेठ  ही  नहीं  मानते  वरन  एक  सच्चे  सन्त  के  रूप  में  देखते  हैं  ।
  जमनालाल   जी   आरम्भ  से  ही  धन  की  उचित  मर्यादा  को  समझते  थे  ।  वे  उसे  धर्म  और  मानवता  से  ऊँचा  स्थान  नहीं  देना  चाहते  थे  । इसलिए  वे  वर्षों  तक  प्रयत्न  करके  ऐसा  धर्मगुरु  ढूंढते  रहे,  जों  केवल
भजना  नन्दी  अथवा  केवल  मुँह  से  भगवान  का  नाम  लेने  वाला  न  हो  वरन  जिसने  संसार  में  रहते  हुए  अध्यात्म  के  आदर्श  का  पालन  करके  दिखाया  हो  । उनका  यह  उद्देश्य  गांधीजी  के  निकट  पहुँचने  पर  पूरा  हो  गया  और  उसी   समय  से  उन्होंने  अपना   सर्वस्व  उनके  कार्य  के  लिए  अर्पित  कर  दिया  ।
         इसके  बाद  यद्दपि  वे  व्यापार  करते  रहे  और  बहुत-सा  रुपया  भी  कमाते  रहे,  पर  उन्होंने  अपने  को  उस  धन  का  ट्रस्टी   मात्र   समझा   ।  कहा  जाता  है  उनको  अपने  बाबा  बच्छराज  जी  से  5-6  लाख  की  सम्पति  उत्तराधिकार  में  मिली  थी  । उन्होंने  व्यापार  द्वारा  उससे  आमदनी  करते  हुए  लगभग  25  लाख  रुपया  सार्वजनिक  हित  के  कार्यों  में  दान  कर  दिया  ।  इसके  अलावा  भी  कई  लाख  रुपया  गुप्त  रूप  से  अंग्रेज  सरकार  से  संघर्ष  करने  वाले  देशभक्तों  और  उनके  परिवार  के  निर्वाह  में  लगा  दिया,  जिसका  किसी  को  पता  नहीं  चला  ।   इस  प्रकार  एक  पूंजीपति  का  क्रांतिकारी  देशभक्त    बनकर  अपना  सर्वस्व  राष्ट्रोद्धार  के  लिए  अर्पित  कर  देना  एक  असाधारण  उदाहरण  है  । 
उनकी  पत्नी  ने  इस  कार्य  में  सदा  उनका  सहयोग  किया  । उन  दिनों  राजस्थान  में  पानी  की  बेहद  कमी  थी,  उन्होंने  कूपदान-आन्दोलन  आरम्भ  करके  सैकड़ों  कुंए  बनवा  दिए  ।   और  जमनालाल  जी  की  मृत्यु  के  बाद  अपनी  समस्त  सम्पति  गौ  सेवा  के  लिए  अर्पित  कर  दी  |
   ' परिश्रम  करके  धन  कमाना  और  फिर  उसको  अपने  सुख  अथवा  विलास  में  व्यय  न  करके  परोपकारार्थ  देते  रहना  किसी  तपस्या  से  कम  महत्वपूर्ण  नहीं  है  । '   इस  द्रष्टि  से  जमनालालजी  के  तुल्य   उदाहरण  का  मिल  सकना  दुर्लभ  है   । 


31 July 2015

महान आत्मा, वेदों के मर्मज्ञ, नीति निर्माता, अर्थशास्त्र के उद्धारक------- महर्षि चाणक्य

 ' महर्षि  चाणक्य  एक  व्यक्ति  होने  पर  भी  अपने  में  पूरे  एक  युग  थे  ।  उन्होने  अपनी  बुद्धि  और  संकल्पशीलता  के  बल  पर  तात्कालिक  मगध  सम्राट  नन्द  का  नाश  कर  उसके  स्थान  पर  एक  साधारण  बालक  चन्द्रगुप्त  मौर्य  को  स्वयं  शिक्षित  कर  राज्य  सिंहासन  पर  बिठाया  ।
          शिक्षा  प्राप्त  करने  के  बाद  चाणक्य  ने  पाटलिपुत्र  में  एक  विद्दालय  की  स्थापना  की  और  अपने  प्रवचनों  एवं  प्रचार  से  जन-मानस  में  अपने  अधिकारों  के  प्रति  जागरूकता  ला  दी  ।  जिससे  स्थान-स्थान  पर  घननंद  की  आलोचना  होने  लगी  ।  घननन्द  ने  जनता  को  अपने  पक्ष  में  लाने  के  लिए  अनेक  दानशालाएं  खुलवा  दीं  जिनके  द्वारा  चाटुकार  और  राज-समर्थक  लोगों  को  रिश्वत  की  तरह  धन  का  वितरण  किया  जाने  लगा  ।  जनता  शोषण  से  परेशान  थी , अब    धन  के   दुरूपयोग  से  अप्रसन्न  रहने  लगी    ।   
चाणक्य   नन्द   की  कपट  नीति  के  विरुद्ध  खुला  प्रचार  करने  लगे  । चाणक्य  को  वश  में  करने  के  लिए  घननंद  ने  उन्हें  दानशालाओं  की  प्रबंध  समिति  का  अध्यक्ष  बना  दिया  । इस  पद  पर  रहकर  उन्होंने  धूर्त  सदस्यों  को  समिति  से  बाहर  निकाला  और  अनियंत्रित  दान  को  नियंत्रित  कर  उसकी  सीमाएं  निर्धारित  की  ।  उनके  सुधारों  से  नन्द  की  मूर्खता  से  पलने  वाले  धूर्त  उनके  विरोधी  हो  गये  और  षडयंत्र  कर  चाणक्य  को  एक  दिन  दरबार  में  बुलाकर  उनका  अपमान  कर  उन्हें  चोटी  पकड़  कर  बाहर  निकाल  दिया  । यह  अपमान  उन्हें  असह्य  हो  गया,  उन्होंने  अपनी  खुली  चोटी  को  फटकारते  हुए  प्रतिज्ञा  की कि  जब   तक  इस  अन्यायी  घननंद  को  समूल  नष्ट  कर  मगध  के  सिंहासन  पर  किसी  कुलीन  क्षत्रिय  को  न   बैठा  दूंगा  तब  तक  अपनी  चोटी  नहीं  बांधूंगा  ।  
   अभी  तक  वे  शांतिपूर्ण  सुधारवादी  थे  किन्तु  अब  घोर  क्रांतिपूर्ण  परिवर्तनवादी  हो  गये  । चन्द्रगुप्त  मौर्य  को  प्रशिक्षित  करने  के  साथ  उन्होंने  भारत  के  पश्चिमी  प्रान्त  के  राजाओं  को  संगठित  किया  और  चंद्रगुप्त  के  लिए  एक  स्वतंत्र  सेना  का  निर्माण  कर  दिया  ।
चन्द्रगुप्त  को  इस  बात  की  आशंका  थी    कि  उसकी  सीमित  शक्ति  नन्द  वंश  का  मुकाबला  कैसे  करेगी ?
उन्होंने  अपनी  आशंका  गुरु  से  व्यक्त  की  । महापंडित  चाणक्य  ने  कहा----- " किसी  के  पास  विशाल   चतुरंगिणी  सेना  हो,  किन्तु  चरित्र  न  हो  तो  अपनी  इस  दुर्बलता  के  कारण  वह  अवश्य  नष्ट  हो  जाता
  है   | " चन्द्रगुप्त  गुरुदेव  का  आशय  समझ  गये  और  मगध  पर  आक्रमण  कर  विजय  प्राप्त  की  ।  चाणक्य  ने  विधिवत  अपने  हाथ  से  चन्द्रगुप्त  मौर्य  को  सम्राट  पद  पर  अभिषिक्त  करके  संतोष  पूर्वक  अपनी  चोटी  बांधते  हुए  कहा---- " जब  तक  तुम  में  न्याय,  सत्य,  आत्मविश्वास,  साहस  एवं  उद्दोग  के  गुण  सुरक्षित   रहेंगे,  तुम  और  तुम्हारी  संताने  इस  पद  पर  बनी  रहेंगी  । "
चाणक्य  ने  अनेक  महत्वपूर्ण  ग्रन्थ  लिखे  ।  ' कौटिल्य '  नाम  से  उन्होंने  ' अर्थशास्त्र '  की  रचना  की  जिसे  आज  भी  समस्त  संसार  में  अति  महत्वपूर्ण  माना  जाता  है  । 

30 July 2015

शोषण से संघर्ष-- को दायित्व मानने वाले ---- अर्नेस्ट गोवेरा

   क्यूबा  की  क्रान्ति  के  एक  नायक  अर्नेस्ट  गोवेरा  ने  एशिया,  अफ्रीका  और  लैटिन  अमेरिका  के  देशों  को  तीसरी  दुनिया  का   नाम   दिया  ।  जहां  एक  वर्ग  के  पास  सब  कुछ   और  दूसरे  के  पास  कुछ  नहीं  । 
एक  मालिक  है  ।       और  दूसरा  गुलाम,     जिसे  दिन-भर  कड़ी  मेहनत  के  बावजूद  भरपेट  भोजन  नही  मिलता  परिणामस्वरुप  वे  तरह-तरह  के  रोगों  के  शिकार  बनते  हैं  । 
        इस  वर्ग  की  मुक्ति  के  लिए  उन्होने   संघर्ष  का  आह्वान  किया  ।   जीवन  भर  अस्थमा   के  मरीज  रहते  हुए  अर्नेस्ट  गोवेरा  ने  न   केवल  मुक्ति  संघर्ष  का  नेतृत्व  किया  वरन  उसमे  सैनिक  बनकर  स्वयं  भी  लड़ते  रहे    और  उस  पूरी  समाज  व्यवस्था  को  बदल  डाला  जहां  शोषण,  अन्याय  और  अत्याचार  को  पोषण  मिलता  था  ।  उनका  यह  संघर्ष   किसी  देश,  जाति  या  सीमा  की  परिधि  तक  ही  नहीं  बंधा  रहा  वरन  उन्होंने  अपना  लक्ष्य  बना  लिया  कि  जहाँ-जहाँ  भी   अन्याय  और  शोषण  हो  रहा   है  वहां-वहां  संघर्ष  उन्हें  पुकारता  है  ।  यही  कारण  है  कि  क्यूबाई  क्रान्ति  के  नायक  होते  हुए  भी  उन्हें  समूची  तीसरी  दुनिया  में  अर्द्धविकसित  देशों  के  सैनिक  के  रूप  में  याद  किया  जाता  है  । 
           अर्नेस्ट  गोवेरा  का  जन्म  1928  में  अर्जेन्टीना  में  हुआ  था  ।  उन्होंने  अपनी  माँ  व  दादी   को  कैंसर  से  मरते  देखा,  अन्य  बहुत  से   लोगों  को  बीमारी  से मरते  देखा  ।   अत: उनके  मन  मे  डॉक्टर  बनने  की  लगन  हुई  ।   वे  डॉक्टरी  पढ़ने  लगे,   बीमारी  का  कारण  जानने  के  लिए  उन्होंने  दूर-दूर  के  गाँव   छान  मारे,  एक  बार  तो  साइकिल  पर  सवार  हो  पूरा  अर्जेन्टीना  ही  नाप  डाला  । फिर  उन्होंने  अपने  साथी  के  साथ  पूरे  महाद्वीप  का  दौरा  किया  ।  इस  यात्रा  में  कुलीगिरी  कर  व  होटल  में   प्लेटें   धोकर  राह  का  खर्च  निकाला  ।   इस  यात्रा  के  अनुभवों   ने  उन्हें  गहन  विचार  मंथन  में  डाल  दिया  ।
 डॉक्टरी  परीक्षा  पास  कर  कुछ  समय  उन्होंने  प्रैक्टिस  की  किन्तु  यात्रा  के  अनुभव  से  उन्होंने   भूख  व  बीमारी  को  दूर  करने  के  लिए  डॉक्टरी  के  स्थान  पर  क्रान्ति  का  मार्ग  चुना  ।
क्यूबा  में  उन्होंने  फिदेल  कास्ट्रो  के  साथ  गुरिल्ला  दस्ता  गठित  किया  ।  उनका  कहना  था  हमारी  लड़ाई--अन्याय  से  है,   जनता  से  नहीं  । उन्होंने  अपने  प्रत्येक  सैनिक  को  सचेत  कर  दिया  कि  किसान, मजदूर  और  साधारण  वर्ग  के   लोग  ही  नहीं  शत्रु  सेना  के  घायल  सैनिकों  और  युद्धबंदियों  के  साथ  भी  उन्हें  मानवीय  व्यवहार  करना  चाहिए  । 
अंततः  क्यूबा  में  क्रांतिकारी  सरकार  बनी,  वे  उद्दोग  विभाग  के  अध्यक्ष  और  फिर  उद्दोग  मंत्री  बने  ।  इस  पद  पर  रहते  हुए  उन्होंने  क्यूबा  के  औद्दोगिक   विकास  के  लिए  कई  बड़े  कदम  उठाये  | उन्होंने  अपने  अनुयायियों  के  लिये  संस्मरण  व  साहित्य  भी  लिखा  |

29 July 2015

सृजन और संघर्ष के प्रतिरूप ------- डॉ. पांडुरंगसदाशिवखानखोजे

  अपनी  धुन  के  धनी  और  भारतीय  स्वतंत्रता  संग्राम  के  प्रसिद्ध  क्रांतिकारी  तथा  विश्व  विख्यात  कृषि-विशेषज्ञ   के  रूप  में  सम्मानित  डॉ. पांडुरंगसदशिवखानखोजे    का  नाम   भारत   ही  नहीं  मेक्सिको,  ईरान  व  स्पेन  में  भी  स्मरणीय  बना  हुआ  है  ।  व्यक्ति  किस  प्रकार  अपने  व्यक्तिगत  हितों  को  राष्ट्रीय  व  सामाजिक  हितों  के  लिए  विसर्जित  कर  सकता  है  उसका  अनूठा  उदाहरण  थे  डॉ.  खानखोजे   । 
  विदेशों  में  रहकर  उन्होंने  भारत  को  आजादी  दिलाने  का  भरसक  प्रयास  किया   ।
   उन्होंने  क्रांतिकारी-गतिविधियों  के  संचालन  के  साथ  कुछ  सृजनात्मक  कार्य  भी  किये-----  मेक्सिको  में  उन्होंने  कृषि-कार्य  को  व्यवसाय  के  रूप  मे  अपना  लिया  ।  कृषी-कार्य  में  अर्जित  अपने  अनुभवों  से  उन्होंने  मेक्सिकोवासियों  को  बहुत  लाभ  पहुँचाया  ।  मेक्सिको  सरकार  ने  उनकी  योग्यता  व  अनुभव  को  देखते  हुए  उन्हें  कृषि-विभाग  का  निदेषक  बनाया  ।  उन्होने  इस  महत्वपूर्ण  पद  को  पूरी  जिम्मेदारी  से  निभाया  जिससे  वहां  की  पैदावार  का  प्रति  एकड़  औसत  काफी  बढ़    गया  ।  अपनी  कृषि  संबंधी  इन  सफ़लताओं  से  उन्हें  मेक्सिको  ही  नहीं  विश्व  के  अन्य  देशों  में  भी  प्रसिद्धि  मिली  ।  डॉ. खानखोजे  ने  स्पेनिश-भाषा  में   कृषि  संबंधी  18  पुस्तकें  लिखीं,  जो  स्पेन  के  विभिन्न  विश्वविद्यालयों  में  कृषि-विज्ञान  की  श्रेष्ठतम  पुस्तकों  के  रूप  में  सम्मानित  होकर  पाठ्यक्रम  में  सम्मिलित  की  गईं  ।
      मेक्सिको  सरकार  ने  भी  उनकी  इस  प्रतिभा  का  लाभ  उठाया  ।  1955  में  भारत  सरकार  ने  उन्हें  भारत  आकर  रहने  का  निमंत्रण  दिया,  वे  मेक्सिको  सरकार  का  उच्च  सम्मानित  पद  व  सम्मान  छोड़कर  देश-सेवा  हेतु  यंहा  आये  ।  उन्होंने  भारत  आकर   शासकीय  स्तर  पर  मध्य  प्रदेश  के  कई  दौरे  करके  कृषि  सुधार  संबंधी  महत्वपूर्ण  सुझाव  प्रस्तुत  किये  किन्तु  प्रशासकीय  ढर्रे  की  लालफीताशाही  से  उनके  सुझाव  फाइलों  में  ही  बंद  रह  गये,  उनकी  प्रतिभा  का  लाभ  हमारे  देश  को  नहीं  मिल  सका  । 

26 July 2015

नोवस्काटिया के मसीह ------ फादर जेम्स थापकिन्स

 ' गिरि  कन्दराओं  में  बैठा  हुआ  सन्यासी  उतना  धार्मिक  तथा  अध्यात्मवादी  नहीं  माना  जा  सकता  जितना  वह  व्यक्ति  जो  जन-जन  की  पीड़ा  को  अपने  सागर  जैसे  विशाल  ह्रदय  में  स्थान  देता  है  । '
       डॉ  थापकिन्स  का  जन्म  1871  में  एक  कृषक  परिवार  में  हुआ  था  ।   31  वर्ष  की  आयु  में  वे  नोवास्काटिया  के  एन्टिगोनिश  नगर  में  एक  कालेज  में  प्राध्यापक  पद  पर  नियुक्त  हुए. ।  कुछ  समय  बाद  उन्हें  मिशन  का  उपाध्यक्ष  बना  दिया  ।  इस  परमार्थ  परायण  कार्य  को  उन्होंने  पूरी  सामर्थ्य  से  किया  ।  नये-नये  स्कूल , कालेज  खोलने,  सेवा-कार्य  करने  हेतु  उन्होंने  पूरे  क्षेत्र  का  भ्रमण  किया  ।
          उन्होंने  देखा  कि  नोवास्काटिया  प्रदेश  के  कृषकों,  मछुओं    और  कोयला  खान  श्रमिकों  की  आर्थिक  स्थिति  अत्यंत  दयनीय  है  ।  वे  जानते  थे  कि  जिन्हें  रोटी  चाहिए,    उनका  उपदेशों  से  पेट  नहीं  भरा  जा  सकता  ।  अत: उन्होंने  सबसे  पहले  उनकी  आर्थिक  स्थिति  सुधारने  की  योजना  बनाई  ।
   सर्वप्रथम  उन्होंने  यह  जानने  का  प्रयास  किया  कि  इस  दीनता   का  कारण  क्या  है  ?
उन्हें  ज्ञात   हुआ  कि  इस  दारिद्र्य  का  कारण  है  मनुष्य  का  स्वार्थ  !  धनी  व्यापारी  मछुओं  व  कृषकों  को  उनकी  आवश्यकता  का  माल  खरीदने  के  लिए  थोड़ी-सी  धन  राशि  देकर  अपना  कर्जदार  बना  लेते  हैं  तथा  फिर  उनका  मनमाना  शोषण  करते  हैं  । कर्ज  भार  से  दबे  होने  के  कारण  कृषकों  को  अपनी  उपज  और  मछुओं  को  पकड़ी  हुई  मछलियां,  व्यापारियों  को  मनमाने  भाव  पर  देनी  पड़ती  थीं  जो  बहुत  कम  होता  था  ।   यही   है------ उन  मछुओं  और  कृषकों  के  भूख  से  जर्जर  अस्थि-पंजर  होने  का  कारण  । 
      इस  स्थिति  को  देख  वे  बहुत  दुःखी  हुए,  कैसी  विडम्बना  है-- वे  मछुए  व  कृषक  जो  शताधिक  मनुष्यों  के  लिए  भोजन  सामग्री  जुटाते  हैं,  व्यापारियों  द्वारा  शोषण  के  कारण  स्वयं  भूखों  मरने  को  विवश  हैं  ।   वे  इन  समस्याओं  का  निदान  करना  चाहते  थे,  किन्तु  अकेले  थे,  क्या  कर  सकते  थे  ।
       एक  दिन  उन्हें  एक  ऐसा  अस्त्र  मिल  गया  जो  उन्हें  अपने  उद्देश्य  में  सफल  बना  सकता  था,  वह  अस्त्र  था--- ' विचारों  का  अस्त्र  '  ।  उन्होंने   लोगों  की  आर्थिक  दशा  सुधारने  के  लिए  उद्बोधन  देना  आरम्भ  किया  ।  उन्होंने  अपनी  योजनाओं  को  कार्यान्वित    करने  के  लिए  प्रभावशाली  व  तथ्यपूर्ण   शब्दों  में  छोटी-छोटी  विज्ञप्तियां  तैयार  की  जिनमे  मछुओं,  किसानो  व  खनिकों  की  समस्या  का  समाधान  था  ।  वे  इन्हें  अपने  झोले  में  रखे  रहते  तथा  जिससे  भी  भेंट  होती  उसके  हाथ  में  एक  विज्ञप्ति  थमा  कर  कहते---- इसे  पढ़ें  इसमें  आपकी  समस्या  का  समाधान  है ।  वे  लोगों  को  तर्क  द्वारा  समझाते,  जब  कोई   मछुआ  अपने  माल  को  कम  मूल्य  पर  बेच  देता  तो  उससे  पूछते--- '  तुमने  उस  काड  को  केवल  डेढ़  सेंट  में  क्यों  बेच  दिया  जबकि  हेलिफेक्स  में  उसका  मूल्य  30  सेंट  है  ।  तुम  अमुक  को  इतने  कम  मूल्य  में  क्यों  देते  हो  जबकि  होटल  में  उसकी  कीमत  अधिक  है  |
 वे  जानते  थे  कि  छोटे-छोटे  आदमी  मिलकर   संगठन  बना  लें  तो  वह   राक्षस  को  भी  हरा  सकते  हैं  ।  संगठन  की  जनशक्ति  ही  इन  सब  समस्याओं  का  समाधान  कर  सकती  है  ।  मछुओं  को,  किसानो  व  खनिज  श्रमिकों  को  संगठित  करने  के  लिए  उन्होंने  दिन-रात  एक  कर  दिया  ।  उनकी  आवाज  को  समर्थ  व्यक्तियों  तक  पहुँचाने  का  काम  भी  फादर  ने  किया  ।  ' जब  मनुष्य  अपनी    छिपी  सामर्थ्य  कों,  जन-समुदाय  में  छिपी  शक्ति  को  पहचान  लेता  है  तो  फिर  उसे  कोई  दीन-हीन  दशा  में   पड़े   रहने    को  बाध्य  नहीं  कर  सकता  । '    धड़ाधड़  सहकारी  संस्थाएं  खुलने  लगीं,  उन्होंने  वस्तुओं  को  उचित  मूल्य  पर  बेचने  की  कसम  खा  ली  ।  जब  व्यापारियों  और  फर्मों  को  अपना  व्यूह  टूटता  दिखा  तो  उन्होंने  अपने  हथकण्डे  अपनाये,  सरकार  ने    भी  उनका  पक्ष  लिया  ।  थोड़े  समय  कड़ा  संघर्ष  हुआ  ।  अंततः  विजय  जनता  की  हुई  । नोवास्काटिया  में  समृद्धि  का  सूर्य  चमकने   लगा  जिसे  मंदी  के  बादल  भी  नहीं  छिपा  सके  । फादर  जेम्स  थापकिन्स  अपने  इस  ' एन्टिगोनिश ' आन्दोलन  के  कारण  विश्वविख्यात  हुए,
' अपनी   सहायता   आप   करने   की   यह  हिम्मत  इन  शोषित,  पीड़ित  और  निर्धन  वर्गों  में  जगाने  का  श्रेय  उन्ही  को  जाता  है    । 

24 July 2015

बेसहारों के मसीहा----- ओवेपियर

' जिसके  अंत:करण  में  सच्ची  ईश्वर  भक्ति  उत्पन्न  हो  जाये  वह  सब  में  अपने  प्रभु  की  झाँकी  देखेगा  और  उनके  साथ  प्रेम  एवं  सज्जनता  का  व्यवहार  करेगा   | '
   फ्रांस  के  सुविख्यात  पादरी  फादर  ओवेपियर  पेरिस  में  रहते  थे  ।  कड़कड़ाती  सर्दी  की  एक  रात  जब  वे  सो  रहे  थे  तो  किसी  ने  दरवाजा  खटखटाया  ।  दरवाजा  खोला  तो  एक  व्यक्ति  जिसके  तन  पर  नाममात्र  के  वस्त्र  थे,  याचना  की  मुद्रा  में  खड़ा  था  l फादर  ने  कहा--- " कहो  बेटे  क्या  बात  है  ? "
  व्यक्ति  ने  कहा--- " फादर  ठंड  लग  रही  है,  आज  आपके  मकान  में  शरण  चाहता  हूँ  । " फादर  ने  उसके  सोने, ओढ़ने  का  अच्छा  प्रबंध  कर  दिया  और  रात  भर  वह  चैन  की  नींद  सोया  ।   मौसम  वैसा  ही  ठंडा  था,  वह  व्यक्ति  गया  नहीं  और  न  फ़ादर  ने  उसे  जाने  को  कहा   ।  इसके  विपरीत  कुछ  और  लोग  वातावरण  के  गिरते    तापमान  के  कारण  फादर  के  पास  आकर  रहने  लगे  ।
   फादर  ने  उन  सबको   कहा  कि  जाड़े  की  समस्या  का  स्थाई  हल  ढूंढें,  इसके  लिए  हमें  मकान  बनाना  होगा  ।    फादर  ने  कहा---- " सामूहिक  प्रयास  में  बहुत  ताकत  होती  है  ।  यदि  शक्ति  का  सही  उपयोग  किया  जाये  तो  क्रांतिकारी  परिणाम   सामने  आ  सकते  हैं  । "
फादर  ने  उन्हें  पूरी  योजना  समझाई,  इसके  अनुसार  बेघर  लोगों  ने  शहर  के  कूड़े-कबाड़े  में  जो  भी  उपयोगी  वस्तुएं  थीं,  उन्हें  मरम्मत  कर  बाजार  में  बेचा  । धीरे-धीरे  काफी  राशि  इकट्ठी  हुई  और  साफ  बस्ती  निर्माण  की  योजना  साकार  होने  लगी  । जन-सहयोग  भी  प्राप्त  हुआ  और  लोगों  ने  फादर  की  सूझबूझ  और  बेघर  लोगों  की  श्रमशीलता  की  मुक्त  कंठ  से  सराहना  की  । इस  नई  बस्ती  का  नाम  रखा  गया--- ' रैग  पिकर्स  कालोनी  '   अर्थात  कूड़ा-करकट  बटोरने  वालों  की  बस्ती  ।