30 July 2014

WISDOM

रावण  एक  व्यक्ति  नहीं,  बल्कि  जीवन  व  चिंतन  की  एक  शैली  है  ।  एक  संस्कृति  है,  जो  जीवन  के  व्यापक  स्वरुप  के  लिये  शुभ  व  उचित  नहीं  है  ।   रावण  ने  जो  किया,  उसके  कार्य  व  विकास  भले  ही  कुछ  भी  कहें,  लेकिन  वह  जीवन  के  लिये  प्रदूषण  है  ।   इसे  रोकने  के  लिये  रावण  का  मरण  या  विनाश  पर्याप्त  नहीं  है  ।  इसके  लिये  उसकी  विचारधारा  के  विषाणुओं  का  विनाश  आवश्यक  है  ।
              रावण  का  आज  स्थूल  शरीर  नहीं  है,  लेकिन  भ्रष्टाचार,  अन्याय  जैसी  विभिन्न  कुरीतियाँ  आज  भी  समाज  में  विद्दमान  हैं  । इन्हें  समूल  नष्ट  करने  के  लिये  जनचेतना  को  जाग्रत  करना,  
जनमानस  की  मानसिकता  का  परिष्कार  कर  उसे  नवसृजन  व  नवीन  संघर्ष  के  लिये  तैयार  करना  अनिवार्य  है  । 
    स्वभाव  का,  व्यक्तित्व  का  परिष्कार  बहुत  कठिन  है  ।  प्रत्येक  मनुष्य  साधना  से  सिद्धि  का,  सफलता  प्राप्ति  का  सैद्धांतिक  रूप  जानता  है  लेकिन  वह  इस  विधि  को  व्यवहार  में  नहीं  ला  पाता  ।   एक  चिकित्सक  जानता  है  कि  शराब  पीना  उसके  लिये  हानिकारक  है,  फिर  भी  वह  शराब  की  लत  लगा  लेता  है  । जो  हम  जानते  हैं,  जरुरी  नहीं  कि  वह  व्यवहार  में  आये    क्योंकि  हम  अपनी  प्रकृति  से  बंधे  हुए  हैं  ।
        भगवान  श्रीकृष्ण  ने  गीता  में  कहा  है-- " सभी  प्राणी  अपनी  प्रकृति,  अपने  स्वभाव  के  वशीभूत  होकर  कर्म  करते  हैं  । "
   यह  प्रश्न  है  कि  क्या  व्यक्ति  सुसंस्कृत  नहीं  बन  सकता ? सारे  आध्यात्मिक  उपचार   ?
  व्यक्तित्व  का,  स्वभाव  का  परिष्कार  संभव  है--- यह  कार्य  मात्र  उपदेशों  से  नहीं,  बहिरंग  उपचार  से  नहीं,  निर्देश  से  नहीं,  यह  कार्य  होगा,  तो  विवेक  जाग्रत  करने  से  । 
और  विवेक  जाग्रत  होगा----  गायत्री  महाशक्ति  की  कृपा  से  । उनकी  कृपा  से  ही  हमें  सद्बुद्धि  मिलेगी,  हम   यह  जान  सकेंगे  कि  हमारे  लिये  क्या  उचित  है,  भटकाव  में  उलझने  के  बजाय  स्वयं  को  श्रेष्ठ  कर्म  में  लगा  सकेंगे  । गायत्री  साधना  की  सफलता  के  लिये  व्यक्ति  का  सद्गुणी,  सदाचारी  और  कर्तव्यपरायण  होना  अनिवार्य  है  । 
          

29 July 2014

WISDOM

आयुर्वेद  का  मत  है  कि  मन  ही  शरीर  को  प्रभावित  करता  है  | सदाचार  के  पालन  से  न  केवल  मानसिक  स्वास्थ्य  ठीक  रहता  है  वरन  उसका  जैविक  प्रभाव  शरीर  में  रसायन  के  समान  देखा  जाता  है  ।  सदाचार  का  पालन  किये  बिना  किसी  भी  औषधि  से  चाहे  वह  रसायन  ही  क्यों  न  हो,  शरीर  के  स्वस्थ  होने  की  कल्पना  नहीं  की  जा  सकती  ।

        महात्मा  बुद्ध  के  पास  राजा  प्रसेनजित  आये  । उनका   शरीर  असंयम  के  कारण   रोगी  हो  गया  था,
भांति-भांति  के  सुस्वादु  आहार  उन्हें  भाते  थे  ।  जिह्वा  पर  कोई  नियंत्रण  नहीं  था  ।  राजा  को  कौन  रोक  पाता,  अत:  शरीर  रोगों  का  घर  बनता  चला  गया  । वे  अपने  दुःखों  का  समाधान  पाने  आये  थे  ।
          बुद्ध  जानते  थे  कि  राजा  इस  समय  उनका  उपदेश  नहीं  सुनेंगे  ।
  बुद्ध  ने  अंगरक्षक  से  कहा--- " तुम्हारा  काम  क्या  है  ?
अंगरक्षक---- "  अंगरक्षक  होने  के  कारण  मैं  राजा  की  रक्षा  करता  हूँ  । "
बुद्ध  ने  कहा-- " तुम्हे  दिखाई  नहीं  देता,  अंग  रोगी  हुआ  जा  रहा  है  । इसकी  रक्षा  करो  । जब  भी  राजा  आवश्यकता  से  अधिक  खाएँ,  जबरदस्ती  रोक  दो  । "
अंगरक्षक  बोला--- " राजा  हमें  फाँसी  पर  चढ़ा  देंगे   । "
बुद्ध  बोले--- " तुम  कर्तव्यनिष्ठ  बन  जाओ  ।  अपने  प्राणों  की  बलि  भी  देनी  पड़े  तो  पहले  कर्तव्य  पूरा  करो  ।  "     अंगरक्षक  ने  कहा---- " आपका  आशीष  हम  पर  है  तो  हम  अपने  जीवन  की  वेदी  पर  भी  इनके  जीवन  को  बचायेंगे  । राजा  स्वस्थ  होंगे  तो  राज्य  की  रक्षा  होगी  । "
अंगरक्षक  ने  ऐसा  ही  किया  ।  एक  माह  बाद  राजा  आये  । अपेक्षाकृत  अधिक  स्वस्थ  थे  ।  यह  पहला  पाठ  था  ।  वृतियों  पर   संयम  रखा  तो  स्वास्थ्य  लौट  आया  ।  वृतियाँ  भोग  के  लिये  नहीं,  अनुभव  के  लिये  होती  हैं  ।  संयम  होगा  तो  इंद्रियां  स्वस्थ  होंगी  ,  धीरे-धीरे  राजा  पूर्णतया  स्वस्थ  हो  गये  । 

28 July 2014

अनीति का विरोध---- संघर्ष और सृजन

सद्बुद्धि  की  अधिष्ठात्री  गायत्री  है  ।  गायत्री  का  एक  नाम  भवानी  भी  है  जो  संघर्षशील,  शौर्य,  साहस  के  लिये  मार्गदर्शन  करता  है  ।  उनके  लिये  भवानी  शब्द  का  प्रयोग  वहीँ  होगा,  जब  उसका  उपयोग  अनीति  के  विरोध  और  नीति  के  समर्थन  के  लिये  किया  जा  रहा  हो  ।  इस  रूप  में   आदि शक्ति  की  उपासना  करने  से  साधक  में  उस  भर्ग  तेज  की  अभिवृद्धि  होती  है,  जो  अवांछनीयताओं  से  लड़ने  और  उन्हें  परास्त  करने  के  लिये  आवश्यक  है  ।
     सर्वप्रथम  हमें  अपने  अंतर्जगत  में   मनोविकारों  से  जूझना  है  ।  इनसान  की  अपनी  ही  प्रवृतियाँ  प्रदूषित  हैं,  इन्हें  परास्त  करने  के  लिये  संवेदनशीलों  को  अपने  अंदर  साहस  पैदा  करना  है
अपने  अंतर्जगत  को   पुन:व्यवस्थित  करने  के  बाद  उपलब्ध  शक्तियों  का  प्रयोग  बुराइयों  से  संघर्ष  करने  में  किया  जाये  तो  इससे  समाज  के  संस्कृतिक  विकास  का  मार्ग  प्रशस्त  होगा  ।   आत्मविजय  को  सबसे  बड़ी  विजय  कहा  गया  है  ।  आत्मशोधन  की  साहसिकता  ही  भवानी  है  । 
             समाज  में  जहाँ  सहकारिता  और  रचनात्मक  प्रयत्नों  का  क्रम  चलता  है,  वहां  दुष्टता,  अनैतिकता  और  मूढ़  मान्यताओं  का  जाल  बुरी  तरह  बिछा  हुआ  है  जिससे  अनेक  सामाजिक  समस्याएँ  और  विकृतियाँ  बढ़ती  हैं  ।  धर्म  का  एक  पक्ष  सेवा,  साधना,  करुणा,  उदारता  के  रूप  में  प्रयुक्त  होता  है  तो  दूसरा  पक्ष  अनीति  का  प्रतिरोध  है  ।  इसके  बिना  धर्म  न  तो  पूर्ण  होता  है  और  न  सुरक्षित  रहता  है  ।   सज्जनता  की  रक्षा  के  लिये  दुष्टता  का  प्रतिरोध,  उसका  उन्मूलन  आवश्यक  है  । इस  प्रतिरोध  करने  वाली  शक्ति  को  ही  भवानी  कहते  हैं  । सृजन  और  संघर्ष  की  आवश्यकता  को  सुझाने  वाला  और  उसे  अपनाने  का  प्रोत्साहन  देने  वाला  स्वरुप  भवानी  है  । 

27 July 2014

WISDOM

एक  अंधा  भीख  माँगा  करता  था  ।  जो  पाई-पाई  पैसे  मिल  जाते  थे,  उन्ही  से  अपनी  गुजर  करता  ।  एक  दिन  एक  धनी  उधर  से  निकला  ।  उसे  अंधे  के  फटेहाल  पर  बहुत  दया  आई  और  उसने  पांच  रूपये  का  नोट  उसके  हाथ  पर  रखकर  आगे  की  राह  ली  ।
   अंधे  ने  कागज  को  टटोल  कर  देखा  और  समझा   कि  किसी  ने  ठिठोली  की  है  और  उस  नोट  को  खिन्न  मन  से  जमीन  पर  फेंक  दिया  ।  एक  सज्जन  ने  नोट  उठाकर  अंधे  को  दिया  और  बताया  कि
 " यह  तो  पांच  रूपये  का  नोट  है ! "  तब  वह  प्रसन्न  हुआ  और  उसने  अपनी   आवश्यकताएं  पूरी  की  ।
             ज्ञान  चक्षुओं  के  अभाव  में  हम  भी  परमात्मा  के  अपार  दान  को  देख  और  समझ  नहीं  पाते  और  सदा  यही  कहते  रहते  हैं  कि  हमारे  पास  कुछ  नहीं  है,  हमें  कुछ  नहीं  मिला  ,  हम  साधनहीन  
हैं  ।  लेकिन  यदि  हमें  जो  नहीं  मिला  है,  उसकी  शिकायत  करना  छोड़कर,  जो  मिला  है,  उसी  की  महता  समझें  तो  मालूम  होगा  कि  जो  कुछ  मिला  हुआ  है,  वह  कम  नहीं,   अदभुत  है  । 

26 July 2014

कर्म का संयम

 सत्कर्म  और  असत कर्म  को  समझना  और  तदनुसार  आचरण  करना  कर्म  का  संयम  कहलाता  है
इस  कार्य  में  विवेक-बुद्धि  की  सहायता  आवश्यक  होती  है   ।  कर्म  का  संयमी  सच्चा  कर्मयोगी  कहलाता  है  ।  चाहें  मार्ग  में  कितनी  ही  विध्न  बाधाएं  हों,  वह  कर्तव्य-पथ  से  विचलित  नहीं  होता  । अपनी  जीवन-यात्रा  को  सुगम,  सरल  और  सुखद  बनाने  के  लिये  यह  नितांत  आवश्यक  है  कि  हम  यथा  संभव  कर्तव्य-परायण  बने,  सच्चे  कर्मयोगी  बने  ।  सच्चा  कर्मयोगी  ही  सफल  जीवन  का  सच्चा  आनंद  प्राप्त  कर  सकता  है   ।
        हमारी  उन्नति  का  एकमात्र   उपाय  यह  है  कि  हम  पहले  वह  कर्तव्य  करें,  जो  काल  द्वारा  हमारे  सम्मुख  प्रस्तुत  कर  दिया  गया  है  । इस  प्रकार  अपनी  क्षमता  के  अनुरूप  विवेक  पूर्ण  ढंग  से  किया  गया  श्रेष्ठ  कर्म  धीरे-धीरे  व्यक्ति  को  उस  मुकाम  की  ओर  ले  जाता  है,  जहाँ  इस  सुरदुर्लभ  मानव  जीवन  की  सफलता  एवं  सार्थकता  की  अनुभूति  से  जीवन  धन्य  हो  उठता  है  । 

25 July 2014

WISDOM

' जो  धर्म  के  प्रति  आस्था  रखते  हैं,  परमार्थ  कार्य  हेतु  प्रयास  करते  हैं,  पुरुषार्थी  हैं,  श्रमशील  हैं  उन्ही  के  पास  लक्ष्मी  टिकती  हैं  | '
       जीवन  में  धन  का  अपना  महत्व  है,  इसके  महत्व  को  नकारा  नहीं  जा  सकता  |  सभी  लौकिक  काम  धन  से  ही  होते  हैं  ।  लेकिन  धन  उतना  ही  अच्छा  होता  है,  जितना  हम  पुरुषार्थ  से  अर्जित  करते  हैं  ।  हम  पुरुषार्थ  से,  श्रम  से  प्रचुर  मात्रा  में  धन  उपार्जन  करें  और  उसका  एक  अंश  समाज  के  उत्कर्ष  में  भी  खरच  करें  तो  उससे  सुखपूर्वक  जीवनयापन  करते  हुए  अपना  आत्मिक  विकास  किया  जा  सकता  है  । 
      धन  व्यक्ति  का  उद्धार  नहीं  कर  पाता  । व्यक्ति  का  उद्धार  तब  होता  है,  जब  वह  अपने  धन  से  दूसरों  का  कल्याण  करता  है,  दूसरों  की  पीड़ा  का  निवारण  करता  है,  शुभ  कर्म  करता  है  ।  तो  ये  ही  उसका  कल्याण  करते  हैं  ।  अत:  धन  कमाना,  उसे  संचित  करना  गलत  नहीं  है  ।    
 गलत  है---- धन  के  प्रति  अत्याधिक  आसक्ति  रखना,  धन  के  लिये  परेशान  रहना  और  अपने  सबसे  कीमती  मानव  जीवन  को  व्यर्थ  गँवा  देना  ।  मनुष्य  के  द्वारा  किये  गये  शुभ  कर्म  ही  व्यक्ति  की  सहायता  करते  हैं  और  अनुकूल  परिस्थितियों  का  निर्माण  करते  हैं  ।  अत:  बिना  किसी  अपेक्षा  के  व्यक्ति  को  शुभ  कर्म  करना  चाहिये  और  अपने  द्वारा  अर्जित  की  गई  धन-संपदा  का  सदुपयोग  करना  चाहिये  । 

23 July 2014

अनुभव

' जिसका  जिस  विषय  में  जितना  अनुभव  है,  उसका  उस  विषय  में  उतना  ही  ज्ञान  है  ।
    यदि  अनुभव  का  अभाव  है  तो  विचारों  को  कितने  ही  जतन  से  और  कितनी  ही  कोशिशों  से  इकट्ठा  किया  गया  हो,  वह  सब  का  सब  व्यर्थ  है,  क्योंकि  उसके  आधार  पर  झूठी  विद्वता  का  प्रदर्शन  तो  किया  जा  सकता  है,  लेकिन  जिंदगी  की  जटिल  पहेलियाँ  नहीं  सुलझाई  जा  सकतीं  ।   उलझी  हुई  समस्याओं  के  समाधान  नहीं  ढूंढे  जा  सकते  ।
   इस  संबंध  में  पुराणों  में  एक  अत्यंत  रोचक  कथा  है------
          प्राचीन  भारत  में  कुलीन  ब्राह्मण  उच्च  कोटि  की  शिक्षा  प्राप्त  करने  वाराणसी  जाया  करते  थे  ।
श्वेतांक  के  माता-पिता  ने  कुल  की  परंपरा  का  पालन  करते  हुए  पुत्र  श्वेतांक  को  अध्ययन  के  लिये  काशी  भेजा  और  भगवान  सदाशिव  से  प्रार्थना  की-- " हे  प्रभु ! हमारे  पुत्र  का  हाथ  थामना,   इसे  भटकने  मत  देना  । " वृद्ध  दंपती  की  यह  पुकार  जैसे  कहीं   सुन  ली  गई  ।
      श्वेतांक  ने  दीर्घकाल  तक  काशी  में  रहकर  वेद-शास्त्रों  का  अध्ययन  किया  । सभी  उसकी  प्रखर  मेधा  और  विलक्षण  तर्कशक्ति  से  प्रभावित  थे  ।   सभी  से  मिलने  वाली  प्रशंसा  ने  श्वेतांक  के  मन  में  अभिमान  जगा  दिया,  उसे  यह  भान  होने  लगा  कि  वह  सचमुच  ही  ज्ञानी  है
       अपने  ज्ञान  के  अभिमान  के  साथ  श्वेतांक  अपने  घर  के  लिये  प्रस्थान  कर  रहे  थे  । उनके    साथ  शास्त्रों  के,  पोथियों  के  बड़े  गट्ठर  भी  थे,  साथ  ही  उन  प्रमाण पत्रों, उपाधियों  व  पदकों  का  भी  अंबार  था  जिन्हें  वे  अपने  विद्दार्थी  जीवन  की  कमाई  समझते  थे  ।  उनके  घर  के  रास्ते  में  नदी  थी,  घर  पहुँचने  के  लिये  इसे  पार  करना  था  । नदी  के  तट  पर  पहुँचने  पर  उनने  मल्लाह  को  आवाज  लगाई  । उनकी  आवाज  सुनते  ही  एक  वृद्ध  मल्लाह  वहां  आ  गया,  उसके  साथ  उसकी  पत्नी  भी  थी  ।
   नाव  में  बैठने  के  कुछ  देर  बाद  श्वेतांक  ने  मल्लाह  दंपती  को  अपने  ज्ञान  की,  शास्त्रों  की  बातें  बतानी  शुरू  की  , कुछ  देर  तक  सुनाते  रहे  फिर  बोले-- "तुम  लोगों  को  ये  सब  सुनाने-बताने  का  क्या  फायदा  ? तुम  लोग  तो  ठहरे  निपट  मूर्ख-गँवार  , ये  ज्ञान  की  बातें  तुम  दोनों  को  कैसे  समझ  में  आयेंगी  । "   यह  सुनकर  वृद्ध  मल्लाह  ने  कहा-- " पुत्र ! ज्ञान  क्या  केवल  पोथियों  में  रहता  है ? मैंने  तो  सुना  है  जिंदगी  के  लौकिक  और  अलौकिक  अनुभव  ज्ञान  देते  हैं  । "
उनकी  इस  बात  पर  श्वेतांक  हँसने  लगा , उनकी  आपस  में  बातें  चल  रही  थीं,  तभी  नदी  में  तूफान  आ  गया ,  नाव  बीच  धारा  में  थी,  डांवाडोल  होने  लगी  । श्वेतांक  ने  घबराकर  कहा-- " नाव  को  किसी  भी  तरह  किनारे  ले  चलो  । " वृद्ध  मल्लाह  ने  कहा-- " बेटा ! क्या  इसका  ज्ञान  तुम्हारी  किसी  पोथी  में  है  ?"
श्वेतांक  ने  डरे  हुए  स्वर  में  कहा-- " मैंने  यह  सब  नहीं  पढ़ा  । " मल्लाह  ने  कहा  कोई  बात  नहीं, " तुम्हे  अपने  जीवन  और  पोथियों  में  से  किसी  एक  को  चुनना  होगा,  नाव  किनारे  ले  जाने  का  यही  उपाय  है'
  श्वेतांक  ने  झटपट  पुस्तकों  के  गट्ठर  नदी  में  फेंक  दिए,  अचरज  की  बात  तूफान  भी  हलका  हो  गया  और  नाव  किनारे  चल  पड़ी  ।  अब  वृद्ध  मल्लाह  ने  उससे  कहा--" बेटा ! जीवन  का  अध्ययन  और  अनुभव  ही  ज्ञान  है  । यह  जितना  गहन  व  व्यापक  होता  है, उतना  ही  मनुष्य  का  ज्ञान  भी  व्यापक  बनता  है  । विचारों  के  एकत्रीकरण  का  कोई  लाभ  नहीं  है  । श्रेष्ठ  विचारों  का  क्रियान्वयन  एवं  इनका  व्यावहारिक  अनुभव  ही  जीवन  को  सफल  व  सार्थक  बनाता  है  । " श्वेतांक  ने  उनके  चरण  पकड़  लिये, सिर  उठाकर  देखा  तो  भगवान  सदाशिव  और  माता  पार्वती  हैं  । उसे  ज्ञान  का  सही  अर्थ  मालुम  हो  गया  ।