17 August 2017

WISDOM

 ' मनुष्य  शरीर  होने  के  नाते  गलतियाँ  सबसे  होती  हैं  ,  जो  उन्हें  छुपाते  हैं  वे  गिरते  चले  जाते  हैं   पर  जो   बुराइयों  को ,  अपनी  भूल  को  स्वीकार  करते  हैं   उनकी  आत्महीनता  तिरोहित  हो  जाती  है   l  भूलों  की  स्वीकृति  ही   व्यक्ति  को  इतना  ऊँचा  उठा  देती  है   कि  व्यक्ति  अपने  जीवन  में   सामान्य  स्तर  से   बहुत  अधिक  प्रगति  कर  पाता  है   l '
  प्रसिद्ध  विचारक   रूसो  ने  अपनी  आत्मकथा  में  लिखा  है  ---- " वही  आत्मकथा  श्रेष्ठ  है   जिसमे  व्यक्ति  ने   अपने  जीवन  में  की  गईं  भूलों  को  स्पष्टत:  स्वीकार  किया  हो   l "  महात्मा  गाँधी  ने   अपनी  आत्मकथा  में   अपनी  भूलों  का  स्पष्ट   विवेचन  किया  है  l   गाँधी  ने   जब  अपनी  भूलों  को  पहचाना  ,  इनके  लिए  पश्चाताप  किया   तो  वे  धीरे - धीरे    अपने  सामान्य  स्तर  से  ऊपर  उठते  गए    और   ' महात्मा '  कहलाये   l
  भूल  का  भान  होने  पर  उसे  सुधारने  का  एक  तरीका  है  --- प्रायश्चित  l  ऐसा  करने  से     मन  का  अपराध बोध  नष्ट  होता  है  l  प्रायश्चित  करने  का  सीधा  अर्थ  है  ---- अपने  दोषों  को  खुले  मन  से  स्वीकार  करना  ,  अपनी  गलतियों  के  लिए  पश्चाताप  करना   और  भविष्य  में  उन्हें  न  दोहराने  और  उनसे  स्वयं  को   दूर  रखने  का  प्रयास  करना   l 

16 August 2017

रूपान्तरण

  मनुष्यों  की  प्रकृति  को  बदलना  असंभव   जैसा  कार्य  है   l   '  मानव  जीवन  की  प्रकृति  में  रूपांतरण  की  प्रक्रिया  '  संसार  की  सबसे   विरल  घटना  हैं  l  यदि  ऐसा  होता  है  तो  यह  सबसे  बड़ा  चमत्कार  है   l
   दोस्तोवस्की  ने  अपने  संस्मरण  में  लिखा  है  -----  बात  उन  दिनों  की   है   जब  वे   जारशाही  के  विरुद्ध  क्रान्तिकारी    गतिविधियों  में  संलग्न  थे ,  एक  दिन  पकड़  लिए  गए  l  दस  और  साथी  थे  ,  सभी  को  मृत्यु  दंड  सुनाया  गया  l  तिथि  तय  हुई  उस  दिन  प्रात:  छह  बजे  सभी  को  गोली   मारी   जानी  थी  l  सारी    तैयारियां  हो  गई    l  कब्रें  खुद   गईं , ताबूत  निर्मित  हो  गए  l   मानसिक  रूप  नसे  वे  मर  चुके  थे  बस ,  शारीरिक  मौत   बाकी   थी  l   नियत  समय  पर  सब  एक  पंक्ति  में  खड़े  थे  ,  तभी  छह  का  घंटा  बजा  l  सैनिक  अपनी  बन्दूक  का   घोड़ा   दबाते   ,  एक  घुड़सवार  आ   पहुंचा   उसने  सन्देश  सुनाया  कि  मृत्यु  दंड  को  आजीवन  कारावास  में  बदल  दिया  l
  लेकिन  तब  तक  उनमे  से  एक  आदमी  गिर  चुका  था ,  यह  सोचकर  कि  बस  अब  मरे ,  छह  बज  चुके  l  उसे  बताया  गया  कि  सजा  आजीवन  कारावास  में  बदल  दी  गई  है  l  इसे  सुनते  ही  कुछ  पल  बाद  वह  उठ  खड़ा  हुआ  और  सबके  साथ  कारागृह  चला  गया  l
      दोस्तोवस्की  लिखते  हैं  कि  इसके  बाद  वह  कई  वर्षों  तक  जिन्दा  रहा   लेकिन  अब  वह  पहले  वाला  आदमी  न  रहा  ,  पूछने  पर  बोलता  --- वह  अमुक  तिथि  को  प्रात:  छह  बजे  मर   चुका    है  l   न  कोई  आसक्ति  रही  ,  न  इच्छा ,  न  लगाव  l निस्पृह  योगी  की  तरह  प्रतीत  होता  l
      जिनके  अन्दर  सचमुच  में  विरक्ति  पैदा  होती  है  , उन्हें  कहीं  अन्यत्र  नहीं  जाना  पड़ता  l  वे  कीचड़  में  कमल  की  तरह  होते  हैं  l  संसार  की  माया  उनका  स्पर्श  तक  नहीं  कर  पाती  l 
  

15 August 2017

' वन्देमातरम ' मन्त्र के द्रष्टा ------- बंकिमचन्द्र

  ' बंकिम  बाबू  ने  साहित्य - सृजन  द्वारा देश  में  एक  ज्योति  जगाई , जिसके  प्रकाश  से  आज  भी  हमारे  ह्रदय  आलोकित  हो  रहे  हैं  l  उन्होंने  यह  सिद्ध  कर  दिया  कि  साहित्य  की  शक्ति  अल्प  नहीं  है  , यदि  उसका  विचार पूर्वक  उपयोग  किया  जाये   तो  वह  राष्ट्र , समाज  और  व्यक्ति  के  उत्थान  का   एक  महान साधन  बन  सकती  है  l '
  उन्होंने  अपने  कई  उपन्यासों   द्वारा  राष्ट्र  निर्माण   और   स्वाधीनता  का  मार्गदर्शन  किया  l  इस  द्रष्टि  से  उनका  ' आनंदमठ '   भारतीय  साहित्य  में  बहुत  ऊँचा  स्थान  प्राप्त   कर  चुका  है   l  इस
 ' आनंदमठ '    में  ही  प्रथम  बार  ' वन्दे - मातरम् '  मन्त्र  का  उल्लेख  किया  गया  है  l
  एक  समय  था    जब  ' वन्दे - मातरम् '  के  जयघोष  से  भारत  की  शक्तिशाली  ब्रिटिश  सरकार  थर - थर  कांपने  लगी  थी  और  इसका  उच्चारण  करने  पर  सैकड़ों  देशभक्तों  को   जेल  और  बैतों  की  सजा  सहन  करनी  पड़ी  थी  l  आज  भी  हमारे  देश  के  बालक  से  लेकर  वृद्ध  तक  ' वन्दे - मातरम् '  को  सुनकर  भारत भूमि  के  प्रति  जिस   श्रेष्ठतम  भाव  का  अनुभव  करते  हैं  ,  उससे  इसकी  महत्ता  स्पष्ट  हो  जाती  है   l                                                                  

14 August 2017

महान व्यक्तित्व

महान  व्यक्तित्वसंपन्न   जीवन का  मूल्य  व्याख्यान , प्रवचन  एवं  उपदेश  देने  में  निहित  नहीं  होता , बल्कि  सर्वप्रथम  उसे  अपने  जीवन  में  उतारने  एवं  ह्रदयंगम  करने  में  होता  है  l  उनका  जीवन  एक  सीमित  दायरे  में  सिमटा   हुआ  नहीं  होता  बल्कि  उनका  जीवन   व्यापक  एवं  विराट  होता  है  l 
  प्रख्यात  कूटनीतिज्ञ  चाणक्य  ने  अपनी  क्षमता  से  अखंड  भारत  का  निर्माण  कर  उसे  अपने  शिष्य  चन्द्रगुप्त  के  हाथों  में  सौंप  दिया  और  स्वयं  ने  एक  झोंपड़ी  में  रहना  पसंद  किया  l  अपनी  आजीविका  के  लिए  वे  स्वयं  श्रम  करते  थे  l  उन्होंने   त्याग  के  मूल्यों  को  जीवन  में  संजोकर  रखा  l
         स्वतंत्रता  के  आन्दोलन   में  गांधीजी  की  एक  आवाज  से  समूचा  देश  खड़ा  हो  जाता  था  , असहयोग  व  अहिंसक  आन्दोलन  की  बाढ़  से   जेल  की  चहारदीवारी  छोटी  पड़  जाती   थी  l  देश  की  आजादी  के  बाद   भी   उन्होंने  अहिंसा  और  अपरिग्रह  के  मूल्य  को   अपनाये  रखा  ,  शासन  और  सत्ता  से  अपने  को  दूर  रखा   l
    मनुष्य  के  व्यक्तित्व  की  पहचान  उसके  ऊँचे  उद्देश्यों     और  धार्मिक  मूल्यों   के  प्रति  निष्ठा  से  होती  है  l  अनुकूल  समय  में  इस  तरह  के  पथ  पर  चलने  का  प्रवचन  देने  वाले   बहुत  मिल  जाते  हैं  ,  परन्तु  प्रतिकूल  परिस्थितियों  में    सच्चे  आदर्शों  के  प्रति   निष्ठा  दिखाने  का  साहस  विरले  ही  कर  पाते  हैं  l 

13 August 2017

WISDOM

  समर्थ  गुरु  रामदास  के  साथ  एक  उद्दंड  व्यक्ति  चल  पड़ा   और  रस्ते  भर  खरी - खोटी  सुनाता  रहा  l  समर्थ  उन  अपशब्दों  को  चुपचाप  सुनते  रहे  l  सुनसान  समाप्त  हुआ   और  बड़ा  गाँव  नजदीक  आया   तो  समर्थ  रुक  गए   और  उस  उद्दंड  व्यक्ति  से  कहने  लगे ,  अभी  और  जो  भला - बुरा  कहना  हो  ,  उसे  कहकर  समाप्त  कर  लो   अन्यथा  एनी  गाँव  के  लोग   मेरे  परिचित  हैं  ,  सुनेंगे  तो  तुम्हारे  साथ  दुर्व्यवहार  करेंगे  l  तब  इससे  कहीं  अधिक  कष्ट  मुझे  होगा   l  वह  व्यक्ति  पैरों  में  गिरकर  समर्थ  गुरु  रामदास  से   क्षमा  मांगने  लगा  l  समर्थ  ने  उसे  अपना  आचरण  सुधारने   एवं  परिवार  में  भी  उन्ही  प्रवृतियों   को  फैलाने  का  आशीर्वाद  दिया  l
  संत  के  इस  व्यवहार  ने   उसके  जीवन  को  तो  बदला  ही  ,  उसे  बदले  में  जहाँ   गालियाँ  मिलती  थीं ,  वहां    सम्मान  मिलने  लगा   l 

12 August 2017

WISDOM

  दो  बालक  नित्य  साथ  ही  पाठशाला  जाया  करते  थे   l  एक  दिन  शाला  जाते  समय  उन्हें  अपनी  अपनी  अपनी  शारीरिक  शक्ति  परखने  की  सूझी   l  वे  दोनों  कुश्ती  लड़ने  लगे  l  बलवान  बालक  जीत  गया   l  कमजोर  को  पराजय  का  मुंह  देखना  पड़ा  l  इस  पर  हारे  हुए  बालक  ने  कहा --- " तूने  कौन   सी  बहादुरी  दिखाई  l  तेरे  जैसा  पौष्टिक  भोजन  मुझे  मिलता  तो  मैं  भी  तुझे  हरा  देता  l  यह  बात  विजेता  के  मर्म  को  बेध  गई   l  उसका  विजय  का  उल्लास  तिरोहित  हो  गया  l  उसका  स्थान  ग्लानि  ने  ले  लिया  -- वह  सोचने  लगा --कमजोर  को  हरा  कर  मैंने  कौनसा  श्रेयस्कर  काम  किया  है   l  मुझे  तो  उसको  अपने  जैसा  बनाना  चाहिए  था   l  '  इस  घटना  ने  उसकी  विचार  शैली  बदल  दी  l 
  यही    बालक  आगे  चलकर डाक्टर  बना  l  कमजोर  और  असहायों  की  सहायता  के  लिए  अफ्रीका  के  घने  जंगलों  में  चला  गया   l  यह  डाक्टर  थे ---- अलबर्ट  श्वाइत्जर  l  इस  महान  सेवा  साधना  के  कारण  वे  शान्ति  के  नोबेल  पुरस्कार  के  अधिकारी  व  हजारों  लोगों  के  प्रेरणा  स्रोत  बने  l 

10 August 2017

WISDOM

  एक  बार  चीन  के  बीजिंग  शहर  के  एक  सौ  वर्षीय  वृद्ध  से  पूछा  गया --- " आपकी  लम्बी  उम्र  का  रहस्य  क्या  है  ? "  वृद्ध  ने  जवाब  दिया ---- " मेरे  जीवन  में  तीन  बातें  हैं ,  जिनकी  वजह  से  मैं  लम्बी  आयु  पा  सका ---- 1. मैं  अपने  दिमाग  में  कभी  उत्तेजनात्मक  विचार  नहीं  भरता ,  सिर्फ  ऐसे  विचारों  को  पोषण  देता  हूँ   जो  मेरे  दिल  और  दिमाग  को  शांत  रखें   l  
2. मैं  आलस्य  को  बढ़ाने  वाला  ,  उत्तेजित  करने  वाला  भोजन  नहीं  लेता  और  न  ही  अनावश्यक  भोजन  लेता  हूँ   l
3.  मैं  गहरा  श्वास  लेता  हूँ  l  नाभि  तक  श्वास  भरकर   फिर  छोड़ता  हूँ  ,  अधूरा  श्वास  कभी  नहीं  लेता  l
     स्वस्थ  और  लम्बे  जीवन  के  लिए  जिन  बातों  का  पालन  करना  चाहिए  ,   उनका  पालन  न  करने  से  ही   लोग  स्वस्थ  नहीं  हैं   l
  चिकित्सकों  के  अनुसार  ,  ज्यादातर  लोग  इस  रहस्य  को  नही   जानते   कि  श्वास  किस  तरह  लेनी  चाहिए  l  वे  पूरी  साँस  ही  नहीं  लेते  l  पूरी  साँस  लेने  से   फेफड़ों  और  शरीर  के  अंदरूनी   हिस्सों  का   अच्छी  तरह  से  व्यायाम  होता  है   l
  निरोग  जीवन  जीने  के  लिए  मन  को   सशक्त  और  प्रसन्न  रखा  जाये  l