24 August 2016

जब आचार्य की कठोरता से सम्राट का अहंकार करुणा में परिवर्तित हो गया

गुर्जर  प्रदेश  में  जन्मे  आचार्य  हेमचन्द्र  ( जन्म 1145 ) दर्शन , धर्म , संस्कृति , साहित्य , कला , राजनीति  और  लोक नीति   के  प्रकाण्ड  पंडित  थे  ,  उन्हें  जन - जन  ने  ' गुर्जर - सर्वज्ञ '  की  उपाधि  से  विभूषित  किया  था   ।  उनके  अहिंसा , करुणा  के  उपदेशों  से  प्रभावित  होकर  गुर्जराधिपति  सम्राट  कुमारपाल   ने  उन्हें  अपना    गुरु    बना  लिया   । 
आचार्य  हेमचन्द्र  कुछ  समय  के  प्रवास  के  बाद  राजधानी  पाटन  लौट  रहे  थे  ।  वे  पैदल   ही  यात्रा  करते  थे  ,  मार्ग  में  कहीं  रात्रि   विश्राम  करते  थे   ।  एक  रात्रि  वे  एक  गाँव  में  एक  निर्धन  विधवा  के  अतिथि  बने  ।  उसके  पास  जो  कुछ  भी  मोटा  अन्न  था  उसने  वह  प्रेम  से  उन्हें  खिलाया  ।  प्रात:  जब  वे  चलने  लगे  तो  उस  मुंहबोली  बहिन  ने  अपने  हाथ  से  कटे  सूत  की  चादर  उन्हें  भेंट  की   ।  आचार्य    ' ना '  करते  रहे  किन्तु  बहिन  आयु  में  उनसे  बड़ी  थी   अत:  वे  उपहार  ठुकरा  न  सके  और  प्रसन्नता  पूर्वक   मोटे  सूत  की  चादर   ओढ़  कर  पाटन  चल  पड़े  ।
  सम्राट  कुमारपाल  को  उनके  आने  की  खबर  मिली  तो  अपने  शान - वैभव  के  साथ   वे  गुरुदेव  का  स्वागत  करने  नगर  के  बाहर   आ  गये  ।  प्रथम  उन्होंने  गुरुदेव  का  चरण - स्पर्श  किया ,  आशीर्वाद  लिया  ।  किन्तु  उन्हें  गुरुदेव  के  कन्धे  पर  मोटे  गाढ़े  की  चादर  किंचित  मात्र  न  भायी  ।
  सम्राट  ने  निवेदन  किया  --- " आचार्य  प्रवर  !  यह  क्या  ?  सम्राट  कुमारपाल  के  गुरुदेव  के  कन्धों  पर  यह  गाढ़े  का  बेढंगा  चादर  बिलकुल  शोभा  नहीं  देता  ,  इसे  बदल  लीजिये  । "
 आचार्य  समझ  गये  कि  सम्राट  का  अहम्   करवटें  ले  रहा  है  ।  उन्होंने  कहा  ____ " यह  शरीर  तो  अस्थि , चर्म  और  मांस , मज्जा  का  ढेर  है  ।  इस  चादर  को  ओढ़ने  से  ऐसा  क्या  अपमान  हो  गया  इसका  । "
सम्राट  ने  कहा --- " गुरुदेव  आप  तो  दैहिक  सुख ,  शोभा  से  निर्लिप्त  हैं  पर  मुझे  तो  लज्जा  आती  है  कि  मेरे  सम्राट  होते  हुए    मेरे  गुरुदेव  के  कन्धों  पर  बहुमूल्य  कौशेय  उत्तरीय  न  होकर   गाढे  की  चादर हो "
       सम्राट  का  यह  कहना  था  कि  आचार्य  हेमचन्द्र  अपनी  ओजपूर्ण  वाणी  में  बोल  उठे ------ " इस  चादर  को  मैंने  ओढ़  रखा  है   इस  बात  को  लेकर  तुम्हे  शर्म  आ  सकती  है    पर  कई  गरीबों  का  तो  यह  व्यवसाय  ही  है  ।   कई  असहाय  विधवाओं  और  वृद्धाओं  द्वारा  दिन  भर  सूत  कात - कात  कर   बनायीं  गई  ये  चादरें  ही  उनका  पालन - पोषण  करती  हैं   ।  उन्हें  पहनने  में  मुझे  लज्जा  नहीं  गर्व  की  अनुभूति  होती  है   ।    तुम्हारे    जैसे    धर्मपरायण    सम्राट     के  राज्य  में  भी   ऐसी  कितनी  ही  बहिने  हैं   जिन्हें  दिन  भर  श्रम  करने  पर  भी  भर - पेट  भोजन  नहीं  मिलता   ।  ऐसी  ही  एक  बहिन  की  दी  हुई  यह  मूल्यवान  भेंट  मेरे  मन  को  जो  सादगी , निर्मलता  और  शोभा  प्रदान  करती  है   उसे   मैं   जानता  हूँ  ।  इस  चादर  में  जो  स्नेह , प्रेम  ,  श्रम  और  श्रद्धा  के  सूक्ष्म  धागे  बुने  हुए  हैं   उनकी  श्री  , शोभा  के  आगे   तुम्हारे  हजारों  कौशेय  परिधान  वारे  जा  सकते  हैं  । "
  आचार्य  के  ये  मार्मिक  वचन  सुनकर  सम्राट  का  सिर  लज्जा  से  नत  हो  गया  ,  उनका  अहम्  विगलित  हो  गया  ।  प्रजा  की  सम्पति  का   सदुपयोग  किस  प्रकार  करना  चाहिए  यह  उनकी  समझ  में  आ  गया  ।   सम्राट  ने  तत्काल  घोषणा  की ----- "  राजकोष  से  प्रतिवर्ष  करोड़  स्वर्ण  मुद्राएँ  ऐसे  असहाय  स्त्री - पुरुषों  की  सहायता  में  व्यय  किये  जाएँ  जिनके  पास   आजीविका  के  समुचित  साधन  नहीं  हैं  ।  " 
आचार्य  हेमचन्द्र  की  यह  कठोरता  भी  समाज  का  बहुत  बड़ा  हित  कर  गई  ।  अपने  शिष्य  के  सम्राट  होने  का  अहम्  विदीर्ण  करके  उसके  स्थान  पर  उन्होंने  करुणा  व  कर्तव्यपालन  की  सरिता  बहायी  थी   जिसमे  स्नान  कर  कितने  ही  दीन - दुःखियों   की  कष्ट  कालिमा  धुल  गई   l   

22 August 2016

संत साहित्यकार --------- चिम्मन लाल गोस्वामी

 ' आंतरिक  निष्ठा  बदलते  ही  ---- बाह्य  जगत  भी  बदल  जाता  है  ।  वैभव  के  खीर - पकवानों   से  सेवा - साधना  में  मिली  रुखी  रोटी  रुचिकर  लगने  लगती  है    l  '
 चिम्मन  लाल  गोस्वामी  ( जन्म  1900 )   ऐसे  ही  अवसर  की  तलाश  में  थे  ,  जिनसे  आंतरिक  और  आत्मिक  क्षुधा  को  तृप्त  किया  जा  सके  ।    गोस्वामी  जी   बीकानेर  राज्य  में  एक  उच्च  पद  पर  नियुक्त  थे    जहाँ  उनका  जीवन  सुख - सुविधापूर्ण   और  साधन - संपन्न  था    ।
  एक  बार  कल्याण  के  संपादक  श्री   हनुमान  प्रसाद  जी  पोद्दार  ने  बीकानेर  में  सत्संग  गोष्ठियाँ  चलायीं  l  पोद्दार  जी  के  प्रवचन  सुनकर   उन्हें  लगा   कि  अब  उनकी  खोज  पूरी  हो  गई ,  गोस्वामी  जी  आनंदित  हो  उठे  l   दो - चार  दिनों  के  सानिध्य  ने  ही  उनकी  जीवन  की  दिशा  बदल  दी   और  उन्होंने  सेवा  को  ही  अपना   आदर्श - लक्ष्य  बना  लिया   l
  उन्होंने  1933  में  उन्होंने  बीकानेर  राज्य  की  नौकरी  से  इस्तीफा  दे  दिया  ,  और  कल्याण  का  संपादन  भर  उन  पर  आया  l  उनके  सम्पादन  में  कल्याण  के  कई  खोजपूर्ण  विशेषांक  निकले   l 

21 August 2016

साहस व धैर्य के धनी ------ बहादुरशाह जफर

 बहादुरशाह  अच्छे  शायर  थे   ।  ' जफर '  उनका  उपनाम  था  ।  ' जफ़र ' नाममात्र  के  बादशाह  थे    , वे  अपमान  और  परवशता  के  जीवन  से  मृत्यु  को  बेहतर  समझते  थे  ,  उनकी  यह  व्यथा  उनकी  कृतियों  में  स्पष्ट  हुई  है ---- ' लगता  नहीं  है  दिल  मेरा  उजड़े  दयार  में -------
                                 दो गज  जमीन  भी  न  मिली  कुएँ  ए  यार  में    ।
 20  सितम्बर  1858  का  दिन  था  ।  अंतिम  मुगल  सम्राट  किले  में  नजरबन्द  थे   ।   अपने  मन  की  साध  पूरी  हो  जाने  का  उस  वृद्ध  शहंशाह  को  सन्तोष  था  l  स्वतंत्रता  संग्राम  में  विजयश्री  भले  ही  न  मिली  हो  पर  अन्याय  का  प्रतिकार  करने  के  लिए  वह  उठ  खड़ा  तो  हुआ  था  ,  इस  सन्तोष  की  चमक  उसके  चेहरे  पर  थी   l                 अंग्रेज  सेनापति   हडसन  ने   कक्ष  में  प्रवेश  किया   । ।  हडसन  के  साथ  एक  सैनिक  भी  था  जिसके  हाथ  में  बड़े  से  रेशमी  रुमाल  से  ढका  हुआ  थाल  था  ।  हडसन  ने  बादशाह  को  अभिवादन  करते  हुए  कहा --- " बादशाह  सलामत  ! कम्पनी  ने  आपसे  दोस्ती  का  इजहार  करते  हुए   आपकी  खिदमत  में  यह  नायाब  तोहफा  भेजा  है  ।  इसे  कबूल  फरमाएँ  । " उसके  इस  कथन  के  साथ  ही  सैनिक  ने  थाल  बहादुरशाह  ' जफर '  के  सामने  कर  दिया  ।
  कांपते  हाथों  से  किन्तु  दृढ  ह्रदय  से  उन्होंने  कपड़ा  हटाया  तो  अंग्रेजों  की  क्रूरता  निरावृत  हो  गई  ।  उसमे  बादशाह  के  पुत्रों  के  कटे  हुए  सिर  थे  ।
  हडसन  ने  सोचा  था  कि  बूढ़ा  अपने  बेटों  के  कटे  सिर  देखकर  विलाप  करेगा  किन्तु  इस  संभावना  के  विपरीत  वृद्ध  पिता  कुछ  क्षण  अपने  पुत्रों  के  कटे  सिरों  की  ओर  देखकर  अपनी  नजरें  हडसन  के  क्रूर  चेहरे  पर  जमाते  हुए  निर्विकार  भाव  से  कहा --- " अलह  हम्दो  लिल्लाह  !"
  तैमूर  की  औलाद  ऐसे  ही  सुर्खरू  होकर  अपने  बाप  के  सामने  आया  करती  हैं  ।   गजब  का  धैर्य  था  उनमे  ।   27  जनवरी  1859  को  उन्हें  रंगून  के  बंदीगृह  में  भेज  दिया  गया  ,  सामान्य  नागरिकों  की  तरह  उन्हें  बंदी  जीवन  भोगना  पड़ा  ।
कारावास  के  इस  जीवन  से  जफर  व्यथित  नहीं  थे  ,  वे  उसे  अपने  पापों  के  प्रायश्चित  के  रूप  में  ही  लेते  थे   । 

20 August 2016

महानता तथा सर्वप्रियता -------- पं . मदनमोहन मालवीयजी

'  मालवीयजी  धर्म  भक्त ,  देश  भक्त  और समाज - भक्त  होने  के  साथ  ही  सुधारक  भी  थे  ,  पर  उनके  सुधार  कार्यों में   अन्य   लोगों  से  कुछ  अंतर  था  |   अन्य   सुधारक  जहाँ  समाज  से  विद्रोह   और  संघर्ष  करने  लग  जाते  हैं , वहां  मालवीयजी  समाज  से  मिलकर  चलने  के  पक्षपाती थे  ।  उन्होंने   काशी  में   गंगा  तट  पर  बैठकर   चारों  वर्णों   के  लोगों   को  जिसमे   चांडाल  और  शूद्र  भी   थे    मन्त्रों  की  दीक्षा  दी l    उन्होंने  यह  कार्य  लोगों  को  समझा  - बुझाकर  और  राजी  करके  ही   दी  l
  मालवीयजी   देशभक्ति  को  साधारण  कर्तव्य  ही  नहीं  वरन  एक  परम  धर्म  मानते  थे  l   जिसके  बिना  ठाकुर जी  की  कोरी  भजन  - पूजा  या  एकांत  स्थान  में  बैठकर  मन्त्र जप  करना  निरर्थक  हो  जाता  है  ।  वे  शास्त्रों  की  इस  बात  को  कहते  थे   और  स्वयं  वैसा  आचरण  भी  करते  थे  कि----  ' बिना  दूसरों  के  कष्ट  में  सहायता  पहुंचाए  ,  बिना  नीचे  गिरे  हुओं  को   ऊपर  उठाये  धर्म  की  प्राप्ति  नहीं  हो  सकती   ।                                 

19 August 2016

' भारत कोकिला ' ---- श्रीमती सरोजिनी नायडू

 श्रीमती  सरोजिनी  नायडू   अपनी  विलक्षण  प्रतिभा , काव्य कुशलता  , वक्तृत्व - शक्ति ,  राजनीतिक  ज्ञान तथा  अंतर्राष्ट्रीय  प्रभाव  के  कारण   भारत  में  ही  नहीं  वरन  समस्त  एशिया  के  नारी  जगत  में  विशिष्ट  स्थान  रखती  थीं  ।   वे  एक  सफल  कवयित्री   और  पटु  राजनीतिज्ञ  थीं  । वे  एक  कुशल  वक्ता  थीं  जिन्होंने  अपनी  वाणी  के  जादू  से  लाखों  नर - नारियों  के  दिलों  में  घर  बना  लिया  था  ।  वे  एक  नि:स्वार्थ  सेविका ,  सफल  पत्नी  और  एक  स्नेहमयी  माँ  थीं  ,  जो  हताश,  पीड़ाकुल  मानवता  को   सान्त्वना   देने  के  लिए  अवतीर्ण  हुईं  थीं  । '
   इतने  गुणों   का  एक  स्थान  पर  एकत्र  हो  सकना  वास्तव  में  दैवी  संयोग  ही  था    l  सरोजिनी  नायडू  ने  कवि  की  मधुरता  और  राजनीतिज्ञ  की  कठोरता  का  जो  समन्वय  करके  दिखाया  वह  अदिव्तीय  है  l
 जिनका  राजाओं , नवाबों  के  महलों  में  अबाध  प्रवेश  था , घनिष्ठता  थी ,  जो  देश  और  विदेश  में  रईसों  की  शान  से  रहीं ,  वह  आवश्यकता  पड़ते  ही   जेलखाने  की  तंग  कोठरियों  में  रहने  लगीं   और  वहां  भी  किसी  तरह  का  विषाद  अनुभव  करने  के  बजाय  सदैव  प्रसन्न  और  प्रफुल्लित  बनी  रहीं  l  जिसने  रेशमी  कालीनो  से  उतर  कर  स्वेच्छा  से   धूल   भरे  रास्तों  में  भ्रमण  किया  था  और  चमक - दमक  वाले  होटलों  के  भोजन  को  छोड़कर  ग्रामीणों  की  मोटी   रोटियों  का  स्वाद  चखा  था  l   उन्होंने  अपने  महान  त्याग  और  तप  द्वारा  अपने  को  इस  विशाल  राष्ट्र  की  नेत्री  की  पदवी  के  योग्य  सिद्ध  किया  था   l  
   जब  उनसे  यह  प्रश्न  किया  गया  कि--- आपने  एक  प्रसिद्ध  कवयित्री  होते  हुए  भी   राजनीति  के  कार्य  में  भाग  लेना  क्यों  स्वीकार  किया  , '   तो  उन्होंने  कहा  ----- " उनके  कवि    होने  की  सार्थकता  ही  इसमें  है  कि  संकट  की  घड़ी  में  ,  निराशा   एवं  पराजय  के  क्षणों  में  ,   वह  भविष्य  के  निर्माण  का  स्वप्न  देखने  वालों  को  साहस  और  आशा  का  सन्देश  दे  सकें  । इसलिए  संग्राम  की  इस  घडी  में  जबकि  देश  के  लिए  विजय  प्राप्त  करना  तुम्हारे  ही  हाथों  में  है  ,   मैं   एक  स्त्री  अपना  घर - आँगन  छोड़कर  आ  खड़ी  हुई  हूँ   l  और  मैं  जो  कि  स्वप्नों  की  दुनिया  में  विचारने  वाली  रही  ,  आज  यहाँ  खड़ी  होकर  पुकार  रही  हूँ  ----- साथियों  आगे  बढ़ो   और  विजय  प्राप्त  करो  ।   उन्होंने  कहा  ---- " जब  देश  पराधीनता  और  गरीबी  में  है  ,  ऐसी  दशा  में  प्राकृतिक  द्रश्यों  का  अवलोकन  कर  मधुर  कविता  बनाते  रहना  निरर्थक  ही  नहीं  , कर्तव्य हीनता  है   l  ऐसे  समय  में  तो  प्रत्येक  नर - नारी  का  कर्तव्य  है  कि  चाहे  उसके  विचार , रूचि , उद्देश्य  कुछ  भी  हो ,  वह  देश  के  उद्धार  के  लिए  यथा शक्ति  प्रयत्न  अवश्य  करे  l

18 August 2016

स्वाधीनता के पुजारी --------- सुभाषचंद्र बोस

'  गीता  का  अध्ययन  उनका  नित्य - कृत्य  था  l  उनका  जीवन  और  पूरी  दिनचर्या  ईश्वर  के  प्रति  अडिग  निष्ठा  तथा  कर्मयोग  के  द्वारा   संचालित  हुआ  करती  थी  ।  आजाद  हिन्द  सरकार  के   सूचना   मंत्री   
एस. ए. अय्यर  ने  लिखा  है  ----- " सभी  चुनौतियों  का  सामना  करने  की  शक्ति  उन्होंने  ईश्वर  में  अपनी  अगाध  निष्ठा  से  प्राप्त  की  थी   ।   नेताजी  के  आकर्षक  व्यक्तित्व  और  शक्तिशाली  नेतृत्व  का  यह  रहस्य  था  । "
 जब    कटक   में   स्वामी  विवेकानन्द  पधारे   तब  सुभाषचंद्र  बोस  ने  उनसे  प्रभावित  होकर  सन्यास  दीक्षा  की  प्रार्थना  की    परन्तु  उत्तर  मिला --- " संन्यास    के  लिए  तैयारी  और  अभ्यास  की  आवश्यकता  है  ।  साधना  के  प्राथमिक   सोपान  पूरे  कर  लो  तब  तुम्हारी  अंतरात्मा  स्वयमेव  ही  तुम्हे  इस  जीवन  में   दीक्षित  कर  देगी   । "
  "  इसके  प्राथमिक  सोपान  कौन  से  हैं  ? "
   " सेवा   और  सेवा  ।  इसी  साधना  का  स्थूल  अभ्यास  तुम्हारी  अगली   सीढ़ी  बन  जायेगा   । " 
          स्वामी  विवेकानन्द  की  प्रेरणा  से     अब  अध्ययन  और  पठन - पाठन  के  बाद  सुभाष  बाबू  सेवा  के  अवसर  ही  तलाश  करते  ।
उन्ही  दिनों  नगर  में  हैजा  फैला   ।  सुभाषचंद्र  बोस  ने  अपने  साथियों  को  लेकर  निर्धन  बस्तियों  को  अपना  कार्यक्षेत्र  बनाया  ।  जिस  घर  में   बेटा  अपनी  माँ  को  छूने  से  भी  परहेज  करता  था  उस  घर  को  सुभाष  ने  अपने  साथियों  सहित  मंदिर  माना  और  उसमे  निवास  कर  रहे  जीते - जागते  देवताओं  की  पूजा  की  ।  जिस  घर  में  उन्हें  कोई  विलाप  करता  दिखाई  पड़ता  ,  वे  उस  घर  में  जाते  और  रोगी  को  औषधि  देने  से  लेकर  उसका  वमन  साफ़  करने  का  दायित्व  निभाते  ।  इस  रूप  में  लोगों  ने  उन्हें  भगवान  का  दूत ,  भयहारी  प्रभु  का  अवतार  जाना  ।   गीता  के  अध्ययन  से  यह  तथ्य  उन्होंने  समझ  लिया  था  कि   परिवार  में  रहकर  ,  कर्तव्यों  का  पालन  करते  हुए  भी  आत्मा  का  ज्योतिर्मय  प्रकाश  पाया  जा  सकता  है  ।  उन्हें  कीर्ति  की  कामना  नहीं  थी  । 
नेताजी  सुभाषचंद्र  बोस  महामानव  थे   ।  उनको  उच्च  विद्दा , बुद्धि , पदवी , पारिवारिक  सुख , सार्वजनिक  सम्मान  सब  कुछ  प्राप्त  था  ।   अन्य   अनेक  माननीय  और  उच्च  पदों  पर  प्रतिष्ठित  व्यक्तियों  के  समान   सुख - सुविधा  का  सार्वजनिक  जीवन  बिता  सकना  उनके  लिए  कुछ  भी  कठिन  न  था  ,  पर  इन  सबका  त्याग  कर   उन्होंने  स्वेच्छा  से  ऐसा  जीवन  मार्ग  ग्रहण  किया   जिसमे  पग - पग  पर  काँटे  थे   ।  उनका  त्याग  और  साहस  इतना  उच्च  कोटि  का  था  कि  इसे  देखकर   हजारों  व्यक्ति  उनके  सामने  ही
अपने  देशवासियों   को  मनुष्योचित  अधिकार  दिलाने   के  लिए  तन , मन  , धन  सर्वस्व  अर्पण  करने  को  तैयार  हो  जाते   ।  उनके  प्रेरणादायक  उद्गार  हैं  ----- " तुम  फिर  से  मनुष्य  बनो  । अपने  आपको  पहचान  कर  अपने  कर्तव्य  का  पालन  करो  l   तुमको  जो  शक्ति  प्राप्त  हुई  है   उसको  और  विकसित  करो  ।  अपने  ह्रदय  को  नवीन  उत्साह  से  भरो  ।   यौवन  के  आनन्द  और  शक्ति  को  अपनी  एक - एक  नस  में  संचारित  करो  ।  इससे  तुम्हारा  आंतरिक  जीवन   सूर्य  की  किरणों  से  प्रकाशित  मार्ग  के  समान  सुस्पष्ट  और  विकसित  बन  जायेगा   ।  तुम  जीवन  की  पूर्णता  अनुभव  करके  धन्य  बनो  ,  यही  मेरी  विनीत  आकांक्षा   और  प्रार्थना  है  ।  "   

17 August 2016

जिन्होंने सामन्तशाही के विरुद्ध आवाज उठायी ------ लू --- शुन

 '   कोई  भी  परिवर्तन  बड़ा  हो  या  छोटा   विचारों  के  रूप  में  ही  जन्म  लेता  है   ।  मनुष्यों  और  समाज  की  विचारणा  तथा  धारणा  में   जब  तक  परिवर्तन  नहीं  आता  तब  तक  सामाजिक  परिवर्तन  भी  असम्भव  ही  है   ।   और  विचारों  के  बीज  साहित्य  के  हल  से  बोये  जा  सकते  हैं  । '
                 लू - शुन  ( जन्म  1881 )  में  चीन  में  हुआ  था  ।  उस  समय  वहां  सामन्तों  और  जागीरदारों  का  समाज  पर  प्रभुत्व  था  ।   उन्होंने  अपनी  लेखनी  द्वारा   सामंती  व्यवस्था  पर  करारे  प्रहार  किये  ।  उन्होंने  दोनों  पक्षों  का  ध्यान  रखा    । पहला  पक्ष  तो  था   उस  व्यवस्था  से  पीड़ित  लोगों  का  जो  इस  शोषण  के  चक्र  में  बुरी  तरह  पिस  चुके  थे   और  पिसते  जा  रहे  थे  -- उनका   करुण   चित्रण  था  ।    और  दूसरा  पक्ष  था  ---- इसके  विकल्प  का  प्रतिपादन  ।  वर्तमान  व्यवस्था  को  तोड़ा  जाये   तो  इसके  स्थान  पर  क्या  किया  जाये  ?
 उनकी  कहानियों  में  वह  बात  थी  जिसे  पढ़कर  तिलमिला  उठा  ह्रदय   समाधान  पाकर  तृप्त  हो  जाता  ,  मात्र  तृप्त  ही  नहीं  एक  दिशा  भी  प्राप्त  कर  लेता  था   ।   इस  प्रकार  उन्होंने  समाजवादी  क्रान्ति  की  संभावनाओं  को  मजबूत  बनाया   ।
 चीन  के  राष्ट्राध्यक्ष  माओत्से  तुंग  ने  कहा  था   वे  संस्कृतिक  क्रान्ति  के  महान  सेनापति  और  वीर  सेनानी  थे   ।