29 August 2014

WISDOM

महान  दार्शनिक  सुकरात  दर्पण  में  बर-बार  अपना  मुँह  देख  रहे  थे  ।  शिष्यमंडली उनके  इस  क्रिया-कलाप  को  समझ  नहीं  पा  रही  थी  कि  कुरूप  सुकरात  बार-बार  दर्पण  क्यों  देख  रहे  हैं  ? आखिर  एक  शिष्य  उनसे  पूछ  ही  बैठा-- " गुरुवर ! दर्पण  में  अपना  चेहरा  बार-बार  क्यों  देख  रहें  हैं  ? " सुकरात  शिष्य  की  बात  सुनकर  हँस  पड़े,  फिर  गंभीर  होकर  बोले--- " प्रियवर ! तुम्हारा  कहना  बिलकुल  ठीक
  है  ।  मुझ  जैसे  कुरूप  को  दर्पण  देखने  की  क्या  आवश्यकता  है  ? लेकिन  मेरे  शिष्य ! दर्पण  सबको  देखना  चाहिये,  चाहे  वह  सुंदर  हो  या  बदसूरत  । "
शिष्य  बीच  में  ही  बोल  उठा--- " गुरुवर ! कुरूप  तो  अपनी  वास्तविकता  जानता  है,  फिर  दर्पण  देखने  से  तो  उसे  भारी  कष्ट  होगा  । " सुकरात  ने  शिष्य  को  समझाते  हुए  कहा-- " वत्स ! कुरूप  को  तो  दर्पण  अवश्य  देखना  चाहिये  जिससे  उसे  अपने  उस  रूप  को  देखकर  ध्यान  आ  जाये  कि  वह  कुरूप  है  ।
अत: अपने  श्रेष्ठ  कार्यों  से  उस  कुरूपता  को  सुंदर  बनाकर  ढकने  का  प्रयत्न  करे  । सुंदर  चेहरे  को  दर्पण  इसलिये  देखना  चाहिये  कि  ईश्वर  ने  उसे  सौंदर्य  दिया  है,  अत: उसके  अनुरूप  ही  उसे  सदैव  सुंदर  कार्य  करना  चाहिये  । "

              आलिवर  क्रामवेल  की  वीरता  से  मुग्ध  एक  चित्रकार  एक  दिन  उनके  पास  जाकर  बोला--- " मैं  आपका  चित्र  बनाना  चाहता  हूँ  । " क्रामवेल  ने  कहा-- " जरुर  बनाओ,  यदि  तुमने  मेरा  अच्छा  चित्र  बनाया  तो  तुम्हे  पर्याप्त  पारितोषिक  मिलेगा  । "
    क्रामवेल  की  तरह  वीर  योद्धा  उन  दिनों  सारी  पृथ्वी  पर  नहीं  था,  किंतु  दुर्भाग्य  से  वह  जितना  वीर  था,  उतना  ही  बदसूरत  भी  ।  उसके  मुँह  पर  एक  बड़ा-  सा  मस्सा  था,  जिसके  कारण  उसकी  मुखाकृति  और  भी  कुरूप  लगती  थी  ।  इसलिये  चित्रकार  ने  जान-बूझकर  चित्र  में  वह  मस्सा  नहीं  बनाया  ।  चित्र  बड़ा  सुंदर  बना  ।  चित्रकार  उसे  लेकर  क्रामवेल  के  पास  गया  । क्रामवेल  ने  उसे  ध्यान  से  देखा  और  कहा-- " मित्र ! चित्र  तो  बढ़िया  है,  पर  मुझ  जैसा  नहीं,  जब  तक  मेरी  मुखाकृति  नहीं  लाते,  तब  तक  चित्र  मेरे  किस  काम  का  ? "
चित्रकार  पहले  तो  झिझका,  पर  बाद  में  उसने  चित्र  लेकर  वह  मस्सा  भी  बना  दिया  । अब  तो  ऐसा  लगने  लगा,  जैसे  क्रामवेल  स्वयं  चित्र  में  उतर  आया  है  ।
" अब  बन  गया  अच्छा  चित्र  । " कहते  हुए  क्रामवेल  ने  उसे  ले  लिया  और  उसे  इनाम  देकर  कहा---
" मित्र ! मुझे  अपनी  बुराइयाँ  देखने  का  अभ्यास  है  । यदि  ऐसा  न  रहा  होता  तो  वह  शौर्य  अर्जित  न  कर  सका  होता,  जिसके  बल  पर  मैंने  यश  कमाया  है  । "

28 August 2014

WISDOM

हम  सबके  भीतर  खुशियों  का  खजाना  छिपा  हुआ  है,  जिसे  हम  सब  उम्र  भर  बाहर  खोजते  रहते  हैं   । 
खुशियाँ  चाहते  हो  ? तो  इन्हें  बाह्य  परिस्थिति  में  नहीं  आंतरिक  मन: स्थिति  में  ढूँढो  । 
            एक  भिखारी  था,  वह  जिंदगी  भर  एक  ही  जगह  पर  बैठकर  भीख  माँगता  रहा  ।  उसकी  इच्छा  थी  कि  वह  भी  धनवान  बने,  इसलिये  वह  दिन  में  ही  नहीं  रात  में  भी  भीख  माँगता  था  ।  जो  कुछ  उसे  भीख  में  मिलता,  उसे  खर्च  करने  के  बजाय  जोड़ता  रहता  ।  लेकिन  वह  धनवान  नहीं  बन  सका ।
वह  भिखारी  की  तरह  जिया  और  भिखारी  की  तरह  मरा  ।  उसके  मर  जाने  के  बाद  आस-पास  के  उसका  झोंपड़ा  तोड़  दिया  ।  फिर  सबने  मिलकर  वहां  की  जमीन  साफ  की  । सफाई  करने  वाले  इन  सभी  को  तब  भारी  अचरज  हुआ,  जब  उन्हें  उस  जगह  पर  बड़ा  भारी  खजाना  गड़ा  हुआ  मिला  ।
यह  ठीक  वही  जगह  थी,  जिस  जगह  पर  बैठकर  वह  भिखारी  जिंदगी  भर  भीख  माँगा  करता  था  ।
जहाँ  पर  वह  बैठता  था, उसके  ठीक  नीचे  यह  भारी  खजाना  गड़ा  हुआ  था  ।
जो  खुशियों  की  तलाश  में  बाहर  भटकते  हैं,  उनकी  हालत  भी  कुछ  ऐसी  ही  है  ।  बड़े  से  बड़े  खोजियों  ने  सारी  दुनिया  में, सारी  उम्र  भटक  कर  अंतत:  यह  खुशियों  का  खजाना  अपने  ही  अंदर  पाया  है  । 
' जो  कुछ  ईश्वर  ने  हमें  दिया,  हम  उसके  लिये  खुश  होना  सीखें  । '

27 August 2014

सामाजिक अनुशासन

समाजतंत्र   में   नीतिनिष्ठा   को   जीवित   रखने   के   लिये   सामाजिक   अनुशासन   की    आवश्यकता   है
      पारस्परिक  चर्चा  के  दौरान  मंत्री  ने  राजा  से  कहा--- " यदि  अवसर  मिले  तो  कोई  चालाकी  से  चूकता  नहीं  । अवसर  मिलते  ही  लोग  धूर्तता  का  अवलंबन  लेते  हैं  । "
      राजा  ने  कहा-- " इसका  अर्थ  यह  हुआ  कि  संसार  में  भलमनसाहत  है  ही  नहीं  । " मंत्री  ने  कहा ---
" है  तो,  पर  उसे  जीवित  और  सुरक्षित  तभी  रखा  जा  सकता  है,  जब  सामाजिक  नियंत्रण  व  रोकथाम  का  समुचित  प्रबंध  हो  ।  छूट  मिले  तो  कदाचित  ही  कोई  बेईमानी  से  चूके  । "
   बात  राजा  के  गले  न  उतरी  ।  मंत्री  ने  अपनी  बात  का  प्रमाण  देने  के  लिये  एक  उपाय  किया------
                                               प्रजा  में  घोषणा  कराई  गई  कि  किसी  राज-काज  के  लिये  हजार  मन  दूध  की  आवश्यकता  है  ।  अत: सभी  प्रजाजन  रात्रि  के  समय  खुले  पार्क  में  रखे  कड़ाहों  में  एक-एक  लोटा  दूध  डाल  जायें  ।
      रात्रि  के  समय  पार्क  में  बड़े-बड़े  कड़ाह  रख  दिये  गये  और  चौकीदारी  का  कोई  प्रबंध  नहीं  किया  गया  ।  स्थिति  का  पता  कानो-कान  सभी  को  लग  गया  ।  रात्रि  का  समय  और  चौकीदारी  का  न  होना,  इन  दो  कारणों  का  लाभ  उठाकर  प्रजाजनों  ने  दूध  के  स्थान  पर  पानी  डालना  आरंभ  कर  दिया  ।  यह  सोचकर  कि  इतने  लोटे  दूध  होगा  तो   हमारे  एक  लोटे  पानी  का  किसी  को  पता  भी  न  चलेगा  ।  सभी  ने  एक  ही  तरह  सोचा  और  अपने  हिस्से  के  दूध  के  बदले  पानी  डाला  ।
     दूसरे  दिन  मंत्री  राजा  को  दूध  का  कड़ाह  दिखाने  ले  गये  ।  सभी  पानी  से  भरे  हुए  थे  ।  दूध  का  नाम  तक  नहीं  था  ।
      राजा  ने  उस  दिन  समझा  कि  समाज  में  नैतिकता  को  जीवित  बनाये  रखने  के  लिये  नियंत्रण  और  अनुशासन  आवश्यक  है  । 

26 August 2014

WISDOM

 जीवन  परमात्मा  का  दिया  एक  अमूल्य  वरदान  है  । चाहे  इससे  विभूतियाँ  अर्जित  कर  लो  चाहे  दुर्गति
         आज  मनुष्य  का  जीवन  सिर्फ  शरीर  और  संसार  तक  ही  सीमित  रह  गया  है  ।  धन-संपति  और  अधिकार  ये  दो  ही  मानव  जीवन  के  लक्ष्य  रह  गये  हैं  ।  इन  दोनों  की  प्राप्ति  के  लिये  व्यक्ति  उचित-अनुचित,  न्याय-अन्याय  का  कुछ  भी  ध्यान    नहीं  रखता  ।  इसका  अर्थ  यह  नहीं  कि  वह  कर्म  करना  छोड़  दे  ।  इसका  अर्थ  है  कि  वह  उनकी  दिशा  बदल  दे  । उसका  हर  कार्य  आत्मिक  उन्नति  की  भावना  लिये,  भगवान  को  समर्पित  हो  ।  जब  हर  कार्य  भगवान  को  समर्पित  किया  जायेगा,  तो  स्वत:  ही  अनुचित  कार्य  नहीं  बन  पड़ेंगे  ।
    यदि  हम  वास्तव  में  सुख-शांति  से  भरा-पूरा  जीवन  जीना  चाहते  हैं,  तो  हमें  अपनी  आत्मिक  उत्कृष्टताओं  को  उभारना  होगा  और  अपनी  सारी  बुराइयों  से  संघर्ष  करना  होगा  ।  मनुष्य  के  अंदर  निहित  दिव्यता,  आत्मा  की  उत्कृष्टता  ही  बाहर  विभिन्न  गुणों--- प्रेम,  ईमानदारी,  क्षमा,  प्रसन्नता,  सज्जनता  के  रूप  में  अभिव्यक्त  होती  हैं   । 
                   
                   ईसा  से  किसी  ने  पूछा--- स्वर्ग  में  पहले  प्रवेश  किसे  मिलेगा  ? पास  ही  एक  भोला  बालक  खेल  रहा  था  ।  ईसा  ने  उसे  गोद  में  उठाकर  कहा ---- उसे,  जो  इसकी  तरह  भोला  और  निष्पाप  हो  ।  जो  बच्चे  की  तरह  निरहंकारी,  सरल  बनने  का  प्रयास  करेगा,  प्रभु  उसे  सबसे  पहले  मिलेगा  ।  प्रभु  के  स्वर्ग  के  द्वार  कुचक्री  के  लिये  बंद  हैं  । पहले  स्वयं  को  बालक  की  तरह  सरल  बना  लो  ।  जीवन  भर  वैसे  ही  जियो  ।    यही  प्रभुप्राप्ति  का  राजमार्ग  है   ।

25 August 2014

PEARL

       अरस्तू  जैसा  गुरु  पा  कर  ही  सिकंदर  महान  बना  था  ।    एक  साधारण  मिट्टी  से  बने  राजकुमार  को  फौलादी  बना  देने  का  सारा  श्रेय  अरस्तू  को  जाता  है  ।  विद्वान्  अरस्तू  का  सारा  जीवन  लोक-शिक्षण  को  समर्पित  था  ।  व्यक्ति  निर्माण  उनका  मूल  मंत्र  था  । अरस्तू  ने   ऐथेंस  में  लीसियम  नामक  संस्कृतिक  विश्वविद्दालय  की  स्थापना  की,  जिसमे  हजारों  छात्र  विद्दा  अध्ययन  करते  थे  ।   सारे  संसार  में  यूनान  की  यह  ज्ञानपीठ  एक  से  एक  योग्य  निकाल  सकने  के  कारण  काफी  प्रख्यात  हुई  ।  इस  विद्दापीठ  को  सिकंदर  की  सहायता  प्राप्त  थी  ।
     अरस्तू  के  लिखे  सभी  ग्रंथ  आज  उपलब्ध  नहीं  हैं,  पर  जो  हैं  उनसे  पता  चलता  है  कि  उन्हें  तर्कशास्त्र,  खगोल  विद्दा,  भौतिकी,  विकासवाद,  कामशास्त्र,  वायुविज्ञान,  प्रकृतिविद्दा,  जीवशास्त्र,  काव्य,  अलंकार,  मनोविज्ञान,  राजनीति,  दर्शन,  अध्यात्म  आदि  अनेक  विषयों  का  अगाध  ज्ञान  था  ।  अरस्तू  ने  सामूहिक  जीवन  को  अनिवार्य  माना  है  । 

24 August 2014

WISDOM

एक  अँधा  था  ।  दूसरा  पैर  रहित पंगा  ।  दोनों  नदी  किनारे  बैठे  थे  ।   पार जाने  का  सुयोग  नहीं  बन  रहा  था  । नदी  बहुत  गहरी  न  थी  ।  पंगे  ने  अंधे  से  कहा--- " आप  मुझे  पीठ  पर  बैठा  लें,  मैं  रास्ता  बता  दूँगा,  आप  चलना  । मिल-जुलकर  नदी  पार  कर  लेंगे  । "
    ऐसा  ही  हुआ  ।  निराशा  आशा  में  बदली,  सहकार  अपनाकर  दोनों  पार  हो  गये  ।
  ' ज्ञान  पंगु  है  और  कर्म  अंधा  ।  दोनों  मिलकर  ही  कठिनाइयों  की  नदी  पार  कर  सकते  हैं  । '

                एक  व्यक्ति  नितांत  निर्धन  और  अशिक्षित  था  ।  वह  कोई  उच्चकोटि  का  पुण्य-परमार्थ  करने   की  भावना  से  आकुल  था  ।  समाधान  के  लिये  किसी  तत्वज्ञानी  के  पास  पहुँचा  ।
    पूरी  बात  समझकर  उन्होंने  परामर्श  दिया  कि  जो  तालाब  उथले  हो  गये  हैं,  उन्हें  खोदते  रहने  की  तप-साधना  में  लगो  ।  इससे  पशुओं  को,  पक्षियों  को,  मनुष्यों  को  पानी  मिलेगा  ।  यह  पुण्य  तुम्हारी  स्थिति  में  बिलकुल  उपयुक्त  और  महत्वपूर्ण  तथा  फलदायक  सिद्ध  होगा  । उसने  वही  किया  । 

22 August 2014

WISDOM

'  गरीबी  अपने  आप  में  कोई  अपमान जनक  बात  नहीं  है  | उसे  दुत्कारा  तब  जाता  है,  जब  वह  मूर्खता,  आलस,  असावधानी  या  दुर्व्यसनों  की  वजह  से  आयी  हो  । '
             दिन  भर  भीख  मांगने  के  बाद  भिखारी  एक  पेड़  के  नीचे  बैठकर  आराम  करने  लगा  । उसी  राह  से  एक  मजदूर  आया  और  वह  भी  पेड़  के  नीचे  आकर  बैठ  गया  ।  भिखारी  ने  एक  द्रष्टि  मजदूर  पर  डाली  और  उससे  बोला--- " तुमने  आज  दिनभर  जितनी  कमाई  की,  उतनी  तो  मैं  आधे  दिन  में  कर  लेता  हूँ  ।  भला  तुम में  और  मुझ में  क्या  अंतर  रहा  । "
   मजदूर  बोला--- " मित्र ! अंतर  परिश्रम  और  जाहिली  का  है  ।   मैं  अपने  पुरुषार्थ  से  कमाता  हूँ  और  उस  कमाई  को  गर्व  से  अनुभव  करता  हूँ,  जबकि  तुम  याचना  के  पात्र  बनते  हो  और  उस  धन  को  अपना  मान  लेते  हो  । "  भिखारी  का  आत्मसम्मान  जागा  और  वह  भी  मेहनत  करने  निकल  पड़ा  ।