28 May 2016

सिद्धान्तों को व्यवहारिक रूप में परिणत करना -------- टालस्टाय

  '  जिनकी  कथनी  और  करनी  में  तनिक  भी  अन्तर  न  हो  ऐसे  महामानव  संसार  में  बहुत  कम  होते  हैं '
            टालस्टाय  का  मत  सदैव  यही  रहा  कि  जिस  बात  को  हम  श्रेष्ठ  मानते  हैं  , दूसरों  को  हम  जिसकी  प्रेरणा  देते  हैं  ,  उसका  पालन  स्वयं  अवश्य  करना  चाहिए   । ' 
  उन्होंने  बड़े  स्पष्ट  रूप  में कहा  था  कि  बौद्धिक  कार्य  करने  वालों  को  भी  प्रतिदिन  नियम  से  खेती  , कारीगरी  आदि  का  कुछ  उपयोगी  शारीरिक  श्रम  अवश्य  करना  चाहिए   ।  इससे  एक  ओर  जहाँ  हम  ईश्वरीय   आदेश  का  पालन  कर  सकेंगे  कि  " मनुष्य  को  अपने  पसीने  की  रोटी  खानी  चाहिए   "  वहां  इस  प्रकार  का  श्रम  हमारे  स्वास्थ्य   और  मानसिक  प्रसन्नता  की  रक्षा  करने  वाला  भी  होगा  ।  "
   उन्होंने  स्वयं  इसी  सिद्धांत  के  अनुसार  जीवन  यापन  किया  और  और  उनकी  प्रेरणा  से  और  भी  अनेक  बड़े  विद्वानों  तथा  उच्च  पदाधिकारियों  ने  इसका  अनुकरण  किया  ।   सामाजिक  क्षेत्र  में  इसका  जादू  का  सा  प्रभाव  हुआ   ।  काउंट , राजकुमार , उच्च  वंशीय  धनी  ,  कॉलेज  के  अध्यापक आदि  उनके  चारों  ओर  एकत्रित  होने  लगे   ।  फावड़े ,  कुदालियाँ  हाथों  में  लिए   वे  सब  खेती  के  कार्य  में  रस  और  आनंद  लेने  लगे   ।  गांधीजी  ने  दक्षिण  अफ्रीका  में  फीनिक्स  स्थित  ' टालस्टाय  फर्म ' इसी  आदर्श  पर  स्थापित  किया  था   और  उसमे  कितने  ही  सुशिक्षित  भारतीय  और   कई  यूरोपियन  भी  कृषि  सम्बन्धी  तथा  अन्य   शारीरिक  श्रम  के  कार्य  करते  थे   ।  

20 May 2016

ऐश्वर्य की रक्षा संयम से

 इंद्र  को  असुरों  से अनेक  बार  पराजित  होना  पड़ा  ।  भगवन  की  विशेष  सहायता  से  ही  वे  सफल  हो  पाए    इस  बार - बार  की    पराजय  का  कारण  एक  दिन  प्रजापति  से  पूछा ,  तो  उन्होंने  कहा  ----- ऐश्वर्य  की  रक्षा  संयम  से  होती  है  । जो  वैभव  पाकर  प्रमाद  में  फंस  जाते  हैं  उन्हें  पराभव  का  मुंह  देखना  पड़ता  है                     जो  इस  मानव   शरीर   का  संयम    पूर्वक  सदुपयोग  कर  लेते  हैं  वे  ही  पराभव  का  मुंह  देखने  से  बच  जाते  हैं   । 

18 May 2016

WISDOM

जो  व्यक्ति  कभी  रुष्ट  होता  है   और  कभी  प्रसन्न  हो  जाता  है  ,  इस  प्रकार  में     क्षण - क्षण    में   रुष्ट  और  प्रसन्न  होता  रहता  है   ऐसे  चंचल  चित  वाले  पुरुष  की  प्रसन्नता  भी  भयंकर  होती  है  |

17 May 2016

WISDOM

  इस  संसार   में  सज्जन  को  सज्जन   तथा  दुष्ट  को  दुष्ट  सलाहकार  मिल  जाते  हैं    | यदि  हमारा  विवेक  जाग्रत  नहीं  है  तो    दूसरों  की  सलाह  हमें  भटका  सकती  है   |

16 May 2016

परिस्थिति से परिवर्तन

  जीवन  के  उत्थान  और  पतन  का  केन्द्र  मन  है   ।  यह  मन  जिधर  चलता  है  जिधर  इच्छा  और  आकांक्षा  करता  है  उधर  ही  उसकी  अपनी  एक  दुनिया  बनकर  खड़ी  हो  जाती  है  ।  मन  को  कल्पवृक्ष  की  उपमा  दी  गई  है  ,  उसमे  ईश्वर  ने  यह  शक्ति   विशाल  परिणाम    में  भर  दी  है   जैसा  मनोरथ  करें  वैसे  ही  साधन  जुट  जायें  और   उसी  पथ  पर  प्रगति  होने  लगे   । 
   बंगाल  के  संसार    प्रसिद्ध   वैज्ञानिक  सर  जगदीशचन्द्र  बोस  इस  बात  पर  विश्वास  करते  थे  कि  बुरे  से  बुरे  व्यक्ति  को  सद्व्यवहार  द्वारा  सुधारा  जा  सकता  है  ।  उनके  पिता  डिप्टी  कलक्टर  थे  ,  चोर  डाकुओं  को  पकड़वाने  का  कार्य  भी  उन्हें  करना  पड़ता  था  ।  एक  बार   एक  खतरनाक  डाकू  को  उन्होंने  पकड़वाया  ,  अदालत  ने   उसे   जेलखाने  की   कड़ी  सजा  दी  ।
जब  यह  डाकू  जेल  से  छूटकर  आया  तो  सर  बोस  के  पास  गया   और  कहने  लगा --- " सुविधापूर्वक  खर्च  न  चलने  के  कारण  मुझे  अपराध  करने  पड़ते  हैं  ।  यदि  आप  मेरा  कोई  काम  लगवा  दें  तो   मैं  उत्तम  जीवन  व्यतीत  कर  सकूँगा  । "
जगदीशचन्द्र  बोस  अपनी  दयालुता  के  लिए   प्रसिद्ध  थे   ।  उन्होंने  उस  डाकू  को  बिना  अधिक  पूछताछ  किये  अपने  पास  एक  अच्छी  नौकरी  पर  रख  लिया   ।  उस  दिन  से  उस  डाकू  ने  कोई  अपराध  नहीं  किया   और  मालिक  के  कुटुम्ब  पर  आई  हुई  आपत्तियों  के  समय  उसने  अपने  प्राणों  को  खतरे  में  डालकर  भी  उनकी  रक्षा  की  ।
     स्वभावत:  कोई  व्यक्ति  बुरा  नहीं  है   ।  बुरी  परिस्थितियां  मनुष्य  को  बुरा  बनाती  हैं  ,     यदि  उसकी  परिस्थितियां  बदल  दी  जाएँ   तो  बुरे  से  बुरे  व्यक्ति  को  भी  अच्छे  मार्ग  पर  चलने  वाला  बनाया  जा  सकता  है   । 

15 May 2016

द्रष्टिकोण का परिवर्तन

  ' मन  को  संतुलित  करने  के  लिए   किया  हुआ  प्रयत्न  जीवन  के  सारे  स्वरुप  को  ही  बदल  देता  है  ।  नरक  को  स्वर्ग  में  परिवर्तित  करने  की  कुन्जी  मनुष्य  के  हाथ  में  है   ।  सोचने  का  तरीका  यदि  बदल  डाले ,  बुराई  में  से  भलाई  और  निराशा  में  से  आशा  की  किरणे  ढूंढने  का  अभ्यास  करे   तो  रोता  हुआ  मनुष्य   हँसते  - हँसाते  अपनी   सभी  समस्याओं  को  हल  कर  सकता  है  । '
             भगवान  बुद्ध  वन  को  पार  करते  जा  रहे  थे  ,  उनकी  भेंट   अंगुलिमाल  डाकू  से  हुई  ।  अंगुलिमाल  ने  बुद्ध  से  कहा ---- " आज  आप  ही  मेरे  शिकार  होंगे  । "
तथागत  मुस्कराए ,  उन्होंने  कहा --- ' दो  क्षण  का  विलम्ब  सहन  कर  सको  तो  मेरी  एक  बात  सुन  लो  । 'डाकू  ठिठक  गया  उसने  कहा ----- ' कहिये ,  क्या  कहना  है  । '
तथागत  ने  कहा ----- " सामने   वाले  पेड़  से  तोड़कर  एक  पत्ता  जमीन  पर  रख  दो  । "
डाकू  ने  वैसा  ही  किया  ।  तथागत  ने  कहा ---- " अब  इसे  पुन:  पेड़  में  जोड़  दो  । "
  डाकू  ने  कहा ---- " यह  कैसे  संभव  है  ।  तोड़ना  सरल  है   पर  उसे  जोड़ा  नहीं  जा  सकता  । "
 बुद्ध  ने   गम्भीर  मुद्रा  में  कहा ---- " वत्स  ! इस  संसार  में   मार - काट ,  तोड़ - फोड़ , उपद्रव  और  विनाश  यह  सभी  सरल  है  ।  इन्हें  कोई  तुच्छ   व्यक्ति  भी  कर  सकता  है  ।  फिर  तुम  इसमें  अपनी  क्या  महानता  सोचते  हो ,  किस  बात  का  अभिमान  करते  हो  ?     बड़प्पन  की  बात   निर्माण    है   विनाश  नहीं  ।  तुम   विनाश  के  तुच्छ  आचरण  को  छोड़कर  निर्माण  का  महान  कार्यक्रम  क्यों  नहीं  अपनाते  ? "
    अंगुलिमाल   के   अंत:करण  में   शब्द  तीर  की  तरह  घुसते  गये  ।  कातर  होकर  उसने  तथागत  से  पूछा  ---- "  इतने  समय  तक  पापकर्म  करने  पर  भी  क्या   मैं   पुन:  धर्मात्मा  हो  सकता  हूँ  ? "
तथागत  बोले ---- " वत्स  !   मनुष्य  अपने  विचार   और  कार्यों  को  बदल  कर   कभी  भो   पापों  से   पुण्य  को  ओर  मुड़   सकता  है  l  धर्म  का  मार्ग   किसी  के  लिए  भी  अवरुद्ध  नहीं  है  l  तुम  अपना  द्रष्टिकोण  बदलोगे  तो  सारा  जीवन  ही  बदल  जायेगा  l  विचार  बदले  तो  मनुष्य  बदला  l  अंगुलिमाल  ने  दस्यु  कर्म  छोड़कर  प्रव्रजा  ले  ली  और  वह  बुद्ध  के  प्रख्यात  शिष्यों  में  से  एक  हुआ  l 

13 May 2016

आस्तिकता का परिष्कार अपेक्षित है ------ वास्तविक भक्त

  भगवान  के  दर्शन  की  ,  उनकी  प्राप्ति  की  आकांक्षा   सभी  को  रहती  है  ।   गीता  में  भगवान  ने  कहा  है --- ईश्वर  को  चमड़े  की  आँखों  से  नहीं  विवेक  की  दिव्य  द्रष्टि  से  देखा  जा  सकता  है   ।
                         आस्तिकता  की  परम्पराओं  को  मानव   जाति   अतीत  काल  से  अपनाये  हुए  है  ।  अब  उसके  परिष्कार  की  आवश्यकता  है   ।  यह  परिष्कार    समस्त  जड़ - चेतन  में  भगवान  को  देखना  ,  प्रत्येक  पदार्थ  एवं  प्राणी  में  प्रभु  की  ज्योति  के  दर्शन  करने  के  रूप  में  ही  हो  सकता  है  ।
  यदि  ईश्वर  भक्ति  का  यह  स्वरुप  अपना  लिया  जाये  तो  संसार  की  सभी  समस्याओं  का  मंगलमय  हल  निकल  सकता  है    ।
           एक  बार  पार्वतीजी  ने  शंकर  भगवान  से  पूछा ----- गंगा  स्नान  करने  वाले  प्राणी  समस्त  पापों  से  छूट  जाते  हैं  ?
शंकरजी  बोले  --- जो  भावना पूर्वक  स्नान  करता  है ,  उसी  को  सद्गति  मिलती  है  ।
पार्वतीजी  ने  गंगा  स्नान  का  बड़ा  महत्त्व  सुना  था  ,  इसलिए  उन्हें  संतोष  नहीं  हुआ  । शंकरजी  ने  कहा --- अच्छा  चलो  तुम्हे  प्रत्यक्ष  दिखाते  हैं  -- ।  कोढ़ी  का  रूप  बनाकर  वे   रास्ते    में  बैठ  गये  ,  साथ  में  पार्वतीजी  सुन्दर  स्त्री  के  रूप  में  उनके  साथ  हो  गईं  ।  गंगा  स्नान  का  पर्व  था  ,  अनेकों  लोगों  ने  कोढ़ी  के  साथ  सुन्दर  स्त्री  को  देखा   तो  किसी  ने  कोढ़ी  को  गाली  दी  ,  किसी  ने  उस  स्त्री  से  कहा  कि  तुम  हमारे  साथ  चलो  ।  जो  भी  देखता  वह  उस  स्त्री  की  ओर  आकर्षित  होता  ।
 अंत  में  एक  ऐसा  व्यक्ति  भी  मिला  जिसने  उस  स्त्री  के  पतिव्रत  धर्म  की  सराहना  की  और  कोढ़ी  को  गंगा  स्नान  कराने  में  मदद  की   ।
 शंकरजी  प्रकट  हुए  और  बोले  --- प्रिये  !  यही  श्रद्धालु  सद्गति  के  सच्चे  अधिकारी  हैं   ।