20 April 2014

संतुलित व्यक्तित्व

' दुःख  की  प्राप्ति  होने  पर   जो  परेशान  नहीं  होता   और  सुखों  की  प्राप्ति  में  जो  निस्पृह  है  ऐसा  व्यक्ति  स्थिर  बुद्धि  कहा  जाता  है  |'
जीवन  में  उतार-चढ़ाव  तो  आते  रहते  हैं  | सामान्य  व्यक्ति  दुःख  को  भगवान  का  दिया  दंड  मानकर  परेशान  होते  रहते  हैं  और  सुख  को  भोग  में  बदल  डालते  हैं, भोग  की  प्रक्रिया अंतत: दुःख  देती  है  ।
जीवन  जीने  की  कला  हमें  यही  सिखाती  है  कि  हम  सुख  को  योग  बना  लें  और  दुःख  को  तप  बना  लें
           
          महिष्मति  के  प्रथम  नागरिक  ' करुणाकर ' स्वास्थ्य, विवेक  और  संपन्नता  के  प्रेरणास्रोत  माने  जाते  थे  ।   वे  प्रचुर  संपदा  के  स्वामी  थे  तथा  उसका  उपयोग  लोकहित  में  भी  करते  थे  ।   एक  बार  वे  तीर्थ यात्रा  और  जनहिताय  दूर  देशों  की  यात्रा  पर  गये  ।   उनके  मित्र  उनकी  संपदा  की  रक्षा  न  कर  सके, चोरों ने  उनकी  सारी  संपति  चुरा  ली  । मित्र  दुखी  थे  , सोचते  थे  कि  करुणाकर  आयेंगे  तो  जीवन  भर  की  संपदा  चली  जाने  से  दुखी  होंगे  ।
   करुणाकर  आये, सारी  बात  सुनी  और  मुसकरा  दिये  और  बोले--मित्रों ! चिंता  न  करो  । इस  संसार  में  मैं  खाली  हाथ  आया  था  ।  परिजनों  के  स्नेह-सहयोगऔर  अपने  विचार  एवं  पुरुषार्थ  के  सहारे  ही  तो  संपति  कमाई  थी  ।  प्रभुकृपा  से  मेरी  इंद्रियां  अभी  ठीक  हैं, विचारों  में  परिपक्वता  आ  चुकी  है, जीवन  का  समय  अभी  समाप्त  नहीं  हुआ  और  आप  सबके  स्नेह  सहयोग  का  पात्र  भी  हूँ  फिर  मुझे  क्या  कमी  है ? संपदा  फिर  आ  जायेगी  ।
और  सचमुच  करुणाकर पुन: यश-वैभव  के  स्वामी  बन  गये  ।  कोई  उनकी  सराहना  करता  तो  कहते- धन्य  मैं  नहीं  , वह  प्रभु  हैं  जिसने  ऐसी  अनमोल  संपदाएँ  हमें  दी  हैं   । 

19 April 2014

WISDOM

ईसा  ने  खुलकर  अपने  सिद्धांतों  का  प्रचार  करना  आरंभ  कर  दिया  था  |  उनके  बहुत  से  शत्रु  उन  पर  हमला  करने  की  योजना  बनाने  लगे  थे  ।  एक  शिष्य  ने  उनसे  कहा-- " हे  मेरे  प्रभु  ! तू  संसार  का  कल्याण   करना  चाह  रहा  है  और  ये  कुटिल  जन  तुझे  ही  कष्ट  देने  की  योजना  बना  रहें  हैं  ।  मुझे  अनुमति  दे, मैं  तेरी   रक्षा  हेतु  सदा  तेरे  साथ  अंगरक्षक  के  रूप  में  रहना  चाहता  हूँ  । "
   ईसा  सरल  भाव  से  बोले-- " देख  मेरे  बेटे  !  तू  मेरे  साथ  कहाँ-कहाँ  भटकेगा  ।  मैं  तो  उस  प्रभु  का  पुत्र  हूँ  । वही  इस  विराट  संसार  में  मुझे  जगह  देगा, मेरी  देखभाल  करेगा  ।  मेरी  शरीर  रक्षा  की  अपेक्षा  तू  मेरे   सिद्धांतों  एवं  विचारों  का  विस्तार  कर  ।  वही  अमर  रहने  वाले  हैं  ।  यह  तन  नहीं  । "

18 April 2014

PEARL

 लोकमान्य तिलक  कांग्रेस  अधिवेशन  में  भाग  लेने  लखनऊ  आये  | वहां  उनका  कार्यक्रम  इतना  व्यस्त  था  कि अपने  निजी  कार्यों  के  लिये  भी  समय  निकलना  बहुत  मुश्किल  था  ।   बड़ी  कठिनाई  से  वे  भोजन  का  अवकाश  पा  सके  ।  भोजन  के  समय  परोसने  वाले  स्वयंसेवक  ने  कहा--" महाराज ! आज  तो  आपको  बिना  पूजा-पाठ  के  ही  भोजन  करना  पड़ा  । " लोकमान्य  गंभीर  हो  गये  और  बोले--" अभी  तक  हम  जो  कर  रहे  थे   वह  भी  एक  प्रकार  की  पूजा  थी  ।   मात्र  कर्मकांडो  की  लकीर  पीटना  ही  पूजा  नहीं  है  ।   समाज  सेवा  भी  एक  प्रकार  की  पूजा  है, आराधना  है  । "
     जब  ' मराठा '  और  ' केसरी '  अखबार  में  लिखे  लेखों  के  कारण  उन्हें  जेल  भेजा  गया  तो  वहां  उनका  स्वास्थ्य  बिगड़  गया, लेकिन  उनका  मनोबल  जरा  भी  नहीं  डिगा  ।  अपनी  स्मृति  के  आधार  पर  बिना  संदर्भ  ग्रंथों  के  उनने  पेंसिल  से  ' गीता  रहस्य ' भाष्य  लिखा  ।  अंग्रेजों  ने  उसे  जब्त  कर  लिया  ।   वे  बोले--" मैं  फिर  लिख  लूँगा  । "
परमात्मा  को  अर्पित  कर्म  ने  उन्हें  अमर  बना  दिया, उन्हें  अपना  ग्रंथ  वापस  मिल  गया  । 

17 April 2014

WISDOM

' मनुष्य  जीवन  इतना  बहुमूल्य  है  कि  उसकी  तुलना  में  संसार  की  समस्त  संपदा  भी  कम  पड़ती  है  |
आँखे  न  हों  तो  संसार  भर  में  मात्र  अँधेरा  ही  अँधेरा  रहेगा ।  कान  सुनना  बंद  कर  दे  तो  वार्तालाप  सुनने का  आनंद  ही  समाप्त  है  ।   शरीर  रोगी  हो  तो  किसी  भी  इंद्रिय  से  कोई  भी  आनंद  लाभ  प्राप्त  करने  का  अवसर  नहीं  हो  ।   मस्तिष्क  पर  उन्माद  चढ़  दौड़े  तो  समझना  चाहिये  कि  समूचे  संसार  की  गतिविधियाँ  उलटी  दिशा  में  चल  पड़ीं  । दुर्बुद्धि  घेरे  हुए  हो  अनगढ़  आदतें  स्वभाव  में  घुसी  हुई  हों  तो  पग-पग  पर  ऐसे  आचरण  बन  पड़ेंगे  कि  निराशा, असफलता  और  खीज  ही  हाथ  लगे  ।

        नदी  में  रीछ  बहता  जा  रहा  था  ।   किनारे  पर  खड़े  साधु    ने  समझा  कि  यह  कम्बल  बहता  आ  रहा  है  ।   निकालने  के  लिये  वह  तैरकर  उस  तक पहुँचा  और  पकड़  कर  किनारे  की  तरफ  खींचने  लगा  ।     रीछ  जीवित  था  प्रवाह  में  बहता  चला  आया  था  ।   उसने  साधु  को  जकड़  कर  पकड़  लिया  ताकि  वह  उस  पर  सवार  होकर  पार  निकल  सके  ।   दोनों  एक  दूसरे  के  साथ  गुत्थमगुत्था  कर  रहे थे
        किनारे  पर  खड़े  दूसरे  साथी  साधु  ने  पुकारा --" कम्बल  हाथ  नहीं  आता  तो  उसे  छोड़  दो  और  वापस  लौट  आओ  । "
  जवाब  में  उस  फंसे  हुए  साधु  ने  कहा-- मैं  तो  कम्बल  छोड़ना  चाहता  हूँ  पर  उसने  तो  मुझे  ऐसा  जकड़  लिया  है  कि  छूटने  की  कोई  तरकीब  नहीं  सूझती  ।
     व्यसनों  को  लोग  पकड़ते  हैं  पर  कुछ  ही  दिनों  में  वे  उन्हें  अपने    शिकंजे  में  कस  लेते  हैं  और  छोड़ने  पर  भी  छूटते  नहीं  ।
     श्रेष्ठ  और  उत्कृष्ट  चिंतन  द्वारा  शारीरिक-मानसिक  बीमारियों  से  मुक्ति  पायी  जा  सकती  है  ।
अड़ियल  घोड़े  की  तरह  मन  को  साधा  और  सुधार  लिया  जाये  तो  हर  व्यक्ति  सुखी  बन  सकता  है  । 

WISDOM

शरीर  की  संरचना  क्रियाशीलता  छोड़  दे  तो  मरण  है  | स्रष्टि  की  गतिविधियाँ  रुक जायें, तो  प्रलय  है  और  मनुष्य  कर्तव्य  छोड़  दे  तो  उसका  पतन  है  |

15 April 2014

कर्मफल विधान

यह  जगत  और  जीवन  कर्मानुसार  है  । कर्मफल  विधान  नियंता  का  अकाट्य  नियम  है  । इसे  न  तो  तोड़ा-मरोड़ा  जा  सकता  है  और  न  ही  परिवर्तित  किया  जा  सकता  है  ।  प्रत्येक  शुभ  कर्म  अपना  परिपाक  होने  पर  शुभ  फल  अवश्य  देता  है  । इसी  तरह  प्रत्येक  अशुभ  कर्म  अपना  परिपाक  होने  पर  अशुभ  फल  अवश्य  प्रस्तुत  करता  है  ।
        विवेकहीन  मनुष्य  इस  सत्य  को  देख  नहीं  पाते  इसलिये  वे  दूसरों  पर  दोषारोपण  करते  हुए  उनपर  मिथ्या    कलंक  लगाते  हैं  ।  जबकि  सच  यह  है  कि  जितना  समय  वे  दोषारोपण  करने  में  लगाते  हैं  . उतना  समय  यदि  सत्कर्म  करने  में, ईश्वर  का  स्मरण  करने  में  लगाएँ  तो  उनके  पूर्वकृत  कर्मो  का  सहज  ही  प्रायश्चित  हो  जाये  ।
   जो  बीत  चुका  है, उसे  पूरी  तरह  से  मिटा  देना, हटा  देना  तो  संभव  नहीं, पर  सत्कर्मो  की  निरंतरता  अवश्य  संभव  है  ।

   इस  संबंध  में  पुराण  की  एक  कथा  है------- एक  जुआरी  था, उसमे  सभी  दुर्गुण  थे ।  एक  दिन  उसने  कपट  से  जुए  में  बहुत  सारा  धन  जीता  ।  इस  जीत  की  खुशी  में  वह  अपने  हाथों  में  पान  का  बीड़ा, गंध  और  माला  आदि  सामग्री  लेकर  अपनी  प्रियतमा  को  भेंट  देने  के  लिये  उसके  घर  की  ओर  दौड़ा  ।
रात  का  समय  था, रास्ते  में  उसके  पाँव  लड़खड़ाए  और  वह  गिरकर  बेहोश  हो  गया  । जब  उसे  होश  आया  तो  उसे  बड़ा  खेद  व  वैराग्य  हुआ  । उसने  अपने  पास  की  सारी  सामग्री  वहीँ  पास  के  भगवती  मंदिर  में  जाकर  भवानी    के चरणों  में  अर्पित  कर  दी  ।
  समय  आने  पर  उसकी  मृत्यु  हो  गई  । यमदूत  उसे  ले  गये  । यमराज  बोले--"अरे  मूर्ख ! तू  अपने  पापों  के  कारण  बड़े-बड़े  नरकों  में  यातना  भोगने  योग्य  है  । " इस  पर  जुआरी  ने  कहा--" महाराज ! यदि  मेरा  कोई  सत्कर्म  हो  तो  उस  पर  भी  विचार  कर  लीजिए  । " इसके  उत्तर  में  चित्रगुप्त  ने  कहा--" तुमने  मरने  से  पहले  थोड़ा  गंधमात्र  जगन्माता  को  अर्पित  किया  है, इसके  फलस्वरूप  तुझे  तीन  घड़ी  इंद्र  का  सिंहासन  प्राप्त  होगा  । " जुआरी  ने  कहा--" तब  कृपा  करके  पहले  मुझे  पुण्य  का  ही  फल  प्राप्त  कराया  जाये  । " उसके  ऐसा  कहने  पर  यमराज  की  आज्ञा  से  उसे  स्वर्ग  भेज  दिया  गया  । देवगुरु  ने  इंद्र  को  समझाया  कि  तुम  तीन  घड़ी  के  लिये  अपना  सिंहासन  जुआरी  को  दे  दो । "
इंद्र  के  जाते  ही   जुआरी  स्वर्ग  का  राजा  बन  गया  । उसने  सोचा  अब  तो  जगन्माता  आदिशक्ति  के  सिवाय  अन्य  कोई  शरण  नहीं  ।  अब  उसने  करुणामयी  माता  के  स्मरण  के  साथ  अपने  अधिकृत  पदार्थों  का  दान  करना  प्रारंभ  कर  दिया---- ऐरावत  हाथी--- अगस्त्य  जी  को  दिया
उच्चैश्रवा  अश्व--विश्वामित्र  को,            कामधेनु  गाय----वसिष्ठ  जी  को
चिंतामणि  रत्न----गालव  जी  को       कल्पवृक्ष-----ऋषि  कौडिन्य  को  दे  दिया  ।
इस  तरह  जब  तक  तीन  घड़ियाँ  समाप्त  नहीं  हुईं, वह  भगवती  का  स्मरण  करता  हुआ  दान  करता  रहा  ।         जब  इंद्र  लौटकर  आये  तो  देखा  ।   स्वर्गपूरी  तो  ऐश्वर्यशून्य  है  ।  उन्होंने  क्रोधित  होकर  कहा -"धर्मराज !आपने  मेरा  पद  एक  जुआरी  को  देकर  बड़ा  अनुचित  कार्य  किया, उसने  सभी  रत्न  दान  कर  दिये, अमरावती  सूनी  पड़ी  है  । "  इस  पर  धर्मराज  हँसते  हुए  बोले----- " देवराज  ! इतने  दिनों  तक  इंद्र
रहते  हुए  भी  आपकी  आसक्ति  नहीं  गई, जुआरी  का  पुण्य  आपके  सौ  यज्ञों  से  भी  महान  हुआ  ।
'बड़ी  भारी  सत्ता  मिल  जाने  पर  भी  जो  प्रमाद  में  न  पड़कर  जगन्माता  की  भक्ति  करते  हुए  सत्कर्म  में  तत्पर  होते  हैं, वे  ही  धन्य  हैं । '
जुआरी  अपने  दान  के  कारण बिना  नरक  भोगे  ही  महादानी  विरोचन  पुत्र  बलि  के  रूप  में  जन्मा  । इस  रूप  में  भी  उसके  दान  की  महिमा  सबने  गाई  । 

WISDOM

अध्यात्म  मनोविज्ञान  कहता  है  कि  रोग  पापवृति  जैसा  चिंतन  रखने  से  जन्म  लेते  हैं  |
सुख  पुण्यों  का  फल  है, जो  हम  नित्य  कर्म  करके  अर्जित  करते  हैं   ।  पूर्व  जन्म  के  सत्कर्म  हैं  या  नहीं, इसकी  कोई  जानकारी  नहीं,    लेकिन  इस  जन्म  का  पुण्य  तो  रोज  श्रेष्ठ  कार्य, श्रेष्ठ  चिंतन  करके  कमाया  जा  सकता  है  ।   दुःख, रोग  और  पापों  का  नाश  करने  में  निष्काम  कर्म  से  बढ़कर  कोई  उपाय  नहीं  । परमात्मा  की  निष्काम  भक्ति-सेवा  से  सभी  दुःख , रोग  नष्ट  हो  जाते  हैं  ।