29 September 2014

WISDOM

' जीवनशैली  एवं   विचारों  में  परिवर्तन  किए  बगैर  पिछड़े,  दलित  या  किसी  ऐसे  समाज  का  उत्थान  संभव   नहीं  । '
         किसी  भी  पिछड़े  समाज  को  मुख्य  धारा  में  लाने  के  लिए,  केवल  सरकारी  सहायता  ही  पर्याप्त  नहीं  है,  उस  समाज  के  लोगों  की  जीवनशैली  में  परिवर्तन  करना  अनिवार्य  है  ।
     यह  अत्यंत  धैर्यपूर्वक  और  दीर्घकाल  तक  की  जाने  वाली  प्रक्रिया  है  ।
                                 इनसान  या  किसी  समाज  की  वर्तमान  दुरवस्था  का  कारण  उनके  अतीत  के  कर्मों  में  सन्निहित  होता  है  ।   जिन  कर्मों  के  कारण  व्यक्ति  और  समाज  ऐसी  हेय  एवं  दयनीय  स्थिति  में  जीने  के  लिये  विवश  हैं  ।  शुभ  एवं  सत्कर्मों  के  माध्यम  से  आशातीत  परिवर्तन  लाया  जा  सकता  है  ।
        समाज  की  महिलाओं  एवं  पुरुषों  को  केवल  पैसा   या  सहायता   देना  पर्याप्त  नहीं  है  ।   उनके  अंदर  की  क्षमता  एवं  रचनात्मकता  के  आधार  पर  इस  राशि  से  स्वावलंबन  कार्य  आरंभ  करना  चाहिए  और  उन्हें  शुभ  कर्मों  से  जोड़ना  चाहिए,  सेवा  कार्यों  में  संलगन  करना  चाहिए  ।  इससे  उनकी  जीवनशैली  में  परिवर्तन  आएगा,  उनके  जड़  जमाये  नकारात्मक  विचार  बदलेंगे  ।   शिक्षा  एवं  विभिन्न  प्रकार  की  सेवा  एवं  स्वावलंबन  कार्य  करने  से  उनके  अंदर  आत्मविश्वास  जागेगा  एवं  वे  स्वयं  इन  कार्यों   में  प्रवृत  होंगे   ।
    शुभ  विचारों  के  परिणामस्वरुप  मन  धीरे-धीरे  उन्नत  होने  लगता  है  । परम  पवित्र  निष्काम  कर्म  करने  से  संतुष्टि  एवं  तृप्ति  मिलती  है  । 

28 September 2014

काल सर्वोपरि है

काल  से  बढ़कर  कोई  नहीं  है  ।  इनसान  तो  इसका  खिलौना  एवं  निमितमात्र  है  ।   काल  ही  काली  है  और  महाकाल  के  रूप  में  प्रकट  होता  है  ।  सबकी  माता  और  सबका  संहार  करने  वाली  काली  वह  शक्ति  है,  जो  इनसान,  उसके  द्वारा  निर्मित  समस्त  संस्थानों  और  आंदोलनों  की  शाश्वत  तरंग  में  स्वयं  को  अभिव्यक्त  करती  है  ।  यही  मानवजाति  के  ह्रदय  संस्थान  में  गुप्त  रूप  से  कार्य  करती  है  ।
       काल  का  प्रवाह  प्रचंड  होता  है  ।   इस  प्रवाह  के  संग  जो  बहता  है,  वह  विकसित  होता  है,  परंतु  जो  इसमें  बाधा  डालता  है,  वह  अनंत  शक्तिशाली  होने  के  बावजूद  मिट  जाता  है  ।
         वे,  जो  स्वयं  पर  गर्व  करते  हैं  कि  महान  घटनाओं  के  जन्मदाता  वही  हैं,  वे  बड़ी  भ्रांति  में  रहते  हैं; क्योंकि  प्रत्यक्ष  में  यह  कार्य  उन्हें  स्वयं  से  संचालित  होता  हुआ  जान  पड़ता  है  ।  यदि  यही  अहंमन्यता  बनी  रही  तो  वे  अंत  में  काल  की  गहरी  खाई  में  जा  गिरते  हैं  ।
                      परंतु  वे  लोग  जो  स्वयं  को  भगवान  का  यंत्र  मानकर  कार्य  करते  हैं  तथा  सारा  श्रेय  उसी  भगवान  को  देते  हुए  चलते  हैं,  वे  ही  जीवित  रहते  हैं  ।  समाज  में  उन्ही  की  प्रतिष्ठा  होती  है  ।  काली  उन्ही  लोगों  को  माध्यम  बनाकर  कार्य  करती  है  ।
      व्यक्ति  की  महत्ता  नहीं  है  ।  महत्ता  है  उसकी  अंतरात्मा  में  स्थित  अंत:शक्ति  की  ।  जो  सदा  अपनी  अंत:शक्ति  को  विकसित  करता  है  और  उसे  अहंकार  से  बचाए  रखता  है,  वही  महाकाली  का  यंत्र  बनता  है  ।  वही  राष्ट्र  एवं  विश्व  के  निर्माण-कार्य  में  सर्वोपरि  एवं  सबसे  आगे  खड़ा  रहता  है   । 

26 September 2014

गायत्री मंत्र

गायत्री  महामंत्र  सर्वोपरि  शिरोमणि  मंत्र  है  ।  गायत्री  एक  महाशक्ति  है  ।  बिखरे  हुए  संप्रदायों  का  केंद्र  वही  है  ।  माला  में  जिस  प्रकार  मनकों  को  एक  धागा  अपने  में  बाँधे  रहता  है,  वही  भूमिका  गायत्री  की  है  । 
गायत्री  मंत्र  व्यक्तित्व  के  परिमार्जन  व  परिष्कार  का  मंत्र  है  । 
  ब्रह्मर्षि  विश्वामित्र  ने  गायत्री  का  आह्वान  मानव  प्रकृति  के  रूपांतरण  के  लिए  किया  था   । 
उस  युग  में  दस्युओं  और  आर्यों  में  कठिन  संघर्ष  चलता  रहता  था  ।   दस्यु  तो  सब  तरह  से  संस्कार-विहीन  नर-पशु  की  भांति  जीवन  जीते  थे,  जबकि  आर्य  सब  तरह  से  श्रेष्ठ-संस्कारवान  थे  ।
       ब्रह्मर्षि  विश्वामित्र  ने  सोचा,  क्यों  न  कोई  ऐसी  आध्यात्मिक  खोज  की  जाये,  जिससे  दस्युओं  के  संस्कार  व  प्रकृति  को  बदलकर  उन्हें  संस्कारवान,  श्रेष्ठ  मनुष्य  बना  दे  ।  इसी  क्रम  में  उन्होंने  अनेक  अन्वेषण-अनुसंधान  किये ,  फिर  इसी  के  परिणामस्वरुप  उन्होंने  गायत्री  महाविद्दा  का  स्वरुप  व  संरचना  अविष्कृत  की  ।
        पुराने  संस्कार  चट्टान  के  समान  होते  हैं  क्योंकि  उसमे  पिछले  कई  जन्मों  का  बल  जुड़ा  रहता  है  परंतु  भगवद्  भक्ति  और  गायत्री  मंत्र  के  जप  से  यह  कमजोर  पड़ने  लगते  हैं  ।
व्यक्ति  को  अपने  अंदर  भक्ति  और  विश्वास  का  यह  दीपक  जलाए  रखना  चाहिए  और  इसे  किन्ही  भी  झंझावातों  से,  किसी  भी  आँधी  से  बुझने  नहीं  देना  चाहिये  । ईश्वर  के  प्रति  समर्पण  से  जब  ऐसी  भक्ति  जग  जाती  है  तब  रूपांतरण  होने  लगता  है  । 

25 September 2014

भक्ति के साथ शक्ति

आदिशक्ति  शब्द  से  बोध  होता  है----- शक्ति  का  मूल  स्रोत  ।  आदिशक्ति  की  लीलाकथा  जीवन  में  भक्ति  के  साथ  शक्ति  का  समन्वय  सिखाती  हैं  । 
  दुर्गा समर्थ  हैं  उनकी  शक्ति  असीम  व  अनंत  है,  लेकिन  सर्वोपरि  वे  माँ  हैं  ।  वात्सल्य  उनका  स्वभाव,  करुणा  उनकी  प्रकृति  है  ।  यों  तो  सभी  उनकी  संताने  हैं,  फिर  भी  वह  दुष्टों  को  दंड  देने  के  लिये  तत्पर  रहती  हैं   ।
    प्रखर  पराक्रम  एवं  सजल  सदभाव----- इन  दोनों  भावों  की  समर्थ  अभिव्यक्ति  उनके  गायत्री  रूप  में  होती  है   ।
शक्ति  एवं  भक्ति  का  समन्वय  जो  अपने  जीवन  में  कर  लेता  है  वही  सही  व  सम्यक  रीति  से  जीवन  पथ  पर  गति  करता  है  । 
समन्वय  के  अभाव  में  अकेली  शक्ति  व्यक्ति  को  उन्मादी व  अहंकारी  बना  देती  है  ।  शक्ति  के  साथ  भक्ति  न  होने  पर  विवेक  नहीं  रह  जाता  ।  ऐसे  व्यक्ति  अपनी  शक्ति  का  प्रयोग  गिरे   को  उठाने  में  नहीं]  बल्कि  उठे  को  गिराने  में  करते  है  ।
        इसी  तरह  जब  भक्ति  शक्ति  से  विहीन  हो  जाती  है,  तो  व्यक्ति  कर्म  से  विमुख  हो  जाता  है  ।  उसके  अंदर  सदभाव  तो  रहते  हैं,  पर  शक्ति  के  बिना  उनकी  सार्थक  व  समर्थ  अभिव्यक्ति  नहीं  होती  ।       परिष्कृत  भाव  के  साथ  समर्थ  कर्मों  का  सुयोग  भक्ति  के  साथ  शक्ति  के  समन्वय  से  ही  हो  पाता  है   । 

24 September 2014

सुमिरन

 सुमिरन  यानि प्रभु  से  अपने  संबंधों  का  भावपूर्ण  स्मरण,  जीवन  को  बोधपूर्ण-होशपूर्ण  बनाता  है   ।
     सूफी   फकीरों  ने  इसका  बेहतरीन  प्रयोग  किया  ।   सूफी  फकीर  कुछ  करने  या  कहने  से  पहले  अल्लाह  का  नाम  लेते  हैं---- बैठने  से  पहले,  खड़े  होने  से  पहले अल्लाह   को  याद  करते,  कोई  भी  काम  हो,  कोई  भी  बात  हो,  अल्लाह  का  स्मरण  अनिवार्य  रूप  से  जुड़ा  रहता  है  ।
       माँ  तारा  के  भक्त  बंगाल  के  संत  वामाखेपा  हर  काम  में,  हर  पल  माँ  तारा  का  स्मरण  करते  थे  ।
             उनसे  किसी  ने  पूछा---- " इससे  क्या  लाभ   ? "  तो  उत्तर  में  उन्होंने  कहा---- " अरे ! लाभ  ही  लाभ  हैं  ।  प्रत्येक  कार्य  के  साथ  ईश्वर  का  स्मरण  करने  से  समूचा  जीवन  साधना  बन  जाता  है  , शरीर  मंदिर  का  रूप  ले  लेता  है  और  फिर  शुभ  भाव,  शुभ  विचारों  के  साथ  जीवन  पूर्णता  की  ओर  बढ़ने  लगता  है  ।
             
      महर्षि  व्यास  ने  वेद,  पुराण,  महाभारत,  अठारह  पुराण,  आर्ष  साहित्य  को  जन-जन  तक  पहुँचाया , पर  उनके  ह्रदय  की  विकलता  न  मिटी  ।   वे  भगवान  श्रीकृष्ण  से  मिले  ।  उन्हें  भगवान  का  निर्देश  मिला---- " मेरी  लीला  के  बारे  में  लिखें  ।  मेरी  लीला  लिखते-लिखते  तुमको  भगवत्प्राप्ति  हो  जायेगी,  मन  को  अनिर्वचनीय  शांति  मिल  जायेगी  । "
  श्रीमद् भागवत  व्यास  जी  की  अंतिम  कृति  है  और  इसी  ने  उन्हें  विश्वविख्यात  बना  दिया  ।  इसी  से  उन्हें  आंतरिक  शांति  मिली  । 

23 September 2014

WISDOM

   ' या  देवी  सर्वभूतेषु  ------ माँ  नहीं  तो  जग  नहीं   ।  माँ  के  बिना  यह स्रष्टि  कैसे  संभव  होगी   ।
माता  ही  है,  जो  अपने  उष्ण  रुधिर  को  श्वेत-शीतल  दुग्ध  बनाकर  शिशु  का  पालन-पोषण  करती  है  ।
वही  है  जो  संबंधों  में  संवेदनशील  सौंदर्य  एवं  माधुर्य  का  रस  घोलती  है   ।
 नारी  माँ  बनकर  मानव  जीवन  को  ज्ञान  देती  है,  सद्विचार,  सुसंस्कार  व  सद्बुद्धि  प्रदान  करती  है  ।
जिसे  माता  का  संरक्षण  नहीं  मिल  पाया,  वह  अपने  व्यक्तित्व,  ज्ञान  व  बोध  की  द्रष्टि  से  सदा  अपूर्ण  बना  रहता  है  ।  आध्यात्मिक  भाषा  में  यह  माता  ही  तो ' महासरस्वती 'है,  जिसकी  शरण  में  ज्ञान  का  प्रकाश  मिलता  है  । 
                नारी  और  प्रकृति  दोनों  जीवन  की  आस्था  का  आधार  हैं  ।   ये  दोनों  आदिशक्ति  जगन्माता  का  ही  रूप  हैं---- जो  आदिशक्ति  हैं,  वही  प्रकृति  हैं  वही  शक्ति  हैं  और  वही  नारी  हैं  ।

         प्रसिद्ध  दार्शनिक  मैजिनी  ने  अपने  युग  में  कहा  था  यदि  मानव  सभ्यता  व  संस्कृति  को  अपना  अस्तित्व  बरकरार  रखना  है  तो  उसे  नारी  की  श्रेष्ठता  सुनिश्चित  करनी  पड़ेगी  । उन्होंने  अपने  निष्कर्ष  में  कहा----- ' नारी  व  प्रकृति  के  बिना  जीवन  संभव  नहीं  है  ।  नारी  मानव  को  जीवन  देती  है  और  प्रकृति  जीवन  के  लिये  उपयोगी  संसाधन  ।  जितने  अंशों  में  इनकी  उपेक्षा  होगी,  जीवन  उतना  ही  शक्तिहीन,  श्रीहीन  व  सम्रद्धिहीन  होता  चला  जायेगा  । '  मैजिनी  का  कहना  था-----
" मानव  जीवन  की  शक्ति  का  स्रोत  नारी  व  प्रकृति  के  सिवा  अन्य  कुछ  भी  नहीं  है  । 

22 September 2014

WISDOM

आत्मा  का  संदेश  और  ईश्वर  का  प्रकाश  परिष्कृत  निर्मल  मन  पर  ही  उतरता  है   । 
           विकसित  व्यक्तित्वों  और  प्रखर  प्रतिभा   परिष्कृत  मन  के  विकास  की  व्यक्तिगत  जीवन  में  दीख  पड़ने  वाली  झाँकी  मात्र  है   ।  त्याग,  बलिदान,  सेवा,  तप-साधना  की  कष्टसाध्य  प्रक्रिया  को  अपनाने  में  कितने  ही  व्यक्ति  असाधारण  आनंद  संतोष  एवं  गर्व  अनुभव  करते  हैं  ।  यह  सब  परिशोधित  उच्चस्तरीय  मन  की  ही  देन  है  ।

       जब  बर्नाड  शा  को  नोबुल  पुरस्कार  दिया  गया,  तो  उन्होंने  मात्र   मानपत्र  ही  स्वीकार  किया  और  लगभग  तीन  लाख  रुपये  की  धनराशि  यह  कहकर  वापस  कर  दी,  कि  इसे  जरूरतमंद  लेखकों,  अभावग्रस्तों,  रोगियों,  अपाहिजों  और  बेसहारों  में  वितरित  कर  दी  जाय  ,   ऐसा  ही  किया  भी  गया