19 October 2014

विचारों का परिष्कार

' मनुष्य  के  पास  जो  कुछ  भी  विशेषता  है,  जिसके  कारण  वह  स्वयं  उन्नति  करता  है  और  समाज  को  ऊँचा  उठा  ले  जाता  है,  वह  उसके  अंतर  की  विचारधारा  है,  चेतना  है  । '
     जीवन  की  अधिकांश  समस्याओं  की  जड़  विचारों  व  भावनाओं  में  धँसी  होती  है  ।  आत्मविश्वास  की  कमी,  भावनाओं  के  विक्षोभ,  विचारों  में  द्वन्द ,  इन  समस्याओं  के  कारण  है  ।
यदि  विचारों  का,  भावनाओं  का  परिष्कार  हो  जाए,  जिंदगी  में  आध्यात्मिक  द्रष्टिकोण  को  अपना  लिया  जाये  तो  जीवन  सहज  ही  समस्यामुक्त  हो  जायेगा  
                   अनीति  का  अंत  करने  के  लिए  परशुराम  ने  महाकाल  की  आराधना  की   । लोकमंगल  के  लिए  मांगने  आये  साधक  को  महाकाल  ने  परशु  अस्त्र  दिया,  जिससे  वे  उन  मस्तिष्कों  का  उच्छेदन  कर  सकें,  जो  पाप  और  अन्याय  से,  अविवेक  और  अज्ञान  से  ग्रसित  होकर  अपना  व  संसार  का  विनाश  कर  रहे  हैं    ।
  सभी  अनाचारियों  के  सिर  परशुराम  ने  काट  डाले------ इसका  आलंकारिक  विवेचन  यह  है  कि  उन्होंने  अनाचारी  को  सदाचारी  बना  दिया,  उनके  विचारों  को  आमूलचूल  परिवर्तित  कर  दिया  ।
परशु  अर्थात  सद्ज्ञान  के  प्रचार-प्रसार  द्वारा  जनमानस  का  परिष्कार  किया  ।  उनकी  रचनात्मक  और  संघर्षात्मक  शक्तियां  निर्धारित  दिशा  में  लगीं,  तो  लोकमानस  पर  उसका  प्रभाव  पड़ा  । 

18 October 2014

WISDOM

' सच्ची  साधना  क्रिया  में  नहीं  विचारों  एवं  भावनाओं  में  निहित  है   ।  धर्म  के  सभी  कर्मकांड  तभी  सार्थक  हैं  जब    कर्मकांड,  क़रने  वाला  प्रत्येक  व्यक्ति  करुणा, संवेदना, न्यायशीलता, संयम,  सदाचार,  के मार्ग  का  अनुसरण करे    । '
धर्म  तो  संवेदना ,  सेवा,    सहिष्णुता  का  पर्याय  है   ।  इनसान   का   धर्म   इनसानियत   है,  कर्तव्यपालन  है  ।  गीता  में   भगवान  ने  कहा  है   ----  अपने  कर्तव्य  का  पालन  करते  हुए  मरना  भी  कल्याणकारक  है        सारे  संसार  का  एक  ही  धर्म   विश्व  धर्म    हो----        इनसानियत,       मानवीयता ,
एक  ऐसा  मिलन  बिंदु  हो  जिसमे  सभी  धर्मों  की  श्रेष्ठताएँ  समाविष्ट  हों  तब  धर्म  के  नाम  पर  होने  वाले  लड़ाई-झगड़े  स्वत:  ही  समाप्त  हो  जायेंगे   ।


17 October 2014

WISDOM

' जीवन  एक  कला  है,  जो  लोग  जीवन  जीने  की  कला  नहीं  जानते  वे  जीते  हुए  भी  ठीक  से  नहीं  जी  पाते  |'   यह  कला  तो  वास्तव  में  मानसिक  वृति  है, जिसके  आधार  पर  साधनों  की  कमी  में  भी  जिंदगी  को  खूबसूरती  के  साथ  जिया  जा  सकता  है  ।  जिंदगी  को  हर  समय  हँसी-खुशी  के  साथ  अग्रसर  करते  रहना  ही  कला  है  । उसे  रो-पीटकर  काटना  ही  कलाहीनता  है  ।  जो  जीवन  की  अनुकूलता  व  प्रतिकूलता  के  परिवर्तनों  का  समभाव  से  उपभोग  कर  लेता  है,  वही  कुशल  कलाकार  कहा  जायेगा   ।

   छात्र  जीवन  की  बात  है  ।  तीर्थराम   को  दूध  बड़ा  पसंद  था  ।   कसरती  शरीर  था , वे  एक  हलवाई  से  प्रतिदिन  दूध  लेकर  पीते  थे  ।  पैसे  की  तंगी  होने  से  वे  एक  महिना  दूध  का  पैसा  नहीं  दे  पाए  और  तुरंत  बाद  लाहौर  के  एक  प्रतिष्ठित  कॉलेज  में  अध्यापक  पद  पर  नियुक्त  होने  पर  वहां  जाना  पड़ा  ।   अब  वे  प्रतिमाह  हलवाई  को  मनीआर्डर  से  राशि  भेजने  लगे  ।  लगभग  छः  माह  यह  क्रम  चला  तो  वह हलवाई  एक  दिन  समय  निकालकर  लाहौर  आया  और  तीर्थराम  से  बोला--- " आपका  तो  एक  महीने  का  उधार  था,  आप  तो  छः  माह  से  दिए  जा  रहें  हैं   मेरे  पास  सब  जमा  है  ।  वह  आपको  लौटा  दूंगा,  अब  आप  न  भेजा  करें  । "
   प्रोफेसर  बोले---- " आज  मेरा  स्वास्थ्य  अच्छा  है  तो  तुम्हारे  दूध  के  कारण  । तुमने  उस  समय  बिना  पैसे  मिले  ही  मुझे  अनवरत  स्नेहवश  दूध  दिया,  मैं  तुम्हारा  कर्ज  जीवन  भर  अदा  न  कर  पाउँगा  । "
    यह  तीर्थराम  आगे  चलकर  स्वामी  रामतीर्थ  बने  ।  उनने  जो  कार्य  किया  वह  संस्कृति  के  विस्तार  के  निमित  था  । 

16 October 2014

स्वास्थ्य का सद्विचारों एवं प्राकृतिक जीवनशैली से गहरा संबंध है

'  जिस  दिन  हम  अपने  सोचने  का  ढंग  सुधार  लेंगे,  उस  दिन  मानव  जीवन  पर  लगा  अस्वस्थता  का  ग्रहण  उतर  जायेगा  ।   '   यदि  व्यवहार  में  प्रकृति  का  साहचर्य  एवं  चिंतन  में  परमात्मा  का  साहचर्य  बना  रहे  तो  फिर  स्वास्थ्य-संकट  नहीं  खड़े  होते  । 

       माता  सत्यवती  ने  व्यास  जी  से  कहा----- " पुत्र ! ऐसा  लगता  है,  महाराज  शांतनु  पर  अब  किसी  औषधि  का  प्रभाव  नहीं  हो  रहा  है  ।  उनकी  असाध्य  व्याधि  बढ़ती  ही  जा  रही  है  । "
व्यास  ने  परमतपस्वी  महर्षि  अथर्वण  को  राजी  किया  कि  वे  साथ  चलकर  राजा  को  देखें  ।   राजनीति  से  सर्वथा  दूर  अथर्वण  का  हस्तिनापुर  आना  सभी  को  आश्चर्यचकित  कर  रहा  था  ।  उनने  महाराज  को  देखा  और  बोल  पड़े  कि  आप  प्रारब्ध  के  कुयोग  एवं  मनोग्रंथियों  से  पीड़ित  हैं  ।  अपनी  जीवनशैली  आपको  पूरी  तरह  बदलनी  होगी  ।  शांतनु  ने  पूरा  सहयोग  देने  का  आश्वासन  दिया  ।
        चिकित्सा  प्रारंभ  हुई  ।  औषधिकल्प,  मंत्र  प्रयोग,  कई  अनुष्ठान  एवं  प्रायश्चित  प्रयोग  किये  गये  ।   शांतनु  की  देह  एवं  मन;स्थिति  धीरे-धीरे  बदलने  लगी  ।  ऋषि  की  इस  आध्यात्मिक  चिकित्सा  ने  उन्हें  पूर्ण  स्वस्थ  कर  दिया   ।
     साक्षी  बने  महर्षि  व्यास  ने  कहा---- " ऋषिवर ! आप  द्वारा  स्थापित  यह  पुण्य  कार्य  चलता  रहे,  इसलिए  चौथे  वेद-- ' अथर्ववेद ' का  प्रणयन  जरुरी  है  ।
    अथर्वण  ऋषि  के  आशीर्वाद  से   अथर्ववेद  रचा  गया  और  वह  आध्यात्मिक  चिकित्सा  का  स्थापक  ग्रंथ  बना  । 

15 October 2014

समर्पित साधिका

साम्यवाद   के  जनक  कार्ल मार्क्स  ने  अपनी  पत्नी  जेनी  के  लिए  कहा  था---- " यदि  वह  न  होती  तो  शायद  यह  न  कर  पाता  जो  कर  सका  । "  उनका  सारा  जीवन  अभावों  एवं  कष्ट  कठिनाइयों  में  बीता  । विषमताओं  में  रहते  हुए  भी  ' दास  कैपिटल ' के  रूप  में  वह  कम्युनिज्म  की  सार  गर्भित  योजना  प्रस्तुत  कर  सके,  इन  अमूल्य  विचारों  की  उपलब्धि  का  श्रेय  प्रत्यक्ष  रूप  से  भले  ही  मार्क्स  को  जाता  हो,  पर  वह  जानते  थे  कि  उनकी  इस  चिंतन  साधना  को  सुचारू  रूप  से  किसने  गतिमान  किया  ?
  यह  और  कोई  नहीं  उनकी  पत्नी  थीं----- श्रीमती  जेनी मार्क्स   ।
  जेनी  एक  संपन्न  घराने  की  बेटी  थीं  ।   उन्होंने  जब  यह  निश्चय  किया  कि  मार्क्स  की  ही  जीवन  सहचरी  बनेगीं  तो  पिता  एवं  परिवार  वालों  ने  बहुत  समझाया  कि  उस  व्यक्ति  के  पास  अभ्यस्त  जीवन  सुविधाओं  को  प्राप्त  कर  पाना  तो  क्या  दो  वक्त  पेट  भर  भोजन  पाना  भी  अनिश्चित  होगा   ।
           इस  पर  जेनी  ने  उत्तर  दिया---- " तो  क्या  हुआ  ?  हजारों  लोग  ऐसे  भी  तो  हैं  जिन्हें  एक  वक्त  भी  खाना  नसीब  नहीं  होता   । " उन्होंने  कहा---- "   सामाजिक  क्रांति  जब  जरुरी  हो  जाती  है  तब  विचार  लोगों  के  जीवन  में  लागू  होने  के  लिए  जबर्दस्ती  अपना  मार्ग  ढूंढ  निकालते  हैं  और  समाज  को  एक  नया  रूप  प्रदान  करते  हैं  ।  मार्क्स  इसी  घटनाक्रम  के  लिए  विचारों  की  खोज  कर  रहें  हैं  ।  उनके  इस  कार्य  में  सुख  भी  है,  तृप्ति  और  शांति  भी  ।  मैं  भी  इसी  की  भागीदारी  के  लिए  उनसे  जुड़  रही  हूँ  । "
उनकी  द्रढ़ता  के  आगे  सभी  को  झुकना  पड़ा   ।
वह  कहा  करती  थीं----- " मेरा  कर्तव्य  हर  परिस्थिति  में  पति  को  सहयोग  देना  है  ।  मुझे  अपने  कष्टों  की  चिंता  नहीं  है,  मुझे  गर्व  है  इस  बात  का  कि  मैंने  एक  ऐसे  व्यक्ति  को  अपना  जीवन  साथी  चुना  है  जिसके  अन्त:करण  में  पीड़ित  मानवता  के  लिए  अपार  वेदना  है  । "
   जेनी  को  पाकर  मार्क्स  धन्य  हो  गये  । 

14 October 2014

WISDOM

खलील  जिब्रान  ने  एक  छोटी  सी  कथा  लिखी  है   ।  इस  कथा  में  उन्होंने  लिखा  है  कि  उनका  एक  मित्र  अचानक  एक  दिन  पागलखाने  में  रहने  चला  गया  ।  जब  वह  उससे  मिलने  गया  तो  उसने  देखा  कि  उसका  वह  मित्र  पागलखाने  के  बाग  में  एक  पेड़  के  नीचे  बैठा  मुस्करा  रहा  था   ।  पूछने  पर  उसने  कहा----- " मैं  यहाँ  बड़े  मजे  से  हूँ  ।  मैं  बाहर  के  उस  बड़े  पागलखाने  को  छोड़कर  इस  छोटे  पागलखाने  में  शांति  से  हूँ  ।   यहाँ  पर  कोई किसी  को  परेशान  नहीं  करता  ।  किसी  के  व्यक्तित्व  पर  कोई  मुखौटा  नहीं  है  ।  जो  जैसा  है,  वह  वैसा  है  ।  न  कोई  आडंबर  है,  न  कोई  ढोंग  । "
       यह  कहकर  उसने  खलील  जिब्रान  को  आश्चर्य  में  डालते  हुए  कहा ------ " मैं  यहाँ  पर  ध्यान  सीख  रहा  हूँ,  क्योंकि  मैं  जान  गया  हूँ  कि  ध्यान  ही  सभी  तरह  के  पागलपन  का  स्थायी  व  कारगर  उपचार  है  ।  यही  सही  विधि  है,  स्वयं  को  खोजने  की  और  स्वस्थचित  होने  की   । "
   ' ध्यान  न  हो  तो  जीवन  में  पागलपन  स्वाभाविक  है  । '

13 October 2014

WISDOM

विभीषण  ने  रावण  की  अनीति  के  विरुद्ध  आवाज  उठाई,  यह  जानते  हुए  भी  कि  इससे  उसका  जीवन  संकट  में  पड़  सकता  है  |  भरी  सभा  में  उसने  कहा----
     तव  उर  कुमति  बसी  बिपरीता  ।  हित  अनहित  मानहु  रिपु  प्रीता   । ।
  हे  अग्रज  ! आपके  अंदर  कुमति  का  निवास  हो  जाने  से  आपका  मन  उलटा  चल  रहा  है, उससे  आप  भलाई  को  बुराई  और  मित्र  को  शत्रु  समझ  रहें  हैं   ।
   झूठी  चापलूसी  करने  वाले  सभासदों  के  बीच  अपने  भाई  विभीषण  की  नेक  सलाह  भी  विद्वता  की  मूर्ति  रावण  को  उलटी  ही   लग  रही  थी  ।  क्रोध  में  रावण  कह  उठा--- " तू  मेरे  राज्य  में  रहते  हुए  भी  शत्रु  से  प्रेम  करता  है  ।  अत: उन्ही  के  पास  चला  जा  । " ऐसा  कहकर  उसने  भाई  को  लात  मारी  और  सभा  से  निकाल  दिया  ।
          समझाने  पर  भी  जो  खोटा  मार्ग  न  छोड़े, उससे  संबंध  ही  त्याग  देना  चाहिए,  यही  सोचकर  विभिषण  लंका  छोड़कर  भगवान  राम  की  शरण  गये  और  अपना  उद्धार  किया   ।