23 June 2017

जिन्होंने संघर्ष करते हुए एक पत्रकार के कर्तव्य का पालन किया ----- बेन हैरिस

  अमेरिकन  पत्रकारिता  के  जनक -- बेन  हैरिस   का   आदर्श  था   झूठ  का  भंडाफोड़   और  उसके  परिणामो  से   जन  साधारण  की  रक्षा  l  उनका  विचार  था  कि  बुद्धिजीवी  और   विवेकशील  लोगों  का  कर्तव्य  है  कि  वे  सामान्य  जनता  को   उन  सभी  कुचक्रों  से  बचाएं   जो  लोकहित    की  द्रष्टि  से  खतरनाक  सिद्ध  हो   सकते  हैं   l     25  सितम्बर  1690  की  प्रात:  अमेरिका  में  प्रथम  समाचार  पत्र  प्रकाशित  हुआ  ' पब्लिक -अकरेन्सेज ' l  इससे  पूरे  नगर  में  तहलका  मच  गया  क्योंकि  इसमें  उन्होंने   औपनिवेशिक   सरकार  की  उन  नीतियों    का  पर्दाफाश  कर  दिया  था  जो  जनता  के  लिए  भयानक  रूप  से  घातक  थीं   l  नागरिक  चेतना  को   जाग्रत  करने  के  लिए  यह  साहसिक  कदम  उठाया  l
  बेन  हैरिस  ने  ' लन्दन  पोस्ट '  नामक  अर्द्ध  साप्ताहिक  शुरू  किया   जो  लन्दन  से  अमेरिका  जा  पहुंचा   

22 June 2017

WISDOM

  प्रतिभा  वस्तुतः  कोई  ईश्वरीय  देन  नहीं   होती   l  वह  तो  मनुष्य  की  अपनी   जिज्ञासा ,  अपनी  कर्म निष्ठा,  लग्न  और   तत्परता   के  संयोजन  का  ही  एक  स्वरुप  होती  है  जो  दिन - दिन  अभ्यास  के  द्वारा  विकसित  होती  जाती  है  l
  मनुष्य  अपनी  दीन-हीन  दशा  से  समझौता  नहीं  कर  ले  और  एक -एक  कदम  प्रगति  के  पथ  पर  बढ़ाता  रहे  तो  उसे  उसका  लक्ष्य  मिल  ही  जाता  है  l  ' बहुत  से  व्यक्ति  यह  भूल  करते  हैं  कि  सफलता  के  लिए  जो  धैर्य   और  अनवरत  श्रम  चाहिए ,  उसके  लिए  एक -एक  कदम  बढ़ाकर  मंजिल  छू  लेने  की   जो  योजना  बनाई  जानी  चाहिए ,  मन  में  अटल  विश्वास  रखना  चाहिए   ,  वह  रख  नहीं  पाते  l   उसी  का  परिणाम  यह  होता  है  कि  सफलता  उनके  लिए  ' खट्टे अंगूर '  बन  जाया  करती  है   l '

21 June 2017

गुलाम से महापुरुष बनने वाले ------ बुकर टी. वाशिंगटन

 ' बुकर   टी.  वाशिंगटन  का  जीवन  हम  सबके  लिए  खास  तौर  पर  साधनहीन  गरीब  युवकों  के  लिए  आदर्श  और  प्रेरणादायक  है  l  उनकी  गरीबी  की  कोई  सीमा  न  थी ,  क्योंकि  गुलामों  का  सब  कुछ  उनके  मालिकों  का    होता  है  l  समाज  में  उनको  किसी  प्रकार  का  अधिकार  न  था  और  प्रगति  के  कोई  साधन   उनको  प्राप्त  न  थे  l पर  ऐसी  स्थिति  में  भी  वे  केवल  अपनी  अन्त:प्रेरणा  से  ऊपर  उठे  और  सैकड़ों  प्रकार  की  कठिनाइयाँ  उठाकर    शिक्षा  प्राप्त  की  l '
               उनकी   सबसे  बड़ी  महानता  तो  यह  थी  कि  शिक्षा  प्राप्त  कर  के   उसका  उपयोग  अपने  निजी  परिवार  के  सुख  के  लिए  करने  के  बजाय,  उसके  द्वारा   अपनी  जाति  के  अन्य  व्यक्तियों   को  ऊँचा   उठाने  का  प्रयत्न  ही  वे  निरन्तर  करते  रहे   l   सह्रदयता  और  सदभावना  जैसे  गुणों  के  आधार  पर   कार्य  संचालन  करते  हुए   गोरे  व्यक्तियों  की    सहायता  से  ही  बुकर  ने  नीग्रो  जाति  के    उद्धार  का  एक  महान  आयोजन  पूरा  कर   दिखाया  l  उनके  समय   में  भी   दुष्ट  प्रकृति  के  गोरों  ने  " कू क्लक्स  क्लेन "  नामक  गुप्त  दल  स्थापित  कर  लिया  था   जो  गोरों  की  प्रतियोगिता  करने  वाले  नीग्रो  लोगों  को   रात  में  आक्रमण  कर  के  तरह -तरह  से   दण्डित    करता  था   ,  लेकिन  बुकर  ने  कभी  अपनी  सदभावना  में  कमी  नहीं   आने  दी  l  वे  अपने  जीवन  के  अंत  तक  काले  और  गोरों   में  एकता , सहयोग  और  प्रेम  का  प्रचार  करते  रहे   l  इसके  फलस्वरूप  आज  भी    उन्हें  अमेरिका     का  महान  पुरुष   माना  जाता  है   l 

20 June 2017

जिसके अदभुत त्याग और अपूर्व सेवा -भाव की गाथा देश -विदेशों में लिखी -पढ़ी जाती है ------ फ्लोरेंस नाइटिंगेल

  सेवा - धर्म  की  सच्ची  अनुरागिणी  होने  के  कारण  फ्लोरेंस नाइटिंगेल ( जन्म  1820) मानव जाति  को  एक परम  पिता  की  संतान  समझती  थीं  और  अवसर  मिलने  पर  केवल  इंग्लैंड  ही  नहीं  , अन्य  किसी  भी  देश  में  स्वास्थ्य - संवर्धन  की  योजनाओं  मे  सहयोग  देने  को  तैयार  रहती  थीं  l
 उन्होंने  सोचा  कि शिक्षा -प्रचार  के विचार प्रधान युग में  यह  कोई  आवश्यक  नहीं  कि  हम  मौके  पर  जा   कर  ही  लोगों  की  सेवा  करें ,  दूर  रह  कर  भी   उनकी  अवस्था  का  पता  लगा  सकते  हैं  और  लिखा - पढ़ी  के  द्वारा   उनका  हित  कर  सकते  हैं  l    इसलिए  उन्होंने  भारत सरकार  द्वारा   प्रकाशित  विभिन्न  विषयों  की  रिपोर्टों  का  अध्ययन  करना  शुरू  किया  और  भारतवर्ष  से  सम्बन्ध  रखने  वाले  देशी - विदेशी  मुख्य  व्यक्तियों  से   मिलकर  बातचीत  और  पत्र  व्यवहार  करने  लगीं  l
           भारत  की  स्वास्थ्य  सम्बन्धी  समस्याओं  पर   उनकी   सम्मति  बड़ी   तथ्यपूर्ण  मानी  जाने  लगी  l  उनके  प्रयास  से   भारतवर्ष  की  स्वास्थ्य  सम्बन्धी  अवस्था  की  जाँच करने  के  लिए  एक ' सैनेटरी  रायल  कमीशन ' नियुक्त  किया  गया ,  जिसने  तीन - चार  वर्ष  तक  पूरी  छानबीन  कर के   इस  सम्बन्ध  में  2028  पृष्ठों  की  एक  रिपोर्ट  तैयार  की  l  उस  समय  लार्ड  लारेंस  भारत  के  वायसराय  होकर  आ  रहे  थे  ,  यह  जानकर  नाइटिंगेल  उनसे  मिली  और  भारतीय  स्वास्थ्य  सुधार  के  सम्बन्ध  में  काफी  विचार - विमर्श  किया   l  उनकी  बातों  से  वायसराय  इतने  प्रभावित  हुए   कि  भारत  आकर  कुछ  ही  महीनों  में  ' सैनेटरी   कमीशन  ' की  सिफारिशों  के  अनुसार  काम  करना  आरम्भ  कर  दिया   l
  उनके  इन  कार्यों  को  देखकर  उनके  एक  मित्र  उन्हें  ' भारत  के   गवर्नर  जनरलों '  पर  शासन  करने  वाली  ' गवर्नरनी '  कहा  करते  थे  l  उनके  समय  में  जितने  भी  वायसराय  यहाँ  आये ,  वे  प्राय:  सभी  इंग्लैण्ड  से  चलने  से  पूर्व   नाइटिंगेल  से  भेंट  कर  के  भारत  में  स्वास्थ्य  सुधार  के  मामलों  में  उनकी  सलाह  अवश्य  ले  लिया  करते  थे   l
1877  में   जब  भारतवर्ष  में  घोर  अकाल  पड़ा   तो  उनका   ध्यान  यहाँ  के  ' जल कष्ट '  की  तरफ  आकर्षित  हुआ  l  उस  समय  उन्होंने  अपने  एक  परिचित  सज्जन  को  लिखा ---- " मैं  18  वर्षों  से  भारतीय  स्वास्थ्य  सुधार   सम्बन्धी  कार्य  और  प्रचार  कर  रही  हूँ  ,  परन्तु  गत  चार  वर्षों  से  मेरे  मन  में  एक  नवीन  भावना  उत्पन्न  हुई  है  - वह  यह  कि  जब  लोगों  के  जीवन  ही  भयानक  संकट  में  हैं  ,  तब  उनके  लिए  स्वास्थ्य  विषयक  प्रयत्नों  से  क्या  लाभ  ?  बेचारे  भारतीय  कृषक   अतिवृष्टि , अनावृष्टि ,  जमीदार  और  ऋण  देने  वालों  के  कारण  बुरी  तरह  मर   रहे  हैं  ,  यदि  इन  लोगों  के  लिए  जल  आदि  का  कोई  प्रबंध  कर  दिया  जाये   तो  उनकी  रोटी  की  चिन्ता  मिट  जाएगी   l "   उन्होंने  भारतीय  किसानों  की  आर्थिक  दशा  ,  उनकी  खेती , शिक्षा , लेन-देन  सम्बन्धी   बातों  का    ज्ञान  प्राप्त  कर  के    उनके  सुधार  के  सम्बन्ध  में  अधिकारियों  से  पत्र  व्यवहार  करने  लगीं   l 
  उन्होंने  भारतवर्ष  में   स्वास्थ्य , शिक्षा   और  कृषि  सम्बन्धी  सुधारों  के  लिए   बहुत  अधिक  प्रचार  व  कार्य  किया   l  

18 June 2017

आदर्श वीरांगना ------- रानी लक्ष्मीबाई

 स्त्री  हो  या  पुरुष  उसकी  श्रेष्ठता  का  आधार  उसका  उज्ज्वल  चरित्र   और  सच्ची  कर्तव्य  निष्ठा  है   l 
  उस  कठिन  समय  में  जबकि  देश  में  भयंकर  राजनीतिक  भूचाल  आया  हुआ  था और  बड़े - बड़े  राजभवन  डगमगा  रहे  थे  ,  झाँसी  की  रानी  द्रढ़ता  पूर्वक  अपने  राज्य  में  शान्ति  और  सुव्यवस्था  कायम  रख कर  प्रजा  को  सुखी  बनाने  का  प्रयत्न  कर  रहीं  थीं   l   उनकी  आयु  बहुत कम   थी  पर  उन्होंने  अपना  ध्यान  शान -  शौकत  और  सुखोपभोग  में  न  लगाकर     परोपकार  और  कर्तव्य पालन  को  अपना  धर्म  समझ   रखा  था   l  वे  एक  श्रेष्ठ  शासन कर्ता  और  चतुर  राजनीतिज्ञ   की  तरह  शासन  कार्य  करती  थीं   l 

17 June 2017

पंजाब केसरी --- लाला लाजपत राय

भारत  के  स्वाधीनता   संग्राम   में  लाला  लाजपत  राय  का  अति  महत्वपूर्ण  स्थान  है   l   उनकी  आकांक्षा  वकील  बनने  की  थी   l  उनकी  इस  आकांक्षा  के  पीछे  एक  महान  मंतव्य  था   जिसने  उन्हें  साधारण  से  असाधारण  व्यक्ति  बना  दिया   l  लाला  लाजपत  राय  के  ह्रदय  में   देश  की  पराधीनता  और  समाज  की  पतितावस्था  की  बड़ी  गहरी  कसक  थी  l  उनका  ह्रदय  उसके  उद्धार  और  सेवा  करने  के  लिए  व्याकुल  रहता  था  l   उन  दिनों  वकालत  ही  एक  ऐसा  क्षेत्र  था  ,  जिसमे  प्रवेश  लेकर   आर्थिक , सामाजिक  तथा   राजनीतिक  समस्याओं  को  सम्मानपूर्वक  हल  करने  का  अवसर  रहता  था  l
  उन्होंने  वकालत  की  यह  पढ़ाई  किस  दरिद्रता  का  सामना  करते  हुए  की  थी  इसका  परिचय  उनके   दिए  इस  विवरण  से  ही  मिल  जाता  है ----- " लॉ  कॉलेज  के  मेरे  प्रारंभिक  दो  - तीन  माह  तो  असहनीय  कठिनाई  में  बीते  l भोजन  का  अभाव  जब तब  था  जिसे  मैं   पानी  पी- पी  कर  पूरा  करने  का  प्रयत्न  किया  करता  था  l  भोजन  का  आभाव  मेरी  चिंता  का  इतना  बड़ा  विषय  नहीं  था  जितना  कि चिंता  कॉलेज की  फीस और  छात्रावास  के  शुल्क  की  चिंता  थी  l  बड़े  संघर्ष  और  प्रयत्न  के  बाद   छह  रूपये  मासिक  की  छात्रवृति  मिली  l  उस  छात्रवृति  में  से  दो  रूपये  कॉलेज  की  फीस  देता  था ,  तीन  रूपये  वकालत  का  शुल्क  और  एक  रुपया  मासिक  छात्रावास  का  निवास  शुल्क  l  अब  मेरे  भोजन  व  अन्य  खर्च  के  लिए  मेरे  पास  केवल  एक  रुपया  बचता  था  l   ट्यूशन  मिल  नहीं  रही  थी   और  उसके  लिए  समय  भी  नहीं  था  | पुस्तकें  मित्रों  से  मांग  लाता  था  और  निर्धारित  समय  में  वापिस  कर  आता  था  | "
      लाला  लाजपत राय  एक  आत्म निर्मित  व्यक्ति  थे  ,  उन्होंने  अपने  को  श्रम  की  तपस्या  में  तिल- तिल  तपा  कर  गढ़ा  था   l 

16 June 2017

धर्म से ऊपर उठकर अध्यात्म के उस ईश्वरीय साम्राज्य में पहुँच गये थे ------- मलिक मुहम्मद जायसी

व्यक्ति  धर्म  के  क्षेत्र  में  हिन्दू , मुसलमान, सिख . पारसी , बौद्ध , जैन  हो  सकता  है   पर  अध्यात्म  के  क्षेत्र  में  तो  बस  एक  आत्मा  है   l  जायसी  हिन्दी  के  प्रमुख  संत - कवियों  में  से  जाने  जाते  हैं   l ' पद्मावत '  उनका  प्रसिद्ध  ग्रन्थ  है  l  वे    सभी  धर्मों  की  अच्छाइयों  को  स्वीकार  कर  लेने  वाले  थे   l बचपन   में  उन्हें  चेचक  निकली  थी , जिससे  चेहरा  कुरूप  हो  गया  था    और  वे  अपनी  एक  आँख  भी  खो  बैठे  थे  l  जायसी  अपनी  कुरूपता  और  निर्धनता  को  लेकर  कभी  दुःखी  नहीं  हुए  ,  उन्होंने   ईश्वर   की  उस  इच्छा  को  समझा   कि  क्यों  उन्हें  कुरूपता  और  निर्धनता  से  विभूषित  किया  गया  l  यह  कुरूपता  और  निर्धनता  उनके  लिए  वरदान  बन  गई   l  उन्होंने  उस  सौन्दर्य  को  पा  लिया  जो  सत्य  था  l