31 October 2014

लौहपुरुष सरदार पटेल

' महामानव  निजता  में  नहीं,  व्यापकता  में  जीते  हैं  ।  उन्हें  अपने  निजी  दुःखों  से  जैसे  सरोकार  ही  नहीं  होता,  लेकिन  जनजीवन  के  दुःख  उन्हें  पीड़ित  करते  हैं  । '
    गांधी  जी  की  मृत्यु  होने  पर  सरदार  पटेल  को  इतना  मानसिक  धक्का  लगा  कि  उनकी  स्वाभाविक  हँसी  बिलकुल  गायब  हो  गई  और  बीस  दिनों  के  भीतर  ही  उनको  ह्रदय  रोग  हो  गया  ।  उन्होंने  कहा----                     "  गांधी    जी  की  सही  जरुरत  तो  देश  को  अब  है  अभी  देश  को  एक  नई  क्रांति  की  जरुरत  है  । ऐसी  क्रांति  जो  देश  के  नागरिकों  को  सही  ढंग  से  जीना  सिखाए,  राजनेताओं  और प्रशासकों  को  स्वच्छ  प्रशासन  की  समझ  दे  और  देश  में  भ्रष्टाचार  का  अँधेरा  बढ़ने  न  दे  । "  कहीं  अंदर  ही  अंदर  वे  भ्रष्टाचार  से    चिंतित  थे  ।
   उनका  कहना  था  कि  आज  समूची  दुनिया  को  क्रांति  के  एक  ऐसे  वैचारिक  आधार  की  जरुरत  है,  जो  व्यक्ति,  परिवार  व  समाज  की  समस्याओं  का  समाधान  प्रस्तुत  कर  सके  और  लोगों  के  दिलों  को  आध्यात्मिक  भावनाओं  से  जोड़ने  में  समर्थ  हो,  जो  पुरातन  का  सम्मान  करते  हुए  आधुनिकता  को  स्वीकार  करे  ।
             जर्मनी  के  एकीकरण  में  जो  भूमिका  बिस्मार्क  ने  और  जापान  के  एकीकरण  में  जो  कार्य  मिकाडो  ने  किया,  उनसे  बढ़कर  सरदार  पटेल  का  कार्य  कहा  जायेगा,  जिनने  भारत  जैसे  उपमहाद्वीप  को,  विभाजन  की  आँधी  में  टुकड़े-टुकड़े  होने  से  रोका  । एक - दो  नहीं,  सैकड़ों  राजा   भारतवर्ष  में  विद्दमान  थे  ।  उनका  एकीकरण  सरदार  पटेल  जैसा  कुशल  नीतिज्ञ  ही  कर  सकता  था  ।  इसी  कारण  उन्हें  लौह  पुरुष  कहा  जाता  है  ।  हमें  फिर  वैसी  ही,  उसी  स्तर  की  जिजीविषा  वाली  शक्तियों  की  जरुरत  है  । 

30 October 2014

दूरदर्शी विवेकशीलता

लक्ष्य  निर्धारित  कर  तदनुसार  चलना  ' विजनरी ' बनना  कहा  जाता  है  ।  आज  हम में  द्रष्टिबोध  नहीं  है ।
हमें  अपना  लक्ष्य  तय  करना  नहीं  आता  ।  साधनों  का  संचय  करें  या  अपने  जीवन  मूल्यों  के  प्रति  सजगता  बढ़ाएं   ।  परिवार  को  धन  कमाने  की  फैक्टरी  बनाएँ  या  आदर्श  गुणों  की  खान  । 
जब  लक्ष्य  ही  स्पष्ट  नहीं  है  कि  जाना  कहां  है  ?  कैसे  जाना  है  ? तो  जीवन  यात्रा  सुगम  कैसे  हो  !
      अनीति  एवं  गलत  राह  से  कभी  भी  श्रेष्ठ  मंजिल  की  प्राप्ति  संभव  नहीं  है  ।  यह   राह  कितनी  भी  साधन-सुविधाओं  से  भरी-पूरी  क्यों  न  हो,  परंतु  इसका  अंत  अत्यंत  भयावह  होता  है  ।
    सामान्य  रूप  से  गलत  एवं  अनीतिपूर्ण  राह  में  आकर्षण  प्रबल  होता  है  क्योंकि  इस  राह  पर  चलने  वालों  की  संख्या  सर्वाधिक  होती  है   आजकल  समाज  में  संपन्न  एवं  संपदावान  व्यक्ति  ही  बड़ा  एवं  श्रेष्ठ  कहलाता  है,  भले  ही  संपन्नता  अनीतिपूर्वक  उपलब्ध  की  गई  हो  ।  जब  धन-संपदा  को  ही  प्रतिष्ठा  का  दरजा  मिल  गया  तो  व्यक्ति  अनीति  एवं  अनाचार  को  अपनाकर  भी  दौलत  हासिल  करना  चाहता  है  और अनीति  की  राह  पर  चलकर  भी  रातोंरात  शोहरत  को  पाना  चाहता  है    । ।
   अनीति  और  गलत  राह  पर  चलकर  पाई  गई  यह  चकाचौंध  दूसरों  पर  अपना  प्रभाव  कितना  ही  क्यों  न  डाले,  परंतु  अंतर्मन  खोखला  ही  रहता  है,  कभी  भी  तृप्ति  का  एहसास  नहीं  कर  पाता  ।
                       जबकि  सन्मार्ग  सदा  श्रेष्ठ  लक्ष्य  की  ओर  पहुंचाता  है,  भले  ही  इसके  लिए  कितनी  भी  कसौटियों  एवं  परीक्षाओं  का  सामना  क्यों  न  करना  पड़े  ।   सच्चा  सूरमा  वही  है  ,  जो  सच्चाई  की  राह  पर  अडिग  रहे  और  समस्याओं  के  झंझावातों  का  साहस,  धैर्य  एवं  विवेकपूर्वक  सामना  करता  रहे  ।
सच्चाई   के   पथ  पर  चलकर  प्राप्त  उपलब्धि  का  आनंद  और  अनुभव  तो  केवल  वही  जान  सकता  है,  जिसने  दीपक  के  समान  जलकर  इसे  हस्तगत  किया  हो  । 

29 October 2014

WISDOM

जिन्हें  जीवन  की   थोड़ी  सी  भी  समझ  है,  वे  इस  बहुमूल्य  जीवन  को  दूसरों  पर  दोषारोपण  करने  में  नहीं  गँवाते, वे  इस  समय  को  ईश्वर  के  स्मरण  के  साथ  स्वयं  की  त्रुटियों  को  समझने  व  सुधारने  में  लगाते  हैं   ।

      एक  बाप  ने  बेटे  को  भी  मूर्तिकला  सिखाई  ।  दोनों  हाट  में  जाते  और  अपनी-अपनी  मूर्तियाँ  बेचकर  आते   ।  बाप  की  मूर्ति  दो  रूपये  की  बिकती  तो  बेटे  की  मूर्ति  का  मूल्य  आठ-दस  आने  ही  मिलता  ।   हाट  से  लौटने  पर  बेटे  को  पास  बैठाकर  बाप,  उसकी  मूर्तियों  में  रही  त्रुटियों  को  समझाता  और  अगले  दिन  उन्हें  सुधारने  के  लिए  कहता  ।  यह  क्रम  वर्षों  चलता  रहा  ।  लड़का  समझदार  था,  उसने  पिता  की  बातें  ध्यान  से  सुनी  और  अपनी  कला  में  सुधार  करने  का  प्रयत्न  करता  रहा  ।
    कुछ  समय  बाद  लड़के  की  मूर्तियाँ  भी  दो  रूपये  में  बिकने  लगीं  ।  बाप  अब  भी  उसी  तरह  समझाता  और  मूर्तियों  में  रहने  वाले  दोषों  को  सुधारने  के  लिए  कहता  ।   बेटे  ने  और  अधिक  ध्यान  दिया  तो  कला  और  भी  अधिक  निखरी,  अब  मूर्तियाँ  पाँच-पाँच  रूपये  की  बिकने  लगीं  ।  सुधार  के  लिए  समझाने  का  क्रम  बाप  ने  तब  भी  बंद  नहीं  किया  ।
         एक  दिन  बेटे  ने  झल्लाकर  कहा---- " आप  ! तो  दोष  निकालने  की  बात  बंद  ही  नहीं  करते, मेरी  कला  अब  तो  आपसे भी  अच्छी  है,  मुझे  मूर्ति  के  पाँच  रूपये  मिलते  हैं  जबकि  आपको  दो  रूपये  ही  मिलते  हैं  ।
   बाप  ने  कहा---- " पुत्र ! जब  मैं  तुम्हारी  उम्र  का  था,  तब  मुझे  अपनी  कला  की  पूर्णता  का  अहंकार  हो  गया  और  फिर  सुधार  की  बात  सोचना  छोड़  दिया  ।  तब  से  मेरी  प्रगति  रुक  गई  और  दो  रूपये  से  अधिक  की  मूर्तियाँ  न  बना  सका  ।  मैं  चाहता  हूँ  कि  वह  भूल  तुम  न  करो  ।  अपनी  त्रुटियों  को  समझने  और  सुधारने  का  क्रम  सदा  जारी  रखो,  ताकि  बहुमूल्य  मूर्तियाँ  बनाने  वाले  श्रेष्ठ  कलाकारों  की  श्रेणी  में  पहुँच  सको  । "

28 October 2014

WISDOM

शेख सादी  बड़े  मशहूर  शायर  थे,  पर  साथ  ही  बेहद  स्वाभिमानी  और  सादगीपरस्त  इनसान  भी  थे  ।
   एक  बार  सल्तनत  के  बादशाह  उनकी  शायरी  सुनने  आये   और  अपने  साथ  एक  हीरा  लाए  ।  वो  हीरे  को  शेख  सादी  को  देते  हुए  बोले---- " आप  ये  तोहफा  कबूल  कर  लें  ।  इसको  बेचकर  जो  कीमत  मिलेगी,  उसमे  आपका  गुजारा  आराम  से  हो  जायेगा  ।  "
          शेख  सादी  बोले---- "सुल्तान ! पैसे  से  किसी  को  आराम  नहीं  मिलता, उलटे  इससे  आदमी  की  सोच  में  बेईमानी  और  मक्कारी  ही  जन्म  लेती  है  । "  यह  कहकर  उन्होंने  हीरा  बादशाह  के  साथ  आए  जुलूस  के  बीच  फेंक  दिया  ।  उसे  झपटने  के  लिए  लोगों  में  मारपीट  शुरू  हो  गई  ।  ये  देखकर  बादशाह  समझ  गए  कि  आत्मिक  आनंद  ही  सच्चा  आनंद  है,  किसी  सांसारिक  वस्तु  से  उसकी  तुलना  करना  नासमझी  है   । 

WISDOM

सामान्य  जीवन  में  व्यक्ति  के  दुखों  का  मूल  कारण  बिखरी  एवं  बेपरवाह  इच्छाओं  का  पनपना  है  ।  इच्छाएँ  कभी  पूरी  नहीं  होतीं,  वरन  हम  इनके  संजाल  में  उलझते  चले  जाते  हैं  । परिणामस्वरुप  जीवन  दुःखों  का  आगार  बन  जाता  है  ।  दुःखों  से  फिर  मन  में  शिकवे  और  शिकायतों  की  अनकही  व्यथा  घर  कर  जाती  है  ।  इच्छाओं  का  उठना  स्वाभाविक  है,  परंतु  इच्छा  श्रेष्ठ  एवं  शुभ  होनी  चाहिए  ।   ऐसी  इच्छाएँ  हमारे  जीवन  को  सन्मार्ग  में  प्रेरित  करती  हैं  जिससे  जीवन  खुशहाल  व  समृद्ध  होता  है  ।
      एक  श्रेष्ठ  चाहत  हमारे  जीवन  को  बदलने  में  सक्षम  होती  है  और  एक  बुरी  कामना  जीवन  को  गहरे दलदल  में  धकेलने  के  लिए  पर्याप्त  होती  है   ।   अत: हमें  श्रेष्ठ  एवं  मंगलकामना  करनी  चाहिए  ताकि  व्यक्तित्व  कई  आयामों  में  प्रस्फुटित  हो  सके  ।
' सफल  एवं  गरिमायुक्त  व्यक्तित्व  के  निर्माण  में  श्रेष्ठ  कामनाओं  का  अपार  योगदान  होता  है  । '

24 October 2014

Wisdom

दीपावली  बुराई  पर  अच्छाई  की  जीत  का  पर्व  है  तथा  दीपों  की  श्रंखला  प्रज्वलित  कर  अज्ञान  और  अंधकार  के  पराजय  एवं  पराभव  का  महापर्व  है  ।  सद्ज्ञान  और  सद्बुद्धि  के  साथ  सम्रद्धि  का  समन्वय  ही  इस  पर्व  की  प्रेरणा  है  ।  हमारे  जीवन  में  यह  चरितार्थ  हो , तभी दीपावली  मनाने  की  सार्थकता  है  । 
        लक्ष्मी  कमल  पर  आसीन  हैं  ।  कमल  विवेक  का  प्रतीक  है  ।  पंक  से  उत्पन्न  होकर  भी  पंक  रहित,
स्वच्छ,  पावन,  सुगंधित  ।  संपत्ति  तभी  वरेण्य  है  जब  वह  पवित्रता  पर  आधारित  हो  । 

          तमसो  मा  ज्योतिर्गमय----- अशुभ  को,  अनीति  को,  अधर्म  को  मिटाने  के  लिए  चिंतित  एवं  चिंता  करने  की  जरुरत  नहीं  है,  इसके  लिए  तो  बस,  आत्मज्योति  को  उभार  देना  ही  पर्याप्त  है  , यदि  हर  व्यक्ति  के  अंदर  छाया  अँधेरा  प्रकाश  में  परिवर्तित  हो  जाए  तो  इस  धरा  पर  अँधेरा  रह  न   पाएगा |

22 October 2014

WISDOM

वे व्यक्ति,  जो  चरित्रवान  हैं  और  औरों  को  चरित्रवान  बनने  की  प्रेरणा  दिया  करते  है,  समय  के  बनाने  वाले  हुआ  करते  हैं  ।
  आज  आस्था  संकट  के  इस  समय  में  ऐसे  ऋषि-मनीषियों  की  आवश्यकता  है  जो   विचारों  के  इतिहास  में  क्रांति  करे,  विज्ञान  को  दिशा  दे,  दर्शन  को  संवारे  और  पीड़ित  मानवता  को  दिशा  दे   । 

        राजा  दिलीप  राज्यकार्य  से  समय  निकालकर  देश  के  विभिन्न  आश्रम-आरण्यकों  में  जाते  थे  ।  तेजस्वी  राजकुमार  रघु  किशोर  हो  गये,  तो  उन्हें  भी  साथ  ले  जाने  लगे   ।  एक  बार  रघु  ने  सहज  जिज्ञासावश  पूछा---- " पिताजी,  आप  महत्वपूर्ण  राज्य  कार्यों  की  तरह  ही  आश्रमों  में  जाने  का  ध्यान  रखते  हैं  ।  ऋषियों  को  उच्चतम  अधिकारियों  से  भी  अधिक  सम्मान  देते  हैं,  जबकि  प्रत्यक्ष  में  उनकी  उपयोगिता  दिखती  नहीं  है  । "
   राजा  बोले---- " वत्स ! ठीक  प्रश्न  किया  ! राज्य  की  आदर्श  व्यवस्था  हम  चलाते  हैं  ।  उसका  श्रेय  भी  हमें  मिलता  है  ।   पर  ऋषिगण  ऐसे  व्यक्तित्व  गढ़ते  हैं,  जो  आदर्श  व्यवस्था  की  योजना  बना  सकें,  उसे  क्रियान्वित  कर  सकें  ।  यदि  ऐसे  व्यक्तित्व  न  बने,  तो  लाख  प्रयास  करने  पर  भी  व्यवस्था  अस्त-व्यस्त  हो  जाए  ।   जिनके  कारण  यह  तंत्र  व्यवस्थित  चल  रहा  है,  उनके  निर्माताओं  का  जितना  सम्मान  किया  जाए,  उन  पर  जितना  ध्यान  दिया  जाए,  कम  है  ।  मेरा  चिंतन  और  मेरी  सामर्थ्य  तथा  तुम्हारा  व्यक्तित्व  भी  ऋषिकृपा  से  ही  इस  रूप  में  ढला  है   ।