22 September 2014

WISDOM

आत्मा  का  संदेश  और  ईश्वर  का  प्रकाश  परिष्कृत  निर्मल  मन  पर  ही  उतरता  है   । 
           विकसित  व्यक्तित्वों  और  प्रखर  प्रतिभा   परिष्कृत  मन  के  विकास  की  व्यक्तिगत  जीवन  में  दीख  पड़ने  वाली  झाँकी  मात्र  है   ।  त्याग,  बलिदान,  सेवा,  तप-साधना  की  कष्टसाध्य  प्रक्रिया  को  अपनाने  में  कितने  ही  व्यक्ति  असाधारण  आनंद  संतोष  एवं  गर्व  अनुभव  करते  हैं  ।  यह  सब  परिशोधित  उच्चस्तरीय  मन  की  ही  देन  है  ।

       जब  बर्नाड  शा  को  नोबुल  पुरस्कार  दिया  गया,  तो  उन्होंने  मात्र   मानपत्र  ही  स्वीकार  किया  और  लगभग  तीन  लाख  रुपये  की  धनराशि  यह  कहकर  वापस  कर  दी,  कि  इसे  जरूरतमंद  लेखकों,  अभावग्रस्तों,  रोगियों,  अपाहिजों  और  बेसहारों  में  वितरित  कर  दी  जाय  ,   ऐसा  ही  किया  भी  गया

21 September 2014

WISDOM

मन  में  सृजन  की  अपार  संभावनाएँ  सन्निहित  हैं  ।  मनुष्य  स्वयं  अपने  भाग्य  का  निर्माता  है  ।  इस  निर्माण  प्रक्रिया  में  मन  का  महत्वपूर्ण  योगदान  है   ।  मन  का  चिंतन  ही  उसका  परिणाम  है  । यह  जैसा  सोचता  है  और  प्रयत्न  करता  है  वैसा  ही  उसका  फल  मिलता  है  ।  सतत  अभ्यास  द्वारा  मन  को  शक्तिशाली  बनाना  संभव  है  ।  श्रेष्ठ  चिंतन  से   और  निष्काम  कर्म  से   मन  निर्मल  होने  लगता  है  ।
                         मन  एक  देहरी  पर  खड़ा  नीचे  द्रश्य  जगत  की  ओर  झाँक  सकता  है  और  ऊपर  चेतना  के  उच्चस्तरीय  आयामों  में  भी  गति  कर  सकता  है  । मन  को  साध  लेने  पर  यह  वरदान  बन  जाता  है ।
   
           भीष्म  पितामह  ने  राजकुमारों  की  शिक्षा-दीक्षा  के  लिए  एक  जैसी  सुविधाएँ  उपलब्ध  कराई  थीं  ।   पांडवों  ने  उनमे  से  शालीनता-सहयोग  का  मार्ग  चुना,  कौरवों  ने  उदंडता  और  द्वेष  का  ।  दोनों  ने  मार्ग  के  अनुसार  गति  पाई  ।
         भगवान  श्रीकृष्ण  ने  दोनों  को  चुनाव  का  समान  अधिकार  दिया  था  ।   एक  ने  साधन-वैभव,  सेना  की  चाह  की,  दूसरे  ने  मार्गदर्शन  की  ।  जो  मार्ग  चुना  गया,  उसी  के  अनुरूप  गति  मिली

20 September 2014

PEARL

महायोगी  समर्थ  गुरु  रामदास  ने वैशाख  शुक्ल नवमी, संवत 1571 को  शिवा  को  शिष्य  बनाया---- गुरुमंत्र  दिया  और  प्रसाद  रूप  में  एक  नारियल,  मुट्ठी  भर  मिट्टी,  दो  मुट्ठी  लीद  और  चार  मुट्ठी  पत्थर  दिए  जो  क्रमश:  ----- द्रढ़ता,       पर्थिवता,      ऐश्वर्य     एवं        दुर्ग   विजय  के  प्रतीक  थे  |
     शिवाजी ने  गुरु  का  प्रसाद  ग्रहण  किया  और  साधु  जीवन  बिताने  की  अनुमति  मांगी  ।
    समर्थ  ने  उन्हें   समझाया------ " पीड़ितों  की  रक्षा  तथ  धर्म  का  उद्धार  तुम्हारा  कर्तव्य  है  ।  साधु  वही  है,  जो  अपनी  वासना,  तृष्णा,  संकीर्ण  स्वार्थपरता  को  त्याग  कर  निस्स्वार्थ  भाव  से  देश-धर्म  की  रक्षा  करे   । उन्होंने  कहा------- " युग  परिवर्तन  प्रबल  पराक्रम  से  होता  है,  आज  देश  को  तुम्हारे  शौर्य  की  आवश्यकता  है  । "
  गुरु  की  तप  शक्ति  ने  शिवाजी  को  शौर्यपुंज  बना  दिया  ।  उन्होंने  छत्रपति  कहलाने  का  श्रेय  प्राप्त  किया  |   हजारों  महावीर  मठ,  जो  समर्थ  द्वारा  स्थापित  किये  गये,  वे  प्रेरणा  एवं  जनसहयोग  के  स्रोत  बने  ।   परिणामस्वरुप  मुगल  साम्राज्य  की  जड़ें  खोखली  हो  गईं  ।
वे  कहते  थे----- " पुष्ट  शरीर  के  अंदर  ही  स्वस्थ  मन   बनता  है  और  स्वस्थ  मन  ही  निष्कलुष  आत्मा  का  आश्रय  है  ।  इसलिए  मैंने  हनुमान  का  आदर्श  स्वयं  अपनाया  है  और  जन-जन  के  सामने  रखा  है  ।   हनुमान  शरीरबल,  मनोबल  एवं  आत्मबल  तीनो  का  साक्षात्  स्वरुप  हैं  ।  वे  वज्रदेह,  महाज्ञानी  और  प्रभु  के  प्रिय  भक्त  हैं  । तभी  तो  वे  ' दनुज  वन  कृशानुम ' दैत्यों  के  वन  को  जलाने  वाली  आग  हैं  ।
 गुरु  समर्थ  ने  शिवाजी  से  कहा----- "समय  की  धारा  को,  युगप्रवाह  को  मोड़ने  के  लिये  महापराक्रम  की  जरुरत  है,   तुम्हारा  मार्ग  निष्कंटक  हो,  भवानी  तुम्हारा  मंगल  करें  । "

19 September 2014

मानव निर्माण

नागार्जुन  सुप्रसिद्ध  रसायनज्ञ  थे,  पर  वे  संपर्क  में  आने  वालों  को  धर्मोपदेश  भी  दिया  करते  थे   ।  इस  पर  एक  व्यक्ति  ने  कहा---- आप  रसायन  शास्त्र  पढ़ाया  करें  तो  आपका  नाम  भी  बढ़ेगा  और  आपकी  विद्दा  का  भी  विस्तार  होगा  ।
नागार्जुन  बोले ----- रसायनज्ञ  तो  कभी  भी  बना  जा  सकता  है,  बात  तो  तब  है  जब  अच्छे  आदमी  बने  ।
       एक  शिष्य  ने  आत्मज्ञान  का  शिक्षण  लिया  और  अपने  गुरु  से  बोला---- " हे  गुरुवर ! उच्चस्तरीय  साधना  हेतु  मैं  पहाड़ों  जैसी  शांति  चाहता  हूँ  । " गुरु  ने  कहा----- " वत्स ! पहाड़ों  का  परमार्थ  अनिश्चित  है  । तू  सुदूर  क्षेत्रों  में  जा--- जहाँ  अज्ञान  का  तिमिर  व्याप्त  है  । व्यक्ति  दीन-हीन  स्थिति  में  अपना  जीवनयापन  कर  रहें  हैं  ।  तू  नगरों  में  जा----- जहाँ  अज्ञान  मानव-मानव  के  बीच  भेदभाव,  छल-कपट  और  विषमता  के  बीज  बो  रहा  है  । "
   शिष्य  बोला-- " देव ! वहां  की  संघर्ष  यातनाएं  मुझसे  झेली  न  जाएँगी,  वहां  का  कोलाहल-क्रंदन  मुझसे  देखा  न  जायेगा  ।  मुझे  तो  हिमालय  से  दूर  न  जाने  दें  । "
    गुरुदेव  की  आँखे  छलछला  उठीं  ।  वे  बोले--- " तात ! जिस  राष्ट्र  के  नागरिक--- नन्ही-नन्ही  संताने  भटक  रहीं  हों,  वहां  के  प्रबुद्ध  नागरिक  केवल  अपने  स्वार्थ  की  बात  सोचें,  यह  अनैतिक  है  ।
  ईश्वर  को  पाना  है  तो  प्रकाश  की  साधना  करो  ।  जो  अंधकार  में  भटक  गये  हैं,  उन्हें  ज्ञान  का  प्रकाश  दो,  चारों  ओर  अर्जित  संपदा  बिखेर  दो  । 
  शिष्य  चल  पड़ा------- मानवता  के  देवदूत  के  रूप  में   । 

18 September 2014

WISDOM

' मानवीय  भावनाओं  को  एक  दूसरे  में  घोल  देना,  क्षत-विक्षत  हो  रहे  समाज  को  पुन: सौन्दर्य  मंडित  करने  का  प्रयास  जिस  तकनीक  से  संभव  है  उसका  नाम  है------ सांस्कृतिक  क्रांति   । 
         कन्फ्यूशियस  ने  अपनी  एक  किताब  में  लिखा------- मेरे  पूर्वज  कहते  थे  कि  गाँव  के  पास  एक  नदी  बहती  थी  ।  नदी  के  उस  पार  रात  को  कुत्ते  भौंकते  थे--- तो  हमें  आवाज  सुनाई  पड़ती  थी  । लेकिन  यह  पता  नहीं  था--- कि  नदी  के  पार  कौन  रहता  है  ?
 नदी  बड़ी  थी  और  नाव  ईजाद  नहीं  हुई  थी  ।     नदी  के  पार  कोई  रहता  है--- कोई  गाँव  है  । यह  तभी  पता  चलता  था  जब  सन्नाटे  को  चीरती  हुई  कुत्तों  के  भूँकने  की  आवाज  कान  में  पड़ती  थी  ।  उस  गाँव  की उनकी  अपनी  दुनिया  थी  ।  इस  गाँव  की  अपनी  दुनिया  थी  ।
          आज  के  युग  में  आधुनिक  सुविधाओं  ने  दुनिया  को  एक  गाँव  में  तब्दील  कर  दिया  है  ।  विकास  ने  मनुष्य  को  कई  गुना  ऊँचाई  पर  क्षितिज  के  पार  पहुँचाया  है  किंतु  इसे  न  शांति  मिली  न  संतोष  ।
तनाव,  बेचैनियाँ,  भ्रांतियाँ  इस  सीमा  तक  बढ़ते  चले  गये  हैं  कि  आज  सारी  मानव  जाति  दुःखी  है,  रुग्ण  है  ।   आज  का  मानव  प्रगति  की  चरम  सीमा  पर  पहुँचा  विकसित  मानव  है  तो  वह  भोगवादी  बनता  हुआ  चिंतन  और  आचरण  से  क्यों  पशु  को  भी  पीछे  छोड़ता  नजर  आता  है  ?
    इसका  उत्तर  किसी  आधुनिक  चिंतक-वैज्ञानिक  के  पास  नहीं  है  ।
                 इसका  उत्तर  तो  एक  ऋषि  ने  सहस्त्राब्दियों  पूर्व  उपनिषद  के  काल  में  दिया  था  व  कहा  था------ " भोग  भी  त्याग  के  साथ  करो  ।  साधनों  का  उपभोग  करो  पर  भावना  त्याग  की  रखो  । स्वयं  जियो,  औरों  को  भी  जीने  दो  । 
ऋषि  चिंतन  की  ऊर्जा  ही  गुस्से  व  तनाव  से  भरे  विश्वमानव  को  शांति  का  संदेश  देने  में  समर्थ  है  । 

17 September 2014

WISDOM

 मनुष्य  की  पहचान  उसके  विचारों  से  है,  जैसे  विचार  वैसा  व्यक्तित्व  | यदि  निम्नगामी,  बुरे  विचारों  से,  नकारात्मक  विचारों  से  भरा  मन  होगा  तो  ऐसा  व्यक्ति  असंस्कृत  एवं  पशुस्तर  का  होगा  ।  यदि  श्रेष्ठ  विचार  होंगे,  विधेयात्मकता  ही  सदा  मन  में  होगी  तो  व्यक्तित्व  भी  मोहक,  आकर्षक,  प्रभावशाली  होगा
ऐसे  सुसंस्कृत  मनुष्य  ही  दिव्य  समाज  का  निर्माण  करते  हैं  । 
   विचार  तथा  कर्म  का  एक  दूसरे  से  घनिष्ठ  संबंध  है  । विचार  एक  संसाधन  है  जिसे  नियंत्रित, संयमित  और  उपयोगी  बनाकर  अनेक  चमत्कार  एवं  आश्चर्यजनक  परिणाम  उत्पन्न  किये  जा  सकते  हैं । 

    संयम  और  समझदारी  के  साथ  व्यवहार  करने  के  एक  अनुपम  उदाहरण  हैं------ बॉब हूवर  ।
बॉब हूवर  एक  प्रसिद्ध  टेस्ट  पाइलट  थे  ।  एक  बार  वे  सैनडिएगो  से  एअर  शो  में  हिस्सा  लेने  के  बाद  लॉस एंजिल्स  में  अपने  घर  की  तरफ  लौट  रहे  थे  कि  अचानक  हवा  में  300 फीट  की  ऊँचाई  पर  उनके  हवाई  जहाज  के  दोनों  इंजन  बंद  हो  गये  ।   कुशल  तकनीक  से  उन्होंने  हवाई  जहाज  को  उतार  लिया, किसी  को  चोट  नहीं  आई  लेकिन  इस  प्रक्रिया  में  उनके  हवाई  जहाज  को  बहुत  नुकसान  पहुँचा  ।  इस  घटना  के  बाद  हूवर  ने  सबसे  पहले  हवाई  जहाज  के  ईंधन  की  जाँच  की  ।  जैसी  उन्हें  शंका  थी, उन्होंने  पाया  ,      उनके     प्रसिद्ध  जहाज  में  गैसोलीन  की  जगह  किसी  ने    जेट   का  ईंधन  डाल  दिया  था  ।
   हवाई  अड्डे  पर  लौटने  के  बाद  उन्होंने  उस  मैकेनिक  के  बारे  में  पूछा,  जिसने  उनके  जहाज  की  सर्विसिंग  की   थी  ।
    जब  हूवर  उसके  पास  पहुँचे  तो  उसकी  आँखों  से  आँसू  बह  रहे  थे  |  उसकी  गलती  की  वजह  से    एक  बहुत  महँगा  हवाई  जहाज  नष्ट  हो  गया  ।  हूवर  ने  मैकेनिक  की  आलोचना  नहीं  की  और  उसे  फटकार  भी  नहीं  लगाई  बल्कि  अपनी  बाँह  उसके  कंधे  पर  रखकर  कहा--- "मुझे  तुम  पर  पूरा  भरोसा  है,  अब तुम  दोबारा  ऐसा  नहीं  करोगे,  मैं  चाहता  हूँ  कि  कल  तुम  मेरे  एफ-51  हवाई  जहाज  की  सर्विसिंग  करो "
       उनके  इस  व्यवहार  से  उस  मैकेनिक  के  अंदर  हूवर  के  प्रति  श्रद्धा-विश्वास  का  भाव  पनपा  और  फिर  कभी  भी  उसने  अपनी   गलती  नहीं  दोहराई  । 

16 September 2014

PEARL

महान व्यक्तित्वसंपन्न जीवन का मूल्य  व्याख्यान,  प्रवचन  एवं  उपदेश  देने  में  निहित  नहीं  होता  है,  बल्कि  सर्वप्रथम  उसे  अपने  जीवन  में  उतारने  एवं  ह्रदयंगम  करने  में  होता  है  | ऐसे  व्यक्तित्व  तारों  भरे  आसमान  में  एक  अलग  चमकते  हुए  ध्रुव तारा  के  समान  हैं ।  ऐसे  महान  व्यक्तित्व  केवल  उच्च  आदर्श  एवं  उत्कृष्ट  विचारों  के  लिये  जीते  हैं  ।

     महर्षि  दयानंद  फर्रुखाबाद  में  रुके  हुए  थे  ।  एक  व्यक्ति  दाल-चावल  बनाकर  लाया  |  गृहस्थ  था  एवं  मजदूरी  करके  परिवार  का  पेट  भरता   था ।  स्वामी  जी  ने  उसके  हाथ  का  अन्न,  जो  श्रद्धा  से  लाया  गया  थ,  ग्रहण  किया  ।  ब्राह्मणों  को  बुरा  लगा  ।  वे  बोले--- " आप  सन्यासी  हैं  ।  इस  हीन  कुल  के  व्यक्ति  का  भोजन  लेकर  आप  भ्रष्ट  हो  गये  । " स्वामी जी  बोले-- " कैसे, क्या  अन्न  दूषित  था । "
    वे  बोले ---- " हाँ, आपको  लेना  नहीं  चाहिये  था । " स्वामी जी  बोले--- " अन्न  दो  प्रकार  से  दूषित  होता  है  एक  तो  वह,  जो  दूसरों  को  कष्ट  देकर  शोषण  द्वारा  प्राप्त  किया  जाता  है  ।  और  दूसरा  वह,  जहाँ  कोई  अभक्ष्य  पदार्थ  पड़  जाता  है  ।  इस  व्यक्ति  का  अन्न  इन  दोनों  ही  श्रेणियों  में  नहीं  आता  ।
  इसका  अन्न  परिश्रम  की  कमाई  का  है,  तब  दूषित  कैसे  हुआ,  मैं  कैसे  भ्रष्ट  हो  गया  ?  आप  सबका  मन  मलिन  है  ।  मैं  जाति  जन्म  से  नहीं,  कर्म  से  मानता  हूँ  ।  भेदभाव  त्याग  कर  आप  सभी,  सबके  लिये  जीना  सीखिए  । "