4 March 2015

नियमबद्धता चरित्र की पहली कसौटी है-------- पियर्सन

अंग्रेज  होकर  भी  हिन्दी  भाषा  के  सुप्रसिद्ध  विद्वान  पियर्सन  को  आज  भी  साहित्यकार  बड़े  सम्मान  के  साथ  स्मरण  करते  हैं  ।  उन्होंने  उत्कृष्ट   भारतीय   साहित्य  का  अंग्रेजी  मे  अनुवाद  कर  भारतीय  तत्व -ज्ञान   अंग्रेजी -भाषियों  के  लिये  भी  सुलभ  कर  दिया  ।
सरकारी  पदाधिकारी  होते  हुए  भी  उन्होंने  इस  क्षेत्र  में  बहुत  कार्य  किया  । उनसे  एक  अंग्रेज  मित्र  ने  पूछा --- आप  इतना  अधिक  सरकारी  काम -काज  होते  हुए  भी  इतना  साहित्य  सृजन  कैसे  कर  लेते  हैं  ?
पियर्सन  ने  कहा --- " मित्र  ! समय  धन  है  । यदि  लोग जिंदगी  के  एक -एक  क्षण    का  सदुपयोग  करें  और उन्हें  व्यर्थ  के  कामों में  नष्ट  ना   होने  दें  तो कोई  भी  व्यक्ति  उतनी  सफलता  प्राप्त कर  सकता  है  जिसे  देखकर  लोगों  को   आश्चर्य  हो सकता  है  । "
 पियर्सन  ने  अपने  जीवन क्रम  को  इतना   नियमबद्ध  और  व्यवस्थित बनाया  था  कि  घड़ी  की  सुइयों  की  तरह  ठीक  समय  हर काम  पूरा  हो  जाता था  ।  1920  में  जब  वे  गया (, बिहार ) में  कलेक्टर  थे  तो  104  डिग्री  बुखार  में  भी  तुलसीकृत  रामायण  के  दोहों  का  अंग्रेजी में  अनुवाद  कर  रहे थे  ।  पियर्सन  कहते  थे--- संसार  में  अपने   और   औरों  के  लिए  जिन्हे  कुछ  काम  करना  हो  उन्हें  अपने  जीवन  का  कण -कण  उपयोग  में  लाना  चाहिये , नियमबद्ध  जीवन  बिताना  चाहिए  ।  

3 March 2015

मानवता के पुजारी------- जीन हेनरी दूना

' जब   तक   संसार   में   मानवता   का   अंश   रहेगा ---- जीन  हेनरी  दूना  का  नाम  अपने  पुण्य  कार्यों , संस्थाओं  और  संस्मरणों  के  रूप  में  भी  अजर -अमर  बना  रहेगा  । '
       प्रथम   शांति  नोबेल  पुरस्कार  पाने  वाले  जीन  हेनरी  दूना  स्विटजरलैंड  के  निवासी  थे  । शिक्षा  समाप्त  कर  उन्होंने  जेनेवा  की  एक  बैंक  के  एजेंट  की  रूप  में  कार्य  किया  ।  इस  कार्य  से  उन्हें  संतोष  नहीं  हुआ  तो  नौकरी  छोड़  दी  और  खेती व  पशु पालन  के  लिये  फ़्रांसिसी -अलजीरिया  में  एक  जमीन  खरीद  ली  ।  उस  जमीन  में  सिंचाई  के  लिये  सरकारी  नलों  से  पानी  मिल  सके , इसके  लिये  उन्होंने  बहुत प्रयास  किया  ।  फिर  उन्होंने  शासन  व्यवस्था , कृषि   विकास   की  आवश्यकता  से  संबंधित  पुस्तक  लिखकर  फ़्रांस  के  तत्कालीन  सम्राट  नेपोलियन  तृतीय  से  मिलने  का  विचार  कर  पेरिस  पहुंचे  ।   सम्राट  उस  समय  आस्ट्रिया  व  इटली  के  बीच   चल   रहे  लोमबाड़ी  युद्ध  में  इटली  की  सहायता  के  लिये  गये  थे                         हेनरी  दूना  ने  इटली  जाने  के लिये  जो  छोटा  रास्ते  चुना   उससे   वे  उस  गांव  में  पहुँच  गये  जहां  से  युद्ध  का  मैदान  निकट   था   जिसमे  फ़्रांस , इटली  और  आस्ट्रिया  के  सैनिक  पंक्तिबद्ध  होकर  लड़  रहे  थे  ।  वे  एक  पहाड़ी  पर चढ़ गये  और   दूरबीन  से  जो  दर्दनाक  दृश्य  देखा  उसने  उनका  जीवन  ही  बदल  दिया  ।  हेनरी  दूना  ने  अपनी  दूरबीन  से  देखा  दोनों  पक्षों  के  सैनिक   आगे  बढ़ते  हैं  और  मरकर  गिरते  हैं , बंदूकों , गोलों  और  घायल  सैनिकों  के  हाहाकार  व  चीत्कार  से  दिशाएं  भर  जाती  हैं , चारों  ओर  मृत्यु  का  नृत्य  हो  रहा  है  ।  अंत  में  रात  होने  तक  चालीस हजार  निरपराध  सैनिकों  के  प्राण  लेकर  लड़ाई  ख़त्म   हो  गई  ।
हेनरी  दूना  नीचे  उतरे  किन्तु  नीचे  आकर  जो  असहनीय  दृश्य  देखा  उससे  उनका हृदय   पीड़ा   व  करुणा  से  भर  गया  ।  उन्होंने  देखा  कि  मरे  हुए  सैनिकोँ  को  गीध , कौवों ,सियार  तथा  कुत्तों  को  खाने के  लिये  छोड़  दिया  जाता  था  ।  घायल , अधमरे  अपंग  सैनिकों की  दशा  और  भी  ख़राब  थी , उन्हें  गाड़ियों  में  भूसे  की  तरह  भरकर  ऐसे  अनेक  स्थानो  पर  डाल  दिया  जाता था  जहां  उनके  उपचार  व  सेवा  की  कोई  व्यवस्था नहीं  थी   ।  हेनरी  दूना  मनुष्यता  की  यह  दुर्दशा  न  देख  सके , वे  तुरंत  ही  घायलों , रोगियों  और  मरणासन्न  सैनिकों  की  सेवा  में  लग  गये , वे  अपने   हाथ  से  सैनिकों  के  घाव  धोते , मरहम पट्टी  करते  और  दवा  देते , डॉक्टरों  को  प्रयत्नपूर्वक  बुलाकर  लाते  व  सैनिकों  को  दिखलाते ।  दूना  के  हृदय  में  करुणा  व  सेवा -भावना  जाग  गई , वे  भूल  गये  कि  इटली  क्यों  आये  थे  ?
युद्ध  समाप्त  हो  गया  लेकिन  दूना  को  शान्ति  ना  मिली  उन्होंने  भाषणों  और  लेखों  से  लोगों  में  युद्ध  के  प्रति  घृणा  और  घायल  सैनिकों  की  प्रति  करुणा  का  जागरण  किया  । इसका  परिणाम  हुआ  कि  सैकड़ों , लाखों  की  संख्या  मे  स्त्री -पुरुष सेवा  करने  के  लिये  निकल  आये  ।   उन्होंने  अपने  विचारोँ  को  आंदोलन  का  रूप  दिया  और  ' रेडक्रास ' नाम  की  एक ऐसी  अंतर्राष्ट्रीय  संस्था बनाई   जो   युद्धकाल  में  भी तटस्थ  समझी  जाती  है  , उसमे  दोनों  शत्रु  देशों  के  स्वयं सेवक  दोनों  ओर  के  घायलों  तथा  बीमारों  की    सेवा  करते , युद्ध -क्षेत्र  में  भी  उनपर  आक्रमण  नहीं  किया जाता  । 
आज  भी  संसार  में  विश्व  रेडक्रास  दिवस --- हेनरी  दूना  के  जन्म  दिवस  8 MAY  को  मनाया  जाता  है  ।
जूरिख  में  उनका  स्फटिक  का  स्मारक  मानवता  के  उस  पुजारी  को  जीवित  रखे  हुए  है  ।

2 March 2015

लोकनिर्माण के नैष्ठिक पथिक----- संत पायर

संत  पायर  जिस  कार्यालय  में  बैठकर  काम  करते  थे  उसकी  चार  दीवारों  में --- महात्मा  गांधी ,  
अल्बर्ट  श्वाइत्जर,   फ्रायड  जाक  नैनसेन  ,  और  जर्मनी  के  एने  फ्रैंक  के  चित्र  टंगे  थे  और  उनसे   वे  सत्याग्रह , संघर्ष , समभाव  और  प्राणिमात्र  के  प्रति  प्रेम  की  प्रेरणा  ग्रहण  करते  थे  । 
       पायर का  जन्म  बेल्जियम  में  हुआ  था , शिक्षा  प्राप्त  करने  के  बाद  वे  बेल्जियम  में  प्रोफेसर  हो  गये  थे  ।  इसी  बीच  द्धितीय  विश्वयुद्ध  हुआ  और  वे  सेना  में  भर्ती  हो  गये  ।
पायर  जिस  आफिस  में  सैनिक  अफसर  की  हैसियत  से  काम  करते  थे  उसकी  दीवार  पर  एक  फ्रेम  में  मढ़ा  हुआ  एने  फ्रैंक  का  वाक्य  टंगा  था ----- " प्रकृति बदलेगी   और   मनुष्य   पुनः  अच्छा   बनेगा   ।  बुरा   दिन   समाप्त   हो  जायेगा   और  संसार   एक   बार   फिर   देख   सकेगा ----- शांति  व्यवस्था  और  सुख । "
                        वे  इन  वाक्य  पर  विचार  करने  लगे ----- क्या  सचमुच  युग  बदल  सकता  है   ?
उन्होंने   इतिहास   के  पृष्ठ  उलट  कर  देखे  तो  समझा   ---- यदि  संसार  के  सब  लोग  अच्छे  बन  जायें  तो  युग  स्वर्गीय  परिस्थितियों  में  क्यों  नहीं  बदल  सकता  ?
  उनके   मन  में  विचार  आया  कि  युग  बदलने  के , संसार  मे  शांति  व्यवस्था  स्थापित  करने  के   महान  कार्य  का  आरम्भ  स्वयं  से  किया  जाये ---- " हमारे   पास   जो   भी  शक्ति   और   योग्यता   है   उसे   इस  प्रयोजन   में   जुटाने   के   लिये   हमें   तो   लग   पड़ना   ही  चाहिये  शेष  की  बात  शेष  जाने  । "
  यह  विचार  आते  ही   पायर  आजीविका  को  छोड़कर  पादरी  हो  गये  और  सामाजिक  जीवन   को अच्छा  व  सुव्यवस्थित  बनाने  के  कार्य  में  जुट  गये  ।
बीमारों  की  सेवा , जहां  स्कूल  न  थे  वहां  स्कूलों  की  स्थापना  और  रूस  से  आये  शरणार्थियों  की  सेवा  में  उन्होंने  अपना  तन , मन , धन  सब  कुछ  जुटा  दिया  । शरणार्थियों  की  समस्या  उन  दिनों  बेल्जियम  पर  भार  थी  ।       150000  तो  केवल  बूढ़े , बीमार  व  बच्चे  थे ,  20000  टी.वी. के  मरीज  और  लाखों  की  संख्या  में  वृद्ध  व  बच्चे  थे  । उनके  निवास , औषधि  तथा  शिक्षण  के  लिये  दिन  रात  काम  करके  उन्होंने  यह  दिखा  दिया  कि  असहायों  की  सेवा  और  दलितों  के  उत्थान  कार्य  से  बढ़कर  कोई  पुण्य  नहीं  है  इससे  मनुष्य  को  सच्ची  शांति  मिलती  है  । उनके  इन  महान  कार्यों  के  कारण  उन्हें  शांति  के  लिये  नोबेल  पुरस्कार  प्रदान  किया  गया   ।
कर्तव्य -निष्ठ  के  लिये  कर्तव्य  ही  सुख  है  ।  अपनी  सम्पति  वे  पहले  ही  जनता  की  सेवा  में  सौंप  चुके  थे , नोबेल  पुरस्कार  में  प्राप्त  राशि  उन्होंने  शरणार्थियों  के  लिये  दान  कर  दी  ।

1 March 2015

विदेशों में हिन्दी के प्रचारक---- स्वामी भवानी दयाल संन्यासी

स्वामी भवानी दयाल  संन्यासी  पहले  व्यक्ति  थे  जिन्होंने  दक्षिण  अफ्रीका  के  प्रवासी  भारतीयों  में  पहली  बार  जागरण  का  शंख  फूँखा  । दक्षिण  अफ्रीका  में  रह  रहे  प्रवासी  भारतीयों  को  एक  सूत्र  में  आबद्ध  किया  तथा  अनाचार  और  अत्याचार  के  विरुद्ध  समर्थ  प्रतिरोधक  मोर्चा  खड़ा  करने   के  लिए  उन्हें  संगठित  किया  ।
स्वामी  भवानी दयाल संन्यासी  के  पिता  कुली  प्रथा  के  अंतर्गत  भारत  से  दक्षिण  अफ्रीका  भेजे  गये  थे  ।  वहां  जाकर  अपनी  सूझ-बूझ  और  चतुराई  से  उन्होंने  अच्छी  खासी  जायदाद  पैदा  की  और  स्थायी  रूप  से  वहीँ  बस  गये  । स्वामी भवानीदयाल  संन्यासी  ने  होश  सँभालते  ही  देखा  कि  गोरे अंग्रेज  किस  निर्दयता  से  प्रवासी  भारतीयों  पर  अत्याचार  करते  है  ।  एक बार   स्कूल  जाते  वक्त  ऐसे  ही  अत्याचार  का  करुण  द्रश्य  देखा  तो  घर  आकर  पिता  से  इसका  कारण  पूछा  तो  पिता  ने  सच्ची  किन्तु  साधारण  सी  बात  कह  दी--- " इसलिए  कि  वे  लोग  बेवकूफ  हैं,  अनपढ़  हैं  और  ढंग  से  रहना  नहीं  जानते  । "
         यह  वाक्य  उनका  पथ-प्रदर्शक   बन  गया  और  उन्होंने  तत्क्षण  ही  फैसला  कर  लिया  कि  वे  भारतीयों  में  से  इन  कमियों  को  दूर  करके  ही  रहेंगे  ताकि  वे  लोग  मानवीय  गौरव-गरिमा  के  अनुरूप  जीवन  जी  सकें  ।  इस  उद्देश्य  की  पूर्ति के  लिये  उन्होंने  हिन्दी  को  सबसे  अच्छा  साधन  समझा  ।  गहन  चिंतन-मनन  के  बाद  वे  इस  निष्कर्ष  पर  पहुंचे  कि  प्रवासियों  में राष्ट्रीय  एकता  की  भावना  भरने,  उनमे  आत्मसम्मान,  अनीति  के  प्रतिरोध  और  शक्ति  जगाने  के  लिए  एक - भाषा  हिन्दी  का  ज्ञान  सबसे  उचित  माध्यम  है  ।  अत: हिन्दी  पढ़ने  के  लिए  वे  बारह  वर्ष  की  आयु  में  अफ्रीका  से  भारत  आये  ।
  भारत  में  हिन्दी  विषय  में  अच्छी  योग्यता  प्राप्त करने  के  बात  वे  अफ्रीका  लौटने  लगे  तो  कुछ  अंग्रेज
अधिकारियों  को  उनके  भावी  कार्यक्रम  का  पता  चल  गया  । डरबन  पहुँचने  से  पहले  ही  उन्हें  शासकीय  आदेश  हुआ  कि  वे  भारत  लौट   जायें  ।  वे  ट्रांसवाल  उतरे,  वहां  उन्हें  गिरफ्तार  कर  लिया  गया,  मुकदमा  चला  किन्तु  ससम्मान  बरी  हो  गये  और  पिता  के  पास  जोहान्सवर्ग  पहुँचे  ।  कुछ  समय  बाद  पिता  का  देहान्त  हो  गया, अपने  हिस्से  की  सम्पति  भी  विमाता  को  सौंपकर  उन्होंने  संन्यास  ले  लिया  और  लोक-सेवा  के   कार्यों  में  जुट  गये  ।
       स्वामी भवानीदयाल  ने  हिन्दी-प्रचार  के  लिये  दक्षिण  अफ्रीका  में  जो  सबसे  पहला  कार्य  किया  वह  यह  कि  स्वयं  तो  उनके   बीच   हिन्दी  बोलते  ही  थे, प्रवासियों  को  भी  हिन्दी बोलने  कि  प्रेरणा  दिया  करते  ।  जब  वे  टूटी-फूटी  हिन्दी  बोलते  तो  उनके   शब्दों   और  वाक्यों  में  सुधार  करते  जाते  ।  इस  प्रकार  उन्होंने  राह  गली  हाट-बाजार  मे  हिन्दी  की  मौखिक  शिक्षा  आरम्भ  कर  दी  । उन्होंने  भारतीय  बच्चों  के  लिए  अनेक  प्रारम्भिक  पाठशालाएं   खोलीं,   इनमे   कोई  शुल्क  नहीं  लिया  जाता  था,  उनकी  प्रेरणा  से  जो  शिक्षक  बालकों  को  हिन्दी  पढ़ाते  थे   वे  किसी  प्रकार  का  पारिश्रमिक  नहीं  लिया  करते  थे
उन्होंने  बच्चों  को  पढ़ाने  के  लिये  बड़ी   ही   रोचक, शिक्षाप्रद  और  राष्ट्रीय  भावों  से  ओत -प्रोत  बहुत  सी  छोटी -छोटी   पुस्तकें   लिखीं  ।  हिन्दी   प्रचार  के लिए उनका  एक  काम  था --- भाषण -कार्यक्रम  |  स्वामीजी  भारतीय  बस्तियों  में  एक  के  बाद  दूसरे  घर  मिलन -गोष्ठियां  रखते  जिनमे  देश  भक्ति , मानव  के  मौलिक  अधिकार  और  अफ्रीका  में  भारतीयों  की   समस्याओं  पर  भाषण  दिया  करते  ।  इससे  दोहरा   लाभ   हुआ -- एक   तो   हिन्दी   का   प्रचार   हुआ , दूसरे  राष्ट्रीय -जागरण  और  समस्याओं  के  समाधान  के लिए  एकता , दक्षिण  अफ्रीका  के  प्रवासी  भारतीय  अपने  अधिकारों  के  लिये  उठ  खड़े  हुए  । उन्होंने  अनेक  हिन्दी  संस्थाओं  की  स्थापना  की  ।  भारतीय  राष्ट्रीय  कांग्रेस  में  दक्षिण  अफ्रीका  के  प्रवासी  भारतीयों  को  प्रतिनिधित्व  दिलाने  का  श्रेय  स्वामी  भवानी दयाल  को  ही  था  । कांग्रेस  के  अधिवेशनों  में  प्रवासी  भारतीयों  को  अपने  दस  प्रतिनिधि  भेजने  का  अधिकार  स्वामीजी  के प्रयत्नो  और  सेवाओं  का फल  था  ।  59  वर्ष  की  आयु  में  यह  महानतम  विभूति  इस  संसार  से  विदा  हो  गई   ।
भारत ,  भारतीय  और   भारतीय  भाषा  की  सेवा  में  आहुत  उस  व्यक्तित्व  को  पाकर  साधुता  भी  धन्य  हो  गई  । 

28 February 2015

नाद-ब्रह्म के अनन्य उपासक------ शेषण्णा

 उनके  संगीत  की  चमत्कारी  शक्ति  में  उनकी  भीतर  बाहर  की  निर्मलता  तथा  आचरण  की  पवित्रता  का  बहुत  बड़ा  हाथ  था  ।  उन्होंने  संगीत  को  ब्रह्म  की  उपासना   समझकर  पूरी  निष्ठा , श्रम  और  आन्तरिक  पवित्रता  के  साथ  संगीत -साधना  की  ।
 चौदह  वाद्द्य  यंत्रों  पर  उनका  अधिकार  था , सब में  वे  निष्णात थे , फिर  भी  वीणावादन  में  उन्हें  कमाल  हासिल  था  ।  देश  भर  के  राजा -महाराजाओं  से  लेकर  जार्जपंचम  तक  और  सामान्य  जनता  से  लेकर  तिलक , नेहरू , गाँधीजी , महामना  मालवीय , सरोजिनी  नायडू  और  रवीन्द्रनाथ  ठाकुर  तक उनके  वीणावादन  पर  मुग्ध  हुए  थे  ।  उनकी  ख्याति  देश -देशान्तर  में  भी  फैली  थी  ।
    शेषण्णा  के  पिता  तत्कालीन  मैसूर राज्य  के  नरेश  कृष्णराज  तृतीय  ओड़ेयर  की राजसभा  के  सुविख्यात  संगीतज्ञ  थे  ।  उन्होंने  अपने  पुत्र  शेषण्णा  को  तीन  वर्ष  की  आयु  में  ही  दीक्षित  कर  सरस्वती  की  आराधना  में  लगा  दिया था  ।  उनसे  संबंधित  एक  घटना  है ------
                  शिव -रात्रि  के  पावन  पर्व  पर  मैसूर  राजवंश  की  परंपरा  के  अनुसार  तत्कालीन  नरेश  ने  संगीत -सम्मेलन  का  आयोजन  किया   ।  एक  संगीतज्ञ  महोदय  द्वारा  मैसूर  में  प्रचलित  संगीत  ' पलवी ' गाया  गया , जिसे  श्रोता  दोहराने  में  असफल  रहे , गायन  भी  कुछ  जमा  नहीं  ।  राजसभा  अपमानित  सी  हुई  ।  महाराज  को  यह  सहन  नहीं  हुआ , उन्होंने  राजसभा  के  संगीतज्ञ  को  संबोधित  करते  हुए  व्यंग्यवाण  फेंका --- " क्या  हमारे संगीतज्ञों  को  कंगन  सिन्दूर  बांटा  जाये  । "
महाराज  का  व्यंग्य  सुनकर  संगीतज्ञ  का  स्वाभिमान  जाग  गया , उन्होंने  गंभीर  स्वर  में  कहा --- " महाराज  इस  गाने  के  लिये  बड़ों  की  क्या आवश्यकता  मेरा  सात  वर्ष  का  शेषण्णा  इसे  गायेगा  । "
बालक  शेषण्णा  गाने  लगा ,  सभी  श्रोता इस  बाल  कलाकार की  कला -साधना  पर  चकित  हो  उठे  ।  संगीत  की  समाप्ति  पर  महाराज  ने  बालक  को  गोद  में  उठा  लिया , बहुमूल्य  शाल  के  उपहार  के  साथ  शुभाशीष  दी ---  " हमारी  सभा  के  गौरव  की  रक्षा  करने  वाला  यह   बालक  अपने  जीवन  में  यशस्वी  संगीतज्ञ  बने  । ' नरेश  की  शुभ  कामना  साकार  हुई  ।  यह  बालक  आगे  चलकर  विश्व -विख्यात  पाश्चात्य  संगीत  सम्राट  वीथोवियन  तथा  मोबार्ट  की  सानी  का  संगीतज्ञ  बना  । 

26 February 2015

रविवासरीय स्कूलों के जन्मदाता------ राबर्ट रेक्स

इंग्लैंड  से प्रकाशित ' ग्लासेस्टर '  के  प्रकाशक  और  संपादक  एक  गंदी  बस्ती  से  निकलकर  जा  रहे  थे  ।  वहां  कुछ  बच्चे  खेल  रहे  थे,  रेक्स  जैसे  ही  उनके  पास  से  गुजरे  कि  एक  लड़के  ने  कीचड़  उछाल  कर  उनके  ऊपर  फेंका  और  सब  लड़के  खिलखिलाकर   हँस  पड़े  ।  रेक्स  लड़कों  पर  बहुत  नाराज  हुए  । उधर  से  एक  स्त्री  आ  रही  थी,  उसे  देखकर  रेक्स  गरजकर  बोले--- ये  तुम  लोगों  के  लड़के  हैं,  कैसे  फूहड़  हैं,  इनके  माता-पिता  इन्हें  सभ्यता  और  शिष्टाचार  भी  नहीं  सिखाते  ।
  उस  महिला  ने  विनम्र  उत्तर  दिया--- शिष्टाचार ! यह  तो  शिक्षितों  और  सम्पतिवानो  के  भाग्य  की  बात  है,  इनके  माता-पिता  निर्धन  हैं,  मजदूरी  करते  हैं```,  उनके  पास  समय  होता  तो  इन  बच्चों   के  पास  बैठते, अच्छी  बात  सिखाते  ।  ये  बच्चे  भी  फैक्टरी  में  दस  घंटे  काम  करते  हैं,  इनके  पास  खेलने  के  साधन  नहीं  हैं  ।  क्या  शिक्षित और  संपन्न  समाज इसके  लिये  दोषी  नहीं  है  ?
  रेक्स  वहां  से  चले  आये,  उस  महिला  की  बातों  ने  उनके  ह्रदय  को  झकझोर  दिया,  वे  कई  राते  सो  न  सके  ।  रेक्स  के  अंतर्मन  में    उठी  पीड़ा  ' रेक्स  स्कूलों ' के  रूप  मे  प्रकट  हुई  ।  वे  प्रति  रविवार  को  उस  बस्ती  में  जाकर  एक स्कूल  चलाकर  बच्चों  को  अक्षर  ज्ञान,  नीति  और  सदाचार  के  पाठ  पढ़ाने  लगे  । 
बच्चों  को  मीठा  बोलना,  परस्पर  अभिवादन,  माता-पिता  की  आज्ञा  मानना,  बेकार  समय  का  उपयोग  पढ़ने  में  लगाना,  चोरी  न  करना  इस  तरह  की  शिक्षाएं  वह  कथा-कहानियों  और  उपदेशों के  माध्यम  से  देने लगे  ।  प्रारंभ में  थोड़े  बच्चे  आये,  जब  औरों  ने  उन्हें  साफ-सुथरा,  आकर्षक  देखा  तो  अन्य  अभिभावक  भी  अपने  बच्चे  भेजने  लगे  ।  बच्चों  का  सुधार  देख  बड़े  भी  सुधरने  लगे  और  कुछ  ही  दिनों  में  उस बस्ती  में  अपराधों  की  संख्या  घटकर  शून्य  हो  गई  ।
धर्माचार्यों,  पादरियों  ने  इसका  विरोध  किया  और  कहा---- " सन्डे  का  दिन  भगवान  के  लिये  है  न  कि  मनुष्यों  के  लिये  । " रेक्स  का  कहना  था  कि भगवान  के  तो  सभी  दिन  हैं,  पर  इन  अशिक्षितों  की  सुविधा  का  तो  एक  ही  दिन  है  शेष  सप्ताह  उन्हें  आजीविका  के  लिये  व्यस्त  रहना  पड़ता  है  ।
1780  में  यह  घटना  घटित  हुई  और  इसके  पांच  वर्षों  इंग्लैंड   में  50  स्कूल  खुल गये,  इण्डिन  वर्ग  में  34  स्कूल  चलने  लगे,  इनमे  पढने  वाले  छात्रों  की  संख्या  250000  तक  पहुँच  गई  ।  अनेक  समाज-सेवियों  को  काम  करने  और  पुण्य  अर्जित  करने   का  अवसर  मिला  ।  आज  भी  विश्व  के  अधिकांश  देशों  में  रविवासरीय  स्कूल  चलते  हैं  । 

25 February 2015

व्यक्तित्व की छाप छोड़ने वाले------- महेन्द्रजी

' प्रेस   के  एक  सामान्य  कर्मचारी  से  प्रगति  करते  हुए  प्रसिद्ध  पत्रकार , प्रकाशक , हिन्दी -सेवी , राष्ट्र -सेवी  और  नगर  के  सम्मानित  नागरिक  बन  जाने  वाले  महेंद्रजी  ने  अपने  व्यक्तित्व  के  पात्र  को  कभी  छोटा  नहीं  पड़ने  दिया  ।  धन , सम्पदा , यश , मान  सब  कुछ  आया  पर  वह  सब  अपने  और  अपने  परिवार  के  पालन -पोषण  और  उसकी  वृद्धि  तक  ही  सीमित  नहीं  रहा  वह  दूसरों  को  आगे  बढ़ाने , राष्ट्र  व  समाज  का  हित  करने  में  भी  नियोजित  हुआ  । '
अपने  पुरुषार्थ  के  बल  पर  एक-एक  कदम  आगे  बढ़ते  हुए  वह  शहर  की  तंग  गलियों  के  जीर्ण-शीर्ण  घर  से   चलकर  सिविल  लाइन्स  के  सुन्दर  से  आवास  में  प्रतिष्ठित  हुए,  यह  मानवीय  महत्वाकांक्षाओं  और  कर्मयोग  का  प्रेरक  उदाहरण  है  ।   अपने  जीवन  को  सफल  बना  लेने  की  बात   उत्तम  है  पर   सराहनीय   तो  अपने  साथ-साथ  दूसरों  को  आगे  बढ़ाना    है  और  इसे  अपना  काम  समझकर  करना  महेन्द्रजी  की  विशेषता  है  ।  महेन्द्रजी  का  व्यक्तित्व  ऐसा  वट-विटप  था  जिसकी  छांह  मे  अनेकों  क्लांत  पथिकों  ने  विश्राम  लिया  ।
     व्यक्ति  को  परखने  और  आगे  बढ़ाने  की  उनमे  अनुपम  क्षमता  थी  ।   जो  उनके  संपर्क  में  आया  और  उन्हें  लगा  कि  वह  बहुत  कुछ  बन  सकता  है  तो  उस  सम्भाव्य  को  पूरा  करने  में  वे  कभी  पीछे  नहीं  रहते  थे  । कई  व्यक्ति  उन्हें  अपना  निर्माता  मानते  हैं  ।  भाषा,  साहित्य,  संस्कृति  और  राष्ट्र  इन  चारों  की  सेवा  करके  वे  स्वयं  ही  धन्य  नहीं  हुए  वरन  उन्होंने  कितने  ही  लोगों  को  इन  पुण्य  कार्यों  में  लगाया  भी  था  ।  कई  व्याक्तियों  से  आरम्भ  में  पेपर  पर  पते  लिखवाने,  बोलकर  चिट्ठियां  लिखवाने,    प्रूफ  पढ़वाने  और  लेख  छटवांने  का  काम  लेते  हुए  उन्होंने  अपने  पत्र  साहित्य-सन्देश   के  संपादक  तक  पहुंचाये  थे  । वे  आगरा  की  नागरी-प्रचारिणी- सभा  के  निर्माता  थे  । आगरा  से   प्रकाशित  होने  वाले    'दैनिक  हिंदुस्तान  समाचार '  , सैनिक-सिंहनाद,  आगरा-पंच  और  साहित्य-सन्देश  आदि  पत्रों  का  प्रकाशन,  संपादन   उन्ही   ने  किया  ।   साहित्य-प्रेस, साहित्य  रत्न  भंडार,  साहित्य  कुंज  आदि  के  संस्थापक,  संचालक  और  आगरा  मंडल  के  स्वतंत्रता  सेनानी  के  रूप  में  उन्हें  जाना  गया  ।  वे  ' सैनिक ' के  दैनिक  व  साप्ताहिक  संस्करणों  के  संपादक  भी  रहे  और  सचमुच   के  सैनिक  बनकर  स्वतंत्रता  संग्राम  में  भी   हिस्सा  लिया  ।  वे  अपने  पास  आने  वाले  सैकड़ों  समाचार  पत्रों  को  नागरी-प्रचारिणी  सभा  के  वाचनालय  में  पाठकों  को  पढ़ने  के  लिए  भेज  देते  थे  |  उनका  पुस्तक  विक्रय  केंद्र  ' साहित्य रत्न भंडार '  साहित्यकारों  की  मिलन  स्थली  बन  गया  था ,  उन्होंने  ऐसी  व्यवस्था  बना  रखी  थी  कि  साहित्यकारों  को   नयी  पुस्तकें  यों  ही  पढ़ने  को  मिल  जाती  थीं  । महेन्द्रजी  उन  विरले  व्यक्तियों  में  से  थे  जो  अपने  काम  के  साथ-साथ  समाज  और  राष्ट्र  की  सेवा  को  भी  लेकर  चले  ।