26 March 2015

साहित्यकार, चित्रकार एवं युगद्रष्टा दार्शनिक------ खलील जिब्रान

खलील  जिब्रान   जैसे   धनाढ्य  और  प्रतिभासम्पन्न   व्यक्ति  यदि  चाहते  तो  समस्त  ऋद्धियाँ   एवं  सिद्धियाँ  उनके  चरणों  में  अभ्यर्थना  करतीं  परन्तु  देश , जाति  और  समाज  को  जीवन  देने  वाले  महापुरुषों  ने  इन  क्षणिक  मृगतृष्णाओं  को  स्वीकार  नहीं  किया   ।  खलील  जिब्रान  का  जन्म  लेबनान  में  1883  में  हुआ  था  ।  तत्कालीन  समाज  में  फैली  हुई  रूढ़िवादिता , धार्मिक  और  सामाजिक  कुरीतियों  तथा  अव्यवस्थाओं  को  देखकर  उन्होंने  विचार  किया  कि  जब  तक  इन्हे  दूर  न  किया  जायेगा  तब  तक  जीवन  में  विकृतियों  की  भरमार  रहेगी  और  समाज  स्वस्थ  वायु  में  साँस  न  ले  सकेगा  । अत: उन्होंने  इन सबके  विरुद्ध  आंदोलन  छेड़  दिया  । खलील  जिब्रान  ने  सर्वप्रथम  तत्कालीन  ईसाई  धर्म  में  फैली  बुराइयों  के  विरोध  में  आवाज  उठाई  ।  महात्मा  ईसा  के  विचारों  को  भुलाकर  जब  लोग  केवल  बाह्य  रस्मों  को  ही  सब  कुछ  समझने  लगे  तब  सत्य   को   सामने  रखने  वाली   आवाज  गूँज  उठी  ।
               खलील  जिब्रान  ने  गरीब  और  असभ्य  लोगों , समाज  के  पीड़ित  शोषित  वर्ग  के  पक्ष  में  अनेक  भाषण  दिये  ।  अपने  भाषणों  और  पुस्तकों  से  समाज  के   दलित  वर्ग  में  अपने  मानवीय  अधिकारों  के  प्रति  ऐसी  चेतना  जाग्रत की   कि   वह  अपने  हनन  किये  अधिकारों  को  पुनः  प्राप्त  करने  के  लिए  सक्रिय  हो  उठा  ।  शोषकों , जागीरदारों  और  धर्म  के  ठेकेदारों  के  विरोध  में  ऐसा  बवण्डर  उठा   कि  उन्हें  पैर  टेके  रहना  ही  कठिन  पड़  गया  ।   जिस  सत्य  को  जानने  और  कहने  का  साहस  करने  के  कारण  ईसा  को  सूली  पर  चढ़ा  दिया  गया  था  ।  उस  सत्य  को  1900  वर्ष  बाद  भी  किसी  व्यक्ति  द्वारा  कहे  जाने    पर  स्वार्थलोलुप  अधिकारी  वर्ग  ने उन्हें   देश    निकाला  दे  दिया  ।
खलील  जिब्रान  ने  बताया ---- " जीसस  ने  कभी  भय  की  जिंदगी  नहीं  जी ,  न   वे  दुःख  झेलते  हुए  शिकायत  करते  हुए  मरे --- वे  एक  नेता  बनकर  जिये  धर्म  योद्धा  के  रूप  में  सूली  पर  चढ़े , उन्होंने  जिस  मानवीय  साहस  और  आत्मबल  के  साथ  मृत्यु  का  वरण  किया ,  उससे  उनके  हत्यारे  और  सताने  वाले  भी  दहल  गये  ।  वे  मानव  हृदय  को  एक   मन्दिर ,  आत्मा  को  एक  वेदी  और  मस्तिष्क  को एक  पुजारी  बनाने  आये  थे  ।    यदि  मानवता  के  पास  बुद्धि   होती  तो वह  विजय  और  प्रसन्नता  के  गीत  गाती  । 
संत  जिब्रान  ने  दान , दया , ममता , प्रेम , बंधुत्व , शांति  और  सहयोग  की  मानवीय  संपदाओं  को  चांदी  के  टुकड़ों   से  अधिक    महत्व  दिया  ।  उनके  शब्द  थे ----- "  लोग   मुझे    पागल  समझते  हैं  कि  मैं  अपने  जीवन  को  उनके  सोने -चांदी  के  टुकड़ों  के  बदले  नहीं  बेचता  ।  और मैं  इन्हे  पागल  समझता  हूँ  कि  वे , मेरे  जीवन  को  बिक्री  की  एक  वस्तु  समझते  हैं  । "  उनके  साहित्य , चित्र  और  उनके  दर्शन  में  आध्यात्मिक  विभूतियाँ  पाने  की  प्रेरणाएँ  भरी  पड़ी  हैं  । 

25 March 2015

संघर्षरत और सृजनशील साहित्यकार------- एंटन चेखव

एण्टन  चेखव  उन्नीसवीं  शताब्दी  के  उन  गिने -चुने  साहित्यकारों  में   से   हैं  जिनकी  रचनाएं  समाज  पर  अपना  प्रभाव  डाल  सकीं  और  अब  भी  वे  उतनी  जीवंत  और  स्फूर्त  बनी  हुई  हैं  । कुछ   वर्षों  पूर्व  बम्बई  में   भारतीय  जन नाट्यसंघ  द्वारा  एण्टन  चेखव  द्वारा  रचित   ' वार्ड  न.  6 ' नामक  नाटक  खेला  गया  ।  यह  नाटक  रुसी  भाषा  से  अनूदित  किया  गया  था  और  बहुत  लोकप्रिय  हुआ  ।  इसमें  बुद्धिजीवी  वर्ग  की  नपुंसक  अकर्मण्यता  पर  तीखा  प्रहार  है  ।  रूस  में  यह  नाटक  बहुत  लोकप्रिय  हुआ , इसे  जब  लेनिन  ने  देखा  तो   इतने  व्यग्र  हो  उठे  कि  अपने  स्थान  पर  बैठ  न  सके , उन्ही  के  शब्दों  में  उन्हें  लगा  कि  वे  स्वयं  इस  नाटक  के  पात्र  हैं  ।  इस  नाटक   में  इस  तथ्य  को  उभारा  गया  है  कि    हिंसा  और  अत्याचार  को  रोकने  के  लिए  निष्क्रिय  विरोध , उपेक्षा  व  उदासीनता  से  काम  नहीं चलता , उसे  रोकने  के  लिए  अदम्य  और  कठोर  संघर्ष  की  आवश्यकता  है  तभी उसमे  सफल  हुआ  जा  सकता  है  ।  उनकी  रचनाओं  में  सत्य  को  बुलंदगी  से  कहा  गया  है , ऐसा  कहने  में  उनका  उद्देश्य  मनुष्य  को  सही  दिशा  में  अग्रसर  होने  के  लिए  प्रेरित  करना  है  ।  उन्होंने  एक  स्थान  पर  लिखा  है ---- ईश्वर  की  जमीन  कितनी  सुन्दर  है  ।  केवल  हममें  ही  कितना  अन्याय , कितनी अनम्रता  और  ऐंठ  है  ।  हम  ज्ञान  के  स्थान  पर  अभिमान  और  छल -छिद्र  तथा  ईमानदारी  के  पीछे  धूर्तता  ही  अधिक  प्रकट  करते   हैं ।
   चेखव  का  जन्म  रूस  में  1860  में   हुआ , उनके  पिता  बहुत  क्रोधी  थे , उन्हें  बहुत  मारते  थे  । चेखव  का  बचपन  बिना  हँसे -खेले  ही  बीता  ।  बचपन  में  वे  बहुत  मंदबुद्धि  थे , एक भी  कक्षा  पास  नहीं  कर  सके  । स्कूल  छुड़ा  कर  एक  दर्जी  की  दुकान  पर  रखा  गया  लेकिन  वहां  भी  महीनो  के  प्रयत्न  के  बाद  एक  पायजामा  भी  नहीं  सिल  सके  ।
  जब  जीवन  के  यथार्थ  धरातल  पर  उन्हें  उतरना  पड़ा  तो  परिस्थितियों  से  संघर्ष  करते  हुए  उनकी  बौद्धिक  क्षमता  जाग  उठी  , उन्होंने  शिक्षा  व  ज्ञानार्जन  आरम्भ  किया  ।  लगन  और  निष्ठा  के  बल  पर  उन्होंने  ग्रीक , लैटिन , जर्मन  और  फ्रैंच   भाषाएँ  सीख  लीं  ।  24  वर्ष  की  अवस्था  में  ही   उनका  पहला  कहानी  संग्रह  प्रकाशित  हुआ  ।   काम  के  प्रति   उनके  मन  में  ऎसी  लगन  जागी  कि  जब  लिखने  बैठते  तो  तब  तक  लिखते  जाते   जब  तक  उँगलियाँ  दर्द  के  कारण   काम  करने  से  इनकार  न  कर  दें  ।  ऐसी  स्थिति  में  वे  थक  कर  सो  नहीं  जाते  थे  ,  पढ़ने  लगते  थे  ।  उनमे  धैर्य  इतना  था  कि  प्रकाशक  रचनाएं  वापस  कर  देते  तो  बिना  खिन्न  हुए  दुबारा  लिखने  बैठ  जाते  ।  1887  में  उन्हें  पुश्किन  पुरस्कार  मिला  ।   चेखव  के  जीवन  की  अंतिम  घड़ियाँ  बड़ी  दुःखपूर्ण  रहीं  ।  परिस्थितियों  से  उन्होंने  जीवन  भर  संघर्ष  किया  ।  जीवन  में  तो  उन्हें  उपेक्षा  ओर  तिरस्कार  का  सामना  करना  पड़ा  लेकिन  मरने  के  बाद  वे  महान  आत्मा  के  महान  शिल्पी  कहलाये  । 

23 March 2015

शान्ति और स्वतंत्रता का अमर उपासक------- विलियम पेन

विश्व  मानव  को  सुखी  व  समृद्ध  बनाने   के   लिए  भविष्य   के  द्रष्टा  अपने  गहन  चिंतन  के  परिणाम स्वरुप  ऐसे  सिद्धांत  प्रतिपादित  कर  जाते  हैं  जो  उनकी  समय  में  सर्वथा  काल्पनिक  व  अव्यवहारिक  लगते  हैं ,  किन्तु  आगे  जाकर  वे  ही  व्यवस्था  में  आते  हैं , उन्हें  क्रियान्वित  किया  जाता  है  ।
   अपने  ' एन   ऐसे   ऑन  दी  प्रजेण्ट  एण्ड  फ्यूचर  पीस  ऑफ़  यूरोप  '  नामक  दस्तावेज  में  उन्होंने  अपने  गहन  चिंतन  के  आधार  पर  विश्व  शांति  के  सम्भाव्य  हल  तथा  युद्ध  की  विभीषिका  से  मुक्ति  का  मार्ग  सुझाया  है  ।  यह  दस्तावेज  आज  भी  विश्व  शांति  के  लिए  पथ  प्रदर्शन  कर  सकता  है  । 
  विलियम  पेन  का  जन्म  लंदन  में  1644  में  हुआ  था  ।  उनके  पिता  ब्रिटिश  नौसेना  में  एडमिरल  थे  ।  उन  दिनों  इंग्लैंडवासियों  को  वही  धर्म  मानना  होता  था  जो  उनके  राजा  को  पसंद  होता  था , व्यक्ति  की  आत्मा  पर  भी  राजा  का  पहरा  होता  था   ।  विलियम  ज्यों -ज्यों  बड़े  होते  गये  उन्हें  यह  बंधन  अखरने  लगा  ।  उस समय  लाखों  व्यक्ति  इस  अन्यायपूर्ण  कानून  से  पीड़ित  थे  ।
विलियम  पेन  क्वेकर   नामक  शान्ति  संगठन  के   अनुयायी   बन  गये   जो   राजाज्ञा   द्वारा   प्रतिबंधित  था ,  अत:  उन्हें  नौ  महीने   का  सश्रम   कारावास   हुआ   ।  पेन   का   उद्देश्य  इंग्लैंडवासियों  में  स्वतंत्रता   की  भावना  को  जगाना  था , उन्हें  पांच  बार  जेल  जाना  पड़ा  किन्तु  कटघरे  में  बंद  करके  भी  उनकी  आवाज  को  बंद  नहीं  किया  जा  सकता  था  । 
जेल  में  ही  उनका  चिंतन -मनन  चलता  रहा ,  नयी -नयी  योजनाएं  बनायीं , जेल  की  दीवारों  पर  अपने  सिद्धांतों  को  लिखा , अब  वह  एक  सम्प्रदाय  के  नेता  से  ऊपर  उठकर  स्वतंत्रता  के  सिद्धांत  के  जनक  बन   गये  ।  जब  वे  जेल  से  बाहर   निकले  तो  यूरोप  के  एक  सशक्त  लोकप्रिय  व्यक्तित्व  के  धनी  थे ।  चार्ल्स  द्धितीय , जेम्स  द्धितीय , रानी  ऐनी  जैसे   राजपरिवार  के  लोग  भी  उनके  प्रशंसक  बन  चुके  थे  ।  उन्होंने  कितने  ही  लोगों  को  अन्याय  के  दमन  चक्र  से  मुक्त कराया   ।
अपने  ' पवित्र  प्रयोग ' के  लिए  उन्होंने  अब  इंग्लैंड  छोड़कर  अमेरिका  को  चुना  ।  चार्ल्स   द्धितीय  से  50000   पौंड  में  उन्होंने  अमेरिका  का  एक  विस्तृत  भूभाग  डेल्वेयर  नदी  के  पास  ख़रीदा  और  यहां  अपने  उस  चिंतन  को  व्यवहारिक  रूप  देने  का  कार्य  किया  । उनके  विचार , सिद्धांत  पहले  ही  फैल  चुके  थे , इस  प्रदेश  के  निवासियों  ने  उनका  जोर -शोर  से  स्वागत  किया  और  उस  प्रदेश  का  नाम  उनके  नाम  पर  पेन्सिलवेनिया  कर  दिया  ।  उन्होंने  महत्वपूर्ण  सपनो  को  साकार  करना  आरम्भ  किया ---- फिलडेल्फिया  नगर  बसाने  की  योजना  बनायीं , प्रत्येक  मकान  का  अपना  बगीचा  और  प्रत्येक  सड़क  वृक्षों  से  ढकी  बनायीं  गई , उनके  सुशासन  में  सभी  प्रकार  की  सुख  शांति  थी , आदिवासी  रेड  इण्डियन  तथा  यूरोपीय  देशों  से आकर  बसने  वाले  सब  भाईचारे  से  रहते  थे  । पेन  ने  यहां  का  अपना  एक  संविधान  बनाया  था ,   वयस्क  मताधिकार  था , धर्म  व  संस्कृति  में  सरकार  कोई  दखल  नहीं  देती  थी , सबके  लिए  समान  न्याय  था , प्रतयेक  नागरिक  को  स्वतंत्रता  के  साथ  आत्मनिर्भर  व  समृद्ध  बनाने  की  सुविधाएं  थीं , कलाकारों , कारीगरों  कृषकों  को  बसने   की   सुविधा  जुटायी  गईं , व्यापार  को  प्रोत्साहन  दिया  गया , गरीब  बच्चों  को  निः शुल्क  शिक्षा  दी  जाती  थी  और  यह  शिक्षा  केवल  पुस्तकीय  ज्ञान  नहीं  वरन  जीवन  के  समग्र  विकास  की  कसौटी  पर  खरी  उतरती  थी  ।  इस  प्रकार  आज  से  लगभग  300  वर्ष  पहले  विलियम  पेन  ने  व्यक्तिगत  स्वतंत्रता  के  लिए  ब्रिटिश  शासन  से  संघर्ष  किया , प्रजातंत्र  व  स्वतंत्रता  के  सिद्धांतो  की  पृष्ठभूमि  तैयार  की   और   सुख,  शांतिपूर्ण  सुशासन  के  सपने  को साकार  किया  । 

21 March 2015

राष्ट्रीय सेवाव्रती महान वैज्ञानिक------ प्रफुल्ल चन्द्र राय

उन्होंने  अपना  तन-मन-धन  सर्वस्व  मातृभूमि  की  सेवा  और  उसे  ऊँचा  उठाने  में  लगा  दिया  ।  जीवन   भर  अध्ययन , मनन , खोज , शोध  करके  जो  कुछ  प्राप्त  किया  वह  सब  कुछ  भारतीय  राष्ट्र  और  समाज  के  उत्थान  में  ही   लगाया  । अपने  समस्त  अध्ययन  के  रूप  में  जो  ग्रन्थ --- ' हिन्दू  रसायन  शास्त्र  का  इतिहास '  उन्होंने  लिखा  वह  भी  इस  देश  के  प्राचीन  वैज्ञानिक -सिद्धांतों  की  कीर्ति  बढ़ाने  वाला  है  । यह  ग्रन्थ  अपने  क्षेत्र  में  अपूर्व  और  स्थाई  महत्व  रखने  वाला  माना  जाता  है  और  100  वर्ष  पहले  लिखा  जाने  पर  भी  आज  तक भारत  ही  नहीं  विदेशों  के  साइन्स  कॉलेजों  में  पाठ्य -पुस्तक  की  तरह  काम  में  लाया  जाता  है  ।  
इंग्लैंड  से  रसायन  विज्ञान  की  उच्च  परीक्षा  पास  कर  भारत  आये  तो  प्रेसीडेन्सी  कॉलेज  में सहायक प्रोफेसर की  जगह   मिली  और  वेतन  250 रुपया  मासिक  था , वे जानते थे   कि  इसी  पद  पर  अंग्रेज  शिक्षक  को   एक   हजार  से  भी  अधिक  वेतन  दिया  जाता  है  ,  जब  उन्होंने  इसकी  शिकायत  शिक्षा  विभाग  में  की   तो   उनसे  कहा  गया  कि  अपनी  योग्यता  को  इतनी  अधिक  समझते  हैं  तो  कहीं  भी  वैसा  कार्य  करके  दिखा  सकते   हैं  । उपयुक्त   अवसर   न  देखकर  उस  समय  प्रफुल्ल  बाबू  यह  अपमान सह   गये,  पर  अपने  मन  में  निश्चय  कर  लिया  कि  अवसर  पाते  ही  अपनी  योग्यता  को   प्रदर्शित  कर  इस  गर्वोक्ति  का  उत्तर  अवश्य  देंगे  |
कॉलेज  की  नौकरी  के  साथ-साथ  वे  विज्ञान  संबंधी  नई-नई  खोजें  करते  रहे   और  अपनी  योग्यता और  परिश्रमशीलता  से  उनका  वेतन  एक  हजार  मासिक  के  लगभग  हो  गया,  वैज्ञानिक  आविष्कारों   से  भी  काफी  आय  हो  जाती  थी,  पर  वे  उसमे   से  अपने  लिए  केवल  40 रुपया  मासिक खर्च  करते  थे  शेष  जरुरतमंदों  को  दान   कर  देते  थे,  जिनमे   से   अधिकांश  विज्ञान  के  छात्र  ही  होते  थे  | उन्होंने  विवाह  नहीं  किया  था,  प्रसिद्ध  वैज्ञानिक  थे ,  पर  बहुत  सामान्य ढंग  से  जीवन  निर्वाह  करते  थे  |
1906  में  उन्होंने  ' बंगाल  केमिकल  एंड  फर्मास्यूटिकल  व  र्क्स ' की  स्थापना  की   | इसका  मुख्य  उद्देश्य  यह  था  कि   असमर्थ   छात्र  उस  कारखाने  में  काम  करके  जीवन  निर्वाह  में  सहायता  प्राप्त  कर  सकें  |  इसके  द्वारा  अनेक  युवक  विद्दार्थियों  को  कॉलेज  में  अध्ययन  करने  का  साधन  प्राप्त  हो  गया,  जिनमे  से  अनेक  आगे  चलकर  प्रसिद्ध  वैज्ञानिक  बने  |   उनके  द्वारा  आविष्कृत  प्रभावशाली  दवाओं  और  उनके  सद्व्यवहार  से  800  रूपये  की  पूंजी  वाला  कारखाना  एक  बहुत  बड़े  कारखाने  में  परिणत  हो  गया  |
वे  दानवीर  थे  पर  अभिमान  उन्हें  छू  भी  नही  गया  था  |  कलकत्ता  विश्वविद्यालय  में  उन्होंने चार  वर्ष तक  कार्य  किया  और  अपना  समस्त  वेतन  विश्वविद्यालय  को  ही  विज्ञान   की  उन्नति  के  लिए  दान  कर  दिया  |    

19 March 2015

सरस्वती के अनन्य आराधक------- वासुदेव शरण

उनके  जीवन  के  बारे  में  उनके  ये  शब्द  बहुत  कुछ  कह  जाते  हैं---- " पढ़ने  और  लिखने  को  इतना  पड़ा  है  कि  दस  जन्म  लूँ  तब  भी  पूरा  न  हो  । जीवन  का  क्या  भरोसा ? काम  बहुत  है  और  समय  बहुत  कम  ।  जीवन  तो  जायेगा  ही   पर   यह  व्यर्थ  नहीं  जाना  चाहिये  । "  व्यक्ति  जीवन  में   कितना  कुछ  ज्ञानार्जन  कर  सकता  है !  इस   तथ्य  के  वे  सटीक  उदाहरण  थे  ।  श्री गोपालप्रसाद  व्यास  ने  उनके  बारे  में  लिखा  है---- " संसार  की  शायद  ही  कोई  मुख्य  भाषा  ऐसी  हो  जिसका   ज्ञान   वासुदेव  जी  को  न  हो  और  जिसकी   लिपि , उत्पति  और  विकास   के   संबंध   में   उनकी   जानकारी   न   हो  ।  भारत   की   किसी   भी   भाषा   का  शायद   ही   कोई   महत्वपूर्ण   ग्रन्थ   ऐसा   बचा   हो  जो   वासुदेव  जी   ने   न   पढ़ा   हो  । भारत -विद्दा   का  शायद  ही  कोई  प्रश्न  ऐसा  हो  जिसका   उत्तर  उनके पास  न  हो  । ज्ञान के  प्रति  जिज्ञासा  उन्हें  अत्यंत  प्रिय  थी  । लोग  उनसे  भांति -भांति  के  प्रश्न  पूछने   आया  करते  थे  । "
   उनसे  एक  प्रश्नकर्ता  ने प्रश्न  किया ---- " वासुदेव  जी ! यह '  पागल '   शब्द   कैसे  बना  है  ? "
वे  लपक  कर  अपने  आसन  से  उठे  और  भीतर  से  एक  कोष  निकाल  लाये  । कहने  लगे --- " इसे  रूस  के  जार  ने  पहले  -पहल  छपवाया  था  । सबसे  पहले  ' पागल ' शब्द  का  प्रयोग  इसी  कोष  में  हुआ  । " ऐसा  विलक्षण  था   उनका  ज्ञान  और  विलक्षण  थी  उनकी  ज्ञान  साधना  ।
 उन्होंने  पाणिनि  के  महान  ग्रन्थ  ' अष्टाध्यायी ' पर  बारह  वर्ष  तक  शोध  कार्य  किया  और  1941  में  उनका   ग्रन्थ  ' इंडिया  एज  नोन  टू   पाणिनि  ' पूर्ण  हुआ  और  उन्हें  पी. एच. डी. की  उपाधि  मिली  ।  इसी  ग्रन्थ  के  परिवर्द्धित   संस्करण  पर   उन्हें  डी. लिट. की  उपाधि  मिली  ।
उन्होंने  विद्दा  का  अखण्ड  तप  किया  ।  एक  लकड़ी  का  तख़्त , सामने  लिखने  की  एक  छोटी  सी  चौकी , उस  चौकी  पर  भगवान  विष्णु  की  छोटी -सी  प्रतिमा ,  कमरे  में  ढेरों  पुस्तकें  और  लिखने -पढ़ने  मे  डूबे  हुए  वासुदेवशरण  जी , एक  योगी  कि  तरह  पद्मासन  लगाकर  वे  घण्टों  कार्य  किया  करते  थे  ।
          उन्होंने  संस्कृत -साहित्य की  सहायता  से  कला   और  पुरातत्व  संबंधी   सहस्रों  शब्दों  का  उद्धार  किया  । उन्होंने  जब  दीर्घतमस   के  अस्थवामीय  सूत्र  की  व्याख्या  लिखी  तब  उन्हें  यह  विश्वास  हो  गया  कि  वेद -विद्दा    सृष्टि -विद्दा  है ,  यही  सनातनी  योग  विद्दा  या  प्राण -विद्दा   है  । 
वासुदेवशरण  जी  साहित्य  और  कला  के  रसमय  व्याख्याता  थे  ।  नीरस  से  नीरस  विषय  पर  वे  जिस  सरसतापूर्वक  पठन -पाठन   और  चिंतन  कर सकते  थे   वह   अपूर्व  था  । इतने  बड़े  विद्वान  और  कला -मर्मज्ञ  होते  हुये  भी  उन्हें  अपनी  विद्वता  का  तनिक  भी  गर्व  नहीं  था  ।  उनकी  दर्जनों  पुस्तकें  प्रकाशित  हुईं , जिनमे  अपरिमित  ज्ञान  भण्डार  हैं  लेकिन  उनमें  उन्होंने  कहीं  भी  अपने  बारे  में  कोई  जानकारी  नहीं  दी  और  न  किसी  में  अपना  चित्र  छपाया   है  ।  उन  जैसे  व्यक्तित्व  राष्ट्र  की  सबसे  बड़ी  सम्पदा होते  हैं  ।

18 March 2015

गौरवपूर्ण अतीत के प्रतिष्ठाता----- रमेशचन्द्र दत्त

अंग्रेजी  शासन  में  वे  एक  ऐसे  उच्च  पदाधिकारी  के  रुप  में  जाने  जाते  हैं  जिन्होंने  भारतीय  राष्ट्र  निर्माण  की  कल्पना  की   थी  और  उसके  लिए  आखिरी  दम  तक  प्रयत्न  किया  था  ।
  रमेशचन्द्र  दत्त  का  जन्म  एक  उच्च  शिक्षित  और  संपन्न  परिवर  में  हुआ था  |  उनके  पिता  डिप्टीकमिश्नर  थे  ।  अपने  पिता  के  साथ  उन्हें बंगाल, बिहार,  उड़ीसा  घूमने  का  मौका  मिला  । इन  यात्राओं  में  बालक  दत्त  ने  भारतीय  जन-जीवन  में  घोर  निराशा  और  मनुष्य  का  मनुष्य  के  द्वारा  उत्पीड़न  देखा  ।
  जब  वे  आई. सी. एस.  की  परीक्षा  में  भाग  लेने  इंग्लैंड  गये,  वहां  उन्हें  ग्लैडस्टन,  डिजरैली,  जानब्राईट,  हेनरी  फासेट,  जान  स्टुअर्ट मिल  और  चार्ल्स  डिफैन्स  जैसे  राज नेताओं  और  साहित्यकारों  के  संपर्क  में  आने  का  अवसर मिला  ।  इन व्यक्तियों से मिलने  के  बाद  दत्त   के  ह्रदय  में  भी  ऐसी  इच्छा  उत्पन्न  हुई  कि  मुझे  भी  भारतीयता  का  गौरव  बढ़ाने  के  लिए  प्रयत्न  करना  चाहिए  । उनके  ह्रदय  में  आवाज  उठी--- 'भारत  महान  है,  यदि  उसकी  सोयी  आत्मा  जाग  उठे,  यहाँ  के  नागरिकों     को  गौरवपूर्ण  अतीत  से  परिचित  करा  दिया  जाये  और  उन्हे  प्रेरणा  दी  जाये  तो  हम  एक  शक्ति  के  रूप  मे,  स्वयं  एक  योग्य  व्यक्ति  के  रूप  में  अपनी  प्रतिष्ठा  बना  सकते  हैं  । '   इसी  भावना  से  उन्होंने  आई.  सी. एस.  की  परीक्षा  दी,  उसमे  चुने  गये  और  उन्हें  असिस्टेंट  मजिस्ट्रेट  के  पद  पर  नियुक्त  किया  गया  ।
इस  पद  पर  काम  करते  समय  उन्होंने  अनुभव  किया  कि  अंग्रेज  पदाधिकारियों  की  द्रष्टि में  एक  भारतीय  कोई  भी  उत्तरदायित्वपूर्ण  कार्य  नहीं कर  सकता  ।   उन्होंने  अंग्रेजों की  इस  धारणा  को  बदलने  का  निश्चय  किया  ।   1876 में  जब  गँगा  में  भीषण  बाढ़  आई,    चालीस  हजार  जाने  गईं,  शासन  तंत्र  बुरी  तरह  लड़खड़ा  गया । तब  वहां  पुन:व्यवस्था  के  लिए  रमेशचन्द्र  दत्त  कों  भेजा  गया,  उन्होंने  इतनी  कुशलता  से  कार्य  किया  कि  अंग्रेज  अधिकारी  भी  देखकर  दंग  रह  गये  । जब  वहां   हैजा  फैला  तब उनहोने  जिस  सेवा-भाव  से  कार्य  किया  जिसे  देखकर  अंग्रेजो  को  अपनी  धारणा  बदलनी  पड़ी  |
फिर  उन्होंने शासकीय  सेवा  से  त्यागपत्र  दे  दिया  और  साहित्य  के  माध्यम  से  भारत  के  महान  अतीत  से  जन-जन  को  परिचित  करने  में  संलग्न  हो  गये  । । उनका  सर्वाधिक  लोकप्रिय  ग्रन्थ  'प्राचीन  भारत  की  गाथाएं ' प्रकाशित  हुआ  जिसने  बुद्धिजीवी  वर्ग  को  अपनी  धारणा  बदलने  पर  विवश  किया  ।  अन्य  कई  ग्रन्थ  उन्होंने  लिखे,  उनकी  भावनाएं,  साहित्य  व  देशभक्ति  को  भुलाना  कठिन  है  । 

15 March 2015

भारतीय विद्दा के साधक------ सर-जान वुडराफ

संस्कृत  के  तंत्रशास्त्र  विषयक  अथाह  व  अनमोल  लेखन  के  कारण  सर-जान  वुडराफ  का  नाम  श्रद्धापूर्वक  स्मरण  किया  जाता  है  ।  बंगाल  के  एडवोकेट  जनरल  सर  जेम्स  वुडराफ  के  घर   15 दिसम्बर 1865 को  उत्पन्न  हुए  सर-जान  वुडराफ  की  शिक्षा  इंग्लैंड  में  संपन्न  हुई  । वे  बैरिस्टर  बनकर  भारत  आये  और  कलकत्ता  उच्च न्यायालय  में  वकालत  करने  लगे  |  1902  में  वे  भारत  सरकार  के  विधि  सलाहकार,  1904  में  कलकात्ता  उच्च न्यायालय  के  न्यायधीश  और  1915  में  वहीँ  के  मुख्य    न्यायधीश   बनाये  गये ।  उनका  मन  भारतीय  प्राच्य  विद्दा  के  ग्रन्थों  के  अध्ययन  में  रमता  था  ।
अपने    व्यवसाय से  बचा  हुआ   सारा  समय  वे  भारतीय  धर्म, दर्शन, अध्यात्म  और  तन्त्र-मन्त्र  साहित्य  के  अध्ययन  में  लगाते  थे  ।   उन्होंने   भारतीय  तन्त्र  शास्त्र   की   महत्ता  और  उनमे  वर्णित  तथ्यों  पर  महत्वपूर्ण  टीकाओं  से  परिपूर्ण  लेख  लिखने   आरम्भ  किये  ।  सर-जान वुडराफ  ने  तन्त्रशास्त्र  पर  20-21 ग्रन्थ  लिखे  |  ' इंट्रोडक्शन   टू  तन्त्र शास्त्र '    प्रिंसिपल्स  ऑफ़ तन्त्र ,    द वर्ल्ड  एज  पावर ,  तथा   महामाया   आदि  उनके  लिखे  शास्त्रीय  विवेचना युक्त  आलोचनात्मक   ग्रन्थ   हैं  । ' द  सर्पेंट  पावर ' में   उन्होंने  कुण्डलिनी  शक्ति   और  उसके  जागरण  के  संबंध  में  महत्वपूर्ण  जानकारी  दी   |  मन्त्र  विद्दा   पर   लिखा  गया  उनका  ग्रन्थ  ' द  गार्लेंड  ऑफ  लेटर्स ' अत्याधिक  महत्वपूर्ण  माना  जाता है  ।
उन्होंने  तन्त्र  व  मन्त्र  विद्दा  पर  जिस  गहराई  और  मनोयोग  से  अध्ययन , मनन , चिंतन  और  लेखन  किया  वह  विश्व  के  साहित्य  में  अपना  एक  महत्वपूर्ण  स्थान  रखता  है  ।उनकी   इस  साधना  ने   तन्त्र  और  मन्त्र  विद्दा  पर  पड़े  रहस्य  का  अनावरण  करने  में  पर्याप्त  सफलता  प्राप्त  की  । उनका  जीवन , तंत्र  विद्दा  जैसे  गूढ़  विषय  पर  उनका  समय -दान  इतिहास  में   चिरस्मरणीय   है  ।