18 December 2014

WISDOM

जब  राज्य  का  राजा  न्यायप्रिय  होता  है  तो  उसके  राज्य  में  अनीति  व  अन्याय  सिर  नहीं  उठा  पाते  ।  प्रजा  भी  न्याय  की  राह  पर,  नीति  के  पथ  पर  बढ़ने  के  लिए  प्रेरित  होती  है  और  राज्य  में  चारों  ओर  सुख ,  शांति  एवं  सम्रद्धि  का  वातावरण  विनिर्मित  होता  है  तथा  प्रजा,  राज्य  एवं  राजा  सभी  के  विकास  के  कई  आयाम  खुलते  चले  जाते  हैं   ।
  आसुरी  बल  की  तुलना  में  सत्कर्मों  का,  भगवता  का  बल  ज्यादा  है  । जब  यह  बल-सामर्थ्य  दूसरों  की  रक्षा में,  समाज  में  पीड़ितों,  आपदा  से  त्रसित  लोगों  को  राहत  देने  में  नियोजित  होती  है  तो  ऐसे  व्यक्ति  की  सामर्थ्य  बढ़ती  है,  उसका  बल  जो  बढ़ता  है  उससे  वह  शक्तिवान  हो  अपनी  व  औरों  की  रक्षा  करता  है  ।  ऐसे  कामनाओं  से  रहित,  निष्काम  बल  को  श्रीमदभगवद्गीता  में  भगवान  की  विभूति  कहा  गया  है   । 

17 December 2014

बुद्धि की शुद्धि आवश्यक है

  आज  सर्वत्र  उस  विनाशक  बुद्धि  के  दर्शन  हो  रहें  हैं,  जो  स्वार्थ  का  कालपाश  लिए,  अहंता  का  मदिरापान  किये  औरों  के  जीवन  पर  घातक  प्रहार  कर  रही  है  ।  उसे  तो  यह  भी  चेत  नहीं  है  कि  दोषी  कौन  है  और  निर्दोष  कौन   ?
    भगवान  बुद्ध  ने  आज  से  ढाई  हजार  वर्ष  पहले  इस  व्यथा  को  भाँपते  हुए  कहा  कि  यदि  बुद्धि  को  शुद्ध  न  किया  गया  तो  परिणाम  भयावह  होंगे  ।  बुद्धि  यदि  स्वार्थ  के  मोहपाश  और  अहं  के  उन्माद  से   पीड़ित है  तो  उससे  केवल  कुटिलता  ही  निकलेगी,  परंतु  इसे  यदि  शुद्ध  किया  जा  सका  तो  इसी  कीचड़  में  करुणा  के   फूल  खिल  सकते  हैं  ।  बुद्धि  अपनी  अशुद्ध  दशा  में  इनसान  को  शैतान  बनाती  है  तो  इसकी  परम  पवित्र  शुद्ध  दशा  में  इनसान  बुद्ध  बनता  है,  उसमे  भगवता  अवतरित  होती  है  ।
    मानव  बुद्धि  को  शुद्ध  करने  के  लिए  सबसे  पहली  जरुरत   है   कि  हमारा  द्रष्टिकोण  सुधरे,  हम  समझें  कि  जीवन  सृजन  के  लिए  है  न  कि  विनाश  के  लिये   ।   बुद्धि  जितनी  शुद्ध  होती  है,  उतनी  ही  उसमें  संवेदना  पनपती  है  ।  आज  के  इस  दौर  के  इनसानी  जीवन  को  इसी  संवेदना  की  तलाश  है   । 

कर्मयोग श्रेष्ठ है

' सच्चा  कर्मयोगी  वही  है,  जो  जीवन  के  विभिन्न  कर्म  करते  हुए  भी  परमात्मा  से  कभी  विलग  नहीं  होता  । '  ईश्वर  के  साथ  किसी  तरह  से  जुड़कर  कर्म  करते  हुए  जीना  यही  कर्मयोग  है  ।
         गुरु  गोरखनाथ का  जब  उदय  हुआ  तो  उनका  नाम  था-- अघोरवज्र  ।  अघोर  से  गोरखनाथ  पैदा  हुए  एवं  वज्रयानी  संप्रदाय  के  थे  ।  उनके  एक  साथी  थे-फेरुकवज्र   ।   मुहम्मद  गौरी  की  सेना  ने  आक्रमण  किया  एवं  उत्तर  से  दक्षिण  तक  सब  कुछ  तहस-नहस  करती  हुई,  देवालयों  को  तोड़ती  हुई  सोमनाथ  व  उड़ीसा  के  कोणार्क  मंदिर  तक  पहुँच  गई  ।
  उस  समय  योग  एवं  तंत्र  की  शक्ति  में  महारत  रखने  वाले  ढेरों वज्रयानी,  गोरखनाथ, फेरुकवज्र  थे  । तत्कालीन  राजा  तंत्र  के  टोटकों  से  प्रभावित  हो  यही  समझ  बैठे  थे  कि  यही  लोग  मोरचा  ले  लेंगे,  हमें  लड़ने  की  जरुरत  भी  नहीं  होगी  ।  सेनाओं  की  छुट्टी  कर  दी  गई  ।   यही  मान  लिया  कि  तांत्रिकों  और  योगियों  के  बल  पर  यवन-शक-हूणों  से  जूझ  लिया  जायेगा  ।  जब  गजनवी  आकर  रौंद  कर  चला  गया  तब  गोरखनाथ  ने  अपने  से आयु  व  अनुभव  में  बड़े  फेरुकवज्र  से  पूछा--- " आपका  तप  कहां  चला
 गया  ?   ज्ञान  का  क्या  हुआ  ? क्योँ  नही  जूझ  पाये  आप  ? "
  तब  फेरुकवज्र  बोले--- " योग  व  तंत्र  की  अपनी  सीमा  है  । " ऐसे  विपत्ति  के  समय  में  आवश्यकता  आत्मबल  संपन्न  व्यक्तियों  की,  विजय  की  कामना  रखने  वालों  की   एवं  कर्मयोगियों   की  होती  है  । गजनी  के  सैनिकों  में  गजब  का  आत्मविश्वास  था,  विजय  की  कामना  थी  ।  जब  कर्मयोगी  जिजीविषा  संपन्न  व्यक्ति  एक  साथ  होते  हैं,  तो  समूह  मन  का  निर्माण  करते  हैं  ।  इस  समूह  मन  के  सामने  तंत्र  और  योग  एक  तरफ  रखा  रह  गया  और  उनकी  दुर्दांत  इच्छा  शक्ति  काम  करती  चली  गई  । "
आगे  जब  भी  जमाना  बदलेगा  समूह  मन  के  जागरण  से  ही  बदलेगा  । 
हमें  कर्मयोगी  ही  होना  चाहिए  ।  अच्छाई  को,  कर्मयोगियों  को  संगठित  होना  पड़ेगा  तभी  बुराई  पर  विजय   संभव  है  । 

15 December 2014

धर्म निष्ठा

 यहूदी  अपने  धर्म  ग्रंथों  पर  बहुत  अधिक  विश्वास  रखते  हैं   ।  वैसे  ही  मातृ-भूमि  और  जातीय  आदर्शों  की  रक्षा  के  लिए  अपने  निजी  स्वार्थों  को  हँसते  हुए  बलिदान  कर  देने  का  उनका  स्वभाव  भी  अपने  आप  में  अनूठा  है   इसी  के  बल  पर  इजराइल  ने  विश्व-राजनीति   में  अपना  एक  विशिष्ट  स्थान   बनाया  है  ।
           द्वतीय  महायुद्ध  में  ब्रिटेन  के  एक  यहूदी  ने  ब्रिटेन  को  अपने  अथक  परिश्रम  और  वैज्ञानिक  उपलब्धियों  से  युद्ध-विजय  में  महत्वपूर्ण  सहयोग  दिया  ।  एक  उच्च  ब्रिटिश  शासनाध्यक्ष  ने  उनसे  कहा--- " आपने  ब्रिटेन  की  महान  सेवा  की  है,  इस  उपलक्ष्य  में  ब्रिटेन  आपका  सम्मान  करना  चाहता  है  बताइए ! आपकी  महान  सेवाओं  के  बदले  हम  आपको  क्या  दे  सकते  हैं   ? "
   उन  महान  वैज्ञानिक  ने  अपने  निजी  स्वार्थ  के  लिए  कुछ  नहीं  माँगा  और  कहा--- मान्यवर ! यदि  आप  हमें  कुछ  दे  सकते  हैं  तो  हम  यहूदियों  की  मातृ-भूमि  वापस  कर  दें,  ताकि  हम  अपने  धार्मिक  आदर्शों  की  रक्षा  कर  सकें  । "  अंग्रेज  बड़े  कृतज्ञ  थे  ।  उन्होंने  फिलिस्तीन  का  कुछ  भाग  दे  दिया,  जहाँ  यहूदी  पुन: संगठित  हुए  ।  अपने  निजी  स्वार्थ  को  त्याग  कर  सब  यहूदी  रेगिस्तानी  इलाके  को  हरा-भरा  बनाने  में  जुट  गये  ।  उनके  सामूहिक  श्रम  का  ही  फल  है  कि  इजराइल  आंतरिक  द्रष्टि  से  संपन्न  राष्ट्र  है  ।
यहूदियों  की  गहन  धर्म  निष्ठा  विश्व  का  एक  आदर्श  उदाहरण  है  । 

14 December 2014

WISDOM

प्रतिकूलताओं  मे  भी  जो  देने  की  आकांक्षा  रखता  हो  वही  सही  अर्थों  में  देवता  होते  हैं  । 
  महाभारत  में  एक  कथा  है----- एक  ब्राह्मण  परिवार  अनुष्ठान  कर  रहा  था,  भयंकर  अकाल  की  स्थिति  थी  ।  ऐसे  में  उनने  नौ  दिन  पश्चात्  बचा  हुआ  भोजन  लेने  का  विचार  किया  था  ।  नवें  दिन  भावनात्मक  पूर्णाहुति  कर  जैसे  ही  ब्राह्मण  परिवार  भोजन  के  लिए  बैठा  तो  एक  चांडाल  समने  आ  गया,  उसने  कहा,  हमें  भूख  लगी  है,  हम  खाना  चाहते  हैं  । ब्राह्मण  ने  अपना  भोजन  उसे  दे  दिया  ।  भोजन  कर  लेने  के  बाद  उसने  कहा  कि  पेट  नहीं  भरा,  तो ब्राह्मण  की  पत्नी  ने  भी  अपना  भोजन  उसके  सामने  रख  दिया  ।  इस  भोजन  से  भी  उसकी  भूख  शांत  नहीं  हुई  तो  ब्राह्मण  के  दोनों  पुत्रों  ने  भी  अपना  भोजन  जो  कि  अब  अंतिम  आस  के  रूप  में  रखा  था,  चांडाल  को  दे  दिया  ।
   चांडाल  ने  पूछा  कि  अब  आप  क्या  खायेंगे  ? ब्राह्मण  ने  कहा  कि  पानी  पीकर  ही  परायण  कर  लेंगे  ।  सोचेंगे  यही  भगवान  की  इच्छा  है  ।   अतिथि  भूखे  चले  जायें,  यह  कैसे  हो  सकता  है  ? चांडाल  ने  भोजन  समाप्त  किया,  ब्राह्मण  को  आशीर्वाद  दिया  एवं  अच्छी  तरह  कुल्ला  कर  तृप्ति  का  भाव  प्रकट  किया  ।   ज्योंही  ब्राह्मण  देव  सपरिवार  चांडाल  रूपी  अतिथि  को  प्रणाम  करने  झुके  वहां  भगवान  नारायण  प्रकट  हो  गये  ।  स्वयं  भगवान  चांडाल  का  रूप  धर  ब्राह्मण  कि  त्याग  वृति  को  परखने  आये  थे  । भगवान  ने  कहा  प्रतिकूलताओं  में  भी  जो  देने  की  आकांक्षा  रखता  हो,  जिसकी  भावनाएँ  पुष्ट  हों  वही  सही  अर्थों  में  देवता  है  एवं  ऐसे  देवताओं  के  होते  हुए  दुर्भिक्ष  नहीं  होना  चाहिए  ।   भगवान  के  ऐसा  कहते  ही  घनघोर  घटाएँ  बरसने  लगीं  एवं  अकाल  की  स्थिति  चली  गई  ।
निष्काम  भाव  से  मानव  जाति  की,  समाज  की  सेवा  स्वरुप  किया  गया  श्रेष्ठतम  कर्म  ही  यज्ञ  है,  इसके  परिणाम  स्वरुप  आत्मसंतोष,  कीर्ति,  ऐश्वर्य  आदि  प्राप्त  होता  है  ।  ऐसे  अहंकाररहित  निष्काम  कर्म  मन  को  अनिर्वचनीय  शांति  से  भर  देते  हैं  । 

13 December 2014

WISDOM

वास्तविक  प्रसन्नता---सफल  जीवन  जीने  की  अनुभूति   की   एक  ही  कुंजी   है--- समर्पण  भाव  से  सतत  कर्म  करते  रहना  और  परमार्थ  के  लिए  सत्कर्म  करना  ।
जिस  समाज  या  राष्ट्र  में  युवाशक्ति,  सामान्य  जन  विषय-विलासी,  स्वार्थी,  अति  महत्वकांक्षी,  भोगप्रधान  चिंतन  वाले  होंगे,  वह  राष्ट्र  या  समाज  कभी  उन्नति  नहीं  कर  सकता,  फल-फूल  नहीं  सकता  ।  कितना  भी  आधुनिकीकरण,  यंत्रीकरण  क्योँ  न  हो  जाये,  संसार  में  शांति  नहीं  मिल  सकती  ।
       वह  शांति  जिसकी  खोज  में  आज  सारा  विश्व  है,  वह  जीवन  में  त्याग  की  प्रतिष्ठा  से  ही  मिलेगी  । एकाकी  स्वार्थी  जीवन  जीने  से,   परमार्थ  कार्यों  की  उपेक्षा  से  व्यक्ति  का  आत्मिक  जगत  सूखा  मरुस्थल  बन  गया  है  ।  जिसे  देखिये  वही  देखने  में  स्वस्थ  पर  अंदर  से  खोखला  व  तनावग्रस्त  है  ।
यदि  किसी  समाज  का,  राष्ट्र  का  पुनर्निर्माण  होगा  तो  जीवन  जीने  के  तरीके  बदलकर-  जीवन  को  भोगमय  से  बदलकर  त्याग  की  जीवन  में  प्रतिष्ठा  करने  से   । 

12 December 2014

WISDOM

क्रूरता,  हिंसा,  तनाव  और  विग्रह  से  भरे  आज  के  समाज  में  भगवान  बुद्ध  के  संदेश  स्नेह-शीतलता  का  आश्वासन  हैं  । उनकी  सरल,  व्यवहारिक  और  संतप्त  मन  को  छू  लेने  वाली  शिक्षाएँ  व्यक्ति  को  समाधान  की  ओर  ले  जाती  हैं  । 
    महाविजित  नामक  एक  राजा  एक  महायज्ञ  की  योजना  बना  रहा  था  ,  उसके  राज्य  में  भारी  उपद्रव  हो  रहे  थे,  बटमारियाँ   होती  एवं  चोरी-चकारी  होती  ।  महाविजित  ने  अपने  अमात्य  को  बुद्ध  की  सम्मति  जानने  के  लिए  भेजा  ।  भगवान  बुद्ध  ने  महाविजित  को  परामर्श  दिया-- " राज्य  में  सुख-शांति  के  लिए  प्रयत्न  करना  प्रथम  आवश्यक  है  । राज्य  में  उपद्रवों  की  शांति  के  लिए  किये  गये  यज्ञ  के  फल  निश्चित  मिलेंगे  ।  उसके  लिए  प्रजा  पर  न  तो  कर  लगाना  चाहिए  और  न  ही  उपहार  ग्रहण  करना  चाहिए  । 
महाविजित  ने  राज्य  में  न्याय  और  सुरक्षा  के  लिए  सुनिश्चित  उपाय  किये,  उसके  बाद  एक  विराट  यज्ञ  किया  ।  भगवान  बुद्ध  की  बताई  विधि  के  अनुसार  राजा  ने  किसी  से  उपहार  आदि  नहीं  लिए  ।  जो  लोग  उपहार  लेकर  आये  उनसे  कहा  कि  इस  धन  को  लोकहित  में  खर्च  करना  चाहिए  ।  धनिकों  ने  अपने  उपहारों  का  उपयोग  यज्ञशाला  के  चारों  ओर  धर्मशालाएँ  खुलवाने,  गरीबों  को  दान  देने,  रोगियों  के  लिए  चिकित्सालय  खोलने  और  अनाथों  के  लिए  शरण  की  व्यवस्था  में  किया  । 
इस  आयोजन  की  सूचना  भगवान  बुद्ध  को  मिली  तो  उन्होंने  " बहुत  अच्छा  यज्ञ-बहुत  अच्छा  यज्ञ " कहकर  महाविजित  को  आशीर्वाद  भिजवाया  ।