20 February 2017

कर्मयोग की शक्ति

  ' ईश्वर  के  प्रति  अटूट  विश्वास व्यक्ति  को  कठिनाइयों  तथा  विपत्ति  की  घड़ियों  में  भी  वह  धैर्य  प्रदान  करता  है , जिसके  बल  पर  वह  प्रतिकूल  परिस्थितियों  को  भी  आसानी  से  सह  लेता  है  । '
  लोकमान्य  तिलक  को  देश  निकाले  का   दंड  देकर  छह  वर्ष  के  लिए  बर्मा  की  मांडले  जेल  में  रहने  के  लिए  ले  जाया  जा  रहा  था  ।   दूसरी  श्रेणी  में  एक  बर्थ  पर  तिलक  और  उनके  सामने   साथ  वाले  दोनों  सैनिक  अधिकारी  बैठे  थे   ।
 रात  के  नौ  बजे ,  तिलक  के  सोने  का  समय  हो  गया  ।  पगड़ी , अंगरखा  और  दुपट्टा  उतार  कर  सोने  की  तैयारी  करने  लगे  ।  और  पांच  मिनट  में  ही  उन्हें  गहरी  नींद  आ  गई  ।
 सुबह  पांच  बजे  वे  सोकर  उठे  ।   उतनी  गहरी  नींद  लेते  देखकर   अधिकारियों   को  आश्चर्य  हुआ  ।  पूछा ---- " आप  जानते  हैं  आपको  कहाँ  ले  जाया  जा  रहा  है   और  वहां  क्या  सजा  दी  जाएगी  ।  फिर  भी  इतनी  निश्चिन्तता  पूर्वक  कैसे  सो  सके  ? "
  तिलक  ने  कहा ---- " यह  जानने  की  मुझे  क्या  आवश्यकता  है  ।  परिणाम  को  जानकर  ही  मैं  इस  क्षेत्र  में  आया  हूँ  ।  चिंता  होती  तो  इस  क्षेत्र  में  प्रविष्ट  ही  क्यों  होता  ? "
  मांडले  जेल  में  न  कोई  उनकी  भाषा  समझने  वाला  था ,  न  ही  कोई  परिचित  ।   उन्होंने  सब  तरफ  से  ध्यान  हटाकर  '  गीता '  का  अध्ययन  आरंभ  किया   और  छह  वर्ष  में  उसका   एक  प्रेरणाप्रद  भाष्य  तैयार  कर  दिया  ।   लोकमान्य  का  ' गीता  रहस्य '  उनके  जेल  से  छुटकारे  के  बाद  प्रकाशित  हुआ   तो  उसका  प्रचार  आंधी - तूफान  की  तरह  बढ़ा   ।    भारतीय  जनता  को  कर्तव्य पालन  की  प्रेरणा   देने  वाला  महत्वपूर्ण  ग्रन्थ  है   ।   

19 February 2017

गुरु दक्षिणा ------

महाराणा  प्रताप  और  छत्रपति  शिवाजी  ---- इन  महापुरुषों  के  व्यक्तित्व  और  कर्तव्य  को  काल  की  परिधि  में  नहीं  बाँधा  जा  सकता , ये   चिरंतन  हैं  ।  अमर  हैं  ।  आज  भी  और  हर  काल  में  भी  ये  नाम  उतने  ही  प्रभामय   और   प्रेरक  रहेंगे   ।
      समर्थ गुरु  रामदास  ने  शिवाजी  को  समझाया ---- " शिवाजी  ! तू   बल  की  उपासना  कर , बुद्धि  को  पूज ,  संकल्पवान  बन  और  चरित्र  की  द्रढ़ता  को  अपने  जीवन  में  उतार ,  यही  तेरी  ईश्वर  भक्ति  है  ।   भारतवर्ष   में  बढ़  रहे  पाप , हिंसा , अनैतिकता   और  अनाचार  के   यवनी  कुचक्र  से   लोहा  लेने   और  भगवान्  की  स्रष्टि  को  सुन्दर  बनाने  के  लिए   इसके  अतिरिक्त  कोई  उपाय  नहीं  है   । "
     शिवाजी  ने  दृढ    किन्तु  विनीत  भाव  से  कहा ----- " आज्ञा  शिरोधार्य   देव  ! किन्तु  यह  तो  गुरु  दीक्षा  हुई  ,     अब  गुरु - दक्षिणा  का  का  आदेश  दीजिये  । "
  गुरु  की  आँखें  चमक  उठीं  ।  शिवाजी  के  शीश  पर  हाथ  फेरते  हुए  बोले  -----  " गुरु - दक्षिणा  में  मुझे  एक  लाख  शिवाजी  चाहिए ,  बोल   देगा   ? "
   "  दूँगा  गुरुदेव   ! एक  वर्ष  एक  दिन  में  ही   यह  गुरु - दक्षिणा  चुका  दूँगा   ।  "
  इतना  कहकर  शिवाजी  ने  गुरुदेव   की   चरण   धूलि   ली   और  महाराष्ट्र  के  निर्माण  में  जुट  गए   ।
   जीवन  विकास   में  सहायक  गुणों ----- स्फूर्ति , उत्साह , तत्परता ,  श्रमशीलता ,  नियम , संयम ,  उपासना  -- आदि  गुणों  को  शिवाजी  ने  अलंकारों  की  तरह  धारण  किया  हुआ  था  ।  इसके  साथ  ही  व्यवहार  कुशलता ,  अनुशासन ,  वाक्पटुता  जैसे  गुणों  और  योग्यता  के  बल  पर    जागीर  के  सारे  तरुण  नवयुवक   तथा  किशोर  अपने  अनुयायी  बना  लिए  ।   उन्होंने   स्थान - स्थान  पर  इनके  संगठन  तथा  स्वयं  सेवक  दल  बना  दिए   ।  समय - समय  पर  वे  उनको  शस्त्रों  तथा  देश प्रेम  की  शिक्षा  देते   ।  उन्होंने  स्थान - स्थान  पर  देश  की  रक्षा  के  लिए  सामग्री  एकत्रित  करने  के  लिए  भण्डार - भवनों  की  स्थापना  की  और  उनकी  देखरेख   व  प्रबंध  व्यवस्था  के  लिए  कार्यकारिणी  बनाई  ।
शिवाजी  ने  बहुत  से  चुने  हुए  साथियों  की  एक  स्वयं सैनिक  सेना  बनाकर  युद्ध , व्यूह   तथा  उन्हें  सञ्चालन  का   व्यवहारिक  अभ्यास   कर  लिया  ।   वे  लोगों  को  स्वयं  शस्त्र  तथा  युद्ध  की  शिक्षा  देते  थे   और  सेना  के  लिए  आवश्यक  अनुशासन  का  अभ्यास    कराते  थे   ।
   लगातार   36  वर्ष  तक  वन - पर्वत  एक  करके   अनेकानेक  युद्ध   करके  सशक्त  महाराष्ट्र  की  स्थापना   का  स्वप्न  साकार  किया  ।  उन्होंने  अपने  समय  के  एक  युगपुरुष  की  भूमिका  निभायी  । 

17 February 2017

आश्चर्य जनक स्मरण शक्ति

डॉ.  राजेन्द्र प्रसाद   स्वतंत्र  भारत  के  प्रथम  राष्ट्रपति  थे   |   वे  सरलता  की  प्रतिमूर्ति  थे   लेकिन  उनकी  स्मरण  शक्ति  इतनी  आश्चर्य  जनक   थी  कि  एक  दिन  पं .  नेहरु  उनसे  पूछ  बैठे  --- " ऐसा  आला  दिमाग  कहाँ  से  पाया  राजेन्द्र  बाबू  ? "
   बात  यह  थी  कि  एक  बार  कांग्रेस  कार्य  कारिणी  के  प्रधान  सदस्य  परेशान   थे  कि  वह  रिपोर्ट  नहीं  मिल  रही  है  जिसके  लिए कार्य कारिणी  की  बैठक  बुलाई  गई  थी   |  वह  रिपोर्ट  डॉ.  राजेन्द्र  प्रसाद  पढ़  चुके  थे  |  उनसे  पूछा  गया  तो  बोले  ____ " हाँ मैं  पढ़  चूका  हूँ   और  आवश्यक  हो  तो  उसे  बोलकर  पुन:  नोट  करा  सकता  हूँ  | "
  लोगों  को  विश्वास  नहीं  हुआ  कि  इतनी  लम्बी  रिपोर्ट  एक  बार  पढ़ने  के बाद  ज्यों  की  त्यों  लिखाई  जा  सकती  है   ।  रिपोर्ट  खोजने  के  साथ  पुनर्लेखन  भी  आरम्भ  कर  दिया  गया  ।  राजेन्द्र  बाबू  सौ  से  भी  अधिक  पृष्ठ  लिखा  चुके   तब  वह  रिपोर्ट  भी  मिल  गई     कौतूहलवश  लोगों  ने  मिलान  किया   तो  कहीं  भी  अंतर  नहीं  मिला  ।  ऐसी  थी  उनकी  गजब  की  स्मरण  शक्ति  !

16 February 2017

शस्त्रबल और सैन्यबल के साथ नैतिक बल भी जरुरी है ------ प्राणवान कवि ---- निराला

महाकवि  निराला  ने  काव्य - साधना  के  माध्यम  से  लोक मानस  का  मार्गदर्शन  करने  का  निश्चय  किया  |   उनके  ग्रन्थ  '  राम  की  शक्ति - पूजा '  में   आत्म  बल  की ,  नैतिक  बल  की  श्रेष्ठता  का  प्रतिपादन  किया  गया  है   | ' आसुरी  तत्वों  के  साथ  दैवीय  पद्धति  से   मोर्चा  लेने  की   प्रेरणा  उनके  काव्य  दर्शन  से  मिलती  है   |श्री   राम  लंका   विजय   अभियान  को  आरम्भ  करने  से  पूर्व    शक्ति  की  आराधना  करते  हैं  उनका  अभीष्ट  नैतिक  बल  था   |

15 February 2017

शिवाजी का स्वाभिमान और द्रढ़ता

   शिवाजी  के  व्यक्तित्व  की  इतनी  चर्चा  सुन  बीजापुर  के  नवाब  ने   उनके  पिता  शाहजी  को  आदेश  दिया  कि  वे  अपने  पुत्र  शिवा   के  साथ  दरबार  में  उपस्थित  हों   ।   शिवाजी  ने  इसे  अपनी  आत्मा  का  अपमान  समझा  और  दरबार  में  जाने  से  मना  कर  दिया  ।  तब  दूसरे  दिन  मुरार पन्त   शाहजी  के  घर  गए  और  शिवाजी  से  कहने  लगे ----- " बेटे ! तुम्हे  दरबार  में   चलना  ही  चाहिए  ।  बादशाह  खुश  हो  जायेगा  तो  तुम्हे   ख़िताब  और  ओहदा  देगा  ,  जागीर  देगा  ।  अपने  बड़े  लाभ  के  लिए   बादशाह  को  एक  बार  सलाम  कर  लेने  में  क्या  हर्ज  है   ।  फिर  सुख  से  जीवनयापन  करना  । "
  मुरार  पन्त  की  बात  सुनकर  किशोर  शिव  बड़ी  देर  तक  उनका  मुंह  देखते  रहे   और  सोचते  रहे  कि  ऐसे  स्वार्थी   लोगों  के  कारण  ही  देश  और  धर्म  की  यह  दशा  है  ।  शिवाजी  ने  कहा --- " बादशाह  से  चाटुकारिता  में  पाए  जिस  पद  और  जागीर  को   लाभ  बताते  हैं  उसे  मैं   भिक्षा  से  भी  अधिक  गया - गुजरा  समझता  हूँ   ।  अपने  बाहुबल  और  सत्कर्मों  द्वारा  उत्पादित  सम्पति  को  ही  मैं  वांछनीय   मानता  हूँ  ।   ये  यवन  बादशाह   हिन्दुओं  को  इसी  प्रकार  लालच  में  डालकर     उनकी  स्वान वृति  जगाते  हैं   और  भाई  से  भाई  का  गला  कटवाते  हैं  ।  यह  तो  मनुष्य  की  अपनी  कमजोरी   और  सोचने  का  ढंग  है   कि  अन्यायियों  और  अत्याचारियों  के  तलवे  चाटने  से  ही  काम  चलता  है    वैसे  इतिहास  में  ऐसे  अनेक  उदाहरण  हैं   कि  संसार  में  एक  से  एक  बढ़कर  स्वाभिमानी  तथा  सिद्धान्त  के  धनी   व्यक्ति  हुए  हैं  जिन्होंने  सिर  दे  दिया ,  जीवन  दे  दिया      पर  स्वाभिमान   नहीं  दिया   l    " 

14 February 2017

सेवा व्रत का आदर्श ------- अवन्तिकाबाई गोखले

' अवन्तिकाबाई  ने  अपने  व्यवहारिक   आचरण  से  यह  सिद्ध  कर  दिया  कि  यदि  हम  ईमानदारी  और  सच्चाई  से  काम  लें  तो  हमारे  विरोधियों  को  भी  हमारी  प्रशंसा  करनी  पड़ेगी   । 
1923  में  अवन्तिका  बाई  बम्बई  कारपोरेशन  की  सदस्या  नियुक्त  की  गईं  और  आठ  वर्ष  तक  वे  वहां  रहकर  जनता  के  हित  में  विभिन्न  कार्य  करती  रहीं   ।  उन्होंने  बम्बई  नगर  में  कई  जच्चाखाने  खुलवाये   और  ऐसी  व्यवस्था  की  कि  उनमे  गरीब  वर्ग  की  महिलाएं  विशेष  रूप  से  लाभ  उठा सकें  ।
  उन्होंने  वहां  यह  प्रस्ताव  रखा  कि  कारपोरेशन  के  सभी  कर्मचारी  स्वदेशी  वस्त्र  व्यवहार  करें    जब  यह  प्रस्ताव  कुछ  संशोधनों  से  पारित  हो  गया  तो  उन्हें  बड़ी  प्रसन्नता  हुई  ,  क्योंकि  इस  प्रकार  कारपोरेशन  ने  स्वदेशी  के  सिद्धांत  को  स्वीकार  कर  लिया  । ।
      अपनी  सदस्यता  के  आठ  वर्षों  में  उन्होंने  जितने  भी  प्रस्ताव  पेश  किये  वे  सब  जन  सेवा  की  भावना  से  होते  थे   ।  उन्होंने  कभी  भी  अपना  कोई  स्वार्थ  पूरा  नहीं  किया   ।   किसी  अवसर  पर  म्युनिसिपल  कमिश्नर  मि.  क्लेटन  ने  कहा  था ----- " अवन्तिका बाई  के  कारण  यहाँ  का  वातावरण  गंभीर  रहता  है   और  समस्त  चर्चा  ऊँचे  दर्जे  की  होती  है   ।   उनकी  ईमानदारी  और  स्पष्टता  लाजवाब  है    l "

13 February 2017

WISDOM

 ' मनस्वी  और  कर्मठ  व्यक्ति   किसी  भी  दशा  में  क्यों  न  रहें   वह  समाज  सेवा  का  कोई - न -कोई   उपयोगी  कार्य  कर  ही  सकता  है  | ' 
    लेनिन  को    तीन  वर्ष  के  लिए  साइबेरिया  में  निर्वासन  का  दंड  दिया  गया   ।  साइबेरिया  उस  ज़माने  में  रूस  का  काला  पानी  समझा  जाता  था   ।  वहां  की  निर्वाह  सम्बन्धी  कठिनाइयों , एकांत    और  जेल  में  दिए  जाने  वाले  कष्टों  के  कारण  अनेक  व्यक्ति  आत्म  हत्या  कर  लेते  थे ,  कोई  पागल  हो  जाते  थे ,  कोई  भूख  से  मर  जाते  थे   लेकिन  लेनिन  के  दिमाग  में  इतने  विचार  भरे  हुए  थे  कि  वह  अपना  तमाम  वक्त  इसी  में  खर्च  कर  देता  था   । ।  लेनिन  ने  वहां   रहते  हुए  दो  उपयोगी  पुस्तके  लिखीं   जो  आगे  चलकर  श्रमजीवी  आन्दोलन  के  कार्य कर्ताओं  के  लिए  बड़ी  प्रेरणादायक  सिद्ध  हुईं  ।