7 February 2016

गीता - धर्म के प्रणेता --------- लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक

 '  शरीर   को  जेल  में  बंद  किया  जा  सकता  है   किन्तु  मनुष्य  की  भावनाओं  व  विचारों  पर  तो  पहरे   बिठाये  नहीं  जा  सकते   ।  वह  तो  वहां  भी  कार्यरत  रहती  है  l '
  1907 - 08  में  जब  अंग्रेज  सरकार  ने  तिलक  पर  राजद्रोह  का  मुकदमा  चलाकर  उन्हें   छह  साल  के  लिए  देश  निकाले  का  दंड    दे  दिया  तो  उन्हें    बर्मा  की  मांडले  जेल  में  रखा  गया   ।  जहाँ  न  कोई  इनकी  भाषा  समझने   वाला  था   और  न  उनसे  किसी  प्रकार  परिचित   । ।  सरकार  के  उद्देश्य  को  समझकर  लोकमान्य  ने  भी  अपना   ध्यान  सब  तरफ  से  हटा  लिया   और  गीता  का  अध्ययन  आरम्भ   कर  दिया   l   छह   साल  में   उसका  एक  ऐसा  प्रेरणाप्रद - भाष्य   तैयार  किया  जिससे  भारतीय  जनता  स्वयं  ही   कर्तव्य पालन  की  प्रेरणा  प्राप्त  करती  रह  सकती  थी  ।
   लोकमान्य  का  गीता  - रहस्य  उनके  जेल  से  छुटकारे  के  बाद   जब  प्रकाशित  हुआ  तो  उसका  प्रचार   आँधी - तूफान  की  तरह   बढ़ा  और  आज  कई  वर्ष  बीत  जाने  पर  भी   उसके  महत्व  में  कमी  नहीं  आई  है            लोकमान्य  के  जीवन  में    धार्मिकता ,  सामाजिकता  और  राजनीतिकता   का  इस  प्रकार  समन्वय  हुआ  था   कि  वर्तमान  युग  में  वह  भारतीय  जनता  के  लिए   सबसे  बड़ा  आदर्श  हैं   l   उन्होंने  लिखकर   और  कार्यरूप  में    उदाहरण  प्रस्तुत  कर  के   लोगों  को  यही  शिक्षा  दी    कि  मनुष्य  का  प्रमुख  धर्म  यही  है  कि  वह  प्रत्येक   अवस्था  में  कर्तव्य  - पालन    पर  आरूढ़  रहे   l    वास्तविक  धर्म  वही  है ----  जिसके  द्वारा  जीवन  के  सब   अंगों  का  समुचित  विकास  हो    और  प्रत्येक  परिस्थिति  का   मुकाबला  करने  को  तैयार  रहा  जाये  । 

6 February 2016

धर्म और सत्य का परित्याग नहीं किया ----- भारतेन्दु हरिश्चन्द

  हिन्दी  भाषा  में   भारतेन्दु  हरिश्चन्द  को   खड़ी  बोली  के  जनक  के  रूप  में   जाना  जाता  है   l  अपनी  उदारवादिता  के  लिए  वे  प्रख्यात  थे   ।    उनके  एक  मित्र  की  कन्या  का  विवाह  था   l  वे  कुछ  याचना  का  मनोरथ  लेकर    आये  ,  पर  भारतेन्दु  जी  की   जेब  उन  दिनों  बिलकुल   खाली   थी   l  फिर  भी  जरुरतमंद  को     खाली    हाथों   जाने  देना  उन्हें   उचित  नहीं  लगा  ।  उन्होंने  अपनी  हीरा  जड़ी   अँगूठी  उतारकर  मित्र  के  हाथ  पर  रखी  l  और  मित्र  का  मुंह  बंद  करते  हुए  कहा  ---- बस  अब  कुछ  मत  कहना  मेरे  पास  अब  कुछ  नहीं  बचा   l  

5 February 2016

WISDOM

 गरीब  और  असभ्य   लोगों  के ,  समाज  के  पीड़ित   शोषित  वर्ग   के  पक्ष  में  बोलने  तथा  उनमे  अपने  मानवीय  अधिकारों  की  चेतना  जाग्रत  करने  के  फलस्वरूप    खलील  जिब्रान  को  स्वार्थ लोलुप    अधिकारी  वर्ग  ने  देश  निकाला  दे  दिया   |  उस  समय    उन्होंने  कहा ------ " लोग  मुझे  पागल  समझते  हैं  कि   मैं   अपने  जीवन  को   उनके  सोने - चाँदी  के  कुछ  टुकड़ों  के  बदले   नहीं  बेचता  ।   और  मैं  इन्हें  पागल  समझता  हूँ   कि  वे ,  मेरे  जीवन  को    बिक्री  की  एक  वस्तु  समझते  हैं    । "
  तत्कालीन  समाज  में  फैली    हुई  रूढ़िवादिता  ,  धार्मिक  और  सामाजिक  कुरीतियों    तथा  अव्यवस्थाओं  को  देखकर   खलील  जिब्रान  ने  विचार  किया   कि  जब  तक  इन्हें  दूर  नहीं  किया  जायेगा  ,  तब  तक  जीवन     में   विकृतियों  की  भरमार   बनी  ही   रहेगी   और  समाज  स्वस्थ  वायु  में   साँस  न  ले  सकेगा   ।
 अत:  उन्होंने  इन  सबके  विरुद्ध  एक  आन्दोलन  छेड़  दिया   ।
  वे  कहा  करते  थे  ---- ' धर्म  की  सार्थकता  इसी  में  है    कि  वह  उन्नत   और  सदाचारी  जीवन   यापन  की  पद्धति  को  दर्शा  सके  | 

4 February 2016

साहित्य से सामाजिक चेतना का जागरण ------ हरिऔध जी

' कविताएँ  तो  कई  लिखी  जाती  हैं   ।  समाज  के  , व्यक्ति  के   मर्म  और  ह्रदय  को  जो   स्पर्श  कर  ले  , प्रभावित  कर  दे  ,  उसी  रचना  को  युग - साहित्य  की  संज्ञा  मिलती  है   । '     समाज  में  व्याप्त  कुरीतियों , ब्राह्मण - पंडितों , बाल - विवाह , वृद्ध - विवाह  जैसे  विषय  पर   उनकी  चुनी  हुई  कविताओं  का  संकलन   1901  में  प्रकाशित  हुआ   ।  ' काव्योपवन '  नामक  इस  अकेले  संकलन  ने  उन्हें   महाकवि  के  पद  पर  प्रतिष्ठित  कर  दिया  ।
  1914  में  उनकी  सर्वोत्कृष्ट  कृति   ' प्रिय  प्रवास '   प्रकाशित  हुई   |  हिन्दी  साहित्य  में  इसकी   प्रतिष्ठा  भागवत  के  समकक्ष  की  गई  है  ।  सभी  समस्याओं , कष्ट - कठिनाइयों  का  एक  अचूक - निदान  भगवद-प्रेम  बताकर   उन्होंने  सर्व साधारण  के  सामने  एक  अपूर्व  सुझाव  रखा  था  |  उनका  भगवत्प्रेम   निराशा  , पलायन   और  अवसाद  का  नहीं   आशा , उत्साह  तथा  प्राण  स्फूर्ति  का  सन्देश  देता  है  ।  इस  ग्रन्थ  के  नायक  श्री कृष्ण  है  ।  ब्रज  को  छोड़कर  कंस  के  बुलावे  पर  मथुरा  जाना   --- इस  प्रसंग  को  उन्होंने   कर्तव्य - निष्ठा  का  रंग  देकर  उल्लिखित   किया  है   । 

3 February 2016

WISDOM

'  जो  मनुष्य  ज्ञान  पाकर   उसका  प्रकाश   दूसरों  को  देने  का   विचार  बना  लेता  है  ,  उसका  ज्ञान  न  केवल  स्थायी  हो  जाता  है  ,  अपितु  दिनोदिन  बढ़ने  भी  लगता  है  ,  जिससे  एक  दिन  उसका  जीवन  देवतुल्य   बन  कर   धन्य   हो  जाता  है   | '

2 February 2016

सद्ज्ञान के साधक ------ इलियट

 इलियट  का  जन्म   1888  में   अमेरिका  में  हुआ  था   | उन्होंने  अंग्रेजी  और   फ्रेंच  भाषा  के  साथ  दर्शन - शास्त्र  का  अध्ययन  किया   । उन्होंने  यह   अनुभव   किया   कि  कानून , दंड , भय , प्रलोभन  और  समाज  व्यवस्था  का  कोई  भी  उपाय   व्यक्ति  को  इतना  नैतिक  और  सामाजिक  नहीं  बना  सकता   जितना  कि  अध्यात्म  दर्शन   ।   अध्यात्मवादी  जीवन - दर्शन  अपनाने  से   मनुष्य  का  व्यक्तिगत  और  सामाजिक  जीवन   सुखी  तथा  समृद्ध  बन  सकता  है   ।  उन्होंने  समाज   के   हितकारी  जिन   सत्यों  को  अपनी  आत्मा  की  गहराई  से  समझ  लिया  था  ,  उन्हें  साहित्य  के  माध्यम  से   जन - मानस  में   निरंतर  उतारते  रहना  ,  अपनी  साहित्य  साधना  का  लक्ष्य  बना  रखा  था   जिसकी  पूर्ति  में  वे  आजीवन  लगे  रहे  । 

1 February 2016

जर्मनी का ब्रह्मवेत्ता----------- शोपेन हावर

  विवेक  के  प्रति  आस्था   और  निज  के  पुरुषार्थ  से  ख्याति  तथा  सम्मान  को  प्राप्त  करने  वाले   इस  दार्शनिक  महापुरुष  को   अपने  जीवन  काल  में   निरंतर  संघर्ष  झेलना  पड़ा    ।  उनका  जीवन  उनके  सिद्धांतों  की  प्रयोगशाला  बन  गया   और  उस  प्रयोगशाला  में  उन्होंने  सिद्ध  कर  दिखाया    कि   संघर्ष ,  पुरुषार्थ   और  तप - त्याग  के  बिना   इस  जगत  में  कोई  भी   स्थायी  उपलब्धि  अर्जित  नहीं  की  जा  सकती    ।

शोपेन  हावर  का  कहना  था  कि   वस्तु   जगत  का  निर्माण   विचारों  के  साथ - साथ   संघर्ष  पर  भी  निर्भर  करता  है  । मस्तिष्क  को  उन्नत  बनाने   और  नया  सृजन  करने    के  लिए  असफलताएं  और  संघर्ष  नितांत  आवश्यक  हैं  ।  उनके   अभाव  में  आदमी  अस्थिर  ही  रहता  है   ।  इसलिए  कुछ  भी  बनने  के  लिए  आवश्यक  है     कष्ट  उठाना  और  पीड़ाएँ  झेलना    l 

    विलास  के  स्थान  पर  संयम  की  ,  अधिकार  के  स्थान  पर  कर्तव्य  की  ,  प्रवृति  के  स्थान  पर  निवृति  की    शिक्षा   का   प्रतीक    था  शोपेन  हावर  का   चिन्तन  और  जीवन  ।   जब  उनकी  मृत्यु  हुई   तो  उनके  हाथ  में  लेखनी   और  सिरहाने   पुस्तकों  का  बड़ा  सा  ढेर  था  ।   उन्होंने  भारतीय  उपनिषदों  का  गहरा  अध्ययन  किया    और   उसके    सार - तत्व  को   इस  प्रकार  निरुपित  किया   कि  समाज  का  प्रत्येक  वर्ग    अपने  कार्य -व्यवहार  की  समीक्षा  कर   उसमे  आवश्यक  सुधार  कर  सके    ।   अपने  जीवन  काल  में  तो  उन्हें  इतना  सम्मान  नहीं  मिला    परन्तु  आगे  चलकर   उनकी  ख्याति   देश - काल  की  सीमाओं  को  लांघकर  विश्वव्यापी   और  चिरन्तन  हो  गई   ।