28 June 2016

राष्ट्र धर्म का प्रचारक -------- मेजिनी

  '  इटली  का  जोजेफ  मेजिनी  ' राष्ट्र - धर्म  ' का  दृढ़  अनुयायी  था  ---- जब  किसी  देश  पर  शत्रु  का  आक्रमण  हो  तो  , वहां  के  प्रत्येक  निवासी  का  यह  धर्म  हो  जाता  है  कि  वह  मातृभूमि  को  अत्याचारियों  के  पंजे  से  छुड़ाने  का  प्रयत्न  करे   ।     यदि  वह  अपने  निर्दोष   देशभाइयों   पर      अत्याचार  होते  देखता  रहता  है   और  केवल  एकान्त  में  बैठकर  पूजा - पाठ    करके  ही   अपने  धार्मिक  कर्तव्य  की  पूर्ति  समझ  लेता  है   तो  वह  वास्तव  में  भ्रम  में  है   । '
   देश   को  पराधीनता  के  अभिशाप  से  मुक्त  करने  के  लिए   मेजिनी  ने  ' युवा  इटली '  नाम  की  एक  संस्था  की   स्थापना  की    ।  ' युवा  इटली '  के  उद्देश्यों  में   एक  महत्वपूर्ण  बात   यह  रखी  कि   ---- ऊँचे  आदर्शों  और  कर्तव्य  का  प्रभाव   तो  शिक्षित   और  मध्यम  श्रेणी   के  व्यक्तियों  पर  पढ़  सकता  है   |
परन्तु  देश  के  अशिक्षित  और  साधारण  श्रेणी  के  व्यक्तियों   की  समझ  में   ये  बातें  नहीं  आ  सकतीं  । 
यह  तो   स्पष्ट  है  कि  जब  तक  साधारण  जनता  में  जाग्रति  न  हो  जाये  और  वह  स्वतंत्रता  आन्दोलन  में  भाग  न  लेने  लगे   तब  तक  सफलता  की  आशा  नहीं  करनी  चाहिए  ।  इसलिए  हमको  अपने  प्रचार  में   विशेष  ध्यान  गरीबों , दुःखियों  और  समाज  के  पैरों   तले  रौंदे  जाने  वाले  लोगों  की  तरफ  देना  चाहिए  ।  हम  जिस  प्रजातंत्र  शासन  का  स्वप्न  देख  रहे  हैं   उसमे  सब  व्यक्ति  समान  भाव  से  एक   दूसरे    के    हित  का  ध्यान  रखकर   ही  व्यवहार  करेंगे   और न दूसरों  के  कल्याण  के  लिए  अपने  सुख  और  विलास  को  त्याग  करने  की  भावना  रखेंगे  ।  समाज  के  सब  अंगों  के  सुखी  होने  पर  ही    सम्पूर्ण  मानव - समाज   यथार्थ  सुख  भोग  सकता  है  । "
   मेजिनी  के  उपदेशों  से  इटली  ही  नहीं  समस्त  पराधीन   देशों  के  जन - सेवकों  को  बड़ी  प्रेरणा  मिली  ।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            

27 June 2016

ह्रदय के कोमल व उदार ------- महामना मालवीय जी

 '  सच्चे  महापुरुष  का  यही  लक्षण  होता  है   कि  उनके  घर  के   या  उनके  दल  वाले  ही  उनका  गुणगान  नहीं  करते   वरन  मतभेद  रखने  वाले ,  उदासीन  और  प्रतिपक्षी  भी   उनकी  प्रशंसा  करते  हैं   ।  कारण  यही  होता  है  कि  वे  जो  कुछ  करते  हैं   वह  परोपकार  की  भावना  से  होता  है  ,  उसमे  प्यार  और  नि:स्वार्थता  का  पूरा  समावेश  होता  है  । '
  मालवीय  जी  का   प्रतिदिन  का  यह  नियम  था  कि  वे  नित्य  कर्म  से  निवृत  होकर  कभी  अकेले  और  कभी  आचार्य  ध्रुव जी  के  साथ   छात्रावास  या  कॉलेज  में  जाकर  निरीक्षण  करते   ।  छात्रावास  में  विद्दार्थियों  का  सुख - दुःख  पूछते  ।  वे  पूछते  व्यायाम  करते  हो  या  नहीं  ? संध्या - वंदन  करते  हो  या  नहीं ? दूध  पीते  हो  या  नहीं  ? आदि  ।  एक  दिन  वे  छात्रावास    में  जा  रहे  थे  ,  एक  लड़का  आता  हुआ  दिखाई  दिया  ।  मालवीय  जी  ने  उसे  देखकर  पूछा  कि  दूध  पीते  हो  या  नहीं  ?  उसने  उत्तर  दिया  कि  वह  बहुत  गरीब  है  , दूध  के  लिए  पैसे  कहाँ  से  लाये  ।  मालवीय  जी  जब  घर  लौटे  तो  उसके  लिए  दूध  का  प्रबंध  करा   दिया  ।
  "  जयकुमार    नाम  का  छात्र  आचार्य  के  अंतिम  वर्ष  की  परीक्षा  देने  वाला  था  ।  पिता  का  स्वर्गवास  हो  जाने  से  वह   घर  गया  ।  उसको  लौटने  में  देर  हो  गई   जिससे  उपस्थिति  में  कमी  पड़  गई   और  नियमानुसार  परीक्षा  में  सम्मिलित  होना  असंभव  हो  गया   ।  उसने  मालवीय  जी  के  सामने  जाकर  अपना  प्रार्थना - पत्र  रखा  और  यह  श्लोक  पढ़ा -------
      या  त्वरा  द्रोपदी   त्राने  या  त्वरा  गजमोक्षणे   ।
    मध्यार्ते  करुणानाथ  ! सा  त्वरा  क्व  गताहिते  ।
  " द्रोपदी  के  उद्धार  और  गजराज  की  रक्षा  में   आपने  जो  शीघ्रता  प्रकट  की  थी  ,  हे  करुणामय  !  मेरी  विपत्ति  के  समय  वह  शीघ्रता  कहाँ  चली  गई  ? "
  इसे  बोलते  हुए  उसके  नेत्रों  से  आँसू  बहने  लगे  ।  मालवीय  जी  के  नेत्रों  में  भी  आँसू  आ  गये   और  प्रार्थना   पत्र  पर  उसी  समय    उसे  परीक्षा    में  सम्मिलित  होने  की  स्वीकृति  दे  दी   । तत्पश्चात  वह  छात्र  प्रथम  श्रेणी  में  उत्तीर्ण  हो  गया  । "
  ऐसी  सैकड़ों  घटनाएँ  मालवीय  जी  के  जीवन  की  हैं  , जिनमे  उन्होंने   तरह -तरह  से  सहायता  देकर   बहुसंख्यक  युवकों  के  जीवन  को  बर्बाद  होने  से  बचा  लिया   और  उनको  भावी  जीवन  में  सफलता  प्राप्त  करने  का  अवसर  दिया   ।
हिन्दू  विश्वविद्दालय  की  सफलता  और  वहां  के  छात्रों  तथा  अध्यापकों  को  कर्तव्यपरायण  तथा  उन्नतिशील  बनाने  के  लिए   उन्होंने  अपना  जीवन  ही  अर्पण  कर  दिया  । 

26 June 2016

आजीवन संघर्षरत ------- मैक्सिम गोर्की

    जन्म  से  ही  सुख - सुविधाएँ  क्या  होती  हैं  , उन्होंने  जाना  ही  नहीं   । जब  चार  वर्ष  के  थे  तो  पिता  की  मृत्यु  हो  गई  ।  कुछ  समय  बाद  माँ   भी  चल  बसीं  ।   नाना - नानी  के  पास  कुछ  दिन  रहे  ,  नाना  के  कारखाने  में  आग  लग  गई  , सारी  सम्पति  नष्ट  हो  गई  ।  अत: यह  घर  भी  छूट  गया , कभी  मोची  के  गुमास्ते  का  काम  किया  तो  कभी  माली  का  ।  फिर  एक  स्टीमर  में  उन्हें   दो  रूबल   प्रतिमास  वेतन  पर  तश्तरियां  धोने  का  काम  मिल  गया  ,  अभी  वे  बालक  ही  थे  ।  3-4  वर्ष  बाद  उन्हें  इसी  स्टीमर  में  रसोइये  का  काम  मिल  गया   ।   15-16  वर्ष  की  आयु  में  वे  एक  व्यक्ति ' स्मिडरी ' के  संपर्क  में  आये  ,  वह  भी  रसोइया  था  और  वह   एलेक्सी ( गोर्की  का  नाम )  से  सहानुभूति  रखता  था  ।   उसने  गोर्की  को  वर्णमाला  सिखाने  और  पढ़ाने  का  काम  शुरू  किया  ।
 स्टीमर  के  जीवन  में  उन्हें  एक  कटु  अनुभव  हुआ  ---- स्टीमर  के  कर्मचारी   यात्रियों  से  भोजन  का   पैसा  लेकर  अपने  पास  रख  लेते  थे   ।   गोर्की   ने  ऐसे  कार्यों  में  कभी  उनका  सहयोग  नहीं  किया  ,  इस  कारण  भ्रष्ट  कर्मचारी  उनसे  चिढ़े  हुए  रहते  थे  ।  एक  दिन  जब  स्टीमर  के  अधिकारी  को  यह  सब  पता  चल  गया   तो  सब  लोगों  ने                                                                                                              मिलकर  गोर्की  को  दोषी  ठहराया  ,  प्रमाण  न  होने  पर  बहुमत  को  सत्य  समझा  गया  और  गोर्की  को  नौकरी  से  अलग  कर  दिया  ।  ईमानदारी  और  मानवीय  मूल्यों  के  प्रति  आस्था   को  पाशविकता  का  यह  पहला  दण्ड  था   ।  गोर्की  आदर्शों  के  प्रति  दृढ़  निष्ठा  रखते  थे  ।  लाभ  नहीं  उत्कृष्टता  उनका  अभीष्ट  था  ,  इसलिए  उन्होंने  घुटने  नहीं  टेके   परन्तु  उनके  अंत:कारण  में   मनुष्यों  को  सभ्यता  और  नैतिकता  की  मर्यादाओं  का    उल्लंघन  करते  देख   एक  तीव्र  प्रतिक्रिया  हुई  और  वे  विद्रोही  बन  गये  ।  अपने  कटु  अनुभवों  को , जो  देखा  और  सुना  उसे  शब्द  देना  आरम्भ  किया  । 
वह  युग  जार  शाही  का  था  ।  तत्कालीन  स्थिति  का  उल्लेख  करते  हुए  स्वयं  गोर्की  ने  लिखा  है ----
 " इस  देश  में   अच्छे  और  भले  कामों  का  नाम  अपराध  है ,  ऐसे  मंत्री  शासन  करते  हैं   जो  किसानो  के  मुख  से  रोटी  का  टुकड़ा  तक  छीन  लेते  हैं   और  ऐसे   राजा    राज्य  करते  हैं   जो  हत्यारों  को  सेनापति  और  सेनापति  को   हत्यारा  बनाने    में  प्रसन्न  होते  हैं  । "
उस  काल  के  आतंक  और  दमन   पर  अपनी  प्रतिक्रिया  व्यक्त  करते  हुए  लिखा    है  ------ ' रूस  की  आग  बुझी   नहीं  , वह  दब  गई  है  ,  इसलिए  कि  दस  गुनी  शक्ति  के  साथ   उमड़  पड़े  । "  बारह  वर्ष  बाद   उनका  यह  कथन   अक्षरशः  सत्य  सिद्ध  हुआ  । 
                                                                                                                                                                                                                       

25 June 2016

' भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ' के जन्मदाता --------- सर ऐलेन ह्यूम

 भारत  के  साथ  सहानुभूति  और  प्रजातंत्र  में  दृढ़  विश्वास  रखने  वाले    निर्भीक  भद्र  पुरुष   सर  ऐलेन  ह्यूम   परम  देश  भक्त  और  समाज - सुधारक   जोसेफ  ह्यूम  के  सुपुत्र  थे   ।     उनकी  प्रथम  नियुक्ति  1849  में  बंगाल  में  उच्च  अधिकारी   के  रूप  में  हुई  थी  ।  वे एक  कुशल  प्रशासक  थे   |   अपनी   सरकार  के  प्रति  पूरी  कर्तव्यनिष्ठा  के  साथ - साथ   भारतीयों  के  प्रति  उनका  व्यवहार   बड़ा  स्नेहपूर्ण  और  उदारता  का  रहा  ।
  वायसराय  लार्ड  मेयो  ने   भारत  में  ग्रामीण  सुधार  का  सारा  कार्यभार  उन्हें  सौंपा  ।   ह्युम  इस  कार्य  में  जी - जान  से  जुटे  ।  वे  चाहते  थे  कि  भारत  के  कृषि  सुधार  कार्य  के  लिए  एक  रचनात्मक  योजना  तैयार  की  जाये    ।  परन्तु  कुछ  कारणों  से   वे   यह  नहीं  कर  सके   किन्तु  इस  विपत्ति  में  उन्हें  आत्म दर्शन  हुआ  ,  महसूस  हुआ   कि  ब्रिटिश  शासन  भारतीयों  के  हित  में  नहीं   ।
  ह्यूम  इस  विचारधारा  के  थे  कि  कोई  ऐसी  जिम्मेदार  संस्था   भारत  में  होनी  चाहिए    जिसके  द्वारा  ब्रिटिश    सरकार   को     भारतीयों   की  सही  भावनाओं  का  पता  चलता  रहे  । 
 देश  भर  में  इसका  स्वागत  हुआ   ।  ह्यूम  ने   प्रथम  भारतीय   राष्ट्रीय   यूनियन  की  स्थापना  की   ।  इस  यूनियन  का  सदस्य  होने  के  लिए  जो  पांच  अनिवार्य  शर्त  या  योग्यता    थीं  वो  इस  प्रकार  हैं ------
1.  सार्वजनिक  रूप  से  निष्कलंक  चरित्र
2. भारत  के  लोगों  के  आर्थिक , शारीरिक ,  चारित्रिक , मानसिक  तथा  राजनीतिक  स्तर  के  उत्थान  की  प्रबल  इच्छा  और  सच्ची  भावना  से  ओत - प्रोत  होना  ।
3. बौद्धिक  शक्ति  और   विस्तृत  द्रष्टिकोण  ,  तर्क - वितर्क  की  जन्मजात  प्रतिभा   व  शिक्षा  ग्रहण  द्वारा  मानसिक  संतुलन  बनाये  रखने  की  क्षमता   ।
4.जनता  के  हित  में  स्वयं  के  हित  को  बलिदान  करने  को  तत्पर  होना  ।
5 . स्वाधीन  और  स्वतंत्र  विचार  तथा  अपने  निर्णय  में  स्वतंत्र  होना  ।
इसी  यूनियन  को  भारतीय  राष्ट्रीय  कांग्रेस  का  नाम  दिया  गया  । 

24 June 2016

उद्देश्य के लिए संसार भर की खाक छानने वाले क्रान्तिवीर ---------- सरदार अजीतसिंह

 ' जीवन  साधना  की  सफलता  तो  उसे  ही  मिलती  है   जो  निष्काम , नि:स्वार्थ  भाव  से    और  यश - कामना  से  अत्यंत  दूर  रहकर    केवल  ऊँचा  लक्ष्य  देखता  है ,  ऊँचा  लक्ष्य  सोचता  है   और  ऊँचे  लक्ष्य  की  प्राप्ति  के  लिए  अपना  जीवन  समर्पित  करता  है   । ' 
   अमर   शहीद  सरदार  भगतसिंह  के  चाचा  थे  -- सरदार  अजीतसिंह  ।  उनके  ह्रदय  में  देश - प्रेम  की  ज्वाला  उमड़ी  ,  जो  किसी  के  रोके  न  रुकी  ।   एक  बार  एक  मित्र  ने  सरदार  अजीतसिंह  से  कहा  ----- " सरदार ! अंग्रेजी   हुकूमत  से    पेश  पाना   बड़ा  कठिन  है  । क्यों  अपने  सुख , चैन  और  जिंदगी  को  दांव  पर  लगाते  हो   ? "  सरदार  ने  तुरन्त  उत्तर  दिया ----- " भाई  जी  ! मर्दाने  देश  और  जाति  के  उद्धार  के  लिए   मर - मिटना  जानते  हैं  ।  हम  देश  और  जाति  के  उद्धार  के  लिए  मर  मिटेंगे ,  सफलता  मिलेगी  या  नहीं   यह  मेरा  परमात्मा  जाने  । "
   उन्होंने  अनुभव  किया  कि  केवल  जोश  से  काम  नहीं  चलेगा  ,  हमें  होश  के  साथ  काम  करना  पड़ेगा   ताकि  वर्तमान  स्वाधीनता  आंदोलन  अपनी  मंजिल  की  ओर  निरंतर  गतिमान  रहे  ।  लक्ष्य  प्राप्ति  के  लिए  नियोजित  व्यवस्था  बनाने  का   अजीतसिंह  का  सिद्धांत    प्रत्येक  व्यक्ति ,  प्रत्येक  समस्या  के  समाधान  के  लिए  बड़ी  शिक्षा  है  ---- '  जो  लोग  स्थिति  का  अनुमान  लगा कर  उचित  जवाबी  शक्ति  लगाते  हैं  ,  वे  ही  जीतते  हैं  । त्याग  और  बलिदान  को  व्यर्थ  न  जाने  देना   वस्तुतः  बड़ी   समझदारी  की  बात  है  । '
 अजीतसिंह  ने  यही  किया  ,  इसके  पूर्व  कि  वे  अंग्रेज  सरकार   द्वारा   पकड़े  जाएँ   , अपने  दो  साथियों  के  साथ  वे  ईरान   चले    गये  ।  ईरान  से  तुर्की   रिर  आस्ट्रिया , जर्मनी, ब्राजील , अमेरिका , इटली  गये  --- वे  जहाँ  भी  गये  उनका    एक  ही  उद्देश्य  रहा  ---- शक्ति  संगठित  करना  और    विदेशी  समर्थन  लेकर  अंग्रेजों  को  भारत - भूमि  से  हटने  के  लिए  मजबूर  करना   ।  उन्होंने  यह  निश्चय  किया  था  कि  मातृभूमि   पर  तभी  पैर  रखूँगा  जब  वह  अंग्रेजों  की  आधीनता  से  मुक्त  हो  जाएगी  ।  उन्होंने  हर  बार  यही  कहा ---- " बड़े  वरदान  बड़ी  तपस्या  से  मिलते  हैं   ।  त्याग  और  बलिदान  देते  हुए  जिनके  चेहरों  पर  शिकन  नही  आती  वे  एक  दिन  जरुर  सफलता  के  द्वार  तक  पहुँचते  हैं  । "
4 0  वर्षों   तक   विदेशों  में   भारतीय  स्वतंत्रता  की  अलख  जगाने  वाला  योगी  पुन:  देश  की  पवित्र  भूमि  के  दर्शन  कर  सका  ।    15  अगस्त  के  दिन  जब  स्वतंत्रता  का  सूर्य  उदय  हो  रहा  था   तो  देश  प्रेम  के  परवाने  अजीतसिंह  ने   इहलीला  समाप्त  की  ।  मरते  समय  उन्होंने  दोनों  हाथ  जोड़े  और  कहा  --- " हे  परमात्मा ! तुझे  लाख - लाख  धन्यवाद  कि  तूने  मेरी  साधना  को  सिद्धि  दे  दी  । " यह  कहकर  उन्होंने  अपनी  आँखें  मूंद  लीं  ।
 सरदार  अजीतसिंह  चले  गये  पर  उनकी  निष्ठा  आज  भी  जीवित  है  । 

23 June 2016

भारतीय जीवन दर्शन के साधक ----------- डॉ . सम्पूर्णानंद

किसी  भी  प्रतिष्ठित  पद  पर  पहुँचने  के  बाद  सामान्य  व्यक्ति  प्राय:  अपने  सुख - साधनों  की  वृद्धि  में  ही  लग  जाते  हैं   परन्तु  डॉ .  साहब  इस  आदत  से  सर्वथा  परे  थे  | उन्होंने  कभी  कुछ  लिया  नहीं   और  न  ही  सम्पति  संचय  की  ओर  ध्यान  दिया  । 
  राजनीति,  साहित्य  और  धर्म दर्शन   के  क्षेत्र  में   अपनी  योग्यता ,  निष्ठां  और  श्रम  के  बल  पर   उन्होंने  आश्चर्यजनक  प्रगति  की  ,  उन्हें  समाज  ने  पर्याप्त  सम्मान  और  प्रतिष्ठा  भी  प्रदान  की   परन्तु  इन  सब  उपलब्धियों  के  बीच  भी  वे  जल  में  कमल  के  समान  निर्लिप्त  ही  रहे   ।   उन्होंने  अपने  पद  और  सम्मान  का   उपयोग  कभी  भी  व्यक्तिगत  सुखों  के  लिए  नहीं  किया  ।
  भारतीय  जीवन  के  समग्र  साधक  होने  के  नाते  ही   वे   स्वतंत्रता  सैनिक,  मुख्यमंत्री , राज्यपाल , अध्यापक , वेद  शास्त्र  मर्मज्ञ , योगाभ्यासी ,  समाज  सुधारक ,  साहित्यकार ,  हिन्दी  के  प्रबल  विचारक   आदि  अनेक  रूपों  में  सामने  आये  । 

22 June 2016

वीर देशभक्त ------ महाराज पुरु

 ' भारतीय  इतिहास  में  महाराज  पुरु  का  बहुत  सम्मान पूर्ण  स्थान  है   । महाराज  पुरु  के  सम्मान  का  कारण   उनकी  कोई  दिग्विजय  नहीं  है  ।  इतिहास  में  केवल  यही  एक  ऐसा  वीर  पुरुष  है  ,  जिसने  पराजित  होने  पर  भी   विजयी  को  पीछे  हटने  पर  विवश  कर  दिया   । '
       सिकन्दर  ने  विश्व विजय  की  ठान  ली  थी , अत:  उसने  भारत  की  आंतरिक  दशा  का  पता  लगाने  के  लिए   भेदिये  भेजे , जिन्होंने  आकर  समाचार  दिया  कि  '  वीरता  भारतीयों  की  बपौती  है   किन्तु  ' फूट  ' रूपी  नागिन  के  विष  से  भारतियों  की  बुद्धि  मूर्छित  हो  चुकी  है   । '  यदि  सिकन्दर  भारत  में  प्रवेश  चाहता  है   तो  उसे  तलवार  की  अपेक्षा   भारतीयों  में  फैली  फूट  से  लाभ  उठाना  होगा  ।
  सिकन्दर  ने  शीघ्र  पता  लगा  लिया  कि  कौन  देश  की  स्वतंत्रता  पर  फन  मार  सकता  है  ।  सिकन्दर  ने  तक्षशिला  के  राजा  आम्भीक  को  लगभग  पचास  लाख  रूपये  की  भेंट  के  साथ  सन्देश  भेजा  कि  महाराज  आम्भीक  सिकंदार  की  मित्रता  स्वीकार  करें  तो  वह  उन्हें  महाराज  पुरु  को  जीतने  में  मदद  करेगा  और  सारे  भारत  में  उसकी  दुन्दुभी  बजवा  देगा   ।
 आम्भीक  देश  के  साथ  विश्वासघात  कर के   सिकन्दर  के  स्वागत  को  तैयार  हो  गया   ।
            भारत  के  गौरवपूर्ण  चन्द्र - बिम्ब  में   एक  कलंक  बिन्दु  लग  गया   ।
  सिकन्दर  विजयी  होता  जा  रहा  था  और  दुष्ट  आम्भीक  की  कुटिल   नीति    से    अन्य   राजा  भी  देशद्रोही  बनते  जा  रहे  थे ।   अब  भारत  के  प्रवेश  द्वार  पर  एकमात्र  प्रहरी  के  रूप  में  महाराज  पुरु  रह  गये  ।    सिकन्दर   की    विशाल  सेना  के  साथ  युद्ध  में   वह  क्षण  निकट  था  जब  महाराज  पुरु  की  विजय  हो   किन्तु  एक   भारी    विस्फोट  होने  से   पुरु  की  सेना  के   हाथी   भड़क  गये   और  अपने  ही  सैनिकों  को  कुचलते  हुए    पीछे  की  ओर  भाग  खड़े  हुए   ।  महाराज  पुरु  भी   घायल  होकर  गिर  पड़े   ।  अचेतावस्था  में  गिरफ्तारी  के  बाद   जब  महाराज  पुरु  को  होश  आया  तो  वे  सिकन्दर  के  सामने  थे   ।
सिकन्दर    ने  हँसते  हुए  गर्व  से  कहा  ---- ' पोरस  ! बताओ  कि  अब  तुम्हारे  साथ  कैसा  व्यवहार  किया    जाये  ।  "   सिकंदर  सोचता  था  कि  अब  वे  उसके  सामने  नत - मस्तक  हो  जायेंगे   किन्तु  महाराज  पुरु  ने  स्वाभिमान  पूर्वक   सिर  ऊँचा  करके  कहा  ---- " सिकंदर !  वह  व्यवहार ,  जो  एक  राजा  दूसरे  राजा  के  साथ  करता  है  । "
 पुरु  का  वीरोचित  उत्तर  सुनकर   सिकंदर  प्रसन्न  हुआ  और   उसके  गले  लग  गया  ।   भारतीयों  की  वीरता  से  सिकन्दर  की  सेना  की  हिम्मत  पस्त  हो  गई  थी  ,  सिकंदर  जानता  था   कि   अब  यदि  वह  आगे  बढ़ने  का  आदेश  देगा  तो   भयभीत  सेना  विद्रोह  कर  देगी  ।  अत:  सिकंदर  चुपचाप  भारतीय  सीमाओं  से  बाहर चला  गया  ।
 अभागे  आम्भीक  जैसे     अनेक  देशद्रोहियों  के    लाख  कुत्सित  प्रयत्नों  के  बावजूद     भी  एक  अकेले  देशभक्त  पुरु  ने  भारतीय  गौरव  की  लाज  रखकर  संसार  को  सिकंदर  से  पद - दलित  होने  से  बचा  लिया