25 July 2014

WISDOM

' जो  धर्म  के  प्रति  आस्था  रखते  हैं,  परमार्थ  कार्य  हेतु  प्रयास  करते  हैं,  पुरुषार्थी  हैं,  श्रमशील  हैं  उन्ही  के  पास  लक्ष्मी  टिकती  हैं  | '
       जीवन  में  धन  का  अपना  महत्व  है,  इसके  महत्व  को  नकारा  नहीं  जा  सकता  |  सभी  लौकिक  काम  धन  से  ही  होते  हैं  ।  लेकिन  धन  उतना  ही  अच्छा  होता  है,  जितना  हम  पुरुषार्थ  से  अर्जित  करते  हैं  ।  हम  पुरुषार्थ  से,  श्रम  से  प्रचुर  मात्रा  में  धन  उपार्जन  करें  और  उसका  एक  अंश  समाज  के  उत्कर्ष  में  भी  खरच  करें  तो  उससे  सुखपूर्वक  जीवनयापन  करते  हुए  अपना  आत्मिक  विकास  किया  जा  सकता  है  । 
      धन  व्यक्ति  का  उद्धार  नहीं  कर  पाता  । व्यक्ति  का  उद्धार  तब  होता  है,  जब  वह  अपने  धन  से  दूसरों  का  कल्याण  करता  है,  दूसरों  की  पीड़ा  का  निवारण  करता  है,  शुभ  कर्म  करता  है  ।  तो  ये  ही  उसका  कल्याण  करते  हैं  ।  अत:  धन  कमाना,  उसे  संचित  करना  गलत  नहीं  है  ।    
 गलत  है---- धन  के  प्रति  अत्याधिक  आसक्ति  रखना,  धन  के  लिये  परेशान  रहना  और  अपने  सबसे  कीमती  मानव  जीवन  को  व्यर्थ  गँवा  देना  ।  मनुष्य  के  द्वारा  किये  गये  शुभ  कर्म  ही  व्यक्ति  की  सहायता  करते  हैं  और  अनुकूल  परिस्थितियों  का  निर्माण  करते  हैं  ।  अत:  बिना  किसी  अपेक्षा  के  व्यक्ति  को  शुभ  कर्म  करना  चाहिये  और  अपने  द्वारा  अर्जित  की  गई  धन-संपदा  का  सदुपयोग  करना  चाहिये  । 

23 July 2014

अनुभव

' जिसका  जिस  विषय  में  जितना  अनुभव  है,  उसका  उस  विषय  में  उतना  ही  ज्ञान  है  ।
    यदि  अनुभव  का  अभाव  है  तो  विचारों  को  कितने  ही  जतन  से  और  कितनी  ही  कोशिशों  से  इकट्ठा  किया  गया  हो,  वह  सब  का  सब  व्यर्थ  है,  क्योंकि  उसके  आधार  पर  झूठी  विद्वता  का  प्रदर्शन  तो  किया  जा  सकता  है,  लेकिन  जिंदगी  की  जटिल  पहेलियाँ  नहीं  सुलझाई  जा  सकतीं  ।   उलझी  हुई  समस्याओं  के  समाधान  नहीं  ढूंढे  जा  सकते  ।
   इस  संबंध  में  पुराणों  में  एक  अत्यंत  रोचक  कथा  है------
          प्राचीन  भारत  में  कुलीन  ब्राह्मण  उच्च  कोटि  की  शिक्षा  प्राप्त  करने  वाराणसी  जाया  करते  थे  ।
श्वेतांक  के  माता-पिता  ने  कुल  की  परंपरा  का  पालन  करते  हुए  पुत्र  श्वेतांक  को  अध्ययन  के  लिये  काशी  भेजा  और  भगवान  सदाशिव  से  प्रार्थना  की-- " हे  प्रभु ! हमारे  पुत्र  का  हाथ  थामना,   इसे  भटकने  मत  देना  । " वृद्ध  दंपती  की  यह  पुकार  जैसे  कहीं   सुन  ली  गई  ।
      श्वेतांक  ने  दीर्घकाल  तक  काशी  में  रहकर  वेद-शास्त्रों  का  अध्ययन  किया  । सभी  उसकी  प्रखर  मेधा  और  विलक्षण  तर्कशक्ति  से  प्रभावित  थे  ।   सभी  से  मिलने  वाली  प्रशंसा  ने  श्वेतांक  के  मन  में  अभिमान  जगा  दिया,  उसे  यह  भान  होने  लगा  कि  वह  सचमुच  ही  ज्ञानी  है
       अपने  ज्ञान  के  अभिमान  के  साथ  श्वेतांक  अपने  घर  के  लिये  प्रस्थान  कर  रहे  थे  । उनके    साथ  शास्त्रों  के,  पोथियों  के  बड़े  गट्ठर  भी  थे,  साथ  ही  उन  प्रमाण पत्रों, उपाधियों  व  पदकों  का  भी  अंबार  था  जिन्हें  वे  अपने  विद्दार्थी  जीवन  की  कमाई  समझते  थे  ।  उनके  घर  के  रास्ते  में  नदी  थी,  घर  पहुँचने  के  लिये  इसे  पार  करना  था  । नदी  के  तट  पर  पहुँचने  पर  उनने  मल्लाह  को  आवाज  लगाई  । उनकी  आवाज  सुनते  ही  एक  वृद्ध  मल्लाह  वहां  आ  गया,  उसके  साथ  उसकी  पत्नी  भी  थी  ।
   नाव  में  बैठने  के  कुछ  देर  बाद  श्वेतांक  ने  मल्लाह  दंपती  को  अपने  ज्ञान  की,  शास्त्रों  की  बातें  बतानी  शुरू  की  , कुछ  देर  तक  सुनाते  रहे  फिर  बोले-- "तुम  लोगों  को  ये  सब  सुनाने-बताने  का  क्या  फायदा  ? तुम  लोग  तो  ठहरे  निपट  मूर्ख-गँवार  , ये  ज्ञान  की  बातें  तुम  दोनों  को  कैसे  समझ  में  आयेंगी  । "   यह  सुनकर  वृद्ध  मल्लाह  ने  कहा-- " पुत्र ! ज्ञान  क्या  केवल  पोथियों  में  रहता  है ? मैंने  तो  सुना  है  जिंदगी  के  लौकिक  और  अलौकिक  अनुभव  ज्ञान  देते  हैं  । "
उनकी  इस  बात  पर  श्वेतांक  हँसने  लगा , उनकी  आपस  में  बातें  चल  रही  थीं,  तभी  नदी  में  तूफान  आ  गया ,  नाव  बीच  धारा  में  थी,  डांवाडोल  होने  लगी  । श्वेतांक  ने  घबराकर  कहा-- " नाव  को  किसी  भी  तरह  किनारे  ले  चलो  । " वृद्ध  मल्लाह  ने  कहा-- " बेटा ! क्या  इसका  ज्ञान  तुम्हारी  किसी  पोथी  में  है  ?"
श्वेतांक  ने  डरे  हुए  स्वर  में  कहा-- " मैंने  यह  सब  नहीं  पढ़ा  । " मल्लाह  ने  कहा  कोई  बात  नहीं, " तुम्हे  अपने  जीवन  और  पोथियों  में  से  किसी  एक  को  चुनना  होगा,  नाव  किनारे  ले  जाने  का  यही  उपाय  है'
  श्वेतांक  ने  झटपट  पुस्तकों  के  गट्ठर  नदी  में  फेंक  दिए,  अचरज  की  बात  तूफान  भी  हलका  हो  गया  और  नाव  किनारे  चल  पड़ी  ।  अब  वृद्ध  मल्लाह  ने  उससे  कहा--" बेटा ! जीवन  का  अध्ययन  और  अनुभव  ही  ज्ञान  है  । यह  जितना  गहन  व  व्यापक  होता  है, उतना  ही  मनुष्य  का  ज्ञान  भी  व्यापक  बनता  है  । विचारों  के  एकत्रीकरण  का  कोई  लाभ  नहीं  है  । श्रेष्ठ  विचारों  का  क्रियान्वयन  एवं  इनका  व्यावहारिक  अनुभव  ही  जीवन  को  सफल  व  सार्थक  बनाता  है  । " श्वेतांक  ने  उनके  चरण  पकड़  लिये, सिर  उठाकर  देखा  तो  भगवान  सदाशिव  और  माता  पार्वती  हैं  । उसे  ज्ञान  का  सही  अर्थ  मालुम  हो  गया  । 

22 July 2014

WISDOM

आज  की  आवश्यकता  है--- प्रखर  प्रतिभा  के  साथ  परिष्कृत  एवं  पवित्र  ह्रदय  वाले  व्यक्तित्व  की  । 
     विज्ञान  ने  अब  तक  बहुत  सारे  अनुसंधान  किये  हैं,  प्रकृति  के  रहस्य  खोजे  हैं  ।  उसकी  शक्तियों  का  परिचय  पाया  है,  इनका  उपयोग  सीखा  है,  लेकिन  सच  ये  है  कि  इनका  दुरूपयोग  ज्यादा  हुआ  है  क्योंकि  इनका  प्रयोग  करने  वाले  मानव  व्यक्तित्व  अनगढ़  थे  ।
अब  विज्ञान  को  मानव  को  शक्तिशाली  बनाने  की  विधियाँ  खोजने  के  बजाय  उसके  सद्गुणसंपन्न  और  संवेदनायुक्त  बनने  का  विज्ञान  खोजना  होगा  ।   जब  वैज्ञानिक  आध्यात्मिक  संवेदना  से  युक्त  होंगे  तभी  उनके  द्वारा  मानवहित  और  लोकहित  के  लिये  शोधकार्य संभव  होंगे   
          विज्ञान  को  अब  अपनी  खोज  विचारों  की  पवित्रता  एवं  प्रखरता  पर  केंद्रित  करनी  होगी  ।  उसे  इस  बात  का  अन्वेषण  करना  होगा  कि  ईसामसीह,  स्वामी विवेकानंद  और  मीरा  के  व्यक्तित्व  किस  विधि  से  बनते  हैं  ? इसके  लिये  जो  आध्यात्मिक  क्रियाएँ  अपनाई  गईं,  उनकी  वैज्ञानिकता  क्या  है  ?
       उपनिषद  मनुष्य  को  चिंतन  और  चेतना  की  उच्चतम  कक्षा  तक  ले  जाने  में  समर्थ  हैं  । 
उपनिषद,  बौद्ध  दर्शन,  वेदांत  की  बातें  केवल  विचार  नहीं  हैं,  बल्कि  अनेक  रहस्यमय  प्रयोगों  का  अनुभवात्मक  निष्कर्ष  हैं  ।  यदि  इन  निष्कर्षों  पर  वैज्ञानिक  शोध-विधि  से  प्रयोग  किये  जायें  तो  विभिन्न  देशों  के  मध्य  होने  वाले  युद्ध,  सभ्यताओं  का  संघर्ष,      उनके  मध्य  प्रेम,  आत्मीयता  और  परस्पर  मिलन  का  समारोह  बन  जायेगा  । 

21 July 2014

शिक्षा

' सही शिक्षा  वह  है  जो  हमें  आत्म निर्भर  होने  के  साथ-साथ  अच्छा  इनसान  बनाये '
  प्रचलित  शिक्षा  का  ढांचा-ढर्रा  मानवीय  हितों  को  पूरा  करने  के  लिये  पर्याप्त  नहीं  है  | अलग-अलग  विषयों  की  ढेरों  जानकारी  जमा  कर  लेने  से  वृतियों  का,  व्यक्तित्व  का  परिष्कार  नहीं  होता  । प्राथमिक  कक्षा  से  लेकर   उच्चतम  कक्षा  तक  की  पढाई  पूरी  करने  के  बावजूद  इनसान  व्यक्तित्व  की  द्रष्टि  से  अनगढ़  बना  रह  जाता  है,  यहाँ  तक  कि   पी. एच. डी.  जैसी  उपाधियाँ  भी  उसे  जीवन  जीने  का  सही  ढंग  नहीं  सिखा  पातीं  । सभी  देशों  में  योग्यता  का  एक  ही  मानक  है--- बहुत  सारा  धन  कमा  सकने  में  प्रवीणता  ।   सहिष्णुता, दया, करुणा, संवेदना  जैसी  अच्छा  इनसान  बनने  की  प्रवृतियों  की  ओर  किसी  की  कोई  अभिरुचि  नहीं  है  ।
    आज  की  शिक्षा  आशाएँ  जगाती  है,  कठिन  कर्म  कराती  है,  बहुत  सारा  ज्ञान  होने  का  भ्रम  पैदा  करती  है  और  परिणाम  में  व्यक्ति  को  धन  का  लालची  राक्षस,  वैभव-विलास  की  आशाओं  में  डूबने  वाला  असुर  और  दुर्गुणों-दुराचार  में  सदा  सम्मोहित  रहने  वाला  विचित्र  प्राणी  बना  देती  है  ।  ऐसा  व्यक्ति  जो  साक्षर  और  शिक्षित  होकर  भी  संस्कारविहीन  और  संस्कृति  की  संवेदना  से  रहित  रह  जाता  है  ।
   जबकि  सही  शिक्षा  तो  वह  है,  जिसके  लिये  भगवान श्रीकृष्ण  कहते  हैं---
                       ' ज्ञानयज्ञेन  चाप्यन्ये  यजन्तो  मामुपासते  ।
                         एकत्वेन  पृथक्त्वेन  बहुधा  विश्वतोमुखम  । ।
     सच्चा  ज्ञान  का  साधक  तो  वह  है  जो  अपने  अर्जित  ज्ञान  को  सेवाकार्य  का  माध्यम  बना  लेता  है  । सेवा  भी  ऐसी,  जिससे  स्वयं  का  सुधार-परिष्कार  हो  और  दूसरे  के  दुःख-दरद  का  एहसास  करके  उनके  निमित  स्वयं  को  अर्पित   करता है  ।   अपनी  इसी  भावना  के  विस्तार  में  वह  भगवान  को  विश्वरूप  में  अनुभव  करने  लगता  है  ।
  समाज  में  श्रेष्ठतम  कार्यों  के  लिये  श्रेष्ठतम  व्यक्तित्व  भी  आवश्यक  हैं  ।  ऐसे  व्यक्ति  जहाँ,  जिस  क्षेत्र  में  होंगे,  वहां  स्वाभाविक  रूप  से  सकारात्मक  परिवर्तन  होते  रहेंगे  । 

PEARL

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक अपने   युग   के राजनीति   के शिखर पुरुष थे , उनसे   किसी  ने  पूछा --"स्वराज्य  मिलने  के  बाद  आप  भारत   सरकार  के  किस  पद  को संभालना  पसंद  करेंगे  ? " इस  सवाल  को  पूछने  वाले  ने सोचा  था  कि तिलक  महाराज उत्तर  में  अवश्य  प्रधान मंत्री या  राष्ट्रपति   बनने  की  मंशा  जाहिर  करेंगे  लेकिन  उसे  तो लोकमान्य तिलक  का  उत्तर  सुन कर हैरानी  हुई  क्योंकि  उन्होंने  कहा --- " मैं  तो  देश  के  स्वाधीन  होने  के  पश्चात स्कूल  का  अध्यापक  होना  पसंद करूँगा   । " इस  पर  सवाल  पूछने  वाले  ने जानना  चाहा --" ऐसा  क्यों ? "  तो  उन्होंने  उत्तर  दिया --" स्वाधीनता  के  पश्चात  देश  को  सबसे  बड़ी  जरुरत  अच्छे  नागरिक  एवं  उन्नत  व्यक्तित्व  की  होगी जिसे  शिक्षा  व  समाज सेवा  द्वारा ही  पूरा  किया  जाना  संभव  है , मैं  जनमानस  में उत्कृष्ट  विचारों  की  स्थापना  करने  का  प्रयास  करता  रहूँगा  ।

19 July 2014

PEARL

' व्यक्ति की  महता  नहीं  है  । महता  है  उसकी  अंतरात्मा  में  स्थित  अंत: शक्ति की  । जो  सदा  अपनी  अंत: शक्ति  को  विकसित  करता  है  और  उसे  अहंकार  से  बचाए  रखता  है  वही  राष्ट्र निर्माण  में  सबसे  आगे  खड़ा  रहता  है  '
          भारत  के  सफलतम  खाद्य-मंत्री  के  रूप  में  रफीअहमद किदवई  को  आज  भी  याद  किया  जाता  है  राजनेता  होते  हुए  भी  उनका  जीवन  सादगी  की  अदभुत  प्रतिमा  था  ।  इस्लाम  में  आस्था  होते  हुए  भी  उसकी  हर  बात  को  उनने  आँख  मीचकर  स्वीकार  नहीं  किया  ।  21 वर्ष  की  आयु  में  उनका  विवाह  हो  गया  था  ।  उनकी  एकमात्र  संतान-- एक  पुत्र  सात  वर्ष  की  आयु  में  चल  बसा  । लोगों  ने  शरीयत  का  उल्लेख  देते  हुए  दूसरा  विवाह  करने  को  कहा  ।  उनने  दूसरा  विवाह  नहीं  किया  एवं  पवित्र  जीवन  जिया  ।    अपने  खाद्य  मंत्री  पद  पर  रहते  हुए  वे  वेश  बदलकर  जनता  के  बीच  घूमते,  उनकी  समस्याएं  जानने  का  प्रयास  करते  ।   खाद्यान  के  कृत्रिम  संकट  को  वे  इसी  कारण  कई  बार  हल  करने  में  सफल  हुए  ।
    कोई  सुरक्षा  कर्मचारी  उनके  साथ  नहीं  होता  ।   कई  व्यापारियों  से  छद्म  वेश  में  ही  घूमकर  भाव-ताव  पता  लगाते  ।   अपनी  आत्मा  की  आवाज  का  अनुसरण  कर  अकेले  अपने  बलबूते  पर  उनने  जो  काम  किये , वे  स्मरणीय  रहेंगे  ।  24 अक्टूबर 1954  को  उनका  देहावसान  हो  गया,  पर  उनने  भारतीय  मानस  पर  जो  छाप  छोड़ी  है,  वह  अमिट  रहेगी  ।

WISDOM

क्रोध  मार्ग  पर  जा  रहा  था  । उसके  आगे  धैर्य  चल  रहा  था  ।  क्रोध  को  आगे  निकलने  की  जल्दी  थी,  लेकिन  मार्ग  इतना  ही  चौड़ा  था  कि  एक  व्यक्ति  वहां  से  निकल  सके  ।  क्रोध  को  भयंकर  क्रोध  आया  और  वह  बोला--- " यह  मार्ग  बिलकुल  बेकार  है,  मैं  इसे  तोड़  डालता  हूँ  और  नया  मार्ग  तैयार  करता  हूँ  ।  "  
        क्रोध  के  पीछे  आती  शांति  बोली--- " बंधुवर ! कुछ  नया  निर्माण  करने  के  लिये  आपको  धैर्य  की  आवश्यकता  पड़ेगी,  तो  अच्छा  यही  है  कि  सब  कुछ  नष्ट  करने  के  स्थान  पर  धैर्यपूर्वक  यात्रा  संपन्न  अभी  ही  कर  ली  जाये,  ताकि  बाद  में  पछताना  न  पड़े  । " क्रोध  के  पास  ठंडा  होने  के  अतिरिक्त  अन्य  कोई  विकल्प  न  था  ।