23 March 2017

महत्व व्यक्ति को नहीं आदर्शों को देना श्रेयस्कर है -------- सरदार भगतसिंह

  ' उनका  आदर्श  देशप्रेम  की  अग्नि  को  जन - जन  के  ह्रदय  में   प्रज्ज्वलित  करना  था  | '
ऐसेम्बली  में  बम  विस्फोट  के  बाद   वे  चाहते  तो   अपने  साथियों  सहित  बाहर  निकल  कर  भाग  सकते  थे  ,  इसके  लिए  प्रबंध  भी  पहले  से  ही  किया  जा  चुका  था  ।  लेकिन  भगतसिंह  भागने  के  लिए  नहीं  आये  थे  ,  उनका  उद्देश्य  ज लिए  उनका  बंदी  होना   नता  में  राष्ट्रीय  भावना  उत्पन्न  करना  था  ।   यह  भावना  जगाने   के  लिए   उनका  बन्दी  होना  आवश्यक  था   ताकि  न्यायालय  के  सम्मुख  वे   अपने  मन  की  बात   कह   सकें  ।  उनके  बन्दी  हो  जाने  से   नवजागरण  की  लहर  उठने  लगी  ।  जेल  में  इन  देश भक्तों  को  अमानुषिक  यंत्रणा   दी  गई   ।  राष्ट्र  की  स्वतंत्रता  के  आदर्श  के  सम्मुख  यह  यंत्रणा  नगण्य  थी  ,  मनुष्य  को  दुःख  और  कष्टों  की  अनुभूति  अपनी  भावनाओं  से  होती  है  ,  उन्हें  इस  यंत्रणा  में  भी  अदभुत  सुख  मिल  रहा  था   ।  
  अन्य  क्रांतिकारियों   ने   उन्हें  जेल  से  मुक्त    कराने  का  संकल्प  किया    लेकिन  भगतसिंह  ने  मना  कर  दिया  ,  जब  उनसे  इस  मनाही  का  कारण  पूछा  गया   तो  उन्होंने  कहा ----
              - " हम  जिस  उद्देश्य  को  लेकर  क्रान्ति  के  पथ  पर  आये  हैं   वह  इसकी   आज्ञा   नहीं  देता  ।   हम  तो  अपना   कफन  अपने  ही  सिर  पर  बाँध  कर  निकले  हैं   ।  महत्ता    व्यक्ति  की  नहीं  इस  आदर्श  की  है   ।  हमें  ही  श्रेय  मिले   या  हमसे  ही  क्रान्ति  होगी  -- देश  स्वतंत्र  होगा    यह  तो  हम  लोग  नहीं  सोचते  किन्तु  यह  कार्य  हमें   ऐसा  ही  सिद्ध  करेगा   ।  हमारे  बलिदान  से  हमारे  आदर्श  को  बल  मिलेगा    तो  कल  इसी  जन समुदाय  में  से   सहस्त्रों  भगतसिंह  पैदा  हो  जायेंगे    तथा  भारत  स्वाधीन  होकर  रहेगा        क्रांति द्रष्टा  भगतसिंह   के   इन  शब्दों  में   जो   सत्य  छिपा  है  उसे  काल  की  परिधि  में  नहीं  बाँधा  जा  सकता   ।  

22 March 2017

राष्ट्रीयता का उपासक -------- सम्राट समुद्रगुप्त

 जिसका  आचरण  शुद्ध ,  चरित्र  उज्जवल  और  मन्तव्य  नि:स्वार्थ  है   उसके  विचार  तेजस्वी  होंगे  ही  ,  जिन्हें  क्या  साधारण  और  क्या  असाधारण  कोई  भी  व्यक्ति  स्वीकार  करने  के  लिए  सदैव  तत्पर  रहेगा 
                गुप्त वंश    के  सबसे  यशस्वी  सम्राट  समुद्रगुप्त  ने    लुप्त  होती  महान  वैदिक  परम्पराओं  की  पुनर्स्थापना  की ,  उनमे  से  एक  अश्वमेध  यज्ञ  भी  था   l   इसके  आयोजन  में  उसका  उद्देश्य  यश  व  विजय  नहीं  था  l  समुद्रगुप्त  का  उद्देश्य  था  ---- भारत  में  फैले  हुए  अनेक  छोटे - छोटे  राज्यों   को  एक  सूत्र  में  बांधकर  एक  छत्र  कर  देना  था  ,  जिससे  भारत  एक  अजेय  शक्ति  बन  जाये  l
  इस  दिग्विजय  में  समुद्रगुप्त  ने   केवल  उन्ही  राजाओं  का  राज्य  गुप्त  साम्राज्य  में  मिला  लिया  ,  जिन्होंने  बहुत   समझाने  पर  भी  समुद्रगुप्त  के  राष्ट्रीय  उद्देश्य  के  प्रति  विरोध  प्रदर्शित  किया  l  अन्यथा  उसने  अधिकतर  राजाओं  को  रणभूमि  तथा  न्याय  व्यवस्था  के  आधार  पर  ही  एकछत्र  किया  था  l  अपने  विजय  अभियान  में  सम्राट  समुद्रगुप्त  ने  न  तो  किसी  राजा  का  अपमान  किया   और  न  ही   उसकी   प्रजा  को    कोई  कष्ट  दिया  ।   l  क्योंकि  वह  जानता  था ---  शक्ति - बल  पर  किया  हुआ  संगठन  क्षणिक  एवं  अस्थिर  होता  है  l  शक्ति  तथा  दण्ड  के  भय  से   लोग  संगठन  में  शामिल  हो  तो  जाते  हैं    किन्तु  सच्ची  सहानुभूति  न  होने  से   उनका  ह्रदय  विद्रोह  से  भरा  ही  रहता  है   और  समय  पाकर  वह   विघटन  के  रूप  में  प्रस्फुटित  होकर   शुभ  कार्य  में  अमंगल  उत्प्न  कर  देता  है  l 
    सम्राट   समुद्रगुप्त  ने  अपने  प्रयास  बल  पर  सैकड़ों  भागों  में  विभक्त  भारत - भूमि  को  एक  छत्र  करके  वैदिक  रीति  से   अश्वमेध यज्ञ  का  आयोजन  किया   जो  बिना  किसी  विध्न  के  पूर्ण  हुआ   ।
  यह  समुद्रगुप्त  के  संयम पूर्ण  चरित्र  का  ही  बल  था   कि  इतने  विशाल  साम्राज्य  का  एकछत्र    स्वामी   होने  पर  भी   उसका  ध्यान   भोग - विलास  की  ओर  जाने  के  बजाय  प्रजा  के  कल्याण  की  ओर  गया  । 

21 March 2017

WISDOM

  सत्ता  का  नशा  संसार  की   सौ  मदिराओं  से  भी  अधिक  होता  है   ।   उसकी  बेहोशी  सँभालने  में   एकमात्र  आध्यात्मिक  द्रष्टिकोण  ही  समर्थ  हो  सकता  है   ।  अन्यथा  भौतिक  भोग  का  द्रष्टिकोण  रखने  वाले  असंख्य   सत्ताधारी   संसार  में   पानी  के  बुलबुलों  की  तरह  उठते  और  मिटते  रहें  हैं  । 

20 March 2017

धर्म का सच्चा स्वरुप सिखाया ------- महामना मालवीय जी

   पं. मदनमोहन  मालवीय   सनातन  धर्म  के  साकार  रूप  थे   ।   उनका  कथन  था ----- " धर्म  वह  शक्तिशाली  तत्व  है   जिसको  अपनाने  से  बड़े  से  बड़े  पतित  ह्रदय  का  अनुराग  भी   महामना  बन  सकता  है  ।   मुझे  अपने  धर्म  पर   अनन्त  श्रद्धा  है   ।  धर्म  मेरा  जीवन  और  प्राण  है   ।  "
        पं. मदनमोहन  मालवीय   एक  पूर्ण  धार्मिक  व्यक्ति  थे    किन्तु  उनकी  धार्मिक  भावना  में    द्वेष  नहीं  था  , प्रेम  की  प्रधानता  थी  ।  वे  पोंगापंथी  धार्मिक  नहीं  थे  ,  उनके  धर्म  में   सत्य  और  संयम  का  समन्वय  रहता  था   । 
  किसी   गरीब  को  देखकर  उनका  ह्रदय  करुणा  से  भर  जाता  था   और  वे  उसकी   यथा संभव  सहायता  किया  करते  थे   ।   महामना  का  मानवता मय  व्यक्तित्व   धर्म  की  उदात्त  पृष्ठभूमि  पर  विकसित  हुआ  था   ।  नित्य  प्रति  की  पूजा- पाठ   करना   मालवीयजी  की  दिनचर्या  का  एक  विशेष   अंग  था   l  जब  तक  वे  नियमित  रूप  से  पूजा  न  कर  लेते  थे   जीवन  के  नए  दिन  का   कोई  कार्य  प्रारम्भ  नहीं  करते  थे   किन्तु   मानवता  की  सेवा  करना   वे  व्यक्तिगत  पूजा - उपासना  से  भी  अधिक  बड़ा  धर्म  समझते  थे   l 
                      इसका  प्रमाण   उन्होंने     उस  समय  दिया    जबकि  एक  बार  प्रयाग   में    प्लेग  फैला  ,  नर - नारी   कीड़े - मकोड़े  की  तरह  मरने  लगे  | मित्र , पड़ौसी,  सगे - सम्बन्धी  तक  एक - दूसरे  को  असहाय  अवस्था  में  छोड़कर  भागने  लगे  थे  | किन्तु  मानवता  के  सच्चे  पुजारी  श्री  महामना  ही  थे  जिन्होंने  उस  कठिन  समय  में  अपने  जीवन  के  सारे  प्राण प्रिय  कार्यक्रम और  कर्मकाण्ड  छोड़कर  मानवता  की  सेवा  में  अपने  जीवन  को  दांव  पर  लगा  दिया  | वे  घर - घर , गली - गली  दवाओं  और  स्वयंसेवकों  को  लिए  हुए  दिन - रात  घूमते  रहते  थे  ,  रोगियों  के  घर  जाते ,  उन्हें  दवा  देते , सेवा  करते ,  उनके  मल - मूत्र  साफ  करते  और  अपने  हाथों  से  उनके  निवास  स्थान  और  कपड़ों  को  धोते  थे   |  अपने  इस  सेवा  कार्य  में  वे  नहाना - धोना , पूजा - पाठ,  खाना - पीना  सब  कुछ  भूल  गए  |
  मालवीय  जी  स्वयंसेवकों  से  अन्य  काम  तो  लेते  थे   किन्तु  उन्हें  रोगियों  के  पास  नहीं  जाने  देते  थे  और  स्वयं  ही  रोगियों  का  मलमूत्र  साफ  करते  थे  |  जब  स्वयंसेवक  इस  सम्बन्ध  में  कुछ  कहते  तो  मालवीयजी  का  उत्तर  होता  कि----- मैं  अपने  सेवा कार्य  में  किसी  का  साझा  नहीं  करना  चाहता   और   मेरे  ह्रदय  में   इस  त्रस्त  मानवता  के  लिए  इतनी  तीव्र  आग  जल  रही  है  कि  मेरे  पास  इस  रोग  के  कीटाणु  आकर  स्वयं  भस्म  हो  जायेंगे    और  यदि  इनकी  सेवा  करता  हुआ  मैं  स्वयं  मर  जाऊं   तो  भी  अपने  मानव  जीवन  को  धन्य  समझूंगा  |
  ऐसी  थी  उनकी  सेवा  भावना   जिसके  लिए  वे  अपना  तन - मन - धन  सब  कुछ  न्योछावर  करते  रहते  थे   |  उनके  धर्म  का  ध्येय  मोक्ष  अथवा  निर्वाण  न  होकर  मानवता  की  सेवा  मात्र  था  |

18 March 2017

साहित्यिक प्रतिभा के धनी --------------------- डॉ. धीरेन्द्र वर्मा

  ' प्रतिभा  ईश्वर  प्रदत्त  एक  ऐसा  उपहार  है   जो  हर  व्यक्ति  को  ,  उसने    बिना   किसी  भेदभाव    रखे   बांटा  है   ।  अब  यह  उस  व्यक्ति  पर  निर्भर  है  कि  उस  क्षमता  का  विकास   उपलब्ध  परिस्थितियों   में  , चाहे  वह  अनुकूल  रही  हों   या  प्रतिकूल ,  किस  प्रकार  कर  लेता  है  । '
         डॉ. धीरेन्द्र  वर्मा  ने   हिन्दी  साहित्य  के  इतिहास  पर   अदिव्तीय  शोध  कार्य  किया   ।  उनका  व्यक्तित्व  बहुमुखी  प्रतिभा  का   अदभुत  समन्वय  था  ।   1959  में  वे  हिन्दी -विश्व -कोष   के  प्रधान  सम्पादक  नियुक्त  किये  गए  ।  वर्मा  जी  के  सम्पादन  में   निकला  यह  ग्रन्थ   हिन्दी  साहित्य  की  अमूल्य  - निधि  है  ।  इसके अतिरिक्त   उनकी  कई  विख्यात  कृतियाँ  हैं  । 

17 March 2017

WISDOM

स्वामी  विवेकानन्द  ने  कहा  ----- " हम  जिन  वस्तुओं  को  काम  में  लाते  हैं  , जो  हमारी  जीवन  यात्रा  में  सहायक  हैं   और  जो  हमारे  व्यक्तित्व  के  ही  एक  अंग  हैं  ,  उनके  प्रति  क्रूरता   हमारी  चेतना  का  स्तर  दर्शाती  है  ।  दैनिक  जीवन  में  काम  में  आने  वाली  वस्तुओं ,  व्यक्तियों  और  प्राणियों   के  प्रति  भी  मन  में   संवेदना  नहीं  है   तो  विराट  अस्तित्व  से  किसी  व्यक्ति   का  तादात्म्य  कैसे  जुड़  सकता  है  ।
  अपने  आसपास  के  जगत  के  प्रति  जो  संवेदनशील  नहीं  है  ,  वह  परमात्मा  के  प्रति  कैसे  खुल  सकता  है   ।   स्रष्टि  के  हर  कण  में  परमात्मा  है  ।  "

16 March 2017

WISDOM

 हमारे   धर्म शास्त्रों   के  अनुसार -- मनुष्य  का  चोला  बड़े  भाग्य  से  मिलता  है   ।   यदि  इसका  सदुपयोग  न  किया  गया  , संसार  की  सेवा , परोपकार , करुणा, उदारता  द्वारा   मानव  जन्म  को  सार्थक  न  बनाया  गया   तो  फिर  वही    गधे - घोड़े  बनकर  बोझा  ढोना  और  डंडे  खाने   की  स्थिति  को  प्राप्त  होना  पड़ता  है  ।    भगवान  ने  मनुष्य  के  लिए  यही  विधान  बनाया  है   कि  या  तो  सत्कर्म  करके  उत्थान  करो    या  स्वार्थ  साधन  कर के  नीचे  गिरो   ।   एक  सी  स्थिति   लगातार  शायद  ही  किसी  की  रह  पाती  है   । 
     संसार  में   यों  तो  असंख्य   मनुष्य    सदा  जन्म  लेते   और  मरते   रहते  हैं   पर  सफल  जीवन  उन्ही  का  कहा  जा  सकता  है   जो  समाज  की , देश  की , संसार  की   कुछ  भलाई  कर  जाएँ  ।