2 July 2015

स्वर ब्रह्म के अनन्य आराधक ------- स्राविंसकी

 ' जो  लोग  कला  साधना,  कार्य  व  कर्तव्य  के  प्रति  निष्ठावान  तथा  ईमानदार  होते  हैं,  वे  कला  की  कभी  दुर्गति  नहीं  होने  देते  |'  संगीत  को  व्यवसाय-पेशा  न  समझकर  लोक्मंगल  की  साधना  समझने  वाले  स्राविंसकी  का  जन्म  रूस  में हुआ  था  । जिन  दिनों  स्राविंसकी  अमेरिका  में  रह  रहे  थे,  हालीवुड  के  एक  विख्यात  फिल्म  निर्माता  ने  उनसे  कहा--- आप  वर्ष  में  हमें  तीन  संगीत  कृतियाँ  दिया  कीजिये , हम  उसके  बदले  आपको  पारिश्रमिक  रूप  में  एक  लाख  डालर  दिया  करेंगे  । '
स्राविंसकी  ने  कहा------ " श्रीमान ! मैं  संगीत  को  कोई  पेशा  नहीं  बना  सकता,   किसी  भी  अनुबंध  से  बंध  जाने  पर  यह  तो  जरुरी  ही  होगा  कि  मुझे  कम  से  कम  उतनी  संगीत  रचनाएँ  तो  देनी  पड़ें,  इस  अनुबन्ध  के  अनुसार  मेरा  ध्यान  संख्या  पूरी  करने  पर   ही   रहेगा  न  कि  उसे  उत्तम  कृति  बनाने  की  ओर  l  संगीत  के  नाम  पर  कूड़ा-कचरा  देना  औरों  के  लिए  चाहे  कुछ  भी  हो  परन्तु  कला  के  प्रति  विश्वासघात  है  और  इसके  लिए  मैं  अपने  आपको  कभी  तैयार  नहीं  कर  सकूँगा  । 
   स्राविंसकी  को  एक-एक  नई   रचना  के  लिये  बरसों समय  लग  जाता  था  ।  जब  तक  अपनी  कृति  से  उन्हें  संतोष  नहीं  हों  जाता  उसे  वे  कभी  सार्वजनिक  मंचों  तक  नहीं  जाने  देते  । पूरे  जीवन  काल  में  उन्होंने  साठ  से  अधिक  रचनाएँ  की  हैं  और  वे  सबकी  सब  लोकप्रिय  हुई  हैं  । उन्होंने  संगीत  को  कला  के  रूप  में  प्रतिष्ठित  किया  और  संगीतकारों  के  सम्मुख  अनुकरणीय  आदर्श  रखा  कि  संगीत-साधकों  को  अपनी  साधना  व्यावसायिक  द्रष्टिकोण  से  परे  रखकर  कलात्मक  द्रष्टिकोण  से  जारी  रखना  चाहिए,  इसी  प्रकार  वे  अपने  कलाकार  को  जीवित  और  जाग्रत  रख   सकते  हैं  । 

30 June 2015

राष्ट्र-गौरव ------ डॉ. आत्माराम

' जिनके  अन्दर  मानव  समाज  के  लिए  कुछ  करने  की  ललक  होती  है---- वे   ही   सत्पुरुष  हर  चुनौती  को  स्वीकार  करते   हुए  आगे  बढ़ते  हैं  तथा  अपने  कार्य  में  सफलता  भी  प्राप्त  करते  हैं  । ऐसे  ही  व्यक्ति  समाज  की  विभूति  बन  चिरस्मरणीय  रहते   हैं  । 
डॉ.   आत्माराम  साधारण   से   परिवार  में  जन्मे  थे  लेकिन  अपनी  लगन,  श्रमशीलता,  ईमानदारी,  सादगी,  सज्जनता,  विनम्रता,  सौम्यता,  देशभक्ति  आदि  सद्गुणों  के  कारण  महान  वैज्ञानिक  बन  सके  तथा  अंतर्राष्ट्रीय  जगत  में  ख्याति  पा  सके  ।
 1936  में  उन्हें   डाक्टर-ऑफ-साइंस  की  उपाधि  मिल  गई  । देश  के  आर्थिक  संकट  को  देखते  हुए  डॉ. आत्माराम  ने  विचार  किया  कि  उद्दोगों  का  विज्ञान  से  सीधा  संबंध  हो,  तभी उत्पादन  में  अधिकाधिक  वृद्धि  हो  सकती  है  ।   आर्थिक  विकास  की  गति  को  तेज  करने  के  लिए  यह  आवश्यक  है  कि  विज्ञान  के  व्यावसायिक-पक्ष  पर  जोर  दिया  जाये  और  देश  औद्दोगिक  क्षेत्र  में   स्वनिर्भर  बने   । अपने  इस  विचार  को  क्रियात्मक  रूप  देने  के  लिये  वे  औद्दोगिक-अनुसन्धान  कार्यालय  के  वैज्ञानिक  दल  में   सम्मिलित   हो  गये  । अपनी  प्रतिभा  और  लगनशीलता  वे  1952  में  ' केन्द्रीय  कांच  एवं  मृतिका  अनुसन्धानशाला '  के  निदेशक  बनाये  गये  । 'समांगी  काँच ( ऑप्टिकल ग्लास ) के  निर्माण  में  देश  को  आत्मनिर्भर  बनाना  उनकी  एक  महान  देन  है  । 1960  से  ही  उनके  शोध  के  आधार  पर  देश  में   समांगी  काँच  का  निर्माण  चल  रहा  है,  इससे  देश  की  सैनिक  व  सार्वजनिक  आवश्यकताओं  की  पूर्ति  हो  जाती  है  ।
डॉ.  आत्माराम  ने  अन्य  उद्दोगों  को  भी  जन्म  दिया  ।  अनुपयोगी  अभ्रक  से  विद्दुतरोधी  ईंटों  का  निर्माण  आदि  कार्यों  में  उन्होंने  नई  खोजें  की  ।  ताम्ब्र-लाल  काँच  के  उदगम  से  संबंधित  उनकी  शोध  के  फलस्वरूप  काँच  उद्दोग  को  नई  दिशा  मिली  । डॉ.  आत्माराम  हिन्दी  का  अत्यंत  सम्मान  करते  थे,  उनका  मत  था  कि  विद्दार्थियों  को  मातृभाषा  तथा  राष्ट्रभाषा  के  माध्यम  से  शिक्षा  देने  पर  ही  मौलिक  प्रतिभाएं  सम्यक  रूप  से  उभर  पायेंगी,  उन्होने  हिन्दी  में  अनेक  वैज्ञानिक  पुस्तकें  भी  लिखी  हैं  । 

29 June 2015

वनस्पति-विज्ञान के महारथी ----- प्रो. महेश्वरी

प्रो. महेश्वरी  के  विज्ञान-साधना  की  कहानी  एक  कर्मयोगी  के  जीवन   की  गीता   है  । जीवन  में  उन्होंने  यह  कभी  नही  जाना  कि  छुट्टी  का  दिन   भी   होता  है  |  तीन  बजे  रात  को  उठ  जाना  तथा  दस  बजे  से  पहले  नहीं  सोना  यह  क्रम  पूरे  जीवन  भर  उन्होंने  निभाया  । उन्हें  अपने  जीवन  में  प्रेरणा  अपने  गुरु
  डॉ. विनफिल्ड  डजन  से  मिली  जो  एक  अमेरिकन  मिशनरी  थे  ।  उन्होंने  देखा  कि  एक  व्यक्ति  अपनी  सब  सुविधाओं  और  भावी  प्रगति  के  सुअवसरों  को  छोड़कर  ज्ञान-दान   के   लिए  अमेरिका  से  यहां  आ सकता  है  तो  क्या  मैं  इतना  भावनाहीन   हूँ  कि  मैं  अपने  देश   की  भावी  पीढ़ी  को  कुछ  न  दे  सकूँ  ।
        सेवा-साधक  डॉ. डजन  ने   युवक  पंचानन   महेश्वरी  की  भावनाओं  को  समझा   और    उन्हें  कर्मनिष्ठा  तथा  लगन   से  आगे  बढ़ने   का  उत्साह  दिलाया  ।
             प्रो.  महेश्वरी  ने  सिवारों  से  लेकर  फूल-पौधों  तक  हजारों  स्लाइड  बना  डालीं,  डेढ़  सौ   के   लगभग  शोध-पत्र  प्रकाशित  किये   |  पुष्प-पौधों  के  82  कुलों  में  भ्रूण  परिवर्धन  किया  ।  चन्दन-कुल  का  भ्रूण  वैज्ञानिक  अध्ययन  जो   कठिनतम  माना  जाता   है  उसे  पूरा  करके  बड़े-बड़े  वनस्पति  वैज्ञानिको  का  भ्रम  दूर  कर  दिया  ।  भारत  में  ही  पढ़े  और  भारत  में  ही  शोध  करने  वाले  प्रो.  महेश्वरी   अपने   इन  महान  कार्यों  से  विश्व  के  अग्रणी  वनस्पति-विज्ञानी  माने  गये  |
परखनली  में  पराग  केसर  तथा  पुंकेसर   का   कृत्रिम  मिलन   करके  बीज  के  निर्माण  की  सफलता  पाने  वाले  विश्व  के  प्रथम  विज्ञानवेत्ता  प्रो. महेश्वरी   बड़े   सीधे,  मृदुभाषी,  विनम्र   तथा  अनुशासन  प्रिय  थे  ।
   'फाइटो  मार्फोलाजी '  नामक  अंतर्राष्ट्रीय-वैज्ञानिक  पत्रिका  के  वे  संस्थापक,  संपादक  रहे  ।  पादप-भ्रूण-विज्ञान  के  महापंडित  के   रूप  में  सारे   विश्व  के  वैज्ञानिक  उनका   सम्मान   करते  थे  ।
वे  नवनिर्माण  के  स्वपनद्रष्टा  थे  | उन्होंने  वैज्ञानिकों  को  बताया  कि  पहले  धरती  पर  जो  कुछ  उपलब्ध  है  उन्ही  के  द्वारा  धरती  पर  स्वर्ग  बसाया  जाये  न  कि  परमाणु  शस्त्रों  की  होड़  में  वैज्ञानिक  प्रतिभा  का  दुरूपयोग  किया  जाये  ।   विज्ञान  के  माध्यम  से  उन्होंने  विश्व  तथा  राष्ट्र  की  महती  सेवा  की  ।  

28 June 2015

राष्ट्र की रक्षा हेतु प्रबल पुरूषार्थ किया------ सम्राट यशोधर्मा

' अपने  पुरुषार्थ, पराक्रम  और  शक्ति  का  सर्वहित   के   लिये  समर्पण  करना--- व्यक्ति  को  इतिहास  पुरुष  बनाने  में  समर्थ  होता  है  । '
   सम्राट  स्कन्दगुप्त  की  मृत्यु  के  बाद  मगध  का  सम्राज्य  उन  जैसे  सुयोग्य  शासक  के  हाथ  में  नहीं  रहा  अत: हूणों  को  भारत  में  घुसने  का  मार्ग  मिल  गया  ।  वे  लूटमार, अत्याचार  करते  हुए  आगे  बढ़ते  गये,  तक्षशिला  विश्वविद्यालय  के  विशाल  पुस्तकालय  को  उन्होंने  जलाकर  खाक  कर  डाला
   मालवा  प्रदेश  के  एक  छोटे  से  प्रदेश  के  अधिपति  यशोधर्मा  से  यह  न  देखा  गया  ।  यशोधर्मा  ने  छोटे-छोटे  राजाओं  से  जो  मगध  सम्राट  को  कमजोर    देख  स्वतंत्र  हो  गये  थे,  अनुरोध  किया  कि  वे  हूणों  को  भारत  भूमि   से  बाहर  खदेड़ने  में  उसकी   सहायता   करें  । नेता  के  उठ  खड़े  होते  ही  देखते   ही  देखते  एक  विशाल  सेना  खड़ी  हो  गई  ।
यशोधर्मा  छोटे  से  प्रदेश  का    अधिपति  होते  हुए  भी  भावनाओं  और  विचारों  से  महान  था  । इस  वीर  ने  हूण  नेता  मिहिरकुल  को  पराजित  कर  देश  से  बाहर  करने  की  प्रतिज्ञा  की  । दशपुर  (वर्तमान  मंदसौर) नामक  स्थान  पर  घमासान  युद्ध  हुआ  ।  हूण  नेता  मिहिरकुल  बंदी    बना  लिया  गया,  उसकी  सेना  भाग  खड़ी  हुई  । वह  यशोधर्मा  के  पांवों  पर  गिरकर  प्राणों  की  भीख  मांगने  लगा  । मगध  के  बौद्ध  सम्राट  को  उस  पर  दया  आ  गई,  उन्होंने  यशोधर्मा  से  उसे  प्राणदान  देने  का  अनुरोध  किया  ।  मिहिरकुल  को  प्राणदान  मिला  लेकिन   इस  शर्त  पर  कि  हूण  भारत  की  सीमा  के  बाहर  निकल  जायें ।  हूणों  को  पराजित  करने   के  कारण  यशोधर्मा  की  यश  पताका  सारे  देश  में  फहराने  लगी  | एक  बार  फिर  उन्होंने  सेना  सजाकर   हूणों  को  छानकर  देश  से  बाहर  निकाला  और  मिहिरकुल  को  सिन्धु  के  तट  पर  ले जाकर  छोड़ा  ।  वीरवर  सम्राट  यशोधर्मा  का  यह  यशस्वी  कार्य  उन्हें  प्रात:  स्मरणीय  बना  गया  । 

27 June 2015

संस्कृति की रक्षार्थ बलिदान----- सम्राट स्कन्दगुप्त

स्कन्दगुप्त  को  मगध  का  विशाल  साम्राज्य  अपने  पिता  से  उत्तराधिकार  में  मिला  था  । उन्होंने  इसे  सुख  की सेज  नहीं  काँटों  का  ताज   मानकर  स्वीकार  किया   था  ।  राज्य  सुख  भोगने  के  लिए  नहीं,  प्रजा  की  सेवा  का  सुअवसर  समझकर  इस  सौभाग्य  को  स्वीकारा   था  | 
सम्राट  स्कन्दगुप्त  के  समय  मे  जिस  बर्बर  जाति  ने  भारत  पर  आक्रमण  किया  था,  वह  थी  मध्य  एशिया  से  आने  वाली  जाति-- हूण  ।  भारत   में  इस  जाति  को  अपने  पाँव  जमाने  में  सफलता नहीं  मिल  सकी,  उन्हें  उलटे  पाँव  भागना  पड़ा  ।  इस  बर्बर  जाति  को  भारत  से  भगाने  का  श्रेय   जिन   दो  पराक्रमी  सम्राटों  को  है  वे  हैं  सम्राट  स्कन्दगुप्त  और  यशोधर्मा   ।
सम्राट स्कन्दगुप्त  ने  इस  जाति  को कुम्भा  नदी  के  तट  पर  रोक  दिया  ।  एक-दो  महीने  नही  पूरे  सोलह  वर्ष  तक  सम्राट  स्कन्दगुप्त  अपनी  सेना  के  साथ  वहां  डटे  रहे  ।
सोलह  वर्ष  तक  एक  सम्राट  एक  सामान्य  सिपाही  की  तरह  धरती  पर  सोते  रहे,  उन्ही  का  साधारण  भोजन  करते  रहे  ।  ऐसे  उदाहरण  विश्व  के  इतिहास  में  अन्यत्र  नहीं  मिल  सकेगा  ।  उनके  जीते  जी  एक  भी  हूण  भारत   भूमि  पर  पाँव  नहीं  रख  सका  । 
संस्कृति  की  रक्षा  के  लिए  उनका  यह  बलिदान  प्रेरणादायक  है  । 

26 June 2015

जिन्होंने राजनीति को राष्ट्र सेवा का माध्यम बनाया----- रफी अहमद किदवई

'इस्लाम  की  सादगी  और  भारतीय  जीवन  दर्शन  का  अपरिग्रह  उनके  व्यक्तित्व  में  दूध  और  पानी  की  तरह  एकाकार  हो  गया  था  । ' एक  मुसलमान  किस  प्रकार  अपने  मजहब  व  रहन-सहन  के  प्रति  एकनिष्ठ  रहते  हुए   भारत  और  भारतीयता  के  प्रति  एकनिष्ठ  रह  सकता  है,  वे  इस  सत्य  की  जीती-जागती  मूरत  थे  |  हमारे  देश  की  विविधता  में  एकता  वाली  सच्चाई  को  उन्होंने  मूर्त  रूप  दिया  ।
  वो  जन-नेता  थे  ।    जनता  के  दुःख-दर्द  और  राष्ट्र  के  हित  के  साथ  एकात्म  भाव  स्थापित  करने  वाली  चारित्रिक  शक्ति  रफी  साहब  के  चरित्र  और  व्यक्तित्व  में  देखने  को  मिलती  थी  ।
                    वे  दो  बार  केन्द्रीय  मंत्रिमंडल  में   सम्मिलित   हुए  और  इन  दोनों  अवसरों  पर  उन्होंने  जो  साहसपूर्ण  कदम  उठाये  वे  मिसाल  बन  गये  ।  परिवहन  और  संचार  मंत्री  के  रूप  में  उन्होंने  समस्त  डाक-तार  कर्मचारियों  को  साप्ताहिक  अवकाश  देने  की  घोषणा  की  और  नागपुर  होते  हुए  दिल्ली,  कलकत्ता,  बम्बई  व  मद्रास  को  जोड़ने  वाली  रात्रिकालीन  डाकसेवा  प्रारम्भ  की  ।
   कृषि  व  खाद्द  मंत्री  के  रूप  में उन्होंने  जो  सेवा  की  उसे  आज  तक  लोग  याद  करते   हैं  । वे  कार  के  बजाय  रेलगाड़ी  के  तीसरे  दर्जे  में  साधारण  वेशभूषा  में बिना  किसी  पूर्व  सूचना  के   सफर  करते  थे  , इससे  उन्हें  वास्तविक  स्थिति  जानने  में  भरपूर  सहायता  मिलती  थी  ।  वे  कई  नगरों  में  वेश  बदलकर  घूमे  । उन्होंने   कई   व्यापारियों  से  अनाज  के  भाव  पूछे,  उनसे  सौदा  किया  । उन  व्यापारियों  को  पता  ही  नहीं  था  कि  वे  केन्द्रीय  खाद्द  मंत्री  से  मोलभाव  कर  रहे  हैं  | अपनी  विलक्षण  सूझ-बूझ  व  कार्यप्रणाली  के कारण  वे  खाद्दान  के  कृत्रिम  संकट  को  समाप्त  करने  में  आश्चर्यजनक  रूप  से  सफल  रहे  । उनकी  कार्यप्रणाली  में  आरामतलबी  और  गैरजिम्मेदारी  को  कोई   स्थान  नहीं  था  ।
उनकी  सादगी  और  सरलता  ने  उन्हें  राजनेता  के  रूप  में  जो  लोकप्रियता  दिलायी  थी  वह  प्रचार  से  संभव  नहीं  थी  । उन्होंने  अकेले  ने  जिस  असंभव  कार्य  को  संभव  किया  वह  उनके  साहस,  नीति-निष्ठा  और  विलक्षण  सूझबूझ  का परिणाम  था  ।

24 June 2015

WISDOM

' मनुष्य  का  शरीर  एक  शक्ति  उत्पादक  डायनेमो  की  तरह  है  ।  इससे   नित्य  निरंतर  महत्वपूर्ण  शक्तियों  का  उत्पादन  होता  रहता  है  ।  जब  इन्हें  रोककर,  संग्रहीत  कर  उचित  दिशा  में  लगा  दिया  जाता  है  तो  महान  कार्य  संपन्न  होते  हैं  और  जब  इसे  विषय  भोगों  के  छिद्रों  में  नष्ट  कर  दिया  जाता  है  तो    न  केवल  मनुष्य  बल्कि  राष्ट्र  भी  दीन-हीन,  असहाय,  परतंत्र-परावलम्बी  बन  जाता  है  । '
          हर  राष्ट्र  की  समर्थता,  नागरिकों  की  प्रखरता  उनके  संयम  और  चरित्र-निष्ठा  पर  निर्भर  करती है
 पं. श्रीराम  आचार्य  ने  वाड्मय  '  साधना  पद्धतियों   का  ज्ञान  और   विज्ञान '  में  इस  तथ्य  को  स्पष्ट  करते  हुए  लिखा  है----
 '   इस  सदी  की  कुछ  महत्वपूर्ण  घटनाओं  में  से  एक  दिव्तीय  विश्वयुद्ध  भी  है,  जिसमे  देखते-देखते  विश्व  की  जानी-मानी  शक्तियों  ने  नवोदित  शक्ति  जर्मन-सत्ता  के  समक्ष  घुटने  टेक  दिये  । जर्मन  सैनिकों  द्वारा  पोलैंड  पर  किये  गये  हमले  से   विश्वयुद्ध  शुरू  हुआ  । सारे  विश्व  ने  कुछ  ही  दिनों  में  सुना  कि  ' ग्रेट ब्रिटेन '   के  बाद  विश्व  की  सबसे  बड़ी  शक्ति  माना  जाने  वाला  राष्ट्र  फ्रांस  बिना  किसी  प्रतिरोध  के  आत्म समर्पण  कर  रहा  है  ।  ब्रिटेन  के  बाद  फ्रांस  ही  था  जिसके  उपनिवेश  सुदूर  पूर्व  में  दक्षिण  एशिया  से  उत्तरी  एवं  दक्षिणी  अमेरिका  तक  फैले  हुए  थे  । नेपोलियन  जिस  राष्ट्र  में  पैदा  हुआ--- जहां  की  राज्य  क्रान्ति  ने  विश्व  की  राजनीति  को  एक  नया  मोड़  दे  दिया,  उसका  ऐसा  पराभव  देखकर  आश्चर्य  होना  स्वाभाविक  ही  था  l'
" मनीषियों  को  यह  निष्कर्ष  निकालने  में  अधिक  समय  नहीं  लगा  कि  इसका  कारण  क्या  है ?   उन्होंने  पाया  कि  असंयम  ने  तो  जन  शक्ति  को  खोखला  बनाया  । भोग  प्रधान  जीवनक्रम  ने  उस  राष्ट्र  कों  छूंछ  बनाकर  रख  दिया  । जो  राष्ट्र  विश्व  की  तीन  चौथाई  महँगी  शराब  की  पूर्ति  करता  हो,  वह  स्वयं  उससे  कैसे  अछूता  रहता  । नैतिक  मर्यादाएं  भंग  हो  जाने  से  जर्मनी  को  फ्रांस  को  पराजित  करने  में  कोई  संघर्ष  नहीं  करना  पड़ा  । वस्तुतः भोग-विलास  की  ज्वाला  में  जल  रहे  फ्रांस  का  पतन  नहीं  किया  गया--- उसने  स्वयं  अपने  को  निर्बल  बनाकर  आक्रान्ताओं  को  निमंत्रण  दे  दिया  था  । "
     उन्होंने  आगे  लिखा  है---- " कामुकता  का  रुझान  जो  कभी  फ्रांस  को  अपने  ग्रास  में  लिए  था--- सारे  विश्व  में  फैला  हुआ  है  । न्यूड  कॉलोनी  बसाई  जा  रहीं  हैं,  नैतिक  मूल्यों  को  एक  ताक  पर  रखकर  उपभोग  को  ही  सब  कुछ  बताया  जा  रहा  है  । यह  किसी  भी  समाज  को  जर्जर  कर  देने  भर  के  लिए  पर्याप्त  है   । "
' भारतीय  अध्यात्म   का  युगों-युगों  से  यह  शिक्षण  रहा  है  कि  मनुष्य  यदि  स्वयं  प्रयास  कर  अपनी  शक्ति  के  अपव्यय  को  रोक  सके  तो  इस  शक्ति  संचय  से  वो  विपुल  विभूतियों  का  अधिपति  बन  सकता  है  । '