30 January 2015

छोटी-छोटी बातों से महात्मा बने------ गाँधीजी

महापुरुषों  के  चरित्र  की  एक विशेषता  होती  है  कि  उनकी  महानता  छोटे-छोटे  कामों  और  छोटी-छोटी  बातों  में  भी  व्यक्त होती  है  ।
   बेतिया  में  कोई  कार्यक्रम  था  ।  बिहार  का  एक  किसान  भी  गाँधीजी  को  देखना  चाहता   था   सो  वह  भी  बेतिया  के  लिए  चल  पड़ा  ।  किसान  की  कल्पना  में  गाँधीजी  का  बढ़ा-चढ़ा  स्वरुप  था--- वे  विलायती  कपड़े  पहनते  होंगे,  फर्स्ट  क्लास  में  चलते  होंगे-------
  किसान  रेलगाड़ी  में  सवार  हुआ,  थर्ड  क्लास  के  डिब्बे  में  ।  कई  आदमी  बैठे  थे,  उन्ही  के  बीच  एक  सज्जन लेटे  हुए  थे,  काफी  थके  जान  पड़ते  थे  ।  किसान  ने  हाथ  पकड़  कर  उन्हें  उठाते  हुए कहा--- " उठकर  बैठें,  ऐसे  लेटे   हो  जैसे  तुम्हारे  बाप  की  गाड़ी  है  । "  वह  महाशय  उठ  बैठे  । उन्हें  इस  तरह  उठाये  जाने  से न  तो  खिन्नता  थी  और  न  द्वेष-भाव  । अब  किसान  मजे  से  बैठ  गया  और  छेड़  दी  तान  उसने---- " धन-धन  गाँधीजी  महाराज  दुःखियों  का  दुःख  मिटाने  वाले  ।   डिब्बे के  सब  लोग मुस्कराते  रहे  ।  बेतिया  में  गाड़ी  रुकी  तो  लोग  गाँधीजी  को  उतारने  दौड़े  ।  उनकी  जय-जयकार  से  स्टेशन  गूंज  उठा  ।  किसान  बेचारा  यह  देखकर  स्तब्ध  रह  गया  कि  जिस  व्यक्ति  को  उसने  हाथ  से  उठाकर  बैठा  दिया  वही  गाँधीजी  थे  । 

29 January 2015

मन की सामर्थ्य को जगाया---- डॉ. तहाहुसेन

' डॉ. तहाहुसेन  ने  मन  की  सामर्थ्य  को  जगाकर  केवल  अपनी  प्रगति  का  पथ  प्रशस्त  नहीं  किया  वरन  यह  भी  सिद्ध  कर  दिखाया  कि मनुष्य  का  प्रारब्ध  बड़ा  नही  है ।  हिम्मत  हो  तो  पुरुषार्थ  के  द्वारा  प्रारब्ध  को  भी सरल  बनाया  जा  सकता  है  । '
  जब  तहाहुसेन  मात्र  तीन  वर्ष  के  थे , खेलते  हुए पत्थर  से  टकरा  गये  जिससे  माथा  फूट  गया  और  आँखों  की  रोशनी  चली  गई  ।  वे  गाँव  मे  एक  पत्थर  पर  उदास  बैठे  रहते  थे,  एक  दिन  एक  पड़ोस  की  स्त्री  ने  कह  दिया--- " भगवान  ऐसी  जिंदगी  से  मौत  अच्छी  थी  । "  बालक  को  बात  चुभ  गई  और  वह  आहट  लेता   हुआ  कुंए  की  ओर  बढ़  चला  ।  
पड़ोस  के  एक  मौलवी  साहब    ने  देखा  तो  वे  बालक  का  इरादा  समझ  गये,   बालक   कुंए में  छलांग  लगाने  की  युक्ति  बना  रहा  था  कि  मौलवी  साहब  ने  दौड़  कर  उसे  बचा लिया  ।  उन्होंने  बालक  तहाहुसेन  को  समझाया--- " तुम्हारी  आँखे  छिन  गईं  पर  अभी  तुम्हारे  पास  मन  है  और  मन  में  एक  संकल्प  शक्ति  रहती  है,  उसे  जगाओ  तो  तुम  वह  काम  कर  सकते  हो  जो  आँख  वाले  न  कर  सकें  । "
उन्होंने  कहा-- " तुम   एक  बार  यह  निश्चय कर  लो  कि  अमुक  सफलता   प्राप्त   करनी है  फिर  उसकी  पूर्ति  के  लिए  अपनी  सम्पूर्ण चेष्टाओं  के  साथ  लग  जाओ  तो  तुम  देखोगे  कि  यह  मन ही  आँखे दे  देगा,  इतनी  प्रचंड  शक्ति  पास रखकर  भी  तुम  घबड़ाते  हो  । "
बालक ने कहा---" बाबा,  अभी   तक किसी ने  यह  बात  नहीं  बताई,  अब  मैं  आपके  दिखाए  रास्ते  पर  चलूँगा,  मेरी  निराशा दूर  हो  गई  । "   अब  बालक  तहाहुसेन  दूसरों से  सुनकर  कुरान  शरीफ  पढ़ने  लगा,  कुछ  ही  दिनों  में  कुरान  कंठस्थ  हो  गई,  इसके  बाद  वह  ' अलजहर ' में  शिक्षा  प्राप्त करने  लगा  । 1914  में  उसने  काहिरा  विश्वविद्यालय  से  पी. एच. डी.  की  ।  बौद्धिक  विकास  के  साथ  उनने  साहित्य  की  सेवा  भी  की, 1946  में  मिस्र  के  सर्वश्रेष्ठ  साहित्यकार  घोषित  किये  गये,  1950  में  मिस्र में  मंत्री  बनाये  गये  ।  यूनेस्को  के  डायरेक्टर  जनरल  पद  के  लिए  भी  उन्हें  बुलाया  गया  पर  वे जा  न  सके  ।
  मिस्र  में  आज  भी    उनका  उदाहरण  देकर  लोग  हारे  हुए,  परिस्थितियों  से  घबड़ाये  हुए  असफल  व्यक्तियों  को  हिम्मत  बँधाया  करते  हैं,  कहते  हैं--- देखो  तहा  को--- तीन  वर्ष  की  आयु  में  ही  अँधा  हो  गया,  कोई  साधन  न  थे  पर  किस  द्रढ़ता,  हिम्मत  और  शान  के  साथ  अपने  जीवन  की  पतवार  पार  ले  गया   ,  असहाय  और  अपंग  व्यक्ति  जब  अपनी  संकल्प  शक्ति  को  जगाकर  बड़े  मनोरथ  पूर्ण  कर  लेते  हैं  तो  शारीरिक  द्रष्टि  से  समर्थ   व्यक्तियों  को   निराश   नहीं   होना    चाहिए  ।"

विवेक

द्रोपदी  के  पांच  पुत्रों  को  सोते  समय  द्रोंणपुत्र  अश्वत्थामा  ने  मार  डाला  । पांडवों  के  क्रोध  का  ठिकाना  न  रहा  ।  वे  उसे  पकड़  कर  लाये  और  द्रोपदी  के  सामने   ही  उसका  सिर  काटना  चाहते  थे  ।
                         द्रोपदी  का  विवेक  तब  तक  जाग्रत  हो  गया,  बोली,--- " पुत्र  के  मरने  का  माता   को  कितना  दुःख  होता  है,  उतना  ही  दुःख  तुम्हारे  गुरु  द्रोणाचार्य  की  पत्नी  को  होगा  ।  गुरु  ऋण  को,  उस  माता  के  ऋण  को  समझो  और  इसे  छोड़  दो  । " अश्वत्थामा  को  छोड़  दिया  गया  । 

28 January 2015

जिन्होंने कर्तव्य को सर्वोपरि समझा----- रामानन्द चट्टोपाध्याय

' मार्डन  रिव्यू '  और  'प्रवासी '   नामक   पत्र  के  संपादन  के  माध्यम  से  रामानंद  जी  जन-जन  को  बोध  कराने,  उचित-अनुचित  का  विवेक  जगाने  और  विचारों  में  क्रांति  लाने  के  लिए  कृत-संकल्प  थे  ।
                         एक  बार  गंगा  जी  में  नहाते  हुए  वे  एक  भँवर  में  फंस  गये थे  तब  एक  युवक  ने  अपनी  जान  जोखिम  में  डालकर  उन्हे  बचाया  था,  वे  उसके  प्रति  कृतज्ञ  थे  ।
     अपने  कार्यालय  में  वे  काम  कर   रहे  थे  ,  उस   समय   उसी  युवक  ने  प्रवेश   किया  और  उनसे  कहा---" एक  रचना  आपके  पत्र  में  छपवाना  चाहता  हूँ  । "  उन्होंने  उसे  गौर  से  पढ़ा  और  बहुत  दुखी  हो गये,  बोले--- " यह   मेरे   पत्र  में  नहीं  छप  सकेगा  मित्र  । "
उसने कहा---- " क्यों  नहीं छपेगा,  क्या आप  भूल  गये----- "    उन्होंने कहा--- "  आप  ने मेरी  जान  बचाई,  मैं  कृतज्ञ  हूँ,  किन्तु  कर्तव्य  की  विवशता   है  । "
युवक  ने  पूछा--- " कौन  सा  कर्तव्य  ? "  उन्होंने  कहा--- " कर्तव्य  एक  लेखक  का,  एक  संपादक  का  ।  जिसके  तहत  जिम्मेदारी  है  कि  समाज  का  पथ  प्रदर्शन  करूँ,  मनुष्य  को  जीना  सिखाऊँ  । इसकी  जगह  मैं  उसमे  पशुता,   वासना    कैसे  भड़का  सकता  हूँ  । तुम  स्वयं  इसे  गहराई  से  पढ़ो  । "
युवक  बोला-- " किन्तु  मैंने  आपके  प्राण  बचाये  थे  । "
रामानंद  जी  ने  कहा--- " मैं  तुम्हारे  संग  चलता  हूँ,  तुम  मुझे    गंगा  में  डुबो  दो  | "  वे  चलने  को  तैयार  हो  गये  । युवक  कों  अपने  कानो  पर  विश्वास  नहीं  हुआ  बोला--- "  क्या कर्तव्य  जीवन  से  भी  अधिक  मूल्यवान   है  । '  उन्होंने  कहा--- " कर्तव्य  की  वेदी  पर  अनेक  जीवन  अपनी  आहुति  देकर  धन्य  होते  हैं,  कर्तव्य  पालन  से  ही  आत्मगौरव  और  आत्मतृप्ति  का  लाभ मिलता  है  ।  जीवन  तो  एक  न  एक  दिन  समाप्त  होना  ही  है  ।  कृतज्ञता  का  मोल  कर्तव्य  की  बलि  नहीं  अपितु  जिसके  प्रति  कृतज्ञता  उपजी  है,  उसका  हित  करना  है  । " युवक  को   सच्चा   ज्ञान  प्राप्त   हुआ उसने   कहा  मुझसे  भूल   हुई,  मैं   लेखन  सीखना  चाहता  हूँ  । '      उनके  विचारों  ने   अनेक  व्यक्तियों  के  जीवन  में  क्रान्ति  ला  दी  । 

26 January 2015

विश्व-कवि------ रवीन्द्रनाथ टैगोर

" जन-गण-मन  अधिनायक,  जय  हे  भारत  भाग्य  विधाता  "  राष्ट्रगीत  के  निर्माता---- रवीन्द्रनाथ  टैगोर  ने  जीवन  भर  पद-दलित मानवता  को  ऊँचा  उठाने  के  लिए,  मानव  को  मानव  बनकर  रहने  की  प्रेरणा  देने  के  लिए संघर्ष  किया  ।   वे  जानते  थे  कि  क्रांति   तोपों  और  बंदूकों से  नहीं,  विचार  परिवर्तन  से  होती  है  ।  भावनाएं  न  बदलें  तो परिस्थितियों  में  स्थायी  हेर-फेर  नहीं हो  सकता  ।  यदि  विचार  बदल  जायें  तो  बिना  दमन  ओर  दबाव के  भी   सब   कुछ  बदल  सकता  है  । 
  उनकी  कविताएँ  मानवता  का  प्रतिनिधित्व  करती  हैं  ।  उनकी  विश्वविख्यात  रचना  ' गीतांजलि '  पर  उन्हें   नोबेल  पुरस्कार  मिला  ।  प्राय:  लोग   उनके  इस  सम्मान  और  ख्याति  का  कारण  उनकी  काव्य-प्रतिभा  और  साहित्यिक  कृतियों  को  ही  मानते  हैं  ।  उनका  साहि त्यिक  रूप  उनके  जीवन  में सबसे  आगे  है,  उसी   के  पीछे  उनके  लोक-सेवा  के   कार्य  छुपे  हैं  ।
  जिस  समय  भारत  के  अनेक  क्षेत्रों  में  प्लेग  का  प्रकोप  हुआ,  उन्होंने  प्लेग-पीड़ितों  की  सहायता  के  लिए  प्रेरणाप्रद  अपीलें  निकाली,  डॉक्टरों,  नर्सों से  मिलकर  उन्हें  रोगियों  की  सेवा  के  लिए  प्रेरित  किया  ।  उन्होंने  न  जाने  कितना  धन  और  सामग्री  अपने  पास  से  प्लेग-पीड़ितों  के  लिए  भेजी
                        बिहार  के  भूकंप  के  समय  रवीन्द्रनाथ   टैगोर  ने  जिस  हार्दिक  करुणा  और  संवेदना  का  परिचय  दिया  उससे  स्पष्ट  हो  गया  कि  वे  ना  केवल  विश्व-कवि   थे  अपितु  महामानव  भी  थे  ।  उन्होंने  भूकंप  से  बरबाद  हुए  न  जाने  कितने  बालक,  वृद्ध  और  स्त्री-पुरुषों  के  आँसू  सुखाए,  न   जाने   कितने  पीड़ित  परिवारों  को  आश्रय  दिलाने  की  व्यवस्था  की  । दुःखी  मानवता  को  सांत्वना  प्रदान  करने  वाली  उनकी  ये  सेवाएं इतिहास  में  सदा  सर्वदा  के  लिए  लिखी  रहेंगी  ।  
प्राचीन  गुरुकुल  प्रणाली  पर  आधारित  शिक्षा  के  लिए उन्होंने  ' शान्ति  निकेतन  की  स्थापना  की  और  अपनी समस्त  संपति  और  नोबेल  पुरस्कार  की  राशि  उसके  संचालन में  लगा   दी  |  बाद  में  जब   धन  की   कमी   पड़ी  तो  वे  एक  ' अभिनव मण्डली ' बनाकर  भ्रमण  करने   के  लिए  निकले  ओर  अनेक  बड़े  नगरों  में  प्रदर्शन  कर  संस्था  के  लिए  धन   एकत्रित  किया  ।  उन्होंने  सिद्ध  कर   दिखाया  कि  वे  कोरे  भावुक  कवि  ही  नहीं  एक   सच्चे   कर्मयोगी  भी  हैं  ।
   जब  जूट  के  व्यवसाय  मे उन्हें   कई   लाख   रूपये  का  घाटा   हुआ  तब  वे  शान्ति  निकेतन  के  निर्माण  की  योजना  बना  रहे   थे,  उनको  न  लाभ  का  मोह  था   न   घाटे  की  अप्रसन्नता  ।  उनमे   अपनी  संस्कृति  के  प्रति   उत्सर्ग  का  अनोखा  भाव  था  ।  उनकी  प्रत्येक  सदिच्छा  को  शक्ति   उनकी  पत्नी   ने  दी,  वे  एक  गाँव  की  अनपढ़  कन्या  थीं,  यह  विषमता  होते  हुए  भी   उनका   अटूट  और  निश्छल  दाम्पत्य-प्रेम  आदर्श  और  वन्दनीय   है   । 

हजारों की प्राण रक्षा करने वाले----- डॉ. आटमर कोहलर

जर्मन  सेना  की  साठवीं  मोटराइज्ड  डिवीज़न  का  कप्तान  आटमर  कोहलर  ग्यारह  वर्ष  की   रशियन  कैद  से  मुक्त  होकर  स्वदेश  लौट  आया  । यह  बंदी  जीवन  उनके  लिए  एक   अभिनव  प्रयोग  और  आत्मतुष्टि का  पाथेय  बन  गया  था  ।  रूस  के   भयावह  बंदी  शिविरों   में  डॉ  कोहलर  ने  पुराने  रेजर,  ब्लेड,  टूटी-फूटी  कैंची  से  हाथ-पैर  व  शरीर  के  अन्य  अंगों  के  छोटे-बड़े  हजारों  आपरेशन  किये  ।  बेहोशी  की  दवा  के  अभाव  में  पुरानी  लकड़ी  के  शिकंजे  की  पद्धति  अपनायी  गई,  मृतकों  के  शरीर  से  उतारे  हुए  कपड़ों  को  उबालकर,  फाड़कर  उनकी   पट्टी   बनाई  गई,  घावों  को  सीने  के  लिए  उपयुक्त  धागे   के   अभाव  में  उन्होंने मोची  के  धागे  से  काम  लिया  ।     इस  प्रकार  उन्होंने  इस  ग्यारह  वर्ष  के  बन्दी  काल  में  20000  से  भी  अधिक   लोगों  को  रोगमुक्त  किया तथा  हजारों  लोगों  के  आपरेशन  किये   । 
         ऐसे  उपकरणों   के  साथ  उनके  पास   थी  मानवीय  संवेदना,  तीव्र  बुद्धि  और  ईश्वर  में  अगाध  निष्ठा  इन्ही  साधनों  से  एक  व्यक्ति  की  रीढ़   की  हड्डी  का सफल  आपरेशन  किया  । एक  व्यक्ति  की   टांग  का   आपरेशन  किया,  बेहोशी  की  दवा  न  होने  से  टेबल  से  बांधकर  उसका आपरेशन  किया   ।  एक-एक  करके  उन्हें  तेरह  कैम्प  बदलने पड़े,  चिकित्सा   की  कोई  सुविधाएं  बंदियों   को  उपलब्ध  नहीं  थीं,  हर  स्थान  पर   उन्होंने  इसी  तरह  के  उपकरण   से  इलाज  किया  । 
   इन  ग्यारह   वर्ष   के  बंदी  जीवन  में  उन्हें  एक  भी  दिन    किसी   ने  हताश,  उदास  नहीं  देखा  ,  वे  बाइबिल  को  सदा  अपने  पास  रखते  थे  और  सबके  साथ  मिलकर  प्रार्थना  करते  थे , उन्होंने  बन्दी  गृह 
के   निराश  लोगों में   ईश्वर  के  प्रति  पुन: विश्वास  उत्पन्न  किया  । 
जर्मन  और  रुसी   का  वे  भेदभाव  नहीं  करते  थे  । 
एक  रुसी  सैनिक  की  पत्नी  चार  दिनों  से  प्रसव  वेदना  सह  रही  थी,  यदि  थोड़ी  देर  और  हो  जाती  तो  उसकी  मृत्यु  निश्चित  थी,  डॉ. कोहलर  के  प्रयास  से  माँ  व  बच्चा  दोनों  की  जान  बच  गई  । उस  रुसी  सैनिक  ने  डॉ. कोहलर   से  पूछा--- " हम  तुम्हे  बंदी  बनाये  हैं, तुम्हारे  साथ  शत्रु-का  सा  व्यवहार  करते  हैं  फिर  तुमने  मेरी  पत्नी  के  प्राण  क्यों  बचाये  ? " डॉ.  ने  कहा--- "क्योंकि  तुम्हारी   पत्नी  भी  मनुष्य  है  ।   मनुष्य  ही  मनुष्य  की  सहायता  नहीं  करेगा  तो  और  कौन  करेगा  । "
 सबसे  कठिन आपरेशन  उन्होंने  एक    बन्दी का  किया  जिसके  सिर  व  हाथ  बुरी  तरह  कुचल गये  थे  । रुसी  सैनिकों  ने  उसे  मरने    के  लिए  अकेला  छोड़ने  का  आदेश  दिया,  लेकिन  डॉ.  कोहलर  नहीं  माने  उन्होंने  अपने  हाथ  के  बने  चाकू  से  उसकी  खोपड़ी  को  उधेड़ा  फिर  खोपड़ी  में  छेद  करके  उसमे  घुसे  हड्डी  के  टुकड़ों  को  निकाला  और  दर्जी  के  काम  आने  वाले  धागे  से  चमड़ी  में  टांके लगाये  । पन्द्रह  दिन  वह  अचेत  रहा  फिर  कुछ  महीनो में  पूरी  तरह  ठीक  हों  गया  ।   रूस  के  बंदी  गृह में  रहते  हुए  भी  उन्होंने  अपने  बंदी  जीवन  में  3000  से  भी  अधिक  रूसियों  की  चिकित्सा  की  थी  ।  
   ग्यारह  वर्ष  बाद  समझौते  के  अनुसार  रुसी  सरकार ने उन्हें  उनके  देश  जर्मनी  भेज  दिया  ।  मानवता  की अनुपम सेवा  और  युद्धबंदियों  में  आत्मविश्वास  बनाये  रखने  के  कारण  उनका  पश्चिम  जर्मनी में  भव्य  स्वागत  किया  गया,  उन्हें  ग्रेट  क्रास  प्रदान  किया  गया  ।  तीन  दिन  में  ही  उनके  पास  दो  हजार  से  अधिक  अभिनन्दन  पत्र  आये,  जिनके  भेजने  वाले  व्यक्ति  उनके  युद्ध  बंदी  काल  के  मरीज  थे  ।   सब  में  एक  ही  बात  थी  '  आपने  हमारी  प्राण  रक्षा  की  है  ' ।
पश्चिम  जर्मनी सरकार ने  उन्हें  मुख्य  सर्जन  का  पद  दिया  ।  उनकी  कहानी  चिकित्सा  क्षेत्र  में   अनूठी  मानी  गई  है  । 

24 January 2015

PASSAGE TO INDIA------ WALT WHITMAN

हमारे  महान  धर्म  ग्रन्थ    गीता  मे    ' यदा  यदा  हि  धर्मस्य---  के   महान  सत्य  को   अपने  कविता  संग्रह
Leaves  of  Grass  ( घास  की  पत्तियां )  में   उद्घाटित  करने  वाले  कवि  वाल्ट  ह्विट्मैन  थे,  उनके  कविता  संग्रह  की  पवित्र  गीत  नामक  कविता  की  पंक्तियां  हैं----
                     " मैं  युग-युग  से  आता  हूँ   । "
                     "  और  आकर  हाड़-माँस  का  शरीर  ग्रहण  करता  हूँ    । "
                      " मनुष्य  के  साथ  मनुष्य  बनकर  घूमता हूँ   । "
                       "  यह  देखते  हुए  कि  धर्म  की  रक्षा  हो  रही  है   । "
वाल्ट ह्विट्मैन  का  जन्म  1  मई  1819  में  अमेरिका  के  वेस्ट  हिल्स  नामक  स्थान  पर  हुआ  था  ।
उनकी  यह   तीव्र   आकांक्षा  थी  कि  अमेरिका  से  भारत  के  सांस्कृतिक  संबंध  स्थापित  हों  तथा  दोनों  देश  एक  दूसरे  की  संस्कृति  से  लाभान्वित  हों  ।   उन्होंने  अपनी  इस  आकांक्षा  को  अपनी  ' Passage   to  India  '( भारत  की  यात्रा  )  नामक  कविता  के  छंदों  से  सँजोया  है  । 
    उन्होंने  विद्दालय  में  केवल  पांच  वर्ष  तक  ही   अध्ययन  किया,  फिर  उन्हें  एक  वकील  के  यहां  नौकरी  करनी  पड़ी   । अपनी  नौकरी  के  अतिरिक्त  समय  में  उन्होंने  होमर,  शेक्सपियर,  वाल्टर  स्काट  आदि  को  पढ़ा तथा  ' लांग  आईलेंड   पेट्रियट ' नामक  समाचार  पत्र   के  मुद्रणालय  में  छपाई   का  काम  सीखने  लगे  ।   अपनी  योग्यता  से  वे  अल्पायु  में  स्कूल  के  अध्यापक  बन  गये,  स्कूल  में  पढ़ाने  के  साथ-साथ  अब  वे  लॉग आईलेंड  नामक  पत्र  भी  निकालने  लगे  ।
इस  पत्र  के  वे  स्वयं  लेखक,  संपादक,  प्रकाशक,  मुद्रक,  पेकर  तथा   हाकर  सभी  कुछ  थे  । इसके  बाद  वे  कई  पत्रों  के  संपादक  रहे  । अंत  में  उन्होंने  अपनी  सारी  सम्पति  लगाकर  स्वयं  का  पत्र  ' फ्रीमैन ' निकाला  ।   ईश्वर  मनुष्य  की  कठिन  परीक्षाएं  लेते  हैं--- एक  दिन  उनके  पत्र के  कार्यालय  में  आग  लग  गई,  अग्नि  में  सब  कुछ  स्वाहा  हो  गया,  लेकिन  वे  निराश  नहीं  हुए,     हिम्मत  नहीं  हारी  ,   और  घर  आकर  पैतृक  व्यवसाय   बढ़ई-गिरी  करने  लगे  । 
बढ़ईगिरी   का   कठोर  कार्य  करते  हुए  उन्होंने  कई  कविताएँ  लिखी  जो  मनुष्य  को  देवत्व  की  ओर  प्रेरित  करती  हैं  ।  ये  कविताएँ  '  घास  की  पत्तियां '  नामक  संग्रह  में  उन्हें  स्वयं  प्रकाशित  करनी  पड़ीं  । इमर्सन  और  अब्राहम लिंकन  जैसे  उनके  मित्र  भी  उनकी  आदर्शोन्मुख  कविताओं  के  प्रकाशन  में  सहायता  नहीं  कर  सके  ।  73  वर्ष  की  आयु  में  उनका  देहावसान  हुआ,  इसके  पन्द्रह  वर्ष  पहले  से  ही  पक्षाघात  के  कारण  उनका  आधा  अंग  निष्क्रिय  हो  गया  था  फिर  भी  वे  अपना  कार्य  उसी  निष्ठा  व  लगन  से  करते  रहे,  उन्होंने  ' पेसेज  टू  इंडिया '   नवेम्बर  बाऊज '   डेमोक्रेटिक  विस्टाज '  आदि  कृतियों  का  सृजन  किया  ।  संघर्ष  में  वे  विजयी  हुए,  उनकी  ख्याति  अमेरिका  और   अमेरिका के  बाहर  फैल  चुकी  थी  ।  उन्होंने  अपनी   एक कविता  में  अपने  आत्मविश्वास  को  यों  प्रकट  किया  है----
              " अब  मैं  इस  संसार  से  विदा  लेता हूँ  । "
               मैं  उस  मनुष्य  सा हूँ  ।  'जिसकी  आत्मा  देह  से  निकल  चुकी  हो------
                जो  मर  चुका  हो  फिर  भी  विजयी  हो  । "
उनका  जीवन  उनकी  गहन  आत्म-शक्ति  का  परिचायक  है  कि  नितांत  विपरीत  परिस्थितियों  में भी  साहित्य-सृजन  करते  रहे   ।