27 July 2016

स्वराज्य आन्दोलन में सहयोग ------- देशबन्धु चितरंजन दास

  ' वे  अपनी  आत्मा  की  पुकार  पर  देश  सेवा  के  व्रती  हुए  थे   और  जब  तक  इस  कार्य  को  किया   अपना  पवित्र  धार्मिक  कर्तव्य  समझकर  किया   l  यही  कारण  है  कि  केवल  सात - आठ  वर्ष  कार्य  करने  का  अवसर  मिलने  पर  भी  उन्होंने  वह  कार्य  कर  दिखाया  , जिससे  उनका  नाम  अमर  हो  गया  और  उनकी  गणना  आधुनिक  भारत  के  निर्माताओं  में  की  जाने  लगी   l  '
 अप्रैल   1917  में  कलकत्ता  में  होने  वाले  ' बंगला  प्रादेशिक  सम्मलेन '  का  अध्यक्ष  दास बाबू  को  निर्वाचित  किया  गया   l   इस  सम्मलेन  के  अध्यक्ष  पद  से  उन्होंने  जो  भाषण  दिया   उसमे  सबसे  मुख्य  बात  यह  थी  कि   राष्ट्र  की  वास्तविक  मनोवृति  को  पहचान  कर  उन्होंने  राजनैतिक  आन्दोलनकारियों  को  चेतावनी  दी  थी  कि  वे  भारत  की  अन्तरंग  आत्मा  को  न  पहचान  कर   यूरोप  की  नकल  कर  रहे  हैं  l  उन्होंने  कहा  --- " अपने  देश  में  विदेशी  राज्य  पनपने  के  साथ - साथ  हमने  यूरोप  की  कुछ  बुराइयों  को  अपना  लिया  और  हम  अपने  सरल  और  उत्साहमय  जीवन  को  त्याग  कर  सुख  और  विलासिता  के  जीवन  में  डूब  गये  l  हमारे  सभी  राजनीतिक  आन्दोलन  यथार्थता  से  दूर  हैं  ,  क्योंकि  इसमें  उन  लोगों  का  कोई  हाथ  नहीं  ,  जो  इस  देश  की  असली  रीढ़  हैं  । "  उनका  आशय  था  --- भारत  के  किसान ,  मजदूर    और  सामान्य  जनता  से  l 
     वे  जानते  थे  कि  उनके  जागृत  हुए  बिना  न  तो  कोई   आन्दोलन  शक्तिशाली  बन  सकता  है  और  न  देश  का  सच्चा  कल्याण  कर  सकता  है  l  उनकी  यह  भावना  इतनी  गहरी  और  सच्ची  थी  कि  उन्होंने  जब  महात्मा  गांधी  को  जन  समुदाय  को  साथ  लेकर  आन्दोलन  करते  देखा  तो  तुरंत  अपना  सर्वस्व  समर्पण  कर  उसमे  सम्मिलित  हो  गये   ।
श्री  दास  का  उक्त  भाषण  इतना  महत्वपूर्ण  था  कि  बंगाल  के  तत्कालीन  अंग्रेज   गवर्नर   लार्ड  रोनाल्डशे
ने  अपनी  पुस्तक  ' दि  हार्ट  ऑफ  आर्यावर्त '  में  उसकी  चर्चा  करते  हुए  लिखा  था --- " श्री  दास  ने  जो  कुछ  कहा ,  वास्तव  में  एक  मिशनरी  के  उत्साह  से  कहा  l  यूरोपीय  आदर्श  रूपी  स्वर्ण  पशु   की  उन्होंने  धज्जियाँ  उड़ा  कर  रख  दीं     और  एक  ऋषि  के  समान  देश  को   उन्नति  का  रास्ता  दिखाया   । "
 दास  बाबू  भारतीय  धर्म  और  अध्यात्म  के   मर्म  को   पुर्ण  रूप  से  समझते  थे  l  उन्होंने  अपने  एक  भाषण  में  कहा  था  ----- " कृत्रिम  अंग्रेजियत  हमारे  मार्ग  में  बाधा  बन  गई  है   ।  उसके  कलुषित  पद - चिन्ह  जीवन  के  प्रत्येक  क्षेत्र  एवं  कार्य  में  द्रष्टिगोचर  होते  हैं  -- दान  जैसे  शुभ   कार्य   के  लिए    नाटकों  और   अन्य   मनोरंजनों  का  विक्रय   कर  रहे  हैं  ,  अनाथालयों  की  सहायता  के  लिए  लाटरी  निकालते  हैं  ,  हम  अपने  पहनावे , विचार , भावनाओं  तथा  संस्कृति  सभी  द्रष्टियों   से  मिश्रित  किस्म  के  हो  गये  हैं   |  संभव  है  पाश्चात्य  आदर्शों  के  अनुकरण    के  इस  उन्माद  में   एक  दिन  हम  यह  भी  भूल  जाएँ  कि  धन  केवल  साध्य  है  ,  साधन  नहीं   | "                                                                         

26 July 2016

लोकसेवी पत्रकार ------- हुकुमचंद नारद

  ' नियमित  शिक्षा - दीक्षा  नहीं  होते  हुए  भी   उन्होंने  अपनी  लेखनी  को  इस  प्रकार  जीवन्त  बनाया  था  कि उन्होंने  पत्रकारिता  के  क्षेत्र  में  यश  भी  कमाया   और  देश  व  समाज  की  सेवा  भी  की  ।  ईमानदारी   और  परिश्रम   तथा  मानवीय  सद्गुणों   के  बलबूते  पर  वे  इतने  ऊपर  उठे   कि  जब  नवीन  प्रान्त  विन्ध्य - प्रदेश  का  निर्माण  हुआ  तो  उनसे  सूचना - मंत्री  बनने  का  आग्रह  किया  गया  । '
   उन्होंने  इस  आग्रह  को   अस्वीकार  कर  दिया  ,  उनका  कहना  था  कि  एक  पत्रकार  के  रूप  में  देश  सेवा  भली  प्रकार  की  जा  सकती  है   ।
हुकुमचंद  नारद  ( जन्म - 1901 )  ने  शासन  और  सत्ता  के  मद  में  चूर  अंग्रेजों  पर   अपनी  प्राणवान  पत्रकारिता  के  शस्त्र  का   उत्तम  प्रयोग  किया   ।    महाकौशल  पत्रकारिता  के  इतिहास  में   'बेंडा  काण्ड '  विशेष  महत्व  रखता  है   ।   बेंडा   तथा  ग्रामों  में  अंग्रेज  टामी  सैनिकों  ने   जो  कुकर्म  किये   वे  मानवता  के  मुख  पर  कलंक  कालिमा  बन  चुके  थे   ।  उन्होंने  ग्रामवासियों  को  निर्दयता पूर्वक  पीटा,  उनके  घर  लूटे  तथा  निरीह  महिलाओं  के  साथ  ब लात्कार  किया  था   ।    अपने   ह्रदय  की   आवाज  को  सुनकर  कि
' आततायी  कितना  ही  समर्थ  क्यों  न  हो   उसे  दण्डित  कराना  प्रत्येक  सजग  मानव  का  कर्तव्य   होता  है    उन्होंने  इस  काण्ड  का  सजीव  चित्रण   अपने  पत्र   में  किया  तथा  यह  मांग  की  कि  टामियों  का  कोर्ट मार्शल  न  हो   वरन  सामान्य  न्यायालय में  उन  पर  मुकदमा  चलाया  जाये    तथा  उन्हें  दण्डित  किया  जाये  । 
सारे  भारतवर्ष  में  इसकी  भयंकर  प्रतिक्रिया  हुई  थी  ।  सभी  समाचार  पत्रों ने   जोरदार  शब्दों  में  इस  आग्रह   को  दोहराया   था  ।  सत्ता  को  इस  आग्रह   के  सामने  झुकना  पड़ा   तथा  आततायिओं  को  दंड  मिला  था  ।  नारद  जी  सच्चे  पत्रकार  थे   । वे  जीवन  भर  गरीबों  के  साथी  रहे  ,  उनकी  आवाज  को  मुखर  बनाने  में   उन्होंने  कोई  कोर  कसर  नहीं  छोड़ी  । 

25 July 2016

दलित वर्ग को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक किया ------ डॉ. अम्बेडकर

 ' मनुष्य  का  मनुष्य  के  प्रति  दुर्व्यवहार  आज  की  नहीं  सदा  की   पैशाचिक  वृति  रही   रही  है  ।  शक्तिशाली  और  समर्थ  लोगों  में   आसुरी  तत्व   घुसकर  उन्हें  मानवता   के  पद  से  कितना  नीचा  गिरा  देते  हैं    ! ' 
 डॉ.  अम्बेडकर  अर्थशास्त्र  के  प्रतिष्ठित  विद्वान  थे  ,  इंग्लैंड  से  उच्च  शिक्षा  प्राप्त  करके --- बैरिस्टर  की  डिग्री  लेकर  आये  थे  ,  उनके  मुकाबले  का  विधि वेत्ता  भारत  में  न   उस  समय  था  न  आज  है   किन्तु   अछूत  कहे  जाने  वाले  परिवार  में  जन्म  लेने  के  कारण   उन्हें  पग - पग  पर  अपमान ,  तिरस्कार ,  शारीरिक  और  मानसिक  यंत्रणा    सहन  करनी  पड़ी  ।   बम्बई  हाई कोर्ट   में  उन्होंने  प्रैक्टिस  की  ,  कचहरी  के  भाट  ने  उन्हें  पानी  पिलाने  से  इनकार  कर  दिया  ।  जब  वे  बड़ौदा  सिविल  सर्विस  के  उच्च  पदाधिकारी  थे  तो  उनके  अधीन  काम  करने  वाला  एक  चपरासी  उनके  द्वारा  छुई  गई  फाइलों  को  चिमटे  से  पकड़कर  रखा  करता  था   ।  बम्बई  में  उन्हें  किसी  ने  किराये  का  मकान  नहीं  दिया   ।
    अब  उनकी  सहन  शक्ति   की    सीमा   का  उल्लंघन  हो  चुका  था   ।  अब  उन्होंने  इन  मिथ्याभिमानियों  के  साथ  संघर्ष  करने  की  नीति  अपनायी  और   दलित  वर्ग  को    अपने  अधिकारों  के  लिए  संगठित  होकर    संघर्ष  करने   के  लिए  जागरूक  किया   ।  उन्होंने  स्थान - स्थान  पर  सार्वजनिक  स्थलों  के   समान  उपयोग  के  लिए  आन्दोलन  किये  |                                                                                                                                              

समर्थ गुरु रामदास और महाराज शिवाजी

     समर्थ  गुरु  रामदास   की  अखंड  विद्वता   और  तेजोमय   व्यक्तित्व  की  कीर्ति  सुनने  के  बाद   महाराज  शिवाजी  उनसे  मिलने  को  आतुर  रहने  लगे   ।  यह  समाचार  जब   समर्थ  गुरु  को  मिला   तो  उन्होंने  शिवाजी  के  नाम  लम्बा  पात्र  लिखा   और  उनका  उत्साह वर्द्धन  किया  ।  उन्होंने  लिखा ------
" हो  सकता  है  तुम  अपने  राज्य  की  सीमित  भूमि  और  गिने - चुने  साधनों   को  देखकर  यह  समझो  कि  इतने  सीमित  साधनों  द्वारा   यवनों  के  इतने  व्यापक  अत्याचार  को   किस  प्रकार  रोक  सकता  हूँ  ।  तुम्हारा  यह  सोचना  उचित  न  होगा   क्योंकि   मनुष्य  की  शक्ति  साधनों  में  नहीं  उसकी  आत्मा  में  होती  है  ।  जिसे  अपनी  आत्मा  में  विश्वास  है  ,  मन  में  देशोद्धार  की  सच्ची  लगन  है   उसके  कर्तव्य - पथ  पर  कदम  रखते  ही   साधन  स्वयं  एकत्र  होने  लगते  हैं   ।  अपनी  आत्मा  का  जागरण  करो ,  मन  को  बलवान  बनाओ  और  उद्धार  कार्य  में   एकनिष्ठ  होकर  लग  जाओ  ,  तुमको  अवश्य  सफलता  प्राप्त  होगी                         " अत्याचारी  की  शक्ति  क्षणिक  होती  है  ।  उसे  देखकर  कभी  भयभीत   नहीं  होना  चाहिए   अत्याचारी  प्रत्यक्ष  रूप  में  निरपराधों  पर  तलवार   चलाता   है  लेकिन  परोक्ष  में   अपनी  ही  जड़ें   काटारता  है   l  अत्याचारी  से  बढ़  कर   कोई  कायर  इस  संसार  में  नहीं  l  निष्काम  बुद्धि  से  कर्तव्य -पालन    का  पालन  करी   । "

23 July 2016

विचारों के बल पर इतिहास का रुख बदलने वाली महान महिला ------- हैरियट स्टो

  समाज  में  कोई  महत्वपूर्ण  परिवर्तन   तभी  सम्भव  होते  हैं   जब  समाज  उन  परिवर्तनों   को  स्वीकार  करने  के  लिए  तैयार  हो   ।  अर्थात  जन - मानस  में  प्रस्तुत  स्थिति  के  प्रति   वितृष्णा  और  नयी  स्थिति  का  निर्माण   करने  के  लिए  जाग्रति  आये  ।  यह  कार्य  पुस्तकों  द्वारा  बड़े  अच्छे  और  प्रभाव शाली  ढंग  से   संपन्न  किया  जा  सकता  है   । '
  इस  युग  में   जिन  पुस्तकों  ने  किसी  देश  या  समाज  की  परिस्थितियों  और  वातावरण  को  सर्वाधिक  प्रभावित  किया   है  ----- वह  है ---- '  टाम  काका   की   कुटिया  '   । 
   जिस  दिन  यह  ऐतिहासिक  उपन्यास  प्रकाशित  हुआ   उसी  दिन  उसकी  3000  प्रतियाँ  बिक  गईं  ,  वर्ष  भर  के  भीतर  ही  उस  पुस्तक  के  120  संस्करण  छापने  पड़े   और  उसकी  तीन  करोड़  प्रतियाँ  बिकीं   l
    यद्दपि  इस  पुस्तक  द्वारा   समाज  की  एक  वीभत्स  कुरीति  '  दास - प्रथा '  पर  आघात  किया  गया  था  ,  किन्तु  वे  लोग  जो  इस   अन्यायपूर्ण   स्थिति  के  लिए  जिम्मेदार  थे  ,  उपन्यास  पढ़  कर  इतने  प्रभावित  हुए   कि  सारे  अमेरिकी  महाद्वीप  में  जन  मानस  ने    परिवर्तन  की  एक  अंगड़ाई  ली    l
  इस  पुस्तक  के  लोकप्रिय  होने  का  कारण  था  -----  इसे  पढ़ने  के  बाद   पाठक  के  मन  में  जागृत  होने  वाली  मानवीय - संवेदना   l
' टाम  काका  की  कुटिया '  में   नीग्रो  दासों  पर  होने  वाले   अत्याचारों  और  उत्पीड़न  से  दासों  को  मिलने  वाली  यंत्रणा  का  इतना  मार्मिक  चित्रण  किया  है   कि  पाषाण  ह्रदय  से  भी   संवेदनाओं  का  स्रोत  फूटकर  बह   निकले   ।
  हैरियट  स्टो  की  यह  पहली  कृति  थी  जिसने  उन्हें  प्रसिद्धि ,  सम्मान  और  यश  के   उच्च  शिखर  पर  पहुँचा  दिया  ।   उन्हें  न  केवल  सम्मान  मिला   बल्कि  सम्मान  से  भी  कई  गुना  अधिक  लोक - श्रद्धा   प्राप्त  हुई   ।  

22 July 2016

राजनीतिक बुद्ध ------- बंट्रेन्ड रसेल

  रसेल  इस  युग  के  एक  ऐसे  मनीषी  थे  , जिन्होंने  रुढ़िवादी  परम्पराओं  पर  चोट  की   और  वैज्ञानिक  आधार  पर  यह  सिद्ध  किया  कि  मध्यम  मार्ग  ही  श्रेष्ठतम  मार्ग  है   । 
   उनका   मानना  था  कि   अच्छा    मनुष्य   हुए  बिना  अच्छा   नागरिक  नहीं  हुआ  जा  सकता   और  जब  तक  कोई  व्यक्ति  अच्छा  नागरिक  न  हो    तब  तक   वह  अच्छा  जन - प्रतिनिधि  कैसे  हो  सकता  है   ।  रसेल  लोकतंत्र  और  स्वतंत्रता  की  रक्षा  के  लिए  निरंतर  संगठित  प्रतिरोध  को  अनिवार्य  मानते  थे   ।  इससे  समाज  में  अव्यवस्था  का  खतरा  पैदा  हो  सकता  है   परन्तु  सर्वशक्तिमान  केन्द्रीय  राज  सभा  से  उत्पन्न  होने  वाली  जड़ता  की  तुलना  में  यह  खतरा  नगण्य  है   ।
  उनका  मानना  था  कि  प्रशासनिक  अधिकारियों  के  मन  में  यह  धारणा  रहती  है  कि  केवल  हम  ही  समाज  के  हितों  को  पहचानते  है   लेकिन  वह  केवल  एक  बात  नहीं  जानते  और  वह  यह  कि  जूता  कहाँ  काटता  है  ,  यानि  उनकी  व्यवस्था  सामान्य  जनता  को  कहाँ  कष्ट  पहुँचाती  है   । "  जिस  तरह  मोची  नहीं  जनता  कि  जूता  कहाँ  काटता  है  ,  यह  तो  केवल  पहनने  वाला  समझता  है   ।  लोकतंत्र  में  उन  लोगों  की  आवाज  का  अधिक  महत्व   है     जो  शासन  और  प्रशासन  की  नीतियों   के  परिणाम  भोगते  हैं  ।  रसेल  मानवतावादी  विचारक    थे  ।  उनका  कहना  था    कि   आप  पृथ्वी  के  धरातल  के  किसी  भी  भाग  में  जन्म  लें   इससे  कुछ  भी  बनता - बिगड़ता  नहीं  है  ।  यदि  कोई  महत्वपूर्ण  बात  है  तो  वह  यह  है  कि  आप  इनसान  हैं   । 

21 July 2016

प्रलोभन के समक्ष झुकें नहीं ------- मुंशी प्रेमचंद

  वे  व्यक्ति  जो  अपने  कर्तव्यों  के  परिपालन  के  लिए  अपने  व्यक्तिगत  हितों  की  बलि  देने  में  नहीं  हिचकते  -- वे  धन्य  हैं   l समाज,   धर्म  और  संस्कृति   ऐसे  आदर्श निष्ठ   व्यक्तियों  से  ही  महान  बनते  हैं  तथा  प्रतिष्ठा  पाते  हैं   l 
  मुंशी  प्रेमचंद    अंग्रेजी - शासन काल  में  ही  एक  प्रसिद्ध  उपन्यासकार  के  रूप  में   प्रख्यात   हो  चुके  थे   । अपनी  लेखनी  द्वारा  वे  देश भक्ति  की  भावना  जगाने  का  कार्य  कर  रहे  थे   ।  अंग्रेज  सरकार  को  यह  डर  था  कि  प्रेमचंद  की  लेखनी  भी   भारतीयों  में  विद्रोह  भड़काने  का  कारण  न  बन  जाये  ।  अत:  तत्कालीन  उत्तर प्रदेश  के  गवर्नर  सर मालकम  हेली  ने  मुंशी  प्रेमचंद  को  अपनी  ओर  मिलाने  के  लिए  एक  चाल  चली   ।  उन  दिनों  का  सर्वोच्च  खिताब  ' राय  साहब  '  उन्हें  देने  की  घोषणा  की  ।  यह  खिताब  उन्हें  क्यों  दिया  जा  रहा  है  ,  मुंशी  प्रेमचंद  को   यह  समझते     देर  न  लगी   ।  तब  तक   बड़ी  रकम  के  साथ   यह  खिताब  श्री  प्रेमचंद  के  घर  पर   एक  अंग्रेज  अधिकारी  द्वारा  यह  कहकर  पहुँचाया  जा  चुका  था  कि  माननीय  गवर्नर  ने  उनकी  रचनाओं  से  प्रभावित  होकर   यह  उपहार  भेजा  है  ।
                    घर   पहुँचने  पर   पत्नी  ने  प्रसन्नता  व्यक्त  की   इस  बात  के  लिए  कि  आर्थिक  विपन्नता  की  स्थिति  में  एक  बड़ा  सहारा  मिल  गया  ।  किन्तु  मुंशी  प्रेमचंद   तुरंत  खिताब  और  रकम  लेकर   गवर्नर  महोदय   के  पास  पहुंचे   l  दोनों  को  वापस  लौटाते  हुए  बोले  --- " सहानुभूति  के  लिए  धन्यवाद   l  आपकी  भेंट  मुझे  स्वीकार  नहीं  l  धन  और  प्रतिष्ठा  की  अपेक्षा  मुझे  देश भक्ति  अधिक  प्यारी  है   l  आपका  उपहार  लेकर  में  देश द्रोही  नहीं  कहलाना   चाहता  l "
 ऐसे  व्यक्तित्व  ही  देश  और   समाज  की  सबसे  बड़ी  सम्पदा  है   ,  ये  ऐसे  रत्न  हैं   जो  जहाँ  रहते  हैं   अपने  प्रकाश  से  असंख्यों  को  प्रेरणा  देते  हैं   l